किसानों के समर्थन में आगे आए नवजोत सिंह सिद्धू अपने घर की छत पर लगाए काले झंडे

My Bharat News - Article 1s
देशभर में 26 मई को किसान मना रहे काला दिन

पंजाब के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने किसान आंदोलन के समर्थन में अपने घर पर काले झंडे लगाए हैं. सिद्धू ने पटियाला और अमृतसर में अपने घर पर काले झंडे लगाए हैं. 26 मई को किसानों के आंदोलन के 6 महीने पूरे हो रहे हैं. इस दिन को देश भर में किसान काला दिवस के तौर पर मना रहे हैं. काला दिवस के लिए पंजाब के गांव-गांव में तैयारियां चल रही हैं, लोग काले झंडे और काले कपड़े सिलवा रहे हैं. इसी के तहत आज सिद्धू ने भी किसानों का समर्थन करते हुए अपने घर पर काला झंडा लगाया है.

My Bharat News - Article 2ब
राकेश टिकैत की अगुवाई में किसान 26 मई को मनाएंगे काला दिवस

नवजोत सिंह सिद्धु ने सोमवार को ट्वीट कर कहा था कि वो किसानों के समर्थन में अपने घर पर काला झंडा लहराएंगे और उन्होंने अन्य लोगों से भी ऐसा ही करने का आह्वान किया है. सिद्धू ने ट्वीट किया,किसानों के प्रदर्शन के समर्थन में मैं अपने दोनों घरों अमृतसर और पटियाला पर कल सुबह साढ़े नौ बजे काला झंडा लहराऊंगा….सभी से अनुरोध है कि वे भी ऐसा तब तक करें जब तक कि इन काले कानूनों को वापस नहीं ले लिया जाता या राज्य सरकार के जरिये निश्चित एमएसपी और खरीद की वैकल्पिक प्रक्रिया मुहैया नहीं करा दी जाती.

My Bharat News - Article 3ि
कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने घर पर लगाए काले झंडे

आपको बता दें कि पंजाब के किसान बड़ी संख्या में दिल्ली की सीमा के लिए कूच कर रहे हैं. ये दावा भारतीय किसान यूनियन की पंजाब इकाई के नेताओं ने किया है. उन्होंने बताया कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन के 6 महीने 26 मई को पूरे हो रहे हैं और इस दिन को ‘काला दिवस’ के रूप में मनाने के लिए संगठन के आह्वान पर किसान कूच कर रहे हैं.

My Bharat News - Article 3स
किसान आंदोलन के समर्थन में आगे आए नवजोत सिंह सिद्धू

कल ही किसानों ने राकेश टिकैत के नेतृत्व में हरियाणा के हिसार में इकट्ठा होकर सीएम मनोहर लाल खट्टर के दौरे के समय पुलिस की ओर से किसानों पर की गई लाठीचार्ज का विरोध भी किया था.किसानों का साफ कहना है कि जब तक केन्द्र सरकार अपने तीनों नए कानूनों को वापिस नहीं ले लेती है हमारा आंदोलन यूं ही चलता रहेगा.जबकि केन्द्र सरकार का भी कहना है कि लाए जा रहे तीनों कृषि कानून किसानों के हित के लिए हैं,इससे उन्हें किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होने वाला है.

My Bharat News - Article 5ग
सरकार के तीन नए कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं किसान