30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021

किसान आंदोलन के दौरान राकेश टिकैत का रोना बना टर्निंग प्वाइंट दिल्ली लौटने पर एक बार फिर मजबूर हुए देश भर के किसान

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

26 जनवरी के दिन हुए लाल किले पर हिंसा के बाद किसान आंदोलन एक बार कमजोर पड़ता दिखाई दिया जिसके बाद से ही ये कयास लगाया जाने लगा कि शायद यहां से किसान अपने आंदोलन को खत्म कर दें और सरकार द्वारा लाए गए 3 नए कृषि कानून पर अपनी सहमति दर्ज करा दें.लेकिन इन सब के विपरीत कल जब गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस और उत्तर प्रदेश पुलिस के सिपाहियों के अलावा ही रैपिड एक्शन फोर्स के जवान फुल मूड में नजर आये तो वहीं उत्तर प्रदेश के किसान नेता राकेश टिकैत ने भावुक होते हुए आंदोलन खत्म होने की दशा में आत्महत्या कर लेने की धमकी दे डाली.जिसके बाद से ही देश भर के किसान दिल्ली बॉर्डर पर एक बार फिर जुटने लगे हैं और कहीं से भी सरकार से सामने झुकने को तैयार नजर नहीं आ रहे हैं.

My Bharat News - Article
26 जनवरी के दिन लाल किले पर अलग अलग जगहों से पहुंचे किसान

आइए जानते हैं कौन हैं किसानों के नेता राकेश टिकैत और इससे पहले वो क्या करते थें? आपको बता दें कि दिल्ली मे किसानो का आंदोलन अब नाजुक मोड़ पर पहुंच गया है.कुछ किसान संगठनों ने अपने आप को इस आंदोलन से अलग भी कर लिया है.26 जनवरी के दिन दिल्ली के लाल किला पर हुई हिंसा के बाद किसान नेताओं के सुर भी अब बदले-बदले से नजर आने लगें हैं.लेकिन इन सब के बीच किसान नेता राकेश टिकैत आंदोलन खत्म करने के लिए अभी भी तैयार नहीं हैं.उन्होंने ये तक कह दिया कि अगर ये आंदोलन खत्म हुआ तो मै आत्महत्या कर लूंगा.

My Bharat News - Article
आंदोलन खत्म करने को लेकर भावुक हुए राकेश टिकैत

राकेश टिकैत के बारे में बात की जाए तो इससे पहले तक राकेश टिकैत दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर हुआ करते थे वहीं आज वो करोड़ों रुपयों की संपत्ति के मालिक हैं.राकेश टिकैत इससे पहले दो बार चुनाव भी लड़ चुके हैं और उन्हें दोनों बार ही चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है.किसानों की ओर से राजनीति उन्हें विरासत में मिली है क्योंकि उनसे पहले तक उनके दिवंगत पिता महेन्द्र सिंह टिकैत भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष हुआ करते थे.

My Bharat News - Article
राकेश टिकैत

राकेश टिकैत का जन्म 4 जून 1969 को उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के सिसौली गांव में हुआ था.राकेश टिकैत ने मेरठ यूनिवर्सिटी से एम.ए करने के बाद एल.एल.बी की और वकील बन गए.राकेश टिकैत ने 1992-93 में जब दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के रूप में तैनाती ली उस समय उनके पिता के नेतृत्व में दिल्ली मे किसान आंदोलन चल रहा था.उस समय सरकार की ओर से उन पर दबाव बनाया गया कि वो अपने पिता को मनाते हुए इस आंदोलन को खत्म करने के लिए कहें.जिसके बाद ही राकेश टिकैत पुलिस की नौकरी छोड़कर अपने पिता के साथ ही किसानों के हक के लिए खड़े हो गए.

My Bharat News - Article ्ननव
किसान आंदोलन से राकेश टिकैत का है गहरा नाता

राकेश टिकैत ने पहली बार राजनीति में उतरते हुए 2007 में मुजफ्फरनगर की खतौली विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था.जिसमे उन्हें हार का सामना करना पड़ा था.इसके बाद राकेश टिकैत ने साल 2014 मे अमरोहा लोकसभा सीट से राष्ट्रीय लोकदल पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन इस बार भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

My Bharat News - Article
गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस की हुई अतिरिक्त तैनाती

आपको बतायें कि राकेश टिकैत की ही तरह उनके बड़े भाई नरेश टिकैत भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.जबकि राकेश टिकैत स्वयं भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता हैं.जबकि राकेश टिकैत के छोटे भाई सुरेंद्र टिकैत मेरठ की मेरठ की एक शुगर मिल में मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं और उनके सबसे छोटे भाई नरेंद्र टिकैत गांव में ही खेती करते हैं.

My Bharat News - Article रि
भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष व राकेश टिकैत के बड़े भाई नरेश टिकैत
- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...