27 C
Lucknow
मंगलवार, अक्टूबर 19, 2021

कोरोना से हुई मौतों के मामले में तीसरे नंबर पर भारत अबतक 4 लाख से ज्यादा लोगों ने गंवाई जान

Must read

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

कोरोना महामारी से होने वाली मौतों के मामले में भारत दुनिया में तीसरा ऐसा देश बन गया है, जहां अब तक चार लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं. इस लिस्ट में अमेरिक अभी भी 6 लाख मौतों के साथ टॉप पर है. जबकि दूसरे नंबर पर ब्राजील है, यहां कुल 5.2 लोगों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हुई है. गुरुवार को रिकॉर्ड की गईं मौतों के साथ ही भारत में मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख पहुंच गया है. 

My Bharat News - Article 09
कोरोना से हुई मौतों के मामले पर अमेरिका पहले और ब्राजील दूसरे नंबर पर है

आपको बता दें कि इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट में कहा गया है प्रति दस लाख की आबादी पर COVID से हुई मौतों को देखें तो भारत की स्थिति दुनिया के बाकी कुछ देशों से बेहतर है. देश में ये आंकड़ा 287 है. जबकि रूस में 916, फ्रांस, मैक्सिको, अमेरिका और यूके  में 1,000 से 2,000 के बीच है. इस मामले में पेरू के हालात सबसे ज्यादा खराब हैं. यहां प्रति दस लाख की आबादी पर 5,765 मौतें रिकॉर्ड की गई हैं.

My Bharat News - Article 0000
रुवार को रिकॉर्ड की गईं मौतों के साथ ही भारत में मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख पहुंच गया है. 

वहीं, कोरोना से हुईं मौतों के आंकड़े छिपाने पर चल रही बहस के बीच कुछ प्रमुख अर्थशास्त्रियों का भी मानना है कि भारत में मौतों की अंडर रिपोर्टिंग कोई नहीं बात नहीं है. उन्होंने कहा कि अंडर रिपोर्टिंग के कई कारण होते हैं, जिसमें से एक ये भी है कि कई मौतें बिना मेडिकल अटेंशन से होती हैं, इसलिए मेडिकल के बुनियादी ढांचे में पहले से अधिक सुधार करना बेहद जरूरी है.

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

T-20 World Cup: हेड कोच रवि शास्त्री का अंतिम टूर्नामेंट, बोले खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की नहीं है जरूरत

T-20 World Cup में भारतीय क्रिकेट टीम अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगी। वहीं टीम इंडिया के हेड...

Rajasthan: थाने मे फर्श पर बैठी महिला विधायक, दारू पार्टी पर दिया बड़ा बयान

हाल ही मे राजस्थान(Rajasthan) के जोधपुर में एक महिला विधायक के रिश्तेदार का शराब पीकर गाड़ी चलाने के वजह से चालान कट...

BJP से मुक्त हुए बाबुल सुप्रियों, लोकसभा स्पीकर को सौंपा इस्तीफा, TMC मे जाने के बाद लिया फैसला

मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस(TMC) के नेता बाबुल सुप्रियो ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलकर सांसद पद से इस्तीफा दे दिया है।...

UP विधानसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान, बोली UP में 40 फीसदी टिकट महिलाओं को

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 2022 में होने वाले UP विधानसभा चुनाव को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।...

Cruise Drugs Case: आर्यन खान के साथ शिवसेना! नेता किशोर तिवारी ने याचिका दायर कर उठाई आवाज

Cruise Drugs Case: बॉलीवुड के बादशाह खान यानि शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के बचाव में बॉलीवुड सितारों के अलावा अब...