किसान बिल का विरोध: दिल्ली पहुंचने वाले है किसान, सिंघू बॉर्डर पर पुलिस ने की नाकाबंदी

My Bharat News - Article KISAAN

नई दिल्ली. केन्द्र के कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की ओर रवाना हुए किसान राजधानी से कुछ ही घंटे की दूरी पर हैं. पानीपत हाईवे पर रात बिताने के बाद ये किसान आज दिल्ली पहुंच सकते हैं. किसानों को दिल्ली में आने से रोकने के लिए एक तरफ जहां हरियाणा पुलिस ने सुरक्षा बंदोबस्त किया है, वहीं दिल्ली पुलिस भी सतर्क है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक हरियाणा से सटे सिंघू बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसबल के अलावा बालू से लदे पांच ट्रक और तीन वाटर कैनन  पानी की बौछार करने वाली गाड़ी तैनात की गई हैं. कानून-व्यवस्था पर नजर रखने के लिए ड्रोन की भी तैनाती की गई है.

किसानों के प्रदर्शन ‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत पंजाब से चले किसानों के दिल्ली के करीब पहुंचने के कारण गुरुवार को दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी की सभी सीमाओं पर सुरक्षा बहुत ज्यादा बढ़ा दी है. पुलिस का कहना है कि प्रदर्शनकारी किसान अगर दिल्ली की सीमाओं पर पहुंच भी जाते हैं तो भी उन्हें राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी. प्रदर्शन में शामिल पंजाब और हरियाणा के किसानों में से काफी लोग गुरुवारी की देर शाम तक राष्ट्रीय राजधानी के पास पहुंच भी गए थे. किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने सिंघू बॉर्डर पर यातायात बंद कर दिया है.

अधिकारियों ने बताया कि गुरुवार की शाम बहादुरगढ़ से दिल्ली की ओर यातायात का आगमन भी बंद कर दिया गया था. पुलिस ने कहा, प्रदर्शनकारियों के साथ आ रहे ट्रैक्टरों को रोकने के लिए सिंघू बॉर्डर पर बालू से लदे पांच ट्रक और तीन वाटर कैनन (पानी की बौछार करने वाली गाड़ी) तैनात किए गए हैं. कानून-व्यवस्था पर नजर रखने के लिए ड्रोन भी तैनात किए गए हैं. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि सिंघू सीमा पर सबसे आगे की ओर लगाए गए अवरोधकों के साथ कांटेदार तार का बाड़ बनाया गया है, ताकि प्रदर्शनकारी अवरोधक पार ना कर सकें.

किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने एनएच-24, चिल्ला सीमा, टिगरी सीमा, बहादुरगढ़ सीमा, फरीदाबाद सीमा, कालिंदी कुंज सीमा और सिंघू सीमा पर पुलिस बल तैनात किया है. गुरुवार को हालात का जायजा लेने के लिए दिल्ली के पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव सीमावर्ती क्षेत्रों में गए और कहा कि प्रदर्शन कर रहे किसानों को शहर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.