14 C
Lucknow
सोमवार, नवम्बर 29, 2021

PHD स्कॉलर ने एक साल में बेची 100 किलोग्राम मेफेड्रोन, करता था नशे की मैन्युफैक्चरिंग

Must read

गौतम गंभीर को तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी

पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर को फिर जान से मारने की धमकी मिली है। गौतम गंभीर को कथित तौर पर...

UPTET पेपर लीक मामला- सीएम ने कहा- आरोपियों पर गैंगेस्टर और रासुका के तहत कार्रवाई, संपत्ति भी होगी जब्त

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के...

चिरंजीवी ने कोरियोग्राफर के इलाज के लिए दिए 3 लाख

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोरियोग्राफर शिवशंकर मास्टर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोरियोग्राफर फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं और बताया जा रहा है...

दुनिया में कोरोना से हाहाकार, इजराइल में विदेशियों के आने पर पाबंदी, ब्रिटेन में हाई अलर्ट, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन का विरोध

साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन मिलने बाद दुनिया अलर्ट पर है। इजराइल ने तमाम विदेशी नागरिकों की देश में...

राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) ने एक मिली सूचना के आधार पर मेफेड्रोन ड्रग की मैन्युफैक्चरिंग करने वाले एक पीएचडी स्कॉलर और खरीदने वाले शख्स को रंगे हाथों पकड़ लिया है. इस दौरान DRI ने 3.156 किलोग्राम मेफेड्रोन जब्त की जिसकी कीमत करीब 64 लाख रुपये बताई जा रही है. जब DRI की टीम मेफेड्रोन ड्रग का उत्पादन करने वाले के घर गई तो उसे वहां 112 ग्राम मेफेड्रोन के साथ-साथ 12.40 लाख रुपए भी मिले जिसे DRI की टीम ने जब्त कर लिया.

इसके अलावा हैदराबाद के बाहरी इलाके में स्थित क्लैन्डेस्टोन टैबलेट लैब से लगभग 219.5 किलोग्राम कच्चे माल को जब्त किया गया है, जिससे करीब 15-20 किलोग्राम मेफेड्रोन का निर्माण और किया जा सकता था. DRI ने अपनी जांच में पाया है कि मेफेड्रोन के उत्पादन के पीछे मुंबई स्थित एक नेटवर्क काम कर रहा है.

शुक्रवार के दिन इस पूरे मामले के मास्टरमाइंड के अलावा दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मेफेड्रोन को मैन्युफैक्चर करने वाले शख्स ने रसायन विज्ञान में पीएचडी की हुई है, जो पहले फार्मा सेक्टर में ही काम करता था. DRI की प्राथमिक जांच में पता चला है कि इस पीएचडी स्कॉलर ने पिछले एक साल में करीब 100 किलोग्राम से अधिक मेफेड्रोन की बिक्री की है.

क्या है मेफेड्रोन ड्रग?
मेफेड्रोन ड्रग कोई दवाई नहीं है बल्कि एक सिंथेटिक खाद की तरह है जो कोकेन और हेरोइन से भी अधिक नशीला पदार्थ है. इसका उपयोग नौजवान नशे के रूप में करने लगे हैं, चूंकि इसकी कीमत कोकेन और हेरोइन जैसे नशीले पदार्थों के मुकाबले काफी कम है इसलिए बीते दिनों से भारत में इसका प्रचलन बढ़ा है. मेफेड्रोन ड्रग नारकोटिक ड्रग्स और साइकोट्रोपिक पदार्थ अधिनियम, 1985 (एनडीपीएस अधिनियम) के अनुसार भारत में प्रतिबंधित है. बोलचाल की भाषा में मेफेड्रोन ड्रग को ‘ड्रोन’ या ‘म्याऊं-म्याऊं’ नाम के कोड से भी जाना जाता है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

गौतम गंभीर को तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी

पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर को फिर जान से मारने की धमकी मिली है। गौतम गंभीर को कथित तौर पर...

UPTET पेपर लीक मामला- सीएम ने कहा- आरोपियों पर गैंगेस्टर और रासुका के तहत कार्रवाई, संपत्ति भी होगी जब्त

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के...

चिरंजीवी ने कोरियोग्राफर के इलाज के लिए दिए 3 लाख

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोरियोग्राफर शिवशंकर मास्टर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोरियोग्राफर फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं और बताया जा रहा है...

दुनिया में कोरोना से हाहाकार, इजराइल में विदेशियों के आने पर पाबंदी, ब्रिटेन में हाई अलर्ट, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन का विरोध

साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन मिलने बाद दुनिया अलर्ट पर है। इजराइल ने तमाम विदेशी नागरिकों की देश में...

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, कई गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश में रविवार यानी 28 नवंबर को हो रही यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा रद्द (UPTET Exam 2022) कर दी गई है....