बीकानेर : हाय रे गर्मी ! बढ़ते तापमान में झुलस रहा राजस्थान बॉर्डर पर जवानों ने पापड़ सेंककर दिखाए गर्मी के तेवर

My Bharat News - Article 0

देश के सभी हिस्सों मे इस समय भीषण गर्मी पड़ रही है आसामन से झुलसाने वाली गर्मी से लोग बेहाल हैं तो ऐसे में बॉर्डर पर देश की रखवाली कर रहे जवानों ने गर्मी के तेवर को दिखाने और इस तकलीफ से लोगों को रूबरू कराने के लिए बेहद नायाब तरीका अपनाया.सेना के जवानों ने ऐसा वीडियो शेयर किया है जिसे देखकर आप  चौंक जाएंगे. बीकानेर में किस तरह की गर्मी पड़ रही है इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि जवानों ने रेत पर पापड़ सेंके हैं, इस वीडियो को BSF के DIG पुष्पेन्द्र सिंह ने शेयर किया है.

My Bharat News - Article 790
राजस्थान के रेतीले क्षेत्र में भीषण गर्मी में बॉर्डर पर गश्त करते सेना के जवान

बताया जा रहा है कि राज्य का सबसे गर्म शहर बीकानेर है, भीषण गर्मी में भी देश की रक्षा के लिए जवान रेतीले रेगिस्तान में डटे हैं, इसी दौरान जवानों ने रेत पर पापड़ सेंके. गर्मी से बेहाल सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों को गर्मी से बचाने के लिए वॉच टावर्स पर पहली बार कूलर लगाए जा रहे हैं. बीकानेर बॉर्डर की लंबाई 157 किलोमीटर के करीब है, ऐसे में यहां 150 कूलर लगाए जाएंगे,जवानों के लिए अब तक 50 कूलर लगा दिए गए हैं. इन कूलरों में पानी भरने के लिए एक टैंकर भी रखा गया है, डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह ने बताया कि बॉर्डर पर गर्म हवाओं के कारण जवानों के बीमार पड़ने का खतरा रहता है. इसको देखते हुए सभी वॉच टावर पर कूलर लगाए जा रहे हैं, बॉर्डर पर हर 6 घंटे बाद जवानों की ड्यूटी बदलती है. इस दौरान उन्हें हर दो घंटे में छाछ और नींबू पानी पिलाया जा रहा है.

My Bharat News - Article 0 0
रेत पर ढक कर रखा पापड़ तो गर्मी से सिंक गया पापड़

आपको बता दें कि, गर्मी के दिनों में सबसे ज्यादा राजस्थान का रेगिस्तान आग की तरह तपता रहता है. पाकिस्तान सीमा से लगी चौकियों पर अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज किया गया है. भारत-पाकिस्तान सरहद पर तनोट इलाके का तापमान 44 डिग्री बता रहा था, इस इलाके में भीषण गर्मी का दौर चल रहा है. आसमान में अंगारे बरसाती गर्मी, चिलचिलाती धूप और तन झुलसाने वाले लू के थपेड़े, तवे की तरह तपती रेत पर जवान पूरी मुस्तैदी के साथ डटे हुए हैं. इस भीषण गर्मी में जहां कुछ देर तेज धूप में खड़ा रहना दुभर हो रहा है. वहीं, देश की सुरक्षा के लिए सीमा पर तैनात जवान कई घंटों तक सीमा की निगरानी में जुटे हुए हैं.