देश : वैक्सीन लगवाने के लिए आपको बाध्य नहीं कर सकती सरकार सुप्रीमकोर्ट का बड़ा आदेश

My Bharat News - Article 1085057 sc gp singh
वैक्सीन पर सुप्रीमकोर्ट का बड़ा आदेश

भारत में कोविड वैक्सीन लगवाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बहुत बड़ा आदेश दिया है, सर्वोच्च अदालत ने स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी व्यक्ति को कोरोना का टीका लगवाने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता. अदालत ने कुछ राज्य सरकारों और संगठनों की ओर से कोविड टीका नहीं लगवाने वालों के सार्वजनिक जगहों पर जाने पर पाबंदी लगाने संबंधी आदेशों को भी वापस लेने को कहा है. इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार को भी निर्देश दिया है कि वो कोविड-19 वैक्सीन के दुष्प्रभावों के आंकड़े भी जल्द से जल्द सार्वजनिक करे.

My Bharat News - Article 59580945 303
सुप्रीम कोर्ट का सख्त आदेश जबरन नहीं लगा सकते किसी को वैक्सीन

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि, किसी भी व्यक्ति को वैक्सीन लगाने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है और संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत किसी व्यक्ति की शारीरिक अखंडता के अधिकार में वैक्सीनेशन से इनकार करने का अधिकार शामिल है.

My Bharat News - Article supreme court 325 030714110324
कोविड-19 के दुष्प्रभावों के आंकड़ों को सार्वजनिक करने का भी दिया आदेश

कोर्ट ने कहा कि रिकॉर्ड पर कोई पर्याप्त डेटा पेश नहीं किया गया है ताकि ये दिखाया जा सके कि गैर-वैक्सीनेशन वाले व्यक्तियों से वैक्सीनेशन वाले व्यक्तियों की तुलना में कोविड-19 वायरस के प्रसार का जोखिम ज्यादा है. आपको बता दें कि, कोरोना वैक्सीनेशन पर 17 जनवरी 2022 को सुप्रीम कोर्ट में केंद्र ने हलफनामा दाखिल किया था, केंद्र ने अपने हलफनामा में कहा था कि देश भर में कोरोना वैक्सीनेशन अनिवार्य नहीं है, न किसी पर वैक्सीन लगवाने का कोई दबाव है.