14 C
Lucknow
मंगलवार, नवम्बर 30, 2021

कोरोना मरीजों के लिए मसीहा बनकर सामने आए प्यारे खान, ऑक्सीजन के लिए खर्च कर चुके हैं 85 लाख

Must read

गौतम गंभीर को तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी

पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर को फिर जान से मारने की धमकी मिली है। गौतम गंभीर को कथित तौर पर...

UPTET पेपर लीक मामला- सीएम ने कहा- आरोपियों पर गैंगेस्टर और रासुका के तहत कार्रवाई, संपत्ति भी होगी जब्त

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के...

चिरंजीवी ने कोरियोग्राफर के इलाज के लिए दिए 3 लाख

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोरियोग्राफर शिवशंकर मास्टर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोरियोग्राफर फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं और बताया जा रहा है...

दुनिया में कोरोना से हाहाकार, इजराइल में विदेशियों के आने पर पाबंदी, ब्रिटेन में हाई अलर्ट, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन का विरोध

साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन मिलने बाद दुनिया अलर्ट पर है। इजराइल ने तमाम विदेशी नागरिकों की देश में...

कोरोना महामारी के दौरान देशभर में अफरा तफरी का माहौल बना हुआ है. महाराष्ट्र, यूपी में कोरोना ने तांडव मचा रखा है. हॉस्पिटल में बेड की काफी किल्लत है, लोगों को ऑक्सीजन के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. ऐसे हालातों में कुछ लोगों ने आपदा को अवसर बना लिया है…और जमकर कालाबाजारी कर रहे हैं…तो वहीं इस बीच कुछ लोग ऐसे भी है.जो इस महामारी में मसीहा बनकर सामने आए हैं. ऐसे ही एक शख्स हैं.नागपुर के रहने वाले प्यारे खान… संतरे बेचने से शुरुआत कर ऑटोरिक्शा तक चला चुके प्यारे खान अब एक बड़े ट्रांसपोर्टर हैं। संकट की इस घड़ी में वो एक हफ्ते में 85 लाख रुपये खर्च कर चुके हैं, जिससे 400 मीट्रिक टन ऑक्सिजन अस्पतालों तक पहुंच चुका है.

My Bharat News - Article खान 02

प्यारे खान आज एक बड़े ट्रांसपॉर्टर हैं। उनके पास 300 ट्रकें हैं। 400 करोड़ कीमत की कंपनी के मालिक प्यारे करीब 2 हजार ट्रकों के नेटवर्क को मैनेज करते हैं, जिसके दफ्तर नेपाल, भूटान, बांग्लादेश में हैं। ऑक्सिजन सप्लाई के लिए उन्होंने सरकार से भी कोई मदद नहीं ली और सारा खर्च खुद ही वहन कर रहे हैं। वह इसे रमजान के पवित्र महीने के दौरान ‘जकात’ या दान के तौर पर मानते हैं।

प्यारे अभी तक नागपुर सहित अन्य जगहों पर अस्पतालों में ऑक्सिजन सिलिंडर्स की सप्लाई करा चुके हैं। उन्होंने बताया कि रायपुर, भिलाई, राउरकेला जैसी जगहों पर सप्लाई करा चुके हैं। उनकी इस पहले में AIIMS सहित अन्य अस्पतालों में 50 लाख रुपये की कीमत के 116 ऑक्सिजन कॉन्सेंट्रेटर्स शामिल हैं।

नागपुर के हीरो बनकर उभरे प्यारे खान के पिता ताजबाग इलाके की झोपड़ियों में रहते थे। प्यारे ने 1995 में नागपुर रेलवे स्टेशन के सामने संतरे बेचने से अपने धंधे की शुरुआत की थी। वह ऑटोरिक्शा चलाने के साथ ही आर्केस्ट्रा कंपनी में भी काम कर चुके हैं.अपनी मेनहत के बल पर आज प्यारे खान  400 करोड़ रुपये कीमत की ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक है. माई भारत प्यारे खाने के जज्बे को सलाम करता है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

गौतम गंभीर को तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी

पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर को फिर जान से मारने की धमकी मिली है। गौतम गंभीर को कथित तौर पर...

UPTET पेपर लीक मामला- सीएम ने कहा- आरोपियों पर गैंगेस्टर और रासुका के तहत कार्रवाई, संपत्ति भी होगी जब्त

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के...

चिरंजीवी ने कोरियोग्राफर के इलाज के लिए दिए 3 लाख

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोरियोग्राफर शिवशंकर मास्टर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोरियोग्राफर फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं और बताया जा रहा है...

दुनिया में कोरोना से हाहाकार, इजराइल में विदेशियों के आने पर पाबंदी, ब्रिटेन में हाई अलर्ट, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन का विरोध

साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन मिलने बाद दुनिया अलर्ट पर है। इजराइल ने तमाम विदेशी नागरिकों की देश में...

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, कई गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश में रविवार यानी 28 नवंबर को हो रही यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा रद्द (UPTET Exam 2022) कर दी गई है....