Thu. Jun 13th, 2024

मेरठ। दिल्ली से गिरफ्तारी के बाद सोमवार को उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति जनजाति वित्तीय विकास निगम के उपाध्यक्ष व सपा नेता मुकेश सिद्धार्थ के जेल जाने पर घटनाक्रम सर्दी में पारे की तरह बदलता रहा।एसीजेएम कोर्ट से सुनवाई के बाद रिमांड बनाकर जेल भेज दिया गया। उसके बाद अपर जिला जज कोर्ट संख्या एक से अग्रिम जमानत मिल गई। अभी तक रिहाई का परवाना जेल नहीं पहुंचा था। तभी डीजीसी क्रिमिनल सर्वेश शर्मा ने सभी तथ्यों को अपर जिला जज के सामने रखा। कहा कि आरोपित ने प्रार्थना पत्र में जेल जाने का तथ्य छिपाया है। तब अग्रिम जमानत को निरस्त कर दिया। अंतत सपा नेता को जेल में रहना ही पड़ा। उन्हें कोर्ट में पेश करने के लिए फैंटम पर बैठाकर पुलिस ले गई थी।कोर्ट परिसर में भीड़ को देखकर अतिरिक्त पुलिस बल लगाया गया था। शनिवार को कलक्ट्रेट में घेराव के दौरान ऊर्जा राज्यमंत्री सोमेन्द्र तोमर को जिंदा जलाने, शहर को फूंकने की धमकी व डीएम-एएससपी व उनके बच्चों के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने वाले सपा नेता मुकेश सिद्धार्थ को पुलिस व क्राइम ब्रांच ने रविवार रात दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। मुकेश के खिलाफ सिविल लाइंस थाने में गैरजमानती धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था।सोमवार को सिविल लाइंस पुलिस ने मुकेश सिद्धार्थ का मेडिकल कराया। उसके बाद फैंटम पर बैठाकर कोर्ट में ले गए, जहां पहले से लोगों की भीड़ जमा थी। भीड़ को देखते ही कचहरी में पुलिस बल बढ़ा दिया गया। कोर्ट से 16 जनवरी तक रिमांड मिलने के बाद पुलिस ने जेल भेज दिया।

डीसीजी क्रिमिनल सर्वेश शर्मा ने बताया कि आरोपित के अधिवक्ता ने अंतिम जमानत प्रार्थना पत्र न्यायालय जिला जज के यहां डाला हुआ था, जिस पर अपर जिला जज कोर्ट संख्या एक ने सुनवाई करते हुए 16 जनवरी तक अंतरिम जमानत दे दी। परवाना अभी जेल तक नहीं पहुंचा था। तब डीजीसी क्रिमिनल ने न्यायालय को अवगत कराया कि आरोपित ने तथ्य को छुपाते हुए जमानत प्रार्थना पत्र डाला है, जबकि आरोपित जेल जा चुका है, जिस पर न्यायालय ने सुनवाई करते हुए अग्रिम जमानत को निरस्त कर दिया।

16 जनवरी तक जेल में रहेंगे
उधर, आरोपित के अधिवक्ता के जमानत का हल्ला मचा दिया, जिस पर लोग मुकेश सिद्धार्थ की रिहाई के लिए जेल परिसर तक पहुंच गए थे। बाद में सबको जेल प्रशासन ने समझा दिया, जिसके बाद वापस लौट गए। एसएसपी रोहित सजवाण ने स्पष्ट कर दिया कि मुकेश सिद्धार्थ की जमानत नहीं हुई है, वह फिलहाल 16 जनवरी तक जेल में रहेंगे। उन्होंने कहा कि मुकेश सिद्धार्थ पर दर्ज पुराने मुकदमों में भी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही इस मुकदमे में प्रदर्शन की वीडियो को लगाकर चार्जशीट तैयार की जाएगी। ताकि कोर्ट से सजा मिल सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *