25 C
Lucknow
शुक्रवार, सितम्बर 17, 2021

Abdul Hamid Death Anniversary: वीर सैनिक अब्दुल हमीद की पुण्यतिथि पर जानिए उनके साहसिक किस्से

Must read

Hardoi: नानी के घर आई 6 साल की मासूम का पड़ोसी ने किया रेप, जाने पूरा मामला…

हरदोई(Hardoi) जिला के संडीला से एक मासूम के साथ दुष्कर्म का घिनौना मामला सामने आया हैं। मंगलवार रात मासूम बच्ची घर के...

Uttarakhand: देर रात भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर पर हुआ धमाका

उत्तराखंड(Uttarakhand) में भाजपा जिलाध्यक्ष नैनीताल प्रदीप बिष्ट के घर पर मंगलवार देर रात करीब 12:30 बजे धमाका होने से हड़कंप मच गया...

देश में सिंगल डोज़ वैक्सीन Sputnik Light की तीसरे ट्रायल को मंज़ूरी

देश में कोरोना बीते दो साल से तबाही मचा रहा हैं और भारत में इससे अछूता नहीं हैं। हालांकि अब जा कर...

IPL: स्टेडियम में मिलेगी दर्शकों को एंट्री, इस दिन से बुक करे टिकट

BCCI ने बुधवार को IPL से जड़ी दर्शकों के लिए एक बड़ी घोषणा की हैं। बोर्ड ने टूर्नामेंट के 14वें सीज़न के...

भारतीय सेना में परमवीर चक्र विजेताओं में हर एक सैनिक की कहानी निराली हैं। सेना ने 1965 के भारत-पाक युद्ध में 10 सितंबर को हुई असल उत्ताड़ की लड़ाई और 4 ग्रेनेडियर्स के मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद (Abdul Hamid) के साथ याद की जाती हैं,जिसमें हमीद ने पाकिस्तानी सेना के सात पैटन टैंको को तबाह कर जंग का रुख पलट दिया था। हमीद के इस कारनामे से ही युद्ध भारत का पलड़ा भारी हो गया और युद्ध भारती जीत के साथ ही खत्म हुआ। हमीद इसी दिन शहीद हो गए थे।

क्वार्टर मास्टर पीवीसी हवलदार अब्दुल हमीद (Abdul Hamid) का जन्म 1 जुलाई 1933 को उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के धामूपुर गांव में सकीना बेगम और एक दर्जी मोहम्मद उस्मान के घर हुआ था। 1954 में 20 साल की उम्र में अब्दुल हमीद वाराणसी में सेना में भर्ती हो गए। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद, उन्हें 1955 में चौथी ग्रेनेडियर रेजिमेंट में तैनात किया गया था।

जब चीन ने लद्दाख में घुसपैठ की थी तब अब्दुल हमीद 7 माउंटेन ब्रिगेड, 4 माउंटेन डिवीजन के साथ था। पहला युद्ध जिसमें उन्होंने 1962 में भाग लिया था, वह थांग ला दर्रे पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के खिलाफ था।

लेकिन हवलदार अब्दुल हमीद को पाकिस्तानी सेना के खिलाफ दिखाई गई बहादुरी के लिए याद किया जाता है। पाकिस्तान ने अमेरिका से मशहूर पैटन टैंक हासिल किए थे। इन टैंकों के बेड़े के साथ, पाकिस्तान ने 9-10 सितंबर 1965 के बीच खेम करण सेक्टर के चीमा गांव के पास एक रणनीतिक स्थान पर हमला किया।

अब्दुल हमीद ने तब जीपों पर आरसीएल गन डिटेचमेंट की कमान संभाली थी। तब भारतीय सेना के पास टैंक रोधी खदानें नहीं थीं और आरसीएल की तोप टैंकों को खदेड़ने के लिए पर्याप्त कारगर साबित नहीं हुई। हालाँकि, नौवीं रात को जब हामिद ने दो पैटन टैंकों को भारतीय क्षेत्र में चुपके से घुसते हुए देखा, तो उसने अपनी जीप को गन्ने के खेत में छिपाकर कवर कर लिया।

टैंक के करीब आते ही उसने आरसीएल गन से फायर कर दिया। एक टैंक में आग लग गई और दूसरा टैंक कमांडर कूदकर भाग गया। कुछ समय बाद, दो और टैंक आ गए। अब्दुल हमीद के हाथों उनका भी यही हश्र हुआ। घुसपैठ का सिलसिला रात भर चलता रहा और हामिद सुनसान टैंकों को तबाह और कब्जा करता रहा। उसने कुल मिलाकर सात पैटन टैंक में आग लगा दी थी। उस रात छह को पकड़ लिया गया था। हवलदार अब्दुल हमीद आठवें टैंक के साथ टकराव में मारे गए, जिसका उन्होंने सामना किया। यह 10 सितंबर 1965 को 32 साल की उम्र में हुआ था।

हमीद का कारनामा इस युद्ध में गेम चेंजर के तौर पर माना जाता है। इस युद्ध में कुल 97 पाकिस्तानी पैटन टैंक या तो नष्ट हो गए थे या बेकार हो गए थे। इससे पाक सेना ने खेक करन तक वापस आने की हिम्मत नहीं हुई। और उसका भारतीय सेना का ध्यान बंटाने की योजना ख्वाब ही रह गई। यहीं से भारतीय सेना युद्ध में हावी हो गई और पाकिस्तान को युद्ध में मुंह की खानी पड़ी।

हमीद को उनके साहस के लिए मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया। लेकिन रिटायर्ड जनरल इयान कारडोजो ने लिखा था कि अवार्ड में हमीद को खत्म होने वाले टैंकों की सही संख्या का श्रेय नहीं दिया गया. बटालियन और रेजिमेंट के रिकॉर्ड हमीद द्वारा सात टैंकों के नष्ट होने की का जिक्र करते हैं, लेकिन अवार्ड के साइटेशन में 9 सितंबर को नष्ट किए गए चार टैंकों काश्रे य हमीद को नहीं दिया गया।

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

Hardoi: नानी के घर आई 6 साल की मासूम का पड़ोसी ने किया रेप, जाने पूरा मामला…

हरदोई(Hardoi) जिला के संडीला से एक मासूम के साथ दुष्कर्म का घिनौना मामला सामने आया हैं। मंगलवार रात मासूम बच्ची घर के...

Uttarakhand: देर रात भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर पर हुआ धमाका

उत्तराखंड(Uttarakhand) में भाजपा जिलाध्यक्ष नैनीताल प्रदीप बिष्ट के घर पर मंगलवार देर रात करीब 12:30 बजे धमाका होने से हड़कंप मच गया...

देश में सिंगल डोज़ वैक्सीन Sputnik Light की तीसरे ट्रायल को मंज़ूरी

देश में कोरोना बीते दो साल से तबाही मचा रहा हैं और भारत में इससे अछूता नहीं हैं। हालांकि अब जा कर...

IPL: स्टेडियम में मिलेगी दर्शकों को एंट्री, इस दिन से बुक करे टिकट

BCCI ने बुधवार को IPL से जड़ी दर्शकों के लिए एक बड़ी घोषणा की हैं। बोर्ड ने टूर्नामेंट के 14वें सीज़न के...

राकेश टिकैत ने BJP और AIMIM पर साधा निशाना, बोले AIMIM पार्टी बीजेपी की ‘बी’ पार्टी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर नेताओं में ज़ुबानी जंग जारी हैं। ऐसे में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश...