Priyanka Gandhi को पुलिस ने आगरा जाने से बीच रास्ते में रोका, बोली ‘उप्र सरकार को डर किस बात का है?’

Priyanka Gandhi को पुलिस ने आगरा जाने से बीच रास्ते में रोका, बोली 'उप्र सरकार को डर किस बात का है?'

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी(Priyanka Gandhi) वाड्रा बुधवार को आगरा के लिए रवाना हुई थी। इसी बीच उनके काफिले को आगरा एक्सप्रेस वे के एंट्री पॉइंट पर ही रोक लिया गया। वह वहां वाल्मीकि जयंती के मौके पर अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिलने जाना चाहती थीं। लेकिन पुलिस ने उन्हे हिरासत में ले लिया। वहीं आगरा टोल पर प्रियंका गांधी महिला पुलिसकर्मी संग सेल्फी क्लिक कराती भी दिखीं। पुलिस कर्मी कांग्रेस के नए नारे लड़की हूं लड़ सकती हूं की तारीफ करती भी नजर आई।

दरअसल, आगरा में सफाई कर्मचारी अरुण वाल्मीकि की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। वाल्मीकि जयंती के मौके पर प्रियंका गांधी अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिलने आगरा जाना चाहती थीं लेकिन उनको आगरा टोल पर ही उन्हे रोक लिया गया। आरोप है कि पुलिस हिरासत में सफाई कर्मचारी की मौत हुई। मामले में ताजा अपडेट यह भी है कि एसएसपी आगरा ने इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है जिसमें एक इंस्पेक्टर भी शामिल हैं।  

इस पर जानकारी देते हुए प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया कि अरुण वाल्मीकि की मृत्यु पुलिस हिरासत में हुई। उनका परिवार न्याय मांग रहा है। मैं परिवार से मिलने जाना चाहती हूं। उत्तर प्रदेश सरकार को डर किस बात का है? क्यों मुझे रोका जा रहा है। आज भगवान वाल्मीकि जयंती है, पीएम ने महात्मा बुद्ध पर बड़ी बातें की, लेकिन उनके संदेशों पर हमला कर रहे हैं। उन्होंने पूछा कि क्या आगरा में पुलिस हिरासत में मारे गए अरुण वाल्मीकि के लिए न्याय मांगना अपराध है? भाजपा सरकार की पुलिस मुझे आगरा जाने से क्यों रोक रही है। क्यों हर बार न्याय की आवाज को दबाने की कोशिश की जाती है? मैं पीछे नहीं हटूंगी।

इसके पहले उन्होंने कहा था कि किसी को पुलिस कस्टडी में पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय है? आगरा पुलिस कस्टडी में अरुण वाल्मीकि की मौत की घटना निंदनीय है। भगवान वाल्मीकि जयंती के दिन उप्र सरकार ने उनके संदेशों के खिलाफ काम किया है। उच्चस्तरीय जांच व पुलिस वालों पर कार्रवाई हो व पीड़ित परिवार को मुआवजा मिले।

आपको बता दें कि आगरा के थाना जगदीशपुरा में 17 अक्तूबर को 25 लाख रुपये गायब हुए थे। ये पैसे आगरा के थाने के मालखाने में रखे हुए थे। इस दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी कथित तौर पर चाय पीने गया हुआ था। एक सफाई कर्मचारी को पुलिस ने मंगलवार को पकड़ा था। बताया गया था कि उसने 25 लाख रुपये चुराने की बात कबूली थी।