दिल्ली एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने ब्लैक फंगस की रोकथाम के लिए बताई तरकीब

My Bharat News - Article 008
डॉ.रणदीप गुलेरिया ने ब्लैक फंगस से बचने के बताए उपाय

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच ब्लैक फंगस ने कोरोना मरीजों की चिंता बढ़ा दी है. कई राज्यों में इसकी वजह से लोगों की मौत हुई है. ऐसे में कई राज्यों ने इसे महामारी भी घोषित कर दिया है. इस बीच दिल्ली एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ब्लैक फंगस की रोकथाम के लिए तीन चीजें बहुत महत्वपूर्ण हैं. पहला शुगर कंट्रोल बहुत अच्छा होना चाहिए, दूसरा हमें स्टेरॉयड कब देने हैं इसके लिए सावधान रहना चाहिए और तीसरा कोरोना संक्रमितों को स्टेरॉयड की हल्की या मध्यम डोज़ देनी चाहिए.

My Bharat News - Article 21 3
ब्लैक फंगस से बचने के लिए जरूरी है इन्यून सिस्टम को मजबूत करना

वहीं मेदांता अस्पताल के चेयरमैन डॉ नरेश त्रेहन ने कहा कि ब्लैक फंगस खासकर मिट्टी में मिलता है, जो लोग स्वस्थ होते हैं उन पर ये हमला नहीं कर सकता है. हम इस बीमारी को जितनी जल्दी पहचानेंगे इसका इलाज उतना ही सफल होगा.

My Bharat News - Article 1प
इलाज में किसी भी मरीज के ना हो देरी

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुक्रवार को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी के अस्पतालों में बुधवार रात तक ब्लैक फंगस के 197 मामले आए थे. उन्होंने बताया कि इनमें वे मरीज भी शामिल हैं जो बाहर से यहां के अस्पतालों में इलाज कराने आए हैं. 

My Bharat News - Article 3े्
सत्येंद्र जैन दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली के अस्पतालों में बुधवार रात तक ब्लैक फंगस के 197 मामले आए थे जिनमें वे मरीज भी शामिल हैं जो इलाज के लिए दूसरे राज्यों से यहां आए हैं. उन्होंने कहा पूरे देश में ब्लैक फंगस या म्यूकोरमाइकोसिस के इलाज में इस्तेमाल एम्फोटेरीसिन-बी इंजेक्शन की कमी है. केंद्र से 2000 इंजेक्शन दिल्ली को मिलने की उम्मीद है जिन्हें बहुत जल्द इन अस्पतालों को दिया जाएगा.

My Bharat News - Article 8क
स्वास्थ्य मंत्री ने सलाह के बिना स्ट्रॉयड लेने के लिए किया आगाह

स्वास्थ्य मंत्री ने डॉक्टरों की सलाह के बिना कोविड-19 मरीजों द्वारा स्ट्रॉयड लेने के प्रति आगाह किया. उन्होंने कहा, यह बहुत ही खतरनाक है. स्ट्रॉयड लेने से मरीजों की इम्यून क्षमता शून्य हो जाती है. ब्लैक फंगस मिट्टी या घर के अंदर सड़ रहे सामान में पाया जाता है और स्वस्थ व्यक्तियों को प्रभावित नहीं करता, लेकिन क्षीण प्रतिरक्षण क्षमता वालों के इससे संक्रमित होने का अधिक खतरा है.