25 C
Lucknow
रविवार, अक्टूबर 17, 2021

देश की आर्थिकी में क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी की महत्वपूर्ण भूमिका

Must read

Bangladesh में हिंदुओं पर दुर्गा पूजन के दौरान हुआ हमला, तीन ने गवाई जान, जाने पूरा मामला

बांग्लादेश(Bangladesh) में हिंदुओं पर अत्याचार की खबर आए दिन सामने आ रही हैं। बुधवार रात सोशल मीडिया पर हिंदुओं द्वारा कुरान का...

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह दिल्ली AIIMS में भर्ती, पीएम मोदी ने स्वास्थ ठीक होने की कामना

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइन्सेज(AIIMS)मे भर्ती हैं। मनमोहन सिंह को सांस लेने में दिक्कत और...

ठगी मामले में जैकलीन के बाद अब नोरा को भी ED ने भेज समन

200 करोड़ से अधिक की ठगी और फिरौती के मास्टरमाइंड सुकेश चंद्रशेखर मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जैकलीन फर्नांडिस के बाद अब नोरा...

World Sight Day: क्या होता है विश्व दृष्टि दिवस? जाने इस साल की थीम

दुनिया भर में सभी आयु वर्ग के लगभग 1 अरब लोग या तो पास की नजर या दूर की नजर या फिर...

क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी भारत में वित्तीय समावेशन की सफलता की कहानी में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं…इन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी की पहुंच ने आसानी से ग्रामीण भारत को अधिक सशक्त बनाया है….आज हम आपको बताएंगे कि कोआपरेटिव सोसाइटी होती क्या हैं…इनका उद्देश्य क्या हैं….

My Bharat News - Article 1 2

भारत में क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी….भारतीय वित्तीय समावेशन कहानी की सफलता का एक अभिन्न अंग बन गए हैं….अब यह बहुत स्पष्ट है कि क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी का राष्ट्रीय विकास में बहुत अधिक महत्व है…..क्रेडिट कॉपरेटिव की मदद के बिना भारत में लाखों लोगों को वित्तीय मदद की बहुत कमी होगी….क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी मजबूत प्रतिबद्धता और सामाजिक जिम्मेदारियों के साथ स्थानीय समुदायों और स्थानीय विकास में सक्रिय भाग लेते हैं……देश के सामाजिक, आर्थिक और लोकतांत्रिक ढांचे में उनकी उपस्थिति सामंजस्यपूर्ण विकास लाने के लिए आवश्यक है….और यह कि उन्हें पोषण और उनके आधार को मजबूत करने के लिए शायद सबसे अच्छा औचित्य है…..ये बैंक दौड़ में जीतने के लिए निश्चिंत हैं क्योंकि वे लोगों से लोगों और लोगों के लिए हैं…लेकिन वहीं दूसरी ओर कुछ गैर सरकारी संस्थाएं अपने निजी स्वार्थ के लिए इन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी पर तरह-तरह के आरोप लगाया करती हैं….और कॉपरेटिव सोसाइटी की विश्वसनीयता और भरोसे को खत्म करने का प्रयास करती हैं…..इन सबके बावजूद देश में क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं….आम जनता को इन क्रेडिट कॉपरेटिव इकाईयों का काफी लाभ भी मिल रहा हैं….भारत में क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी को बनाना आसान हैं….और इसमें सदस्यता के लिए कोई बाधा नहीं है…

My Bharat News - Article 2 3

भारत में क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी की कमजोरी ये है कि ये किफायती होने के साथ आकार में छोटे होते हैं. और केवल कागज पर ही कार्य करते हैं….ये सोसाइटी अभी भी सरकार, आरबीआई और नाबार्ड से मिलने वाली सुविधाओं पर बहुत भरोसा करते हैं….इसके साथ ही अधिकांश क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी पेशेवर प्रबंधन की कमी से भी पीड़ित हैं.. यह खुदरा और वाणिज्यिक बैंकिंग है जो जमा लेते हैं और पैसा उधार देते हैं….ये छोटे आकार की इकाइयां हैं जो शहरी और गैर-शहरी दोनों केंद्रों में काम करती हैं….वे पेशेवर और वेतन वर्गों के अलावा औद्योगिक और व्यापार क्षेत्रों में छोटे व्यापारियों को ऋण उपलब्ध कराती हैं…क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी सहकारी समिति अधिनियम के अंतर्गत आती हैं….

My Bharat News - Article 3 3

क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी कब बनी

देश में औद्योगिक क्रांति के कारण आर्थिक औऱ सामाजिक असंतुलन के बांद साल 1901 में एडवर्ड लॉ ने कॉपरेटिव सोसायटी संगठनों की संभावना और सफ़लता के लिए समिति बनाई थी……और इस समिति रिपोर्ट के आधार पर 1904 में कॉपरेटिव साख अधिनियम पास किया गया था……तभी से सहकारी आंदोलन का शुरु हुआ…..आपको बता दें सहकारी शब्द का अर्थ होता है-साथ मिलकर काम करना….इसका मतलब है ऐसे लोग जो समान आर्थिक उद्देश्य के लिए साथ मिलकर काम करना चाहते हैं…..वे समिति बना सकते हैं….इसे कॉपरेटिव सोसाइटी कहते हैं…..यह ऐसे लोगों की सोसाइटी होती है जो दूसरों के आर्थिक हितों के लिए काम करते हैं….यह अपनी सहायता खुद और दूसरों की मदद से करते हैं….सहकारी समिति में कोई भी सदस्य व्यक्तिगत लाभ के लिए कार्य नहीं करता है। इसके सभी सदस्य अपने-अपने संसाधनों को इकट्ठा करके अधिकतम इस्तेमाल कर कुछ लाभ प्राप्त करते हैं…. जिसे वह आपस में बांट लेते हैं…..वहीं इन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसाइटी का सबसे ज्यादा फायदा छोटे उद्यमियों,किसानों को मिलता है….जो आसानी से बिना किसी कोलेटरल के लोन ले सकते हैं….इन क्रेडिट सोसाइटी में बैंकों जैसा कोई झंझट नहीं होता….और कम ब्याज दर पर ये लोन मिल जाता हैं…

My Bharat News - Article 4 3

वहीं पीएम मोदी ने भी उम्मीद जताई है कि सहकारिता से देश की आर्थिकी में सकारात्मक बदलाव लाया जा सकता है….उन्होंने ये भी कहा सहकारिता की सफलता का पहला मंत्र खुद को दूर रखकर लोगों को आगे लाना है….और लाभ पहुंचाना…..

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

Bangladesh में हिंदुओं पर दुर्गा पूजन के दौरान हुआ हमला, तीन ने गवाई जान, जाने पूरा मामला

बांग्लादेश(Bangladesh) में हिंदुओं पर अत्याचार की खबर आए दिन सामने आ रही हैं। बुधवार रात सोशल मीडिया पर हिंदुओं द्वारा कुरान का...

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह दिल्ली AIIMS में भर्ती, पीएम मोदी ने स्वास्थ ठीक होने की कामना

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइन्सेज(AIIMS)मे भर्ती हैं। मनमोहन सिंह को सांस लेने में दिक्कत और...

ठगी मामले में जैकलीन के बाद अब नोरा को भी ED ने भेज समन

200 करोड़ से अधिक की ठगी और फिरौती के मास्टरमाइंड सुकेश चंद्रशेखर मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जैकलीन फर्नांडिस के बाद अब नोरा...

World Sight Day: क्या होता है विश्व दृष्टि दिवस? जाने इस साल की थीम

दुनिया भर में सभी आयु वर्ग के लगभग 1 अरब लोग या तो पास की नजर या दूर की नजर या फिर...

IPL 2021: हार के बाद प्लायर्स की आंखे हुई नम, दिल्ली कैपिटल्स को सेमिफाइनल्स में करना पड़ा हार का सामना

दिल्ली कैपिटल्स ने IPL की हर टीम को हरा कर अपनी जगह सेमी फाइनल में बनाई थी, लेकिन कोलकाता नाइट राइडर्स ने...