34 C
Lucknow
शनिवार, जुलाई 24, 2021

कोरोना से मौत पर चार लाख मुआवजा देने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

Must read

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

कोरोना महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को चार लाख रूपए मुआवजा देने वाली याचिका को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है. वहीं कोर्ट ने केंद्र को मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया को सरल बनाने क निर्देश दिया.

My Bharat News - Article Supreme courtofIndia 630x381 3
मुआवजा देने वाली याचिका को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है.


बता दें कि केंद्र ने कोर्ट में बताया कि कोरोना महामारी से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को चार-चार लाख रूपये मुआवजा देना संभव नहीं है, केंद्र ने कहा कि मौजूदा समय में केंद्र और राज्य दोनों की वित्तीय स्थिति अच्छी नहीं है.

My Bharat News - Article 21 05 2021 modi 2021521 1203
सरकार के मुताबिक कोरोना से मरने वाले हर एक को मुआवजा देना नहीं हो सकता संभव


वहीं गृह मंत्रालय हलफनामा दायर करते हुए कहा है कि आपदा प्रबंधन कानून, 2005 की धारा 12 के तहत ‘न्यूनतम मानक राहत’ के तौर पर स्वास्थ्य, आधारभूत संरचना बढ़ाने और प्रत्येक नागरिक को खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ठोस और तेजी से कदम उठाए गए हैं.

My Bharat News - Article images 4
गृह मंत्रालय ने अपनी ओर से भी दायर किया हलफनामा


दरअसल सुप्रीम कोर्ट दो अलग-अलग याचिकाओं की सुनवाई कर रहा है. इस याचिका के द्वारा केंद्र और राज्य से कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को 4 लाख रूपए मुआवजा देने और मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए एक समान नीति बनाने की अपील की गई है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

सिद्धू ने संभाली पंजाब प्रदेश अध्यक्ष की कमान कैप्टन अमरिंदर से जंग के बीच सिद्धु की हुई ताजपोशी

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभाली ली है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की...