30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021

कृषि बिल पर किसानों-सरकार के बीच हुई बातचीत का नहीं निकला कोई हल 19 जनवरी को होगी अगली बैठक

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

केन्द्र सरकार की ओर से लाए गए तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का आज 52वां दिन है.किसानों व सरकार के बीच अबतक कुल 9 बार बातचीत हो चुकी है लेकिन इस बातचीत के बीच कोई हल नही निकल सका है.आपको बता दें कि दोनों के बीच अब 19 जनवरी को एक बार फिर बातचीत करने पर सहमति बनी है.देखना दिलचस्प होगा कि क्या सरकार की ओर से कुछ ऐसी बात बनती हो जो किसानों के आन्दोलन को खत्म कराने के साथ ही किसानों को सन्तुष्ट कर सकें.

My Bharat News - Article rakesh 1
राकेश टिकैत

दिल्ली की सीमाओं पर चल रहा किसानों का आंदोलन अभी और दिनों तक चलने की उम्मीद जताई जा रही है क्योंकि देखा जा रहा है कि सरकार व किसानों के बीच बातचीत किसी नतीजे तक पहुंचने में सफल नहीं हो रही है.9वें दौर की बातचीत के दौरान भी दोनों पक्षों ने अपने पुराने राग को ही अलापा.सरकार के पक्ष की ओर से दोहराया गया कि वो कानूनों में संशोधन के लिए तैयार है,जबकि किसान नेताओं की ओर से कानून को वापिस लेने की बात दोहराई गयी है.

My Bharat News - Article

सरकार ने किसान नेताओं से कहा कि वो अपनी ओर से एक समिति का गठन करें जो सरकार के सामने एक ठोस प्रस्ताव लेकर आये जिससे बातचीत कर कोई हल निकाला जा सके.वहीं बैठक में सरकार की ओर से मौजूद रहे खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने तीन क़ानूनों में से एक, आवश्यक वस्तु संशोधन क़ानून के बारे में किसानों को विस्तार से बताया और किसानों के सवालों का जवाब दिया. बैठक में किसानों ने हरियाणा में कुछ किसानों पर हुई एफआईआर और पंजाब के कुछ ट्रांसपोर्टरों पर एनआईए (NIA ) की ओर से कार्रवाई करने का भी आरोप लगाया.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...