Lakhimpur: नज़रों के सामने पिता को मरते देख बेटे ने सुनाई दर्दनाक आपबीती

Lakhimpur: नज़रों के सामने पिता को मरते देख बेटे ने सुनाई दर्दनाक आपबीती

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी(Lakhimpur Kheri) में रविवार को हुई हिंसा की आग राजधानी लखनऊ समेत पूरे प्रदेश में भयानक तरीके से फैल चुकी है। जिसमें अब तक के 8 लोगों की मौत हो चुकी हैं। मरने वालों में से 4 किसान, तीन बीजेपी कार्यकर्ता और एक पत्रकार शामिल हैं।

किसान नेताओं का आरोप है कि केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने किसानों पर गाड़ी चढ़ाई, जिससे चार किसानों की मौत हो गई, साथ ही कई किसान घायल हुए हैं।

वहीं, 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई घटना में बहराइच के दो किसानों की मौत के बाद उनके घरों में मातम पसरा हैं। ऐसे में मृतक गुरविंदर सिंह और दलजीत सिंह के परिवारजनों ने घटना के लिए दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध कार्यवाही की मांग की हैं।

lakhimpur: 8 dead as protest against ministers' visit turns violent in UP's  Lakhimpur: Key points | India News - Times of India

इसी बीच मृतक दलजीत के 15 वर्षीय बेटे के सामने उसके पिता की गाड़ी के नीचे कुचल कर मौत हो गई। जिसके बात बेटे राजदीप ने कल की घटना में कई चौंकाने वाली बात कही। उसके मुताबिक, वो अपने पिता के साथ कल तिकुनिया में आंदोलन में शामिल होने के लिए गया था। जहां नानपारा से 20-30 लोग मोटरसाइकिल से आंदोलन में शामिल होने गए थे, जब किसान वहां थे।

उसी दौरान तीन गाड़ियां आई और उसके पिता समेत कई किसानों को कुचल दिया, वहां एम्बुलेंस न होने पर वो मोटरसाइकिल लेने गया तब तक एम्बुलेंस आई, लेकिन रास्ते में उसके पिता की मौत हो गई। मृतक दलजीत के बेटे राजदीप ने कहा कि मंत्री का बेटा गाड़ियां लेकर आया था, उसी ने सभी को कुचल दिया और उसकी फायरिंग से किसान की मौत हुई है। आखिरी में उसने इंसाफ की मांग की।