चक्रवात यास से पैदा हुए बाढ़ जैसे हालात ओडिशा और पं बंगाल में हालत ज्यादा खराब

My Bharat News - Article D2
चक्रवात यास ने किए बाढ़ जैसे हालात

चक्रवात यास ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों से टकराने के बाद दोनों राज्यों में जमकर नुकसान पहुंचाया. ‘यास’ के सुबह करीब नौ बजे तट पर टकराने के साथ ही उत्तरी ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भीषण चक्रवाती तूफान ने अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर दिया. जहां इस दौरान 130-140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं.

My Bharat News - Article 4ृ
पारादीप में चक्रवात ‘यास’ की वजह से मछली पकड़ने वाली नावों को नुकसान पहुंचा

चक्रवात ओडिशा के भद्रक जिले में धामरा के उत्तर और बहनागा ब्लॉक के निकट बालासोर से 50 किलोमीटर दूर तट पर पहुंचा. ‘डॉपलर’ रेडार डेटा के अनुसार, इस दौरान 130-140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली. ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया समुद्र में बृहस्पतिवार तक परिस्थितियां विषम रहेंगी और बारिश जारी रहेगी. 

My Bharat News - Article 0य3
पं बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर के दीघा में तेज़ हवाओं के साथ बारिश हुई

वहीं साथ ही झारखंड में भी चक्रवात यास का असर देखने को मिल रहा है. राजधानी रांची में मौसम में बदलाव दर्ज किया जा रहा है. बंगाल और ओडिशा के इलाकों में NDRF की टीमें सड़कों पर गिरे पेड़ों को काटकर रास्ते से हटाने का काम कर रही हैं. 

My Bharat News - Article
NDRF की टीम चक्रवात यास की वजह से सड़कों पर गिरे हुए पेड़ों को हटाया

चक्रवाती तूफान ‘यास’ के कारण ओडिशा के जगतसिंहपुर में एक नदी में नौका के पलट जाने के बाद जिला प्रशासन और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ने मिलकर 10 लोगों को बचा लिया. जगतसिंहपुर जिलाधिकारी ने एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें बचाव कर्मियों को एक नौका में लोगों को बैठाते देखा जा सकता है. जगतसिंहपुर के जिलाधिकारी संग्राम के मोहापात्रा ने ट्वीट किया, चक्रवात यास के दौरान नदी में नौका पलटने के बाद देर रात 10 लोगों को बचाकर एनडीआरएफ और बीडीओ, एरासामा ने शानदार काम किया. उन्होंने कहा कि ये कठिन अभियान हल्की बारिश और 45 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवाओं के बीच चलाया गया.ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी एनडीआरएफ के इन बचाव प्रयासों की प्रशंसा की है. 

My Bharat News - Article 0स4
ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने राहत टीम के कार्यों को देखते हुए की प्रशंसा

चक्रवात ‘यास’ के कारण नदियों में जलस्तर बढ़ने से पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों पूर्व मेदिनीपुर और दक्षिण 24 परगना के कई इलाकों में बुधवार को पानी भर गया तथा नारियल के पेड़ों के शिखरों को छूतीं समुद्र की लहरें और बाढ़ के पानी में बहती कारें दिखाई दीं. चक्रवात के कारण समुद्र में दो मीटर से अधिक ऊंची लहरें उठीं और पूर्व मेदिनीपुर में दीघा एवं मंदारमणि और दक्षिण 24 परगना में फ्रेजरगंज और गोसाबा चक्रवात से प्रभावित हुए. बढ़ते जलस्तर के कारण दोनों तटीय जिलों में कई स्थानों पर तटबंध टूट गए, जिसके कारण कई गांव और छोटे कस्बे जलमग्न हो गए. विद्याधारी, हुगली और रूपनारायण समेत कई नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. 

My Bharat News - Article 0.य
यास चक्रवात के आने से पहले ओडिशा के धामरा में चली तेज हवा