34 C
Lucknow
शनिवार, जुलाई 24, 2021

निर्भया को इंसाफ, सुशांत सिंह मर्डर से लेकर हाथरस कांड तक, ये रहीं 2020 की सबसे बड़ी वारदातें

Must read

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

दुनिया में जब-जब साल 2020 का ज़िक्र होगा, सबसे पहले कोरोना की बात चलेगी. चलना लाज़िमी भी है, क्योंकि चीन से निकल इस महामारी ने दुनिया के अरबों लोगों का ना सिर्फ़ पूरा का पूरा साल ही ख़राब कर दिया, बल्कि महज़ साल भर के अंदर तक़रीबन 18 लाख लोगों की ज़िंदगी और अरबों की दौलत लील कर मानों पूरी दुनिया को ही सालों पीछे धकेल दिया. लेकिन क्या सिर्फ़ कोरोना ही है, जिसने 2020 पर ग्रहण लगाया? या अपना असर दिखाया? शायद नहीं. क्योंकि जुर्म की दुनिया में साल 2020 में ऐसी-ऐसी वारदातें हुई, जिसे लोग सालों तक याद रखेंगे. अपने देश की बात करें तो जुर्म ने किसी न किसी रूप में पहली तारीख से ही इंसानी ज़िंदगी पर पंजे मारने शुरू कर दिए थे. मार्च आते-आते शायद हाल के सालों के सबसे बड़े जुर्म यानी कि निर्भया का इंसाफ़ हो गया. इसी तरह सुशांत सिंह राजपूत की मौत, बॉलीवुड ड्रग्स केस, दिशा सालियान केस, कानपुर का विकास दुबे कांड, हाथरस गैंगरेप कांड, दिल्ली में दंगे जैसी वारदात की 2020 में रही गूंज.

24 फरवरी 2020, दिल्ली हिंसा
देश की राजधानी दिल्ली ने इस साल दंगों की ऐसी भयानक तस्वीर देखी, जो उसे सालों तक याद रहेगी. ये दंगा लोगों को सालों तक डराता रहेगा. इन दंगों की शुरुआत 24 फरवरी को हुई. जिनमें कुल 53 लोगों की जान चली गई. जबकि सैकड़ों ज़ख्मी हो गए. कितने परिवारों की रोज़ी रोटी इस दंगे में छिन गई, इसका सही-सही हिसाब किताब किसी के पास नहीं. अब हालत ये है कि पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, गोकलपुरी और घोंडा जैसे इलाक़ों में अब भी दोनों समुदायों के बीच वो पहले वाले भाईचारे की बात नहीं रही.


दरअसल, जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे मेन रोड पर सैकड़ों महिलाएं और बच्चे सीएए के खिलाफ़ धरना दे रहे थे. इससे ट्रैफिक रुक गया और लोगों को परेशानी हो रही थी. 23 फरवरी की शाम भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने अपने कुछ समर्थकों के साथ यहां आकर पुलिस की मौजूदगी में कहा कि अगर पुलिस मुख्य मार्ग से धरना नहीं हटवाती है, तो लोग खुद इसे खाली कराने के लिए कदम उठाएंगे. और बस इसी शाम को जाफराबाद में एक भीड़ ने पत्थरबाज़ी शुरू कर दी. अगले दिन यानी 24 फरवरी को धारा 144 लागू कर दी गई, लेकिन हिंसा भड़क उठी और दिल्ली का ये इलाक़ा फिर कई दिनों तक धू-धू कर जलता रहा. मरनेवालों में दोनों समुदायों के लोग शामिल थे. आम आदमी पार्टी के एक पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन पर भी दंगा भड़काने का इल्ज़ाम लगा.

My Bharat News - Article हिंसा

20 मार्च 2020, निर्भया के गुनहगारों को फांसी
निर्भया के गुनहगारों को फांसी में हो रही देरी को लेकर दुनिया में कई तरह की बातें हुईं. लेकिन आख़िरकार का सच्चाई और इंसाफ़ की जीत हुई और गैंगरेप के मामले में चारों दोषियों को 20 मार्च की सुबह तिहाड़ जेल में फांसी की सज़ा दे दी गई. इससे पहले इस मामले में तीन डेथ वारंट पर किसी न किसी वजह से रोक लगती रही. लेकिन चौथा डेथ वारंट चारों गुनहगारों की ताबूत में आखिरी कील साबित हुआ और उन्हें फांसी दे दी गई. आपको बता दें कि 16 दिसंबर 2012 के दिन राजधानी दिल्ली में एक चलती बस के अंदर निर्भया के साथ कुछ दरिंदों ने उसके ब्वॉयफ्रेंड की मौजूदगी में गैंगरेप किया था. और ना सिर्फ़ गैंगरेप किया था, बल्कि इस दौरान इतनी ज़्यादती की थी कि 13 दिनों तक मौत से जूझने के बाद आख़िरकार उसकी जान चली गई थी.

My Bharat News - Article के गुनहगारों को फांसी

16 अप्रैल 2020, पालघर लिचिंग केस
महाराष्ट्र के पालघर में 16 अप्रैल में दो साधुओं और उनके ड्राइवर को घेर कर बर्बरता पूर्वक मार डाला गया. इस वारदात ने जहां एक तरफ़ कायदे कानूनों की धज्जियां उड़ा दीं, वहीं इंसान और इंसानियत पर भरोसा करनेवाले लोग सकते में आ गए. बाद में पुलिस ने इस सिलसिले में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और ये मामला अब भी अदालत में है. वारदात के रोज़ दो साधु अपनी गाड़ी में मुंबई से सूरत जा रहे थे, तब पालघर के गढ़चिंचले गांव की भीड़ ने उन्हें बच्चा चोर समझ लिया. बस, फिर क्या था बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने साधुओं के साथ-साथ उनके ड्राइवर को भी पीट पीट कर मार डाला. इस मामले में क़रीब 4 सौ लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. पकड़े गए आरोपियों में से 11 नाबालिग हैं. 70 साल के साधु कल्पवृक्ष गिरी और 35 साल के साधु सुशील गिरी और उनके ड्राइवर नीलेश तेलगाडे की हत्या की विचलित करनेवाली तस्वीरें भी सामने आई थीं.

My Bharat News - Article लिचिंग केस

14 जून 2020, सुशांत सिंह राजपूत की मौत
बॉलीवुड को कई हिट फिल्में देनेवाले 34 साल एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमयी मौत ने 14 जून को अचानक पूरी दुनिया को सन्न कर दिया. दोपहर को मुंबई के बांद्रा के अपार्टमेंट से उनकी रहस्यमयी हालत में मौत की खबर आई. चश्मदीदों के मुताबिक ये मामला खुदकुशी का था. लेकिन सुशांत के घरवालों के साथ-साथ उनके बहुत से चाहने वालों का ये मानना था कि सुशांत ने खुदकुशी नहीं की, बल्कि उनकी जान ली गई. घरवालों ने तो सुशांत की मौत के लिए सीधे-सीधे उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती को कसूरवार ठहराया. आखिरकार मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई. लेकिन फिलहाल 145 दिन की जांच के बाद भी सीबीआई उनकी मौत के लेकर अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है.

My Bharat News - Article सिहं राजपूत 1

8 जून 2020, दिशा सालियान केस
सुशांत की राजपूत की मैनेजर रहीं दिशा सालियान की मौत सुशांत की मौत से कुछ रोज़ पहले ही हुई थी. दिशा ने अपने अपार्टमेंट के 14वें माले से कूद कर जान दे दी थी. सीबीआई फिलहाल सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जोड़कर दिशा के मामले में भी इन्क्वायरी कर रही है. इस सिलसिले में सोहेल खान की पत्नी के भाई बंटी सचदेव को भी पूछताछ के लिए बुलाया था. दरअसल, कॉनर स्टोंस वो कंपनी है, जिसके लिए दिशा सालियान काम किया करती थी. ये कंपनी कई क्रिकेटर और बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ के पीआर का काम देखती है. दिशा अपनी मौत से पहले मलाड पश्चिम के मालवनी इलाके के जनकल्याण नगर की एक बिल्डिंग में अपने होने वाले मंगेतर के साथ थीं. पुलिस ने इस मामले की जांच करने के बाद इसे खुदकुशी करार दिया था. सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनकी एक्स मैनेजर दिशा का केस एक बार फिर से सुर्खियों में आ गया था. लोग सुशांत और दिशा की मौत को एक-दूसरे से जोड़कर देखने लगे थे. लेकिन पुलिस ने मामले की तफ्तीश में दिशा की मौत को खुदकुशी ही पाया.

My Bharat News - Article सालियान केस

2 जुलाई 2020, कानपुर का विकास दुबे कांड
कानपुर के चौबेपुर थाना इलाक़े के बिकरू गांव में एक साथ आठ-आठ पुलिसवालों की जान लेकर पूरे शासन-प्रशासन को हिला देनेवाले गैंगस्टर विकास दुबे का नाम सबको याद होगा. फरार विकास को मध्य प्रदेश की उज्जैन पुलिस ने धर दबोचा था. अपने एनकाउंटर के डर से सकपकाए विकास ने अपनी गिरफ्तारी के दौरान मीडिया के कैमरों के सामने ज़ोर से चिल्ला कर अपनी पहचान बताई थी. विकास की कोशिश थी कि शायद यूं कैमरे के सामने गिरफ्तारी से वो बच जाएगा और पुलिस उसका गलत तरीक़े से एनकाउंटर नहीं कर पाएगी. लेकिन सही-गलत का तो पता नहीं, लेकिन चंद घंटे गुज़रते-गुज़रते विकास दुबे पुलिस की गोलियों का शिकार बन गया. पुलिस ने बताया कि कानपुर से ऐन पहले सचेंडी इलाक़े में विकास दुबे को लेकर आ रही पुलिस की कार एक्सीडेंट का शिकार हो गई थी. मौके का फायदा उठा कर विकास दुबे ने ना सिर्फ़ पुलिसवालों से गन छीन ली, बल्कि गोलियां चलाते हुए भागने की कोशिश करने लगा था. जवाबी कार्रवाई में विकास दुबे को गोली लगी और वो ढेर हो गया.

My Bharat News - Article विकास दुबे

26 अगस्त 2020, बॉलीवुड ड्रग्स केस
एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही बॉलीवुड का ड्रग्स कनेक्शन खुलने लगा था. इस केस में सबसे पहले सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती की गिरफ्तारी हुई और बाद में एक के बाद एक सेलेब्रिटीज़ से पूछताछ का सिलसिला शुरू हो गया. रिया पर पर सुशांत सिंह राजपूत को ड्रग्स देने का आरोप था. ये कहा गया कि वे ड्रग्स सिडिकेंट का हिस्सा थीं. हालत ये हुई कि कुछ देर के लिए ऐसा लगा मानों सुशांत केस पीछे छूट गया हो और ड्रग्स के खिलाफ हल्ला बोल चल रहा हो. रिया के कबूलनामने के बाद ही बॉलीवुड की कई टॉप अभिनेत्रियों पर एनसीबी ने शिकंजा कसना शुरू किया. दीपिका पादुकोण से लंबी पूछताछ की गई. दीपिका के अलावा सुशांत की दोस्त रहीं सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से भी इस सिलसिले में पूछताछ हुई. हालांकि एनसीबी पूछताछ में एक्ट्रेस ने खुद ड्रग्स लेने से इनकार कर दिया था. इस केस में एक्ट्रेस रकुल प्रीत सिंह, एक्टर अर्जुन रामपाल, कॉमेडियन भारती सिंह और उनके पति हर्ष लिंबाचिया का नाम भी जुड़ा था.

My Bharat News - Article ड्रग्स केस

14 सितंबर 2020, हाथरस गैंगरेप कांड
यूपी के हाथरस के एक गांव में 14 सितंबर को एक लड़की एक खेत में बेहद नाज़ुक हालत में मिली. जिसके साथ गैंगरेप किए जाने का इल्ज़ाम था. पहले लड़की को इलाज के लिए अलीगढ़ के अस्पताल में ले जाया गया और फिर उसकी हालत को देखते हुए उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर किया गया. इस दौरान पीड़िता ने अपने ही गांव के 4 लड़कों पर गैंग रेप का आरोप भी लगाया. जिसके बाद लोकल पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया. लेकिन निर्भया से मिलते-जुलते इस मामले में तब एक बड़ा ट्विस्ट आ गया, जब पुलिस ने खुद अपनी तरफ से जबरन लड़की की लाश का उसके गांव में ही अंतिम संस्कार कर दिया.

My Bharat News - Article कांड

घरवालों का इल्ज़ाम था कि पुलिस ने उन्हें अपनी बेटी को आख़िरी बार ठीक से देखने तक नहीं दिया. इसके बाद कोर्ट ने यूपी पुलिस को फटकार और योगी सरकार ने पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी भी बना दी. बाद में जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई. सीबीआई ने इस मामले में 18 दिसंबर को कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी. सीबीआई ने 22 सितंबर को दिए गए पीड़िता के आखिरी बयान को आधार बनाया और फैसला कोर्ट के ऊपर छोड़ दिया. सीबीआई की चार्जशीट में उन सभी 4 आरोपियों के नाम हैं, जिनके खिलाफ़ लड़की ने अपनी मौत से पहले बयान दिया था.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

सिद्धू ने संभाली पंजाब प्रदेश अध्यक्ष की कमान कैप्टन अमरिंदर से जंग के बीच सिद्धु की हुई ताजपोशी

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभाली ली है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की...