बिहार में सुशील मोदी का पत्ता साफ, ट्वीटर के बायो से डिप्टी सीएम हटाया

My Bharat News - Article susheel

पटना. एनडीए विधायक दल की बैठक के बाद यह साफ हो गया है कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार होंगे। लेकिन डेप्युटी सीएम कौन होगा। इसे लेकर एनडीए नेताओं ने चुप्पी साध ली है। लेकिन सुशील मोदी ने ही खुद ही साफ कर दिया है कि वह बिहार के अगले डेप्युटी सीएम नहीं होने जा रहे हैं। सुशील मोदी ने पहले एक मार्मिक ट्वीट किया है, जिसमें उनका दर्द छलक आया।

इसके साथ ही सुशील कुमार मोदी ने अपने ट्विटर के बायो से डेप्युटी सीएम बिहार का पद हटा लिया है। इससे भी साफ हो रहा है कि सुशील मोदी डेप्युटी सीएम नहीं बनने जा रहे हैं। इस बात के संकेत तभी मिलने लगे थे कि जब सुशील मोदी ने शनिवार को सीएम नीतीश कुमार के साथ राजभवन इस्तीफा देने नहीं गए थे। वहीं, पटना में रहने के बावजूद भी वह बीजेपी विधायक दल की बैठक में शामिल होने नहीं गए थे।

यूं छलका सुशील मोदी का दर्द
पार्टी की तरफ से संकेत मिलने के बाद सुशील मोदी ने ट्वीट किया है कि बीजेपी और संघ परिवार ने उन्हें 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा। आगे भी जो जिम्मेदारी मिलेगी उसका निर्वहन करूंगा। कार्यकर्ता का पद तो कई नहीं छीन नहीं सकता है। सुमो के इस ट्वीट का मतलब साफ है कि वह डेप्युटी सीएम नहीं बनने जा रहे हैं।

हालांकि बीजेपी की तरफ से इसे लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं है। पर्यवेक्षक बन कर पटना आए राजनाथ सिंह ने कहा है कि डेप्युटी सीएम को लेकर जल्द ही सब कुछ साफ हो जाएगा। लेकिन सुशील कुमार मोदी पर वह कुछ नहीं बोले। सीएम नीतीश कुमार ने भी यहीं जवाब दिया था। चर्चाओं के मुताबिक सुशील मोदी अब केंद्र की राजनीति में शिफ्ट होंगे।


एनडीए की बैठक में बीजेपी विधानमंडल दल के नेता का चुनाव हुआ है। कटिहार से आने वाले तारकिशोर प्रसाद को विधानमंडल दल का नेता चुना गया है। इसके साथ ही नीतीश सरकार में कभी कला संस्कृति मंत्री रहीं रेणु देवी को उपनेता चुना गया है। चर्चा है कि तारकिशोर प्रसाद भी बिहार के अगले डेप्युटी सीएम हो सकते हैं। लेकिन पार्टी के फैसले से दिल्ली से लेकर पटना तक में हलचल है।

नीतीश कुमार सोमवार को शाम 4 बजे के करीब 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं। रविवार को उन्हें एनडीए के विधायक दल का नेता चुना गया जिसके बाद दोपहर करीब 2 बजे उन्होंने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। बिहार चुनाव में एनडीए ने 243 में से 125 सीटों पर जीत हासिल की है। जेडीयू को 43 और बीजेपी को 74 सीटें मिली हैं। एनडीए की बाकी दो सहयोगियों हम और वीआईपी को 4-4 सीटें मिली हैं। आरजेडी 75 सीट जीतकर सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनी है।