Tue. May 21st, 2024
4 जून को योगी के साथ क्या होने वाला है ?4 जून को योगी के साथ क्या होने वाला है ?

बीजेपी में एक अनोखा रिवाज़ चल रहा है और वो रिवाज़ ये है कि पहले से ही राज कर रहे राज्य के मुख्यमंत्री को चुनाव में जीत के बाद पूर्व मुख्यमंत्री बना के नए मुख्यमंत्री को राज्य सौंप देना | जैसे मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री और सबके मामा शिवराज सिंह चौहान, वसुंधरा राजे या फिर रमन सिंह | लोकसभा के चुनाव का आगाज हो चुका है और 16 मार्च 2024 को लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा भी हो चुकी है | बीजेपी के भीतर आजकल दबी जबान में बड़ी चर्चा है कि 4 जून के बाद योगी का क्या होगा ? 4 जून को लोकसभा चुनाव के नतीजे आ रहे हैं और इस दिन अगर मोदी जी जीतेंगे तो लखनऊ में क्या योगी रहेंगे या नहीं रहेंगे और अगर मोदी हारते हैं तो फिर योगी आदित्यनाथ की बीजेपी में क्या पोजीशन होगी? सवाल बड़ा मुद्दे का है , मुख्यमंत्री का है , प्रधानमंत्री का है और पार्टी का है |

चर्चा इस बात की है कि क्या जिस तरह मोदी जी ने मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री की कुर्सी से नीचे उतार दिया या फिर वसुंधरा राजे का हिसाब कर दिया या रमन सिंह की छुट्टी कर दी | तो क्या इसी तरह से इसी तर्ज पर अमित शाह और नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश में दो बार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हिसाब करने जा रहे थे | अगर हिसाब करने जा रहे थें तो रुके क्यों ? जाजानकारों का कहना हैं कि मोदी जी और शाह इसलिए रुक गए क्योंकि लोकसभा चुनाव बहुत करीब आ चुका था | शायद इसीलिए गुजरात लॉबी ने योगी जी को उत्तर प्रदेश में कुछ वक्त दे दिया | उत्तर प्रदेश की कहानी छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश, राजस्थान से थोड़ा अलग है | उत्तर प्रदेश में 80 सीटें हैं और देश में सबसे ज्यादा लोकसभा की सीट उत्तर प्रदेश में ही हैं | जिस प्रकार मोदी जी ने साल 2014 में 73 सीटें जीती और साल 2019 में 64 सीटें जीती मतलब पिछली बार से 9 सीटें कम आयीं | अब इस गैप को लेकर मोदी जी थोड़े चिंतिंत हैं और अपना हर कदम फूँक-फूँक कर रख रहे हैं | और इस बार मोदी कम से कम 70 सीटें जीतना चाहते हैं और इसीलिए योगी आदित्यनाथ को इस चुनाव तक वो डिस्टर्ब नहीं करना चाहते | बात चल रही है कि 24 के बाद यानी 4 जून के बाद जो अगला मुख्य बड़ा चुनाव उत्तर प्रदेश में होगा | गुजरात लॉबी का कहना है कि 2024 का वक़्त मोदी जी के लिए बिलकुल सही वक़्त है | यही समय है योगी को किनारे करने का क्योंकि मोदी के बाद योगी ही पीएम का चेहरा होंगे और गुजरात लॉबी इससे घबराती है |

मोदी जी किसी को हटाना यही चाहते हैं लेकिन सत्ता का बड़ा संघर्ष है जहां पर एंबीशंस का टकराव होता है क्योंकि मोदी जी कहीं ना कहीं ये जरूर मानते होंगे कि आदित्यनाथ योगी भी प्रधानमन्त्री का एक बड़ा चेहरा बनेंगे क्योंकि जब योगी दूसरी बार शपथ ले रहे थें तब पूरे प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे देश में ये चर्चाये शुरू हो गयी थीं कि मोदी के बाद अब योगी बनेंगे प्रधानमंत्री | प्रधानमंत्री मोदी आज की तारीख में योगी को कुर्शी का चैलेंजर मानते हैं क्योंकि योगी के साथ जो ठाकुर लॉबी है या जो ब्यूरोक्रेट्स हैं या चंद लोग हैं जो उनके बहुत करीब है वो हमेशा से पिच करते आए हैं जोर देते आए हैं कि कि योगी आदित्यनाथ प्राइम मिनिस्टर मटेरियल है और लखनऊ के बाद उनकी अगली मंजिल दिल्ली है | वहीँ अमित शाह को लगता है कि जब कभी भी बीजेपी में अगर मोदी प्रधानमंत्री फिर से बनते हैं जब कभी बीजेपी में सत्ता संघर्ष होगा कि मोदी के बाद कौन तो योगी जी सबसे बड़े चैलेंजर होंगे इसलिए एक अदावत है और उत्तर प्रदेश में आज की तारीख में योगी और अमित शाह की लॉबी में डिवाइडेड है जहां दोदो डिप्टी चीफ मिनिस्टर एक केशव प्रसाद मौर्या और दूसरे बृजेश पाठक हैं जो अमित शाह के हिमायती है | अमित शाह और योगी मोदी के राइट हैण्ड और लेफ्ट हैं क्योंकि पोस्टर्स पर ये दो बड़े चेहरे मोदी के साथ अक्सर दिख जाय करते हैं | योगी उन नेताओं में से हैं जो किसी के हाथ की कठपुतली बन कर नहीं रह सकता | वो किसी के इशारे पर काम नहीं कर सकते हैं | योगी आदित्यनाथ अपने को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मानते हैं ताकतवर मुख्यमंत्री मानते हैं और बहुत से मसलों पर झुकते नहीं हैं | क्योंकि उन्हें रबर स्टैंप बनना पसंद नहीं है |

अगर तीसरी बार प्रधानमंत्री मोदी बनते हैं और अगर सीटें अच्छी खासी आई तो फिर योगी जी के अच्छे दिन नहीं है | लेकिन मोदी जी अगर 2024 यानी 4 जून को 272 तक नहीं पहुंचते 260 पे रुक जाते हैं 265 पे रुक जाते हैं 240 पे रुक जाते हैं और बड़ी मुश्किल से सरकार बना पाते हैं सरकार तो इस कमजोर स्थिति में मोदी जी योगी को फिर हटा नहीं पाएंगे योगी को फिर हटाना बहुत टेढ़ी खीर होगा और हां अगर 240 से भी नीचे चले गए मोदी जी चुनाव ही हार गए तो बीजेपी में जो सबसे ताकतवर नेता होगा वो योगी ही होंगे | लेकिन यह घड़ी गुजरात लॉबी को बड़ी नागवार गुजरेगी | क्योंकि अमित शाह स्वयं को मोदी का उत्तराधिकारी समझते हैं लेकिन लोग योगी को मानते हैं | अब 4 जून को यह तय हो पायेगा कि क्या योगी रहेंगे या उन्हें भी शिवराज सिंह चौहान , वसुंधरा राजे या रमन सिंह की तरह हटा दिया जाएगा | आपको बता दें कि इस बार देशभर में 7 फेजों में चुनाव आयोजित किए जायेंगे और परिणाम घोषणा 4 जून 2024 को की जाएगी | यह भारत में सबसे लंबे समय तक चलने वाला आम चुनाव होगा, जो कुल 44 दिनों तक चलेगा | मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना दूसरा कार्यकाल पूरा करेंगे और लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ेंगे | आपको बता दें कि फेज 1 में 19 अप्रैल को 21 राज्यों के 102 सीटों पर मतदान होगा | वहीं फेज 2 में 26 अप्रैल को 12 राज्य के 88 सीटों पर मतदान होगा | फेज 3 में 7 मई को 13 राज्य के 94 सीटों पर मतदान होगा | तो वहीं,  फेज 4 में 13 मई को 10 राज्य के 96 सीटों पर मतदान होगा | अब अगर बात करें फेज 5 की तो इस फेज में 20 मई को 8 राज्य के 49 सीटों पर मतदान होगा,  जबकि फेज 6 में 25 मई को 7 राज्य के 57 सीटों पर मतदान होगा और फेज 7 में 1 जून को 8 राज्य के 57 सीटों पर मतदान होगा और परिणाम की तारीख 4 जून 2024 रखी गई है | अगर आपको हमारी यह वीडियो पसंद आयी हो तो हमारे चैनल को लाइक, शेयर और सब्सक्राइब करें और देखते रहें माई भारत |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *