34 C
Lucknow
शनिवार, जुलाई 24, 2021

पंजाब केसरी के नाम से मशहूर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी लाला लाजपत राय की जयंती पर विशेष

Must read

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

देश को आजाद कराने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले और गरम दल के प्रमुख नेता के रूप में रहे लाला लाजपत राय की आज 156वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें याद करते हुए कहा महान स्वतंत्रता सेनानी पंजाब केसरी लाला लाजपत राय को उनकी जन्म जयंती पर कोटि कोटि नमन.

My Bharat News - Article
पीएम नरेन्द्र मोदी ने लाला लाजपत राय को किया याद

28 जनवरी 1865 को पंजाब के मोंगा जिले में लाला लाजपत राय का जन्म हुआ था.पंजाब में उनके कार्यों और देश की आजादी में महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुए उन्हें पंजाब केसरी की उपाधि दी गई. 1885 में कांग्रेस की स्थापना के वक्त से ही लाला लाजपत राय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में प्रमुख स्थान रखते थे.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए याद किया.

My Bharat News - Article
पंजाब केसरी के नाम से मशहूर हुए लाला लाजपत राय

आजादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले लाला लाजपत राय को अंग्रेजों ने बर्मा की जेल में भेजा था.जेल से आकर वो अमेरिका गए, वहां से लौटने के बाद लाला लाजपत राय महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन का हिस्सा बने.यूं तो लाला लाजपत राय की लोकप्रियता पूरे देश में थी लेकिन पंजाब में अंग्रेजों के खिलाफ उनकी आवाज को पत्थर की लकीर माना जाता था.

My Bharat News - Article
साइमन कमीशन वापिस जाओ का नारा देने वाले प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय

पंजाब में उनकी लोकप्रियता और प्रभाव को देखते हुए उन्हें ‘पंजाब केसरी’ यानी ‘पंजाब का शेर’ कहा जाता था.साल 1928 में ब्रिटिश राज ने भारत में कुछ मामलों में सुधार लाने के लिए साइमन के नेतृत्व में साइमन कमीशन का गठन किया.अंग्रेजों ने इस कमीशन में किसी भी भारतीय को सदस्य नहीं बनाया.जिसके विरोध में लाला लाजपत राय ने झंडा उठाया.वहीं पर उनके ऊपर हुए लाठी के हमलों से घायल हुए लाला लाजपत राय जख्मी हालत में 18 दिनों तक अस्पताल में रहे जहां पर उनकी मृत्यु हो गई और 17 नवंबर 1928 को उन्होंने आखिरी सांस ली.

My Bharat News - Article
देशभक्ति का निर्माण न्याय और सत्य की दृढ़ चट्टान पर ही किया जा सकता है-लाला लाजपत राय
- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

सिद्धू ने संभाली पंजाब प्रदेश अध्यक्ष की कमान कैप्टन अमरिंदर से जंग के बीच सिद्धु की हुई ताजपोशी

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभाली ली है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की...