Sun. Jun 23rd, 2024

बॉलीवुड के ‘महानायक’ अमिताभ बच्चन लगभग 80 वर्ष के हो गए है और इस उम्र में भी वे जितने एक्टिव हैं, उतना तो आज के यंग स्टार्स भी नहीं रह पाते हैं। यूं तो उनके फैन्स को उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ की लगभग सभी बातें पता हैं पर फिर भी कुछ ऐसी बातें होती हैं, जिनसे लोग अनजान रह जाते हैं। आज हम आपको उनके बारे में सव कुछ वतायेगे

अमिताभ बच्चन का जन्म उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद शहर में 11 अक्टूबर साल 1942 में हुआ था। उनके पिताजी मशहूर कवि श्री हरिवंशराय बच्चन और मां तेजी बच्चन थीं। उनके छोटे भाई का नाम अजिताभ बच्चन है।वही अमिताभ के पिताजी ने उनका नाम पहले ‘इंकलाब राय’ रखा था पर फिर अपने दोस्त सुमित्रानंदन पंत की बातों से प्रभावित होकर श्री हरिवंशराय बच्चन ने उनका नाम अमिताभ रख दिया था। हालांकि, बाद में उनके घरवाले उन्हें अमित और मुन्ना जैसे निक नेम्स से पुकारने लगे थे। वही अमिताभ बच्चन को खुद के ही मुंडन संस्कार के दिन सिर में गहरा घाव लग गया था और उन्हें कई टांके भी लगे थे। दरअसल, उस दिन उनके घर के दरवाजे पर एक सांड आया था, जो उन्हें पटखनी देकर चला गया था। अमिताभ बच्चन एयरफोर्स में इंजीनियर बनना चाहते थे पर किस्मत ने उन्हें बॉलीवुड का ‘शहंशाह’ बना दिया। अपने पिता की तरह अमिताभ लिखने- पढ़ने का शौक भी रखते हैं। संघर्ष के दिनों में अमिताभ ने कई रातें मुंबई के मरीन ड्राइव के पास रखी बेंच पर बिताई हैं। वे आज भी उस जगह के आसपास जाकर काफी भावुक हो जाते हैं। सदी के महानायक अमिताभ ने कोलकाता की एक शिपिंग कंपनी में बतौर एग्जीक्यूटिव भी काम किया है। आज जिस गंभीर आवाज़ के सभी दीवाने हैं, कभी इसी आवाज़ की वजह से ऑल इंडिया रेडियो ने उन्हें रिजेक्ट कर दिया था. उन्होंने कोलकाता में रेडियो अनाउंसर के तौर पर भी काम किया है। उस समय उनका वेतन 800 रुपये मासिक हुआ करता था। जब वे कोलकाता से मुंबई आए थे तो उनके हाथ में अपनी मां की सहेली इंदिरा गांधी का लिखा हुआ एक सिफारिशी खत भी था। अमिताभ को अपना पहला ब्रेक उसी खत की बदौलत मिला था। ‘वही अपको बता दे की सात हिंदुस्तानी’ उनकी पहली और एकलौती ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म थी। इसके लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था अपको बता दे की महमूद खुद को अमिताभ बच्चन का दूसरा बाप मानते थे। वे अक्सर कहते थे कि अमिताभ के दो बाप हैं, एक उन्हें पैदा करने वाला और दूसरा उन्हें कमाना सिखाने वाला। अमिताभ के संघर्ष वाले दिनों में महमूद ने उनकी काफी मदद की थी।अमिताभ बच्चन आज जितने सफल हैं, किसी दौर में वे उतने ही विफल थे। फिल्म ‘जंजीर’ से पहले उनकी 12 फिल्में फ्लॉप हुई थीं। मगर उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी। फिल्म ‘आनंद’ में उनके साथ लीड एक्टर के तौर पर राजेश खन्ना भी थे। इस फिल्म से अमिताभ बच्चन को काफी शोहरत हासिल हुई थी। फिल्म ‘जंजीर’ के सुपरहिट होने के बाद अमिताभ के पास फिल्म मेकर्स की लाइन लगने लगी थी। अमिताभ बच्चन का फेवरिट नाम विजय है, उनकी 20 फिल्मों में उनके कैरेक्टर का नाम विजय ही रखा गया था। अब तक अमिताभ 205 से अधिक फिल्में कर चुके हैं। इनमें से 12 फिल्मों में वे डबल रोल में नज़र आए थे तो वहीं ‘महान’ में उन्होंने ट्रिपल रोल किया था। अमिताभ के फैन्स उन्हें प्यार से ‘बिग बी’, ‘शहंशाह’ और ‘महानायक’ जैसे नामों से बुलाते हैं। फिल्मों में अपने किरदार के चलते उन्हें ‘एंग्री यंग मैन’ के नाम से भी जाना जाता है। दुनिया के बेशुमार प्यार और उनकी काबीलियत के कारण उन्हें ‘सदी का महानायक’ भी कहा जाता है।अमिताभ बच्चन अपनी वाइफ जया बच्चन से पहली बार फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट पुणे में मिले थे। फिर उनकी मुलाकातों का सिलसिला फिल्म ‘गुड्डी’ से परवान चढ़ा था। अमिताभ और जया ने लगभग 30 फिल्मों में साथ काम किया है। इन दोनों को रोमांस करते हुए पहली बार नादिरा में देखा गया था। इन दोनों की आखिरी कपल फिल्म ‘कभी खुशी कभी गम’ थी।अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के पहले ऐसे एक्टर हैं, जिन्हें सबसे ज्यादा बार बेस्ट एक्टर अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट किया जा चुका है। वही वे शशि कपूर की पहली चॉइस हुआ करते थे।
अमिताभ बच्चन ने 1973 में जया भादुड़ी से शादी की थी, जिसके बाद वे जया बच्चन बनीं। अमिताभ अपने दोनों बच्चों, अभिषेक बच्चन और श्वेता नंदा बच्चन के काफी करीब हैं। बिग बी एक्टिंग के साथ ही गायन की दुनिया में भी अपना परचम लहराते रहते हैं। ‘रंग बरसे भीगे चुनर वाली’ गाना अमिताभ के पिता हरिवंश राय ने लिखा था और इसे गाया अमिताभ ने था।अमिताभ की मां तेजी बच्चन इंदिरा गांधी की काफी अच्छी दोस्त थीं तो वहीं अमिताभ और राजीव गांधी भी अच्छे दोस्त हुआ करते थे। राजीव गांधी के कहने पर 1984 में अमिताभ ने राजनीति में कदम रखा था। उन्होंने इलाहाबाद की लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में उन्होंने भारतीय राजनीति के चाणक्य कहे जाने वाले नेता ‘हेमवती नंदन बहुगुणा’ को हरा दिया था।वही . फिल्म ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान अमिताभ गंभीर रूप से घायल हो गए थे। फिल्म में खलनायक की भूमिका निभा रहे पुनीत इस्सर ने एक सीन में अमिताभ को इतनी तेज घूंसा मारा था कि उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट करवाना पड़ गया था। उस समय डॉक्टर ने उनके बचने की उम्मीद भी खो दी थी।अमिताभ के अच्छे स्वास्थ्य की कामना पूरे देश ने की थी। उनके करोड़ों प्रशंसक उनके लिए विशेष पूजा- पाठ करवाये थे। वहीं, उनकी पत्नी जया हर रोज़ हॉस्पिटल से सिद्धि विनायक मंदिर तक रोज़ पैदल जाती थीं, जो कि लगभग 6 किलोमीटर था वर्ष 1992 में बनी फिल्म ‘खुदा गवाह’ की शूटिंग भारत, अफगानिस्तान, नेपाल और भूटान में हुई थी। जब इस फिल्म की शूटिंग अफगानिस्तान में हो रही थी, तब वहां के सुल्तान ने अमिताभ की सुरक्षा के लिए देश की आधी वायुसेना को ड्यूटी पर लगा दिया था। अमिताभ बच्चन अपनी पत्नी जया बच्चन से काफी डरते हैं। दरअसल, फिल्म ‘कुली’ के दौरान हुए हादसे का दर्द वे अभी तक झेल रहे हैं। ऐसे में जब भी वे बाहर शूटिंग पर जाते हैं तो जया उन्हें सख्त हिदायतें देकर रवाना करती हैं। जब भी अमिताभ को किसी डेंजरस सीन को शूट करना होता है तो वे फिल्म यूनिट के सदस्यों को पहले ही बोल देते हैं कि कोई भी उस सीन के बारे में जया को न बताए अमिताभ बच्चन की पसंदीदा एक्ट्रेस वहीदा रहमान हैं। उनका कहना है कि वे बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस हैं। अमिताभ बच्चन अपने बच्चों के साथ एकदम मज़ाकिया मूड में रहते हैं। वहीं प्रोफेशनल लाइफ में वे अपने काम को बिलकुल परफेक्शन के साथ करते हैं। अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर के साथ एक फिल्म की थी, जिसका नाम था ‘102 नॉट आउट था’। इस फिल्म में अमिताभ ने ऋषि के पिता की भूमिका निभाई थी। अमिताभ बच्चन लोगों की तारीफ करना भी बखूबी जानते हैं। जब भी उन्हें किसी एक्टर या एक्ट्रेस का काम बहुत पसंद आता है तो वे उसे चिट्ठी लिखकर विश करते हैं। परवीन बाबी ने अमिताभ बच्चन पर खुद को जान से मारने का आरोप लगाया था। वे उस समय पैरानॉइड सीजो फ्रेनिया से पीड़ित थीं। इसी वजह से कोर्ट ने अमिताभ पर लगाए गए इस आरोप को खारिज कर दिया था।2001 में अमिताभ को ईजिप्ट में सदी के महानायक के सम्मान से नवाजा गया था। बीबीसी न्यूज ने भी उन्हें सदी का महानायक करार दिया था। 2003 में फ्रांस के ड्यूविले टाउन ने उन्हें ऑनरेरी सिटिजनशिप प्रदान की थी। ब्रूस विलिस उन्हें हॉलीवुड स्टार से भी ऊपर मानते हैं।वही उनके दोनों बंगलों, जलसा और प्रतीक्षा, की कीमत 160 करोड़ के ऊपर है और ‘जलसा’ उन्हें तोहफे में मिला था। मांसपेशियों की बीमारी होने के बावजूद अमिताभ बच्चन ने फिल्म अक्स के लिए 30 फुट की ऊंचाई से स्टंट दिए थे।अमिताभ बच्चन 1982 से हर रविवार को अपने प्रशंसकों से मुलाकात कर रहे हैं। वे खुद शहर में हों या नहीं, उनके बंगले के बाहर भारी तादाद में फैन्स मौजूद रहते हैं। अमिताभ बच्चन पहले ऐसे एशियन थे, जिनका वैक्स स्टैचू लंदन के तुसाद म्यूज़ियम में लगाया गया था। अमिताभ बच्चन के अभिनय और गायन के तो सभी कायल हैं पर बहुत कम लोग जानते हैं कि उनमें एक और टैलेंट है। वे अपने दोनों हाथों से आसानी से लिख लेते हैं। टेलीविजन पर टेलीकास्ट होने वाले हर तीसरे ऐड में अमिताभ की झलक नज़र आ जाती है। इससे भी उनकी लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है। वे ब्रैंड इमेज बन चुके हैं।. वे अपनी पोती आराध्या बच्चन और नातिन नव्या नवेली नंदा के भी काफी करीब हैं। वे इन दोनों के साथ वक्त बिताने का कोई भी मौका नहीं चूकते हैं। अमिताभ बच्चन को बॉलीवुड शब्द नहीं पसंद है क्योंकि उससे सिर्फ हिन्दी फिल्म जगत का ही एहसास होता है। अपने साथ के दूसरे कलाकारों की तुलना में अमिताभ बच्चन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। वे अक्सर अपने बच्चों की और अपनी ब्लैक एंड व्हाइट फोटो शेयर करते रहते हैं। अमिताभ बच्चन फैशनेबल हैं और इस उम्र में भी रैंप पर अपना जलवा बिखेरते हैं। 2001 में अमिताभ को पद्मभूषण जैसी उपाधि से नवाजा गया था। . अमिताभ बच्चन अपने परिवार के काफी करीब हैं और हर खास दिन को पूरे परिवार के साथ मनाने की कोशिश करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *