Wed. Feb 21st, 2024
आर्थिक सर्वे और अंतरिम बजट 2024: सरकार की रणनीति में बदलाव देश में आर्थिक स्थिति और योजनाओं में बदलाव के साथ, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2024 का अंतरिम बजट पेश करने का फैसला किया है। इस बार की रवायतों में देखा जा रहा है कि सालाना आर्थिक सर्वे और बजट के बीच का समयबद्ध बदल रहा है, जो विपक्ष द्वारा सवालों को उत्तेजित कर रहा है। 1 फरवरी को होने वाले बजट में आयकर स्लैब, नई आयकर व्यवस्था, नौकरियां, और बुनियादी ढांचा पूंजीगत व्यय पर जोर दिया जा सकता है। इस बार का बजट अंतरिम बजट होगा, क्योंकि यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी बजट होगा और नई सरकार बनने के बाद पूर्ण बजट पेश किया जाएगा। साथ ही, इस बार की आर्थिक सर्वे में पिछले 10 वर्षों की विकास गाथा को दो चरणों में विभाजित किया गया है - 1950 से 2014 तक और 2014 से 2024 तक। मोदी सरकार के प्रभाव, नोटबंदी, और अन्य महत्वपूर्ण घटकों को समीक्षा किया गया है। इस बार का अंतरिम बजट चुनाव से पहले होने के कारण और नई सरकार बनने के बाद की योजनाओं को ध्यान में रखते हुए, यह बजट देशवासियों की निगाहें और उम्मीदों पर भारी पड़ सकता है। इसमें कौन-कौन से उदाहरणों और विशेषणों को बयान करने के लिए बजट की पेटी खुलने का इंतजार है, यह आने वाले समय में ही पता चलेगा। आर्थिक सर्वे और अंतरिम बजट 2024: सरकार की रणनीति में बदलाव देश में आर्थिक स्थिति और योजनाओं में बदलाव के साथ, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2024 का अंतरिम बजट पेश करने का फैसला किया है। इस बार की रवायतों में देखा जा रहा है कि सालाना आर्थिक सर्वे और बजट के बीच का समयबद्ध बदल रहा है, जो विपक्ष द्वारा सवालों को उत्तेजित कर रहा है। 1 फरवरी को होने वाले बजट में आयकर स्लैब, नई आयकर व्यवस्था, नौकरियां, और बुनियादी ढांचा पूंजीगत व्यय पर जोर दिया जा सकता है। इस बार का बजट अंतरिम बजट होगा, क्योंकि यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी बजट होगा और नई सरकार बनने के बाद पूर्ण बजट पेश किया जाएगा। साथ ही, इस बार की आर्थिक सर्वे में पिछले 10 वर्षों की विकास गाथा को दो चरणों में विभाजित किया गया है - 1950 से 2014 तक और 2014 से 2024 तक। मोदी सरकार के प्रभाव, नोटबंदी, और अन्य महत्वपूर्ण घटकों को समीक्षा किया गया है। इस बार का अंतरिम बजट चुनाव से पहले होने के कारण और नई सरकार बनने के बाद की योजनाओं को ध्यान में रखते हुए, यह बजट देशवासियों की निगाहें और उम्मीदों पर भारी पड़ सकता है। इसमें कौन-कौन से उदाहरणों और विशेषणों को बयान करने के लिए बजट की पेटी खुलने का इंतजार है, यह आने वाले समय में ही पता चलेगा।

देश में हो रहे लगातार बदलावों को देखते हुए इस बार भी एक बड़ा बदलाव किया गया और यह बदलाव आर्थिक सर्वे को लेकर के है | बरसों पुरानी रवायत रही है कि बजट से ठीक एक दिन पहले देश का सालाना आर्थिक सर्वे पेश किया जाता था, मगर इस साल ये परंपरा नहीं निभाई जा रही है | इसके पीछे का क्या कारण है यह तो कह पाना मुश्किल है लेकिन विपक्ष इसपर लगातार सवाल उठा रही है | 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण साल 2024 का केंद्रीय बजट पेश करेंगी | बजट में आयकर स्लैब, नई आयकर व्यवस्था, नौकरियां, बुनियादी ढांचा पूंजीगत व्यय पर फोकस किया जा सकता है | आपको बता दे कि वित्त मंत्री जो बजट पेश करने जा रही हैं, वो पूर्ण बजट नहीं है बल्कि अंतरिम बजट है क्योंकि ये मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिर बजट होगा और इसलिए इसे अंतरिम बजट कहा जा रहा है | अंतरिम बजट (Interim Budget) पेश होने से पहले 31 जनवरी को सरकार संसद में आर्थिक सर्वेक्षण (Economy Survey) पेश करती है | यह बेहद महत्वपूर्ण होता है और पेश किए जाने वाले बजट की साफ तस्वीर पेश करता है | दूसरे शब्दों में कहें तो ये बजट से पहले देश की वित्तीय सेहत के बारे में बताने वाला दस्तावेज होता है |

आपको बता दें इस साल अप्रैल-मई में लोकसभा चुनाव होने हैं | यही वजह है कि वित्त मंत्री पूर्ण बजट पेश नहीं कर रहीं. पूर्ण बजट और आर्थिक सर्वे जुलाई में पेश किया जाएगा, जब नतीजे घोषित हो जाएंगे और एक नया मंत्रिमंडल नियुक्त कर लिया गया होगा | हालांकि, वित्त मंत्रालय ने सोमवार, 29 जनवरी को एक रिपोर्ट जारी की है | इसमें पिछले 10 ,सालों में भारतीय अर्थव्यवस्था की हाइलाइट्स दी गई हैं | समीक्षा में भारत की विकास गाथा को दो चरणों में बांटा गया है – 1950 से 2014 तक और 2014 से 2024 तक | नरेंद्र मोदी सरकार के 10 सालों को परिवर्तनकारी विकास का दशक बताया गया है | इसमें नोटबंदी का भी ज़िक्र है | मोदी सरकार के लिए ये अंतरिम बजट अहम है | भले ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पहले ही संकेत दे चुकी हैं कि इस मिनी बजट में कोई बड़े ऐलान नहीं किए जाएंगे | लेकिन इसके बावजूद मोदी सरकार का आखिरी बजट होने के चलते इस पर देश के लोगों की निगाहें और उम्मीदें टिकी हुई हैं | गौरतलब है कि इसी साल 2024 में आम चुनाव होने वाले हैं और नई सरकार बनने के बाद पूर्ण बजट पेश किया जाएगा | क्या होगा इस बजट में ख़ास ये तो बजट की पेटी खुलने के बाद ही पता चलेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *