27 C
Lucknow
मंगलवार, अक्टूबर 19, 2021

महापर्व छठ पूजा दूसरा दिन, खरना आज, जानें महत्व और पूजन विधि

Must read

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

चार दिनों के महापर्व छठ की शुरुआत नहाय-खाय से हो चुकी है. आज इसका दूसरा दिन यानी खरना मनाया जा रहा है. खरना कार्तिक शुक्ल की पंचमी को मनाया जाता है. खरना का मतलब होता है शुद्धिकरण. इसे लोहंडा भी कहा जाता है. खरना के दिन छठ पूजा का विशेष प्रसाद बनाने की परंपरा है. छठ पर्व बहुत कठिन माना जाता है और इसे बहुत सावधानी से किया जाता है. कहा जाता है कि जो भी व्रती छठ के नियमों का पालन करती हैं उनकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

खरना की विधि
इस दिन महिलाएं और छठ व्रती सुबह स्नान करके साफ सुथरे वस्त्र धारण करती हैं और नाक से माथे के मांग तक सिंदूर लगाती हैं. खरना के दिन व्रती दिन भर व्रत रखती हैं और शाम के समय लकड़ी के चूल्हे पर साठी के चावल और गुड़ की खीर बनाकर प्रसाद तैयार करती हैं. फिर सूर्य भगवान की पूजा करने के बाद व्रती महिलाएं इस प्रसाद को ग्रहण करती हैं. उनके खाने के बाद ये प्रसाद घर के बाकी सदस्यों में बांटा जाता है. इस प्रसाद को ग्रहण करने के बाद ही व्रती महिलाओं का 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो जाता है. मान्यता है कि खरना पूजा के बाद ही घर में देवी षष्ठी (छठी मइया) का आगमन हो जाता है.

खरना का महत्व
इस दिन व्रती शुद्ध मन से सूर्य देव और छठ मां की पूजा करके गुड़ की खीर का भोग लगाती हैं. खरना का प्रसाद काफी शुद्ध तरीके से बनाया जाता है. खरना के दिन जो प्रसाद बनता है, उसे नए चूल्हे पर बनाया जाता है. व्रती इस खीर का प्रसाद अपने हाथों से ही पकाती हैं. खरना के दिन व्रती महिलाएं सिर्फ एक ही समय भोजन करती हैं. मान्यता है कि ऐसा करने से शरीर से लेकर मन तक शुद्ध हो जाता है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

Cruise Drugs Case: आर्यन खान के साथ शिवसेना! नेता किशोर तिवारी ने याचिका दायर कर उठाई आवाज

Cruise Drugs Case: बॉलीवुड के बादशाह खान यानि शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के बचाव में बॉलीवुड सितारों के अलावा अब...