सीएम को हुई बच्चों के पढ़ाई की चिंता अनाथ बच्चों के ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई होगी मुफ्त

My Bharat News - Article 1cv
कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को मुफ्त शिक्षा देगी पंजाब सरकार

कोरोना महामारी के दौरान कुछ बच्चों के माता- पिता दोनों ने ही इस दुनिया को अलविदा कह दिया है.ऐसे में राज्य सरकारों ने बच्चों के पालन-पोषण की पूरी जिम्मेदारी लेते हुए उनकी पढ़ाई की भी चिंता की है. वहीं कई राज्य की सरकार ने उन बच्चों की पढ़ाई का खर्चा उठाने की जिम्मदारी भी ले ली है.यूपी के बाद अब पंजाब सरकार ने भी आगे बढ़कर कहा कि उनके राज्य में जिन बच्चों ने माता- पिता या परिवार में कमाने वाले सदस्य को खो दिया है. उन्हें ग्रेजुएशन लेवल तक मुफ्त शिक्षा दी जाएगी.

My Bharat News - Article 21 3
अमरिंदर सिंह ने कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के बोझ को हल्का करने का किया ऐलान

पढ़ाई का सारा खर्चा सरकार उठाएगी. इसी के साथ समाजिक सुरक्षा पेंशन के रूप में 1500 रुपये प्रति महीने बच्चों को दिए जाएंगे.

My Bharat News - Article 2ौो
बच्चों को सामाजिक सुरक्षा पेशन के रूप में दिए जाएंगे प्रति माह 1500 रूपये

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस बात की जानकारी दी. सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि जिन छात्रों ने अपने माता-पिता या परिवारों को खो दिया है, जिन्होंने महामारी से कमाई करने वाले सदस्यों को खो दिया है, उन्हें इस नई योजना के तहत स्नातक स्तर तक मुफ्त शिक्षा की पेशकश की जाएगी. सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ये भी कहा कि ऐसा करना राज्य का कर्तव्य है.

My Bharat News - Article 2ुि 1
पंजाब में बच्चों की मुफ्त शिक्षा का ऐलान करते हुए सीएम ने इसे बताया राज्य का कर्तव्य

सीएम के मुताबिक 21 साल की उम्र तक के ग्रेजुएशन लेवल  तक छात्रों को राहत के उपाय उपलब्ध कराए जाएंगे. इससे पहले छात्रों के लिए स्कूल और कॉलेज की शिक्षा मुफ्त होगी.

My Bharat News - Article 2मन
जिन परिवारों में कमाने वाला कोई भी सदस्य नहीं बचा उन्हें पंजाब सरकार देगी 1500 रुपये मासिक पेंशन के रूप में

पंजाब सरकार ने इस बात का ऐलान किया है कि, जिन बच्चों ने कोरोना महामारी के कारण अपने माता- पिता को खो दिया है, उन्हें फ्री में ग्रेजुएशन लेवल तक पढ़ाई करवाई जाएगी.कोविड -19 महामारी के कारण अनाथ छात्रों को मुफ्त शिक्षा के अलावा, जिन परिवारों ने अपनी कमाई वाले सदस्य को खो दिया है, उन्हें भी 1500 रुपये मासिक सामाजिक सुरक्षा पेंशन के रूप में दिए जाएंगे.