27 C
Lucknow
रविवार, सितम्बर 19, 2021

देश में सिंगल डोज़ वैक्सीन Sputnik Light की तीसरे ट्रायल को मंज़ूरी

Must read

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

देश में कोरोना बीते दो साल से तबाही मचा रहा हैं और भारत में इससे अछूता नहीं हैं। हालांकि अब जा कर कोरोना मामलो में थोड़ी गिरावट आई हैं, लेकिन इसका खतरा अभी भी टाला नहीं हैं। वैज्ञानिको ने अभी भी तीसरी लहर की आशंका जताई हैं। ऐसे में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने रूस की सिंगल डोज वैक्सीन स्पुतनिक लाइट(Sputnik Light) के तीसरे चरण के ट्रायल की इजाजत दे दी है।

हाल ही में मेडिकल जर्नल ‘द लैंसेट’ में प्रकाशित एक अध्ययन के बाद यह मंजूरी दी गई है। इस अध्‍ययन में पाया गया है कि स्पुतनिक लाइट ने कोविड-19 के खिलाफ 78.6 से 83.7 फीसद की प्रभावकारिता दिखाई है। यह दो डोज वाले अधिकांश टीकों की तुलना में काफी अधिक है। इस साल जुलाई में केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की विषय विशेषज्ञ समिति ने स्पुतनिक-लाइट के आपात इस्‍तेमाल को मंजूरी देने से इनकार कर दिया था।

साथ ही DCGI ने भी स्पुतनिक लाइट के इस्तेमाल को मंज़ूरी देने से इंकार कर दिया था। यही नहीं देश के इस वैक्सीन की तीसरे चरण के ट्रायल की आवश्यकता को भी खारिज कर दिया गया था। उस समय विशेषज्ञ समिति ने कहा था कि स्पुतनिक लाइट के घटक भी स्पुतनिक-वी के समान है।

इस बीच रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (Russian Direct Investment Fund, RDIF) ने कहा है कि दो डोज वाली रूसी स्पुतनिक-वी वैक्सीन ने बेलारूस में कोरोना के खिलाफ 97.2 फीसद प्रभावकारिता दिखाई है। वहीं ANI के मुताबिक जारी बयान में कहा गया है कि जनवरी और जुलाई 2021 के बीच टीकाकरण के 860,000 से अधिक लोगों के आंकड़ों के आधार पर स्पुतनिक-वी की यह प्रभावशीलता मापी गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े भी स्पुतनिक-वी की उच्च सुरक्षा की तस्‍दीक करते हैं।

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

राजनैतिक चर्चे में आई Rakhi Sawant, ट्विटर के ज़रिये पक्ष में बोले पति राकेश

बॉलीवुड और टेलीविज़न जगत की ड्रामा क्वीन राखी सावंत(Rakhi Sawant) अक्सर ही चर्चा में रहती हैं। सोशल मीडिया पर राखी सावंत काफी...