Zika Virus को लेकर एक्शन में आई योगी सरकार, आज जाएंगे कानपुर

Zika Virus को लेकर एक्शन में आई योगी सरकार, आज जाएंगे कानपुर

भारत देश में अभी कोरोना का कहर कम भी नहीं हुआ है, तो वहीं उत्तर प्रदेश में एक नया वायरस दस्तक देता नज़र आ रहा है। यूपी के कानपुर राज्य में जीका वायरस(Zika Virus) नाम का वायरस तेज़ी से बढ़ रहा है। सिर्फ कानपूर में ही नहीं बल्कि लखनऊ शहर में भी ज़ीका वायरस के 16 मामले सामने आये हैं। कानपूर शहर की बात करें तो ज़ीका के कुल 100 केस सामने आये हैं और अब कुल संक्रमितों की संख्या 105 हो गए है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में जीका वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक्शन में आ गए हैं। सीएम योगी 10 नवंबर को कानपुर जाएंगे और जीका वायरस के मामलों की समीक्षा करेंगे। इसके साथ ही सीएम योगी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना भी मौजूद रहेंगे। जीका वायरस के बढ़ते मामलों पर मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग से रिपोर्ट मांगी है।

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा, ‘जब से जीका वायरस डिटेक्ट हुआ है, उससे संबंधित कॉन्टेक्ट रेसिंग एयरफोर्स स्टेशन के अंदर बाहर 6 किलोमीटर की परिधि में कानपुर नगर में बनाए गए स्पॉट में 106 मामले सामने आए हैं। जिसमें से कानपुर में 105 केस हैं और एक कन्नौज में है। प्रदेश भर में जीका आने से पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया था।’

My Bharat News - Article image 2

उन्होंने आगे कहा, ‘हमारी टीम ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर दस्तक दे रही है और बुखार पीड़ितों को देख रही है। स्थिति को देखते हुए आगे के ट्रीटमेंट के लिए बोला जा रहा है। इसी तरह सभी जनपद में ये शुरू किया गया है। मुख्यमंत्री जी कानपुर में स्वास्थ्य विभाग के साथ सुबह 10 बजे समीक्षा बैठक करेंगे।’

आपको बता दे, सीएम योगी आदित्यनाथ वृन्दावन में यमुना किनारे देवरहा बाबा घाट के सामने स्थित वैष्णव कुम्भ बैठक मैदान में आयोजित होने वाले दस दिवसीय ‘ब्रजरज उत्सव’ का उद्घाटन करेंगे।

जिला प्रशासन की ओर से जारी हुए योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम के अनुसार वे हेलीकॉप्टर से वृन्दावन में पवनहंस हेलिपैड पर दोपहर 1.20 बजे पहुंचेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री आदित्यनाथ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर भी मथुरा आए थे। उन्होंने उस समय श्रीकृष्ण जन्मस्थान से ढाई किलोमीटर के दायरे में आने वाले मथुरा नगर निगम के क्षेत्र को तीर्थस्थल घोषित करके मांस और मदिरा की बिक्री पर रोक लगाने की क्षेत्रीय जनता की मांग पूरी करने की घोषणा की थी।