30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021

यूपी उपचुनाव में चंद्रशेखर की पार्टी ने दिखाया दम, अब पंचायत चुनाव और मिशन 2022 पर नजर

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

यूपी उपचुनाव में वेस्ट यूपी में नई सियासी ताकत के तौर पर अराजनीतिक संगठन भीम आर्मी से सियासी चोला पहनने वाले चंद्रशेखर आजाद और उनकी नई नवेली आजाद समाज पार्टी उभरकर सामने आई है। उपचुनाव में एक मात्र बुलंदशहर विधानसभा सीट पर चंद्रशेखर आजाद की दमदार सियासी एंट्री दिखाई है। पहली बार चुनाव लड़ी एएसपी ने एसपी-आरएलडी, कांग्रेस, AIMIM को पछाड़ कर तीसरे नंबर पर मौजूदगी दर्ज कराई है..और सियासी हल्कों में एएसपी प्रत्याशी की इस बढ़त को अप्रत्याशित माना रहा है और बदलाव के तौर पर देखा जा रहा है…इस सीट पर पहले पर बीजेपी, जबकि दूसरे पर बीएसपी के कैंडिडेट को वोट मिले हैं।


2017 में सहारनपुर में हुई जातीय हिंसा के बाद भीम आर्मी का नाम चर्चा में आया था। उसके संस्थापक चंद्रशेखर आजाद के खिलाफ हिंसा के मामले में कई मुकदमे दर्ज हुए थे। गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। रासुका लगी थी, लेकिन 2018 के कैराना लोकसभा के उपचुनाव से ठीक पहले एकाएक चंद्रशेखर को जेल से रिहा कर दिया गया था।

बुलंदशहर सदर पर हाजी यामीन को दिया टिकट
इसके बाद चंद्रशेखर बहुजनों की आवाज उठाने के लिए आए दिन चर्चा में रहते हैं। उन्होंने इसी साल अपनी सियासी पार्टी आजाद समाज पार्टी का गठन किया था। 2022 में विधानसभा चुनाव लड़ने का एलान किया था, लेकिन चुनावी सियासत में उन्होंने उपचुनाव में ही एंट्री की। सभी सात सीटों की बजाय सिर्फ एक सीट बुलंदशहर सदर पर कैंडिडेट उतारा। और मीट कारोबारी हाजी यामीन को टिकट दिया।

बीजेपी और बीएसपी के बाद तीसरे नंबर पर एएसपी
हालांकि सियासी जानकार एएसपी को उपचुनाव में हल्के में ले रहे थे, लेकिन चंद्रशेखर आजाद ने कई दिन बुलंदशहर में प्रचार किया। बीजेपी और बीएसपी के बाद तीसरे नंबर पर दस्तक देकर अपनी ताकत का अहसास करा दिया। चंद्रशेखर आजाद का कहना है कि बुलंदशहर ट्रायल था, फाइनल 2022 में होगा।

बुलंदशहर में वोटों का गणित
बीजेपी (उषा सिरोही) 85871
बीएसपी (हाजी यूनुस) 64262
एएसपी 13094
कांग्रेस 10067
एसपी-आरएलडी 7000

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...