राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला : राजद्रोह कानून पर सुप्रीमकोर्ट ने लगाई रोक पुनर्विचार होने तक मामले को दर्ज करने से किया इंकार

My Bharat News - Article pic 4
राजद्रोह कानून पर सुप्रीम फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसले में देशद्रोह कानून पर रोक लगा दी है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों से आग्रह किया कि जब तक केंद्र द्वारा कानून की समीक्षा पूरी नहीं हो जाती, तब तक देशद्रोह का कोई भी मामला दर्ज नहीं होगा.

My Bharat News - Article 119170952 gettyimages 179373616
एन.वी रमन्ना, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया

आपको बता दें कि, ये कानून IPC की धारा 124 A में निहित है.चीफ जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने कहा कि जब तक केंद्र द्वारा देशद्रोह के प्रावधान की समीक्षा पूरी नहीं हो जाती, तब तक सरकारों को देशद्रोह के प्रावधान का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. एक अंतरिम आदेश में, पीठ ने कहा कि देशद्रोह के प्रावधान के तहत कोई नई प्राथमिकी दर्ज नहीं की जानी चाहिए और पहले से ही जेल में बंद लोग राहत के लिए अदालतों का दरवाजा खटखटा सकते हैं.

My Bharat News - Article 1600x960 403710 kiren rijiju
राजद्रोह की धारा 124ए को खत्म करने का कोई प्रसातव नहीं-केंद्रीय मंत्री

केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बेंच को बताया कि,देशद्रोह के अपराध के लिए एफआईआर दर्ज करने से नहीं रोका जा सकता क्योंकि ऐसा प्रावधान एक संज्ञेय अपराध से जुड़ा है 1962 में इसको एक संविधान बेंच ने बरकरार रखा था.लंबित राजद्रोह के मामलों के संबंध में केंद्र ने सुझाव दिया कि ऐसे मामलों में जमानत याचिकाओं पर सुनवाई तेज की जा सकती है क्योंकि सरकार को हर एक मामले में अपराध की गंभीरता का पता नहीं होता,ऐसे मामलों में आतंक या मनी लॉंड्रिंग एंगल भी हो सकता है.