Tue. May 21st, 2024

कर्नाटक की सियासत में एक सेक्स स्कैंडल ने इनदिनों भूचाल ला दिया है. यह मामला देश के पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के परिवार से जुड़ा है. उनके बेटे एचडी रेवन्ना और पोते प्रज्जवल रेवन्ना पर आरोर लगा है कि उन्होंने सैकड़ों महिलाओं का शारीरिक शोषण किया है.एक सफेदपोश बाप-बेटे की जोड़ी, अनगिनत मासूम और बेबस लड़कियां और 3000 अश्लील वीडियो वाला पेन ड्राइव… कर्नाटक की सियासत में जिस कहानी ने इन दिनों भूचाल ला दिया है, उसका लब्बोलुआब कुछ यही है. यह मामला देश के पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के परिवार से जुड़ा है. निशाने पर खुद देवेगौड़ा के बेटे एचडी रेवन्ना और उनके पोते प्रज्जवल रेवन्ना हैं. उन पर अपने ही घर में ना सिर्फ अनगिनत लड़कियों के साथ यौन शोषण करने, बल्कि उनका अश्लील वीडियो बना कर उन्हें डराने-धमकाने का सनसनीखेज इल्जाम लगा है. उनके आपत्तिजनक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं.यह मामला हाई प्रोफाइल है. यौन शोषण का शिकार हुई लड़कियों की तादाद अब तक साफ नहीं है, जबकि करीब 3 हजार अश्लील वीडियोज सामने आ चुके हैं. ऐसे में इस मामले के सामने आते ही राज्य सरकार ने एक एसआईटी बना कर इसकी तफ्तीश शुरू कर दी है, लेकिन जैसा कि अक्सर ऐसे बड़े मामलों में होता है. स्कैंडल के लाइमलाइट में आते ही केस का किंगपिन यानी इल्ज़ामों के घेरे में मौजूद प्रज्जवल रेवन्ना देश छोड़ कर फरार हो चुका है. बताया जा रहे है कि वो इस वक्त जर्मनी में हैं. अब सवाल ये है कि इस चुनावी मौसम में आखिर इस ‘महा सेक्स स्कैंडल’ का खुलासा कैसे हुआ?कैसे पहली बार देवेगौड़ा या फिर यूं कहें कि रेवन्ना परिवार में चलते इस काले कारोबार का सच सामने आया? आखिर पिता-पुत्र की इस जोड़ी ने कैसे और किन लड़कियों को अपने निशाने पर लिया? उनका यौन शोषण किया और उनके वीडियो बनाए? ऐसा करने के पीछे दोनों का मकसद क्या था? तो इस पूरी कहानी को समझने के लिए आपको अब से कोई दस रोज पीछे चलना होगा. दूसरे चरण की वोटिंग से कोई 5 रोज पहले यानी 20 अप्रैल. देश के कई अलग-अलग हिस्सों के साथ-साथ 26 अप्रैल को कर्नाटक के 14 लोकसभा सीटों के लिए भी वोट डाले जाने जाने थे. चुनाव प्रचार पूरे शबाब पर था.
नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी चल रहा था. लेकिन इसी बीच हासन से एनडीए के पार्टनर जनता दल सेक्यूलर के प्रत्याशी और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते प्रज्जवल रेवन्ना के कुछ आपत्तिजनक वीडियो व्हाट्सएप पर तैरने लगे. फिर देखते ही देखते पूरे कर्नाटक में वायरल हो गए. इस बीच चुनाव भी हुए और रेवन्ना इतना सबकुछ होने के बावजूद वोट भी मांगता रहा. लेकिन शायद उसे अपने आने वाले वक्त का अहसास हो गया था. इधर, चुनाव खत्म हुआ और उधर रेवन्ना देश से बाहर जर्मनी के लिए उड़ान भर चुका था. लेकिन उनके विरोधी दलों ने हमला बोलना शुरू कर दिया था.ड्राइवर ने खोली पोल, ऐसे हासिल की अश्लील पेन ड्राइव
इसी बीच रेवन्ना परिवार में काम कर चुकी एक पीड़ित महिला ने एक एचडी रेवन्ना और प्रज्वल रेवन्न के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी, जिसमें पिता-पुत्र की करतूतों से जुड़े कई विस्फोटक और चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. इस एफआईआर के जरिए आपको रेवन्ना परिवार में चलते सेक्स स्कैंडल का एक-एक सच बताएंगे, लेकिन पहले ये समझ लीजिए कि आखिर बंद कमरे में चलता ये सारा खेल सामने कैसे आया? कार्तिक गौड़ा नाम का एक शख्स रेवन्ना परिवार का पुराना ड्राइवर हुआ करता था. उसने करीब 15 सालों तक रेवन्ना परिवार की गाड़ियां चलाईं. लेकिन धीरे-धीरे रेवन्ना से उसके रिश्ते खराब होने लगे.
कार्तिक ने नौकरी छोड़ दी. उसकी मानें तो रेवन्ना परिवार ने उसकी जमीन पर कब्जा कर लिया और विरोध करने पर प्रज्जवल ने उसके और उसकी पत्नी के साथ मारपीट भी की थी. वो अपने साथ हुई इस ज़्यादती के खिलाफ इंसाफ चाहता था. चूंकि उसे रेवन्ना परिवार के काले करतूतों की खबर थी, उसने अलग-अलग लड़कियों के साथ रेवन्ना के अश्लील वीडियो से भरा एक पेन ड्राइव हासिल कर लिया. इस पेन ड्राइव के साथ उसने बीजेपी नेता देवराज गौड़ा से मुलाकात की. उधर, प्रज्जवल ने 1 जून 2023 को इसे लेकर अदालत में दस्तक दी थी और कहा था कि वीडियो के सहारे उसकी छवि खराब की जा रही है.बहरहाल, अब एसआईटी एचडी रेवन्ना और प्रज्जवल रेवन्ना के करतूतों की जांच करने के साथ-साथ इस बात की भी जांच करेगी कि आखिर रेवन्ना के वो अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कैसे हुए, लेकिन इस बीच जो एफआईआर रेवन्ना पिता-पुत्र पर दर्ज हुई है. उसमें कई दहलाने वाली बातें लिखी हैं. ये एफआईआर रेवन्ना परिवार में रसोइये के तौर पर काम कर चुकी एक महिला ने दर्ज करवाई है, जो उनकी पत्नी भवानी की रिश्तेदार है. उसने अपनी शिकायत में बताया है कि जब उसने रेवन्ना परिवार में रसोइये के तौर पर काम करने की शुरुआत की, उसके चार महीने बाद उसका शारीरिक शोषण शुरू हो गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *