भारत में पहली बार IVF तकनीक से बछड़े का हुआ जन्म, सामने आई तस्वीर, जाने पूरी जानकारी

भारत में पहली बार IVF तकनीक से बछड़े का हुआ जन्म, सामने आई तस्वीर, जाने पूरी जानकारी

भारत में पहली बार एक ऐसी घंटा हुयी है, जिसको सुन कर आपके कान खड़े हो जायेंगे। भारत में पहली बार एक इन-व्रिटो फर्टिलाइजेशन (IVF) तकनीक का इस्तेमाल करते हुए गुजरात के सोमनाथ जिले के एक निजी फार्म में ‘बन्नी’ नाम की एक भैंस के बछड़े का जन्म हुआ। इस सूचना की जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने बताया कि इस तकनीक के जरिए भैंस के बच्चे का जन्म कराए जाने का मकसद आनुवांशिक तौर पर अच्छी मानी जाने वाली इन भैंसों की संख्या बढ़ाना है, ताकि दुग्ध उत्पादन भी बढ़ सके।

बन्नी भैंस शुष्क वातावरण में भी अधिक दुग्ध उत्पादन की क्षमता के लिए जानी जाती हैं। मंत्रालय कृत्रिम गभार्धान विधियों जैसे आईवीएफ के माध्यम से पशुधन प्रजनन के लिए एक योजना चलाता है, जहां प्रशिक्षित तकनीशियन भैंस पर तकनीक का प्रयोग करते हैं।
इससे पहले बछड़े का जन्म सुशीला एग्रो फार्म के विनय वाला के खेत में हुआ था।

केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय ने इसे इस प्रजाति की किसी भैंस द्वारा ‘इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF)’ के जरिए जन्म देने का पहला मामला बताया। यह बन्नी भैंस गिर सोमनाथ के धानेज गांव के एक डेयरी किसान की है।

मंत्रालय ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “देश में भैंसों की बन्नी नाम की प्रजाति के आईवीएफ के जरिए पहले बच्चे के जन्म की अच्छी खबर देते हुए प्रसन्नता हो रही है | सुशीला एग्रो फार्म्स के किसान विनय एल वाला के यहां छह बन्नी भैंसे आईवीएफ तकनीक के जरिए गर्भवती हुईं, उनमें से यह पहली भैंस है जिसने बच्चे को जन्म दिया।” विनय वाला ने बताया कि भैंस के बच्चे का जन्म शुक्रवार सुबह हुआ और अगले कुछ दिन में और बच्चों का जन्म होगा।