27 C
Lucknow
रविवार, सितम्बर 19, 2021

कोरोना से मरने वाले 300 लोगों का अंतिम संस्कार करने वाले कोरोना हीरो का निधन

Must read

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

कोरोना संक्रमण से मरने वाले 300 लोगों का अंतिम संस्कार करने वाला व्यक्ति आखिरकार खुद भी कोरोना संक्रमण के कारण दुनिया को अलविदा कह गया. हिसार म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के कर्मचारी प्रवीण कुमार को लोग इस कोरोना महामारी के दौर में ‘कोरोना हीरो’ के रूप में जाना करते थे. 43 वर्षीय प्रवीण कुमार ने कोरोना जांच रिपोर्ट, पॉजिटिव आने के 2 दिन बाद ही दम तोड़ दिया.  

My Bharat News - Article 123
प्रवीण कुमार ने 300 कोरोना शवों का कराया था अंतिम संस्कार

प्रवीण कुमार म्युनिसिपल कॉरपोरेशन की उस टीम के प्रभारी थे, जिस पर कोविड से होने वाली मौतों के शवों के अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी थी. कोरोना महामारी के दस्तक देने के बाद इसकी पहली और दूसरी लहर में हिसार में 750 मौतें कोरोना के कारण हो चुकी हैं.

My Bharat News - Article 67 5
हिसार में रोजाना होता रहा था 20 शवों का अंतिम संस्कार

इनमें से 300 का अंतिम संस्कार प्रवीण और उनकी टीम ने किया. शहर में औसतन रोज़ ऐसे 20 शवों का अंतिम संस्कार किया जाता था,जिस दौरान खुद प्रवीण कुमार वहां मौजूद रहते हुए अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाते थे.

My Bharat News - Article 1ीी
प्रवीण कुमार हिसार म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन कर्मचारी संघ के थे प्रमुख

प्रवीण कुमार हिसार म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन कर्मचारी संघ के प्रमुख भी थे. कर्मचारी संघ के प्रवक्ता सुनील बेनीवाल ने जानकारी दी है कि प्रवीण को ऑक्सीजन स्तर गिरने के बाद निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बताया जा रहा है कि प्रवीण कुमार के परिवार वाले 3 घंटे तक किसी सरकारी अस्पताल में बेड के लिए भटकते रहे. आखिरकार प्रवीण को निजी अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. हैरानी की बात है कि स्थानीय प्रशासन इस कोरोना हीरो के लिए एक बेड का भी प्रबंध नहीं कर सका,जो व्यवस्था पर एक बड़ा सवाल खड़ा करती है..

My Bharat News - Article 5ी
प्रवीण के परिवार वालों को उन्हें भर्ती कराने के लिए 3 घंटे तक किसी अस्पताल में नहीं मिल सका बेड
- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

राजनैतिक चर्चे में आई Rakhi Sawant, ट्विटर के ज़रिये पक्ष में बोले पति राकेश

बॉलीवुड और टेलीविज़न जगत की ड्रामा क्वीन राखी सावंत(Rakhi Sawant) अक्सर ही चर्चा में रहती हैं। सोशल मीडिया पर राखी सावंत काफी...