27 C
Lucknow
मंगलवार, अक्टूबर 19, 2021

सितंबर तक आ सकती है बच्चों के लिए वैक्सीन- एम्स डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया

Must read

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

देश में कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार अब धीमी हो चली है. लेकिन इस बीच अभी तीसरी लहर को लेकर खतरा बना हुआ है. तीसरी लहर को लेकर माना जा रहा है कि बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. वहीं इस दौरान बच्चों की वैक्सीन को लेकर एक थोड़ी राहत देने वाली खबर सामने आई है.

My Bharat News - Article
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को सितंबर तक मंजूरी दी जा सकती है

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को सितंबर तक मंजूरी दी जा सकती है. उन्होंने ने कहा, ”बच्चों पर कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के बाद सितंबर तक डाटा उपलब्ध हो जाएगा. इसी महीने बच्चों के लिए कोवैक्सीन को मंजूरी दी जा सकती है.”

My Bharat News - Article Randeep Guleria2
डॉ. गुलेरिया ने इस बात से इनकार किया कि तीसरी लहर में बच्चों के प्रभावित होने की संभावना ज्यादा है


डॉ. गुलेरिया ने कहा कि अगर फाइजर-बायोएनटेक को भारत में मंजूरी मिलती है तो यह भी बच्चों के लिए एक वैक्सीन का एक विकल्प हो सकता है.” बता दें कि कोवैक्सीन का ट्रायल 2 साल से 17 साल के बच्चों पर किया जा रहा है. ये ट्रायल दिल्ली एम्स और अलग-अगल राज्यों में चल रहा है.

My Bharat News - Article AIIMS Delhi 1200
WHO और एम्स ने मिलकर एक सीरो सर्वे किया जिसमे बच्चों के लिए वैक्सीन होगी तैयार

वहीं डॉ. गुलेरिया ने इस बात से इनकार किया कि तीसरी लहर में बच्चों के प्रभावित होने की संभावना ज्यादा है. उन्होंने कहा कि इस थ्योरी पर विश्वास करने का कोई कारण ही नहीं है. बता दें कि हाल कि में WHO और एम्स ने मिलकर एक सीरो सर्वे किया था. इस सर्वे के जो निष्कर्ष सामने आए थे उसके मुताबिक बच्चों के वयस्कों की तुलना में बहुत अधिक प्रभावित होने की संभावना नहीं है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

Cruise Drugs Case: आर्यन खान के साथ शिवसेना! नेता किशोर तिवारी ने याचिका दायर कर उठाई आवाज

Cruise Drugs Case: बॉलीवुड के बादशाह खान यानि शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के बचाव में बॉलीवुड सितारों के अलावा अब...