हरिद्वार : एक साल में दादा-दादी बनाने की शर्त पूरी नहीं होने पर बुजुर्ग दंपत्ति ने बेटे-बहू पर कर दिया 5 करोड़ का केस 

My Bharat News - Article haridwar old couple asked for 5 crore rupees from son and daughter in law 12.05.22 4 780x421 1
बुजुर्ग दंपत्ति ने बेटे-बहू पर दर्ज कराया केस

आज के युग को अर्थयुग कहा जा रहा है तो ये गलत नहीं होगा खून के रिश्तों में धन-दौलत और संपत्ति के लिए अक्सर विवाद होता रहता है इस तरह की खबरें हमारे आस-पास भी मिल जाती हैं.लेकिन उत्तराखंड के हरिद्वार से एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है जहां पर एक बुजुर्ग दंपत्ति ने अपने बेटे-बहू पर ये कहकर केस दर्ज कराया है कि,शादी के 6 साल बीत जाने के बाद भी उनका बेटा-बहू उनको पोता या पोती का सुख नहीं दे रहा है इसलिए अब हमें इसके लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ रहा है.

My Bharat News - Article 711710 hardwar11
बुजुर्ग दंपत्ति संजीव रंजन प्रसाद और साधना प्रसाद

बुजुर्ग दंपत्ति ने अपने बेटा-बहू से बेटे के पालन-पोषण और उसकी पढ़ाई-लिखाई पर खर्च किए गए पैसों का ब्यौरा देते हुए 5 करोड़ रूपये वापिस मांगे हैं. दरअसल बुजुर्ग दंपति के बेटे-बहू की शादी को 6 वर्ष बीत गए हैं लेकिन उनकी अबतक कोई संतान नहीं है, जबकि बुजुर्ग माता-पिता चाहते हैं कि उनके घर में छोटे बच्चे की किलकारी गूंजे और वो बच्चे के साथ खेलें. वहीं जब उनके बेटे ने माता-पिता की बात नहीं सुनी तो उन्होंने हरिद्वार की एक अदालत में मुकदमा दर्ज कर दिया. बुजुर्ग दंपत्ति ने कोर्ट से मांग की है कि बेटे के पालन-पोषण में खर्च हुए लगभग 5 करोड़ रुपये उन्हें कोर्ट वापिस दिला दे.

My Bharat News - Article uttrakhand
बुजुर्ग दंपत्ति ने बेटे-बहू से 5 करोड़ रुपये मांगे

आपको बता दें कि, बुजुर्ग दंपति के वकील अरविंद कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि, संजीव रंजन प्रसाद बीएचईएल में अधिकारी पद पर कार्यरत थे. रिटायरमेंट के बाद वे अपनी पत्नी साधना प्रसाद के साथ एक हाउसिंग सोसाइटी में रहते हैं, दंपति ने अपने इकलौते बेटे श्रेय सागर की शादी साल 2016 में नोएडा की शुभांगी सिन्हा से की थी. श्रेय सागर पायलट है, जबकि उसकी पत्नी शुभांगी भी नोएडा में जॉब करती हैं. बुजुर्ग दंपत्ति ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर बताया कि शादी के 6 साल बाद भी उनका बेटा और बहू संतान पैदा नहीं कर रहे हैं, जिससे उन्हें काफी मानसिक वेदना से गुजरना पड़ रहा है.