कोरोना से मरने वाले 300 लोगों का अंतिम संस्कार करने वाले कोरोना हीरो का निधन

My Bharat News - Article 197
कोरोना के 300 शवों का अंतिम संस्कार करने वाले प्रवीण कुमार का निधन

कोरोना संक्रमण से मरने वाले 300 लोगों का अंतिम संस्कार करने वाला व्यक्ति आखिरकार खुद भी कोरोना संक्रमण के कारण दुनिया को अलविदा कह गया. हिसार म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के कर्मचारी प्रवीण कुमार को लोग इस कोरोना महामारी के दौर में ‘कोरोना हीरो’ के रूप में जाना करते थे. 43 वर्षीय प्रवीण कुमार ने कोरोना जांच रिपोर्ट, पॉजिटिव आने के 2 दिन बाद ही दम तोड़ दिया.  

My Bharat News - Article 123
प्रवीण कुमार ने 300 कोरोना शवों का कराया था अंतिम संस्कार

प्रवीण कुमार म्युनिसिपल कॉरपोरेशन की उस टीम के प्रभारी थे, जिस पर कोविड से होने वाली मौतों के शवों के अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी थी. कोरोना महामारी के दस्तक देने के बाद इसकी पहली और दूसरी लहर में हिसार में 750 मौतें कोरोना के कारण हो चुकी हैं.

My Bharat News - Article 67 5
हिसार में रोजाना होता रहा था 20 शवों का अंतिम संस्कार

इनमें से 300 का अंतिम संस्कार प्रवीण और उनकी टीम ने किया. शहर में औसतन रोज़ ऐसे 20 शवों का अंतिम संस्कार किया जाता था,जिस दौरान खुद प्रवीण कुमार वहां मौजूद रहते हुए अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाते थे.

My Bharat News - Article 1ीी
प्रवीण कुमार हिसार म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन कर्मचारी संघ के थे प्रमुख

प्रवीण कुमार हिसार म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन कर्मचारी संघ के प्रमुख भी थे. कर्मचारी संघ के प्रवक्ता सुनील बेनीवाल ने जानकारी दी है कि प्रवीण को ऑक्सीजन स्तर गिरने के बाद निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बताया जा रहा है कि प्रवीण कुमार के परिवार वाले 3 घंटे तक किसी सरकारी अस्पताल में बेड के लिए भटकते रहे. आखिरकार प्रवीण को निजी अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. हैरानी की बात है कि स्थानीय प्रशासन इस कोरोना हीरो के लिए एक बेड का भी प्रबंध नहीं कर सका,जो व्यवस्था पर एक बड़ा सवाल खड़ा करती है..

My Bharat News - Article 5ी
प्रवीण के परिवार वालों को उन्हें भर्ती कराने के लिए 3 घंटे तक किसी अस्पताल में नहीं मिल सका बेड