11 दिनों तक इजरायल और हमास के बीच चली खूनी जंग थमी, दोनों ने ही पेश की अपनी जीत

My Bharat News - Article 1िु
इजरायल-हमास के बीच बंद हुई खूनी जंग

इजरायल और आतंकवादी संगठन हमास के बीच 11 दिनों तक चले युद्ध संघर्ष के नतीजे अब आ गए हैं. ये संघर्ष क्रिकेट के एक मैच की तरह टाई हो गया है. यानी हमास के साथ युद्धविराम पर इजरायल ने सहमति दे दी है. लेकिन इस युद्ध के टाई होने के बावजूद दोनों पक्ष अपनी अपनी जीत का दावा कर रहे हैं.  

My Bharat News - Article 4नव
मिस्त्र और अमेरिका की मध्यस्थता के बाद बंद हुआ युद्ध

ऐसा कहा जा रहा है कि मिस्र और अमेरिका ने युद्धविराम के लिए इजरायल और हमास के बीच मध्यस्थता की और इजरायल ने भी युद्धविराम के प्रस्ताव को सहमति दे दी. हालांकि इसके पीछे वजह ये बताई जा रही है कि इजरायल पर गाजा पट्टी में हवाई हमलों को लेकर भारी अंतर्राष्ट्रीय दबाव था, जो देश पहले इजरायल के समर्थन में थे, उन देशों ने गाजा में इजरायल के हवाई हमलों के बाद अपना रुख बदला और इजरायल पर दबाव बनाया. इसी दबाव ने इजरायल को युद्ध विराम पर सहमति देने के लिए मजबूर किया.

My Bharat News - Article 5रक
11 दिनों तक चले इस खूनी संघर्ष में दोनों ने ही कही अपनी जीत की बात

जबकि हमास पर भी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की तरफ से दबाव बढ़ रहा था कि वो फिलिस्तीनी अरब लोगों की आड़ में इजरायल के नागरिकों पर रॉकेट दागने बन्द करे. यानी दोनों पक्षों पर दबाव था और इसीलिए 11 दिनों के बाद युद्ध विराम पर सहमति बन पाई. लेकिन ये युद्धविराम कब तक रहता है, ये एक बड़ा प्रश्न है. 

My Bharat News - Article 3रक
इजरायल ने दावा किया है कि हमास के 250 लड़ाकों को उसने मार गिराया है

इजरायल दावा कर रहा है कि जीत उसकी हुई है, जबकि हमास के लड़ाके गाजा पट्टी में जीत का जश्न मना रहे हैं. तो युद्ध में जीत किसकी हुई.  आज हम आपको इसी के बारे में बताएंगे. आप कुछ आंकड़ों से समझ सकते हैं कि 11 दिनों तक चले इस संघर्ष में जीता कौन.  इससे दोनों पक्षों को हुए नुकसान से समझ सकते हैं.

My Bharat News - Article 2ें
हमास के पास अब भी करीब 50 हजार लड़ाके गाजा पट्टी में मौजूद हैं

इजरायल ने दावा किया है कि उसने हमास के लगभग 250 लड़ाकों को मार दिया है. उसके टनल नेटवर्क को बर्बाद कर दिया है और उसके इन्फ्रास्ट्रक्चर को भी नुकसान पहुंचाया है.इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू का दावा है कि इजरायल ने हमास को कई वर्ष पीछे धकेल दिया है. हालांकि इजरायल ने भले हमास को भारी नुकसान पहुंचाया लेकिन वो अपने लक्ष्य में कामयाब नहीं हुआ. वो ना तो हमास पर पूरी तरह से विजय प्राप्त कर पाया और ना ही उसकी युद्ध क्षमता को पूरी तरह नष्ट कर पाया. और इसके भी कई कारण हैं- हमास के पास अब भी लगभग 50 हजार लड़ाके गाजा पट्टी में मौजूद हैं.

My Bharat News - Article 4गद
हमास ने भी बराबर रॉकेट दागते हुए खुद को कमजोर ना साबित करने की खाई थी कसम

हमास के पास हजारों रॉकेट का जखीरा है. हमास कल रात तक इजरायल पर रॉकेट दाग रहा था. यानी हमास ने दिखा दिया कि वो कमजोर है लेकिन वो फिर भी रॉकेट दाग कर इजरायल को परेशान कर सकता है.