34 C
Lucknow
शनिवार, जुलाई 24, 2021

कोरोना से हुई मौतों के मामले में तीसरे नंबर पर भारत अबतक 4 लाख से ज्यादा लोगों ने गंवाई जान

Must read

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

कोरोना महामारी से होने वाली मौतों के मामले में भारत दुनिया में तीसरा ऐसा देश बन गया है, जहां अब तक चार लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं. इस लिस्ट में अमेरिक अभी भी 6 लाख मौतों के साथ टॉप पर है. जबकि दूसरे नंबर पर ब्राजील है, यहां कुल 5.2 लोगों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हुई है. गुरुवार को रिकॉर्ड की गईं मौतों के साथ ही भारत में मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख पहुंच गया है. 

My Bharat News - Article 09
कोरोना से हुई मौतों के मामले पर अमेरिका पहले और ब्राजील दूसरे नंबर पर है

आपको बता दें कि इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट में कहा गया है प्रति दस लाख की आबादी पर COVID से हुई मौतों को देखें तो भारत की स्थिति दुनिया के बाकी कुछ देशों से बेहतर है. देश में ये आंकड़ा 287 है. जबकि रूस में 916, फ्रांस, मैक्सिको, अमेरिका और यूके  में 1,000 से 2,000 के बीच है. इस मामले में पेरू के हालात सबसे ज्यादा खराब हैं. यहां प्रति दस लाख की आबादी पर 5,765 मौतें रिकॉर्ड की गई हैं.

My Bharat News - Article 0000
रुवार को रिकॉर्ड की गईं मौतों के साथ ही भारत में मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख पहुंच गया है. 

वहीं, कोरोना से हुईं मौतों के आंकड़े छिपाने पर चल रही बहस के बीच कुछ प्रमुख अर्थशास्त्रियों का भी मानना है कि भारत में मौतों की अंडर रिपोर्टिंग कोई नहीं बात नहीं है. उन्होंने कहा कि अंडर रिपोर्टिंग के कई कारण होते हैं, जिसमें से एक ये भी है कि कई मौतें बिना मेडिकल अटेंशन से होती हैं, इसलिए मेडिकल के बुनियादी ढांचे में पहले से अधिक सुधार करना बेहद जरूरी है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...

टीएमसी सांसद शांतनु सेन पूरे सत्र के लिए हुए सस्पेंड पेपर फाड़ने के लिए उपसभापति ने की कार्यवाही

टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने गुरुवार को राज्यसभा में जो दुर्व्यव्हार किया था उसके लिए उन्हें मानसून सत्र के बाकी दिनों के...

लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है.आंतकियों के मारे...

सिद्धू ने संभाली पंजाब प्रदेश अध्यक्ष की कमान कैप्टन अमरिंदर से जंग के बीच सिद्धु की हुई ताजपोशी

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कमान संभाली ली है. चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में सिद्धू की...