कोवैक्सिन को बनाने में इस्तेमाल हुआ गाय के बछड़े का सीरम ? सरकार ने दी मामले पर सफाई

My Bharat News - Article 00
कोवैक्सीन पर फैली अफवाहों को लेकर सरकार ने पेश की सफाई

कोरोना महामारी से लड़ने में वैक्सीन ही एकमात्र अहम हथियार है. केंद्र सरकार ने देश में कोरोना पर काबू पाने के लिए 21 जून से सबके लिए मुफ्त में टीकाकरण की शुरूआत करने जा रही है. वही इस बीच सोशल मीडिया में स्वदेश कोरोना वैक्सीन कोवैक्सिन को लेकर तमाम तरह की अफवाहों को लेकर केंद्र सरकार ने अपना पक्ष रखा है.

My Bharat News - Article 2020 4image 14 40 520730043loveagrwal ll
कोवैक्सीन को लेकर फैलाई जा रहीअफवाहों पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने पेश की सफाई

दरअसल कांग्रेस के नेशनल कॉर्डिनेटर गौरव पांधी ने बुधवार को कोवैक्सिन में गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल किए जाने का दावा किया था. उन्होंने एक आरटीआई के जवाब में मिले दस्तावेज को साझा किया, जिसमें कोवाक्सिन बनाने में गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी उम्र 20 दिन से भी कम होती है. वहीं उन्होंने दावा किया कि यह जवाब विकास पाटनी नाम के व्यक्ति की आरटीआई पर केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने दिया है. जिसके बाद से विपक्ष के निशाने पर मोदी सरकार आ गई.

My Bharat News - Article freepressjournal 2020 06 e2b24294 40e7 443e 9020 ced1fde10c97 Screenshot 2020 06 13 at 2 45 00 PM
कांग्रेस नेशनल कॉर्डिनेटर गौरव पांधी ने कोवैक्सीन मे गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल होने का किया था दावा

इस मामले पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है. मंत्रालय ने कहा कि दुनिया भर में वीरो सेल्स की ग्रोथ के लिए अलग-अलग तरह के गोवंश और अन्य जानवरों के सीरम का इस्तेमाल किया जाता रहा है. यह ग्लोबल स्टैंडर्ड प्रक्रिया है, लेकिन इसका इस्तेमाल शुरुआती चरण में ही होता है. वैक्सीन के उत्पादन के आखिरी चरण में इसका कोई यूज नहीं होता है. इस तरह से इसे वैक्सीन का हिस्सा नहीं कह सकते हैं.

My Bharat News - Article images 3
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस के दावों पर किया पलटवार

मंत्रालय ने कहा कि दशकों से इसे पोलियो, रेबीज और इन्फ्लुएंजा की दवाओं में इस्तेमाल किया जाता रहा है. मंत्रालय ने कहा कि वीरो सेल्स को डिवेलप किए जाने के बाद कई बार पानी और केमिकल्स से धोया जाता है. इस प्रॉसेस को बफर भी कहते हैं. इसके बाद इन वेरो सेल्स को वायरल ग्रोथ के लिए कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड कराया जाता है.

My Bharat News - Article india has gone quite ahead to win war against covid 19 health minister
स्वास्थ्य मंत्रालय ने ऐसे सभी दावों को किया खारिज

मंत्रालय ने बताया कि वायरल ग्रोथ की प्रक्रिया में वेरो सेल्स पूरी तरह से नष्ट हो जाते हैं. जिसके बाद इस नए वायरस को भी निष्क्रिय किया जाता है. इस खत्म हुए वायरस का ही इस्तेमाल फिर वैक्सीन तैयार करने के लिए किया जाता है. इस तरह से कई तरह की प्रक्रिया होती हैं और अंतिम राउंड में बछड़े के सीरम का इस्तेमाल करने की बात गलत साबित होती है.