UP: कैराना में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान के पीछे छिपा है बड़ा संदेश

UP: कैराना में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान के पीछे छिपा है बड़ा संदेश

कैराना दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को पश्चिम उत्तर प्रदेश(UP) से 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की शुरुआत कर दी। भले ही योगी आदित्यनाथ की मुलाकात वापस लौटे सभी परिवारों के सदस्यों से नहीं हो पाई हो, पर मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने वहां जो कुछ कहा, जो कुछ किया, उसमें बड़ा संदेश छिपा है।

मुख्यमंत्री ने लोगों को भाजपा सरकार के एजेंडे को पूरा करने का भरोसा देने की कोशिश की तो कानून-व्यवस्था के साथ सुरक्षा व सम्मान पर भी आश्वस्त किया। उन्होंने हिंदुओं को यह आश्वासन दिया कि उनकी सरकार के रहते न तो उन्हें बेटियों से छेड़छाड़ होने की चिंता करनी है। साथ ही भरोसा दिया कि अब किसी व्यापारी को वसूली व रंगदारी का ख्याल भी मन में नहीं लाना चाहिए। मुजफ्फरनगर जैसे दंगों की आशंका भी नहीं है।

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मुख्यमंत्री के बगल बैठी एक छोटी बच्ची को संबोधित करते हुए कहा, ‘बेटा, बाबा के रहते डरने की जरूरत नहीं है’। उससे भी यह साफ हो जाता है कि भाजपा ने मुख्यमंत्री के इस दौरे के जरिये एक तरह से पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों को सुरक्षा और सम्मान के सवाल पर निश्चिंत रहने का संदेश देने का प्रयास किया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के समीकरण और वहां के मुद्दों को देखते हुए मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष का यह दौरा संक्षिप्त होते हुए भी सियासी समीकरणों को विस्तार देने वाला है।