30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021
Array

लखनऊ: बढ़ते वायु प्रदूषण पर डीएम सख्त, प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी का रोका वेतन

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

लखनऊ. उत्तर प्रदेश वायु प्रदूषण की स्थिति कई शहरों में चिंताजनक बनी हुई है. स्थिति ये है कि राजधानी लखनऊ देश के तीसरे सबसे प्रदूषित शहर बन गया है. उधर ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के लखनऊ क्षेत्रीय अधिकारी की सैलरी रोक दी गई है. प्रदूषण नियंत्रण करने में दिखाई जा रही लापरवाही के चलते जिलाधिकारी यह फैसला लिया है. साथ ही अधिकारी को दो दिनों के भीतर इस पर जवाब देने के लिए कहा गया है.

डीएम अभिषेक प्रकाश ने लखनऊ में प्रदूषण की खराब हालत का हवाला देते हुए क्षेत्रीय अधिकारी से कहा, आपको बार-बार निर्देशित किया गया है कि प्रदूषण पर नियंत्रण पाने के लिए तत्‍काल प्रभावी कार्यवाही की जाए. पहले की बैठकों में लिए गए महत्‍वपूर्ण फैसलों पर भी आपने कोई कार्यवाही नहीं की. आपको फील्‍ड विजिट के निर्देश दिए थे लेकिन आपने ऐसा नहीं किया.

आदेश पत्र में लिखा है कि अगले आदेशों तक आपका वेतन रोका जाता है. साथ ही निर्देशित किया जाता है कि दो दिनों के अंदर स्‍पष्‍टीकरण प्रस्‍तुत करें कि क्‍यों आप अपने सरकारी दायित्‍वों का निर्वाह नहीं कर रहे हैं. अगर दो दिनों तक स्‍पष्‍टीकरण नहीं आया तो माना जाएगा कि आपको कुछ नहीं कहना है. ऐसे में आपके खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी.

सीएम के निर्देश-किसानों में फैलाएं जागरूकता

सीएम ने कहा कि किसानों को बताएं कि पराली जलाना पर्यावरण के साथ आपकी जमीन की उर्वरा शक्ति के लिए भी ठीक नहीं है. सुप्रीम कोर्ट और नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल ने पराली जलाने को दंडनीय अपराध घोषित किया है. किसान ऐसा करने की जगह उन योजनाओं का लाभ उठाएं, जिससे पराली को निस्तारित कर उसे उपयोगी बनाया जा सकता है. सरकार ऐसे कृषि यंत्रों पर अनुदान भी दे रही है. कई जगह किसानों ने इन कृषि यंत्रों के जरिए पराली को कमाई का जरिया बनाया है. बाकी किसान भी इनसे सीख ले सकते हैं.

सीएम ने कहा कि किसानों के ये सारी चीजें बताई जानी चाहिए. मालूम हो कि पराली के साथ फसल के लिए सर्वाधिक जरूरी पोषक तत्व नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश के साथ अरबों की संख्या में भूमि के मित्र बैक्टीरिया और फफूंद भी जल जाते हैं. यही नहीं, बाद में भूसे की भी किल्लत बढ़ जाती है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...