27 C
Lucknow
सोमवार, सितम्बर 20, 2021

कलकत्ता हाईकोर्ट से ममता बनर्जी को बड़ा झटका चुनावी हिंसा की सीबीआई को मिली जांच

Must read

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव के बाद हुई हिंसा के मामले में कलकत्ता हाई कोर्ट से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बड़ा झटका लगा है. हाई कोर्ट ने चुनाव बाद हिंसा के दौरान हुए हत्या, बलात्कार के मामलों की सीबीआई जांच के आदेश दिए.

My Bharat News - Article 807
विधानसभा चुनाव में हुई हिंसा के दौरान जांच कलकत्ता हाईकोर्ट से सीबीआई को मिली

कलकत्ता हाई कोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यीय पीठ ने मामले पर फैसला सुनाते हुए अन्य अपराधों की जांच के लिए विशेष जांच दल गठित किया. जांच कमेटी अपनी रिपोर्ट हाई कोर्ट को देगी. इसकी निगरानी सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज करेंगे.

My Bharat News - Article 865ु 1
कलकत्ता हाईकोर्ट से जांच सीबीआई को मिलने के बाद निगरानी सुप्रीम कोर्ट के जज करेंगे

पीठ ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग अध्यक्ष को ‘चुनाव के बाद की हिंसा’ के दौरान मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों की जांच के लिए एक जांच समिति गठित करने का आदेश दिया था. पैनल ने अपनी रिपोर्ट में ममता बनर्जी सरकार को दोषी ठहराया था और उसने बलात्कार और हत्या जैसे गंभीर अपराधों की जांच सीबीआई को सौंपने की सिफारिश की थी. उसने कहा था कि मामलों की सुनवाई राज्य के बाहर की जानी चाहिए. एनएचआरसी समिति की रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य मामलों की जांच अदालत की निगरानी वाली विशेष जांच टीम  द्वारा की जानी चाहिए और न्यायिक निर्णय के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट, विशेष लोक अभियोजक और गवाह सुरक्षा योजना होनी चाहिए.

My Bharat News - Article 8997
पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान देखी गई थी काफी बड़ी हिंसा
- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने TMC का थामा दामन, राजनीति से संन्यास लेने का किया था फैसला

पश्चिम बंगाल में उपचुनाव से पहले बीजेपी को लगा बड़ा झटका। पूर्व मंत्री रहे बाबुल सुप्रियों ने आज तृणमूल कांग्रेस(TMC) का दामन थाम...

Moradabad: सरेराह चाकू से गोदकर की हत्या, देखे वीडियो

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद(Moradabad) में कटघर थाना क्षेत्र के गुलबाबाड़ी इलाके में एक मर्डर से दहशत फैल गई हैं। दरअसल, एक...

Periods में इस लक्षण को कभी न करे नजरंदाज, हो सकता हैं कैंसर, जानिए कैथरीन की कहानी..

पीरियड्स(Periods) में होने कुछ लक्षणों को लोग आम समझकर नजरंदाज कर देते हैं, लेकिन कुछ लक्षण हमारे लिए जानलेवा भी साबित हो...

ISIS-K का दावा, भारत में पांच साल पहले पकड़ा गया था काबुल एयरपोर्ट का आत्मघाती हमलावार

इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K) ने दावा किया हैं कि पिछले महीने काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर को पांच साल...

राजनैतिक चर्चे में आई Rakhi Sawant, ट्विटर के ज़रिये पक्ष में बोले पति राकेश

बॉलीवुड और टेलीविज़न जगत की ड्रामा क्वीन राखी सावंत(Rakhi Sawant) अक्सर ही चर्चा में रहती हैं। सोशल मीडिया पर राखी सावंत काफी...