Narak Chaturdashi 2021: जाने इस दिन का महत्व, दीपदान यह है शुभ मुहूर्त

Narak Chaturdashi 2021: जाने इस दिन का महत्व, दीपदान यह है शुभ मुहूर्त

दिवाली की धूमधाम आप सभी को हर जगह देखने को मिल रही होगी। धनतेरस के अगले दिन छोटी दिवाली मनाई जाती है, जिसको नरक चौदस(Narak Chaturdashi) भी कहते हैं। “नरक” पौराणिक राक्षस राजा नरकासुर को संबोदित करता है और “चतुर्दशी” का अर्थ है चौदहवाँ दिन। वार्षिक आयोजन हिंदू कैलेंडर के अश्विन महीने में कृष्ण पक्ष के चौदहवें दिन छोटी दिवाली या नरक चौदस मनाई जाती है। इस दिन को छोटी दिवाली, रूप चतुर्दशी और यम दीपावली के नाम से भी पहचाना जाता है। इस दिन शाम को मत्यु के देवता यमराज के नाम से भी एक दीपक जलाने की परंपरा है।

मान्यता है कि ऐसा करने से घर के पूर्वज प्रसन्न होते हैं और परिवार के सदस्यों पर अपना आशीर्वाद बनाए रखते हैं। छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी के दिन एक काम करने की मनाही होती है। मान्यता है कि इस काम को करने से सुख-समृद्धि की हानि होती है। आइए जानते हैं आखिर क्या है वो एक चीज।

नरक चतुर्दशी और यम पूजन का महत्व

नरक चतुर्दशी के दिन भूलकर भी अपने घर को खाली नहीं छोड़ना चाहिए। अगर किसी जरुरी काम से आपको बाहर जाना ही पड़े तो कोशिश करें घर में आपके अलावा कोई न कोई अवश्य मौजूद रहे। घर में समृद्धि का वास बनाए रखने और अकाल मत्यु से बचने के लिए आज के दिन नरक चतुर्दशी पर घर की दक्षिण दिशा में एक दीपक में कौड़ी, 1 रूपये का सिक्का रखकर जलाकर यमराज से अकाल मत्यु से बचने के लिए प्रार्थना करें।

रक चतुर्दशी 2021 पर इस समय करें दीपदान- नरक चतुर्दशी के दिन दीपदान प्रदोष काल में किया जाता है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार, इस दिन सुबह 6 बजे से पहले स्नान करना उत्तम रहेगा।

चौघड़िया मुहूर्त
सुबह 06:34 से 07:57 तक- लाभ
सुबह 07:57 से 09:19 तक- अमृत
सुबह 10:42 से दोपहर 12:04 तक- शुभ
दोपहर 02:49 से 04:12 तक- चर
शाम 04:12 से 05:34 तक- लाभ