34 C
Lucknow
शनिवार, जुलाई 24, 2021

सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करना महंगा पड़ा छात्र को

Must read

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

अंबेडकर विश्वविद्यालय के अंतिम वर्ष के एक छात्र पर पिछले साल दिसंबर में ऑनलाइन आयोजित किए गए वार्षिक दीक्षांत समारोह के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में 5,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

My Bharat News - Article 80
केजरीवाल के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में 5,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

विश्वविद्यालय ने पिछले साल 23 दिसंबर को दीक्षांत समारोह का आयोजन किया था जिसमें दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मुख्य अतिथि थे. विश्वविद्यालय ने एक बयान में कहा कि इस कार्यक्रम का आयोजन ऑनलाइन किया गया था. कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थी ने यूट्यूब के चैट रूम का इस्तेमाल करते हुए कार्यक्रम में बाधा डालने का प्रयास किया था.

My Bharat News - Article 70
विश्वविद्यालय के प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने मामले की जांच के लिए एक उप-समिति का गठन किया था.

विश्वविद्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है ये कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि छात्र का आचरण अंबेडकर विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए निर्धारित और अधिसूचित अनुशासन संहिता का उल्लंघन थी.

वहीं, वाम छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन का कहना है कि छात्र ने फीस वृद्धि और आरक्षण नीति लागू करने में खामियों को लेकर ऑनलाइन विरोध दर्ज कराया था जिसको लेकर उस पर 5,000 रुपये जुर्माना लगाया गया.

My Bharat News - Article 74
वाम छात्र संगठन के मुताबिक छात्र ने फीस वृद्धि और आरक्षण नीति को लेकर किया था विरोध

विश्वविद्यालय के प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने मामले की जांच के लिए एक उप-समिति का गठन किया था. विश्वविद्यालय की ओर से 30 जून को एक आदेश में कहा गया था कि छात्र को सजा का अनुपालन करने के बाद परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी और ये निलंबन की सजा हटा रहा है क्योंकि छात्र अपने अंतिम सेमेस्टर में है.

6 अप्रैल, 2021 को प्रॉक्टोरियल बोर्ड की उप-समिति के बीच एक व्यक्तिगत बातचीत हुई. बातचीत के दौरान छात्र ने माना किया कि उसने टिप्पणी की थी और उन टिप्पणियों के लिए खुद को दोषी महसूस नहीं किया.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

सिद्धू ने संभाली पंजाब प्रदेश अध्यक्ष की कमान कैप्टन अमरिंदर से जंग के बीच सिद्धु की हुई ताजपोशी

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभाली ली है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की...