27 C
Lucknow
मंगलवार, अक्टूबर 19, 2021

देश में अगस्त तक आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर सिंतबर में देखी जाएगी इसकी पीक

Must read

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

देश में कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर होने पर अब इसकी तीसरी लहर को लेकर लोगों की ओर से अलग अलग तरह की बातें कही जा रही हैं. तीसरी लहर के विषय में कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि देश में कोरोना की तीसरी लहर पहले से और भी ज्यादा भयानक होगी. वहीं कुछ का कहना है कि तीसरी लहर में चिता करने वाली बात नहीं. इस बीच एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट ने तीसरी लहर को लेकर बड़ी बात कही है. 

My Bharat News - Article
एक्सपर्ट्स का कहना है कि देश में कोरोना की तीसरी लहर पहले से और भी ज्यादा भयानक होगी.

एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट में बताया गया है कि अगस्त माह में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है. इसके साथ ही कहा गया है कि इसका पीक सितंबर में होगा. आपको बता दें कि एसबीआई की ये रिसर्च ‘कोविड-19: द रेस टू फिनिशिंग लाइन नाम से पब्लिश हुई है. 

रिपोर्ट में कहा गया है कि जुलाई के दूसरे हफ्ते में रोज आने वाले नए मरीजों की संख्या 10 हजार तक आ जाएगी. देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 34 हजार 703 नए मामले सामने आए हैं. बड़ी बात ये है कि देश में 111 दिनों बाद इतने कम मामले सामने आए हैं. 

My Bharat News - Article
पिछले 24 घंटों में कोरोना के 34 हजार 703 नए मामले सामने आए हैं

SBI रिसर्च की ये रिपोर्ट बताती  है कि फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में परिवार पर कर्ज जीडीपी का 37.3 प्रतिशत पहुंच गया है. जो कि पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में 32.5 फीसदी था.

इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि महामारी की दूसरी लहर की वजह से कर्ज का ये अनुपात चालू वित्त वर्ष में और बढ़ सकता है.  वैसे परिवारिक कर्ज का स्तर जुलाई 2017 में जीएसटी लागू होने के बाद से बढ़ रहा है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

Cruise Drugs Case: आर्यन खान के साथ शिवसेना! नेता किशोर तिवारी ने याचिका दायर कर उठाई आवाज

Cruise Drugs Case: बॉलीवुड के बादशाह खान यानि शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के बचाव में बॉलीवुड सितारों के अलावा अब...