बुरे फंसे राष्ट्रीय जनता दल के लालू यादव, बीजेपी विधायक ललन पासवान ने दर्ज कराया मुकदमा

My Bharat News - Article LALLU

पटना. राष्‍ट्रीय जनता दल प्रमुख सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव  के कथित फोन कॉल को लेकर भाजपा विधायक ललन पासवान ने मामला दर्ज कराया है। ललन पासवान ने पटना के निगरानी थाने में लालू प्रसाद यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। बिहार के भागलपुर जिले की पीरपैंती विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक ललन पासवान ने अपनी लिखित शिकायत में कहा है कि उनके पास लालू यादव ने 24 नवबंर को फोन किया और बिहार विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं देने दें तो आरजेडी की सरकार बनने पर मंत्री पद दिलवाएंगे।

अपनी शिकायत में ललन पासवान ने कहा, 24 नवबंर की शाम को फोन कॉल आया। कॉल उठाने पर दूसरी तरफ से बताया गया कि मैं लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूं, तब मैंने समझा की शायद चुनाव जीतने के कारण वो मुझे बधाई देने के लिए फोन किया है। इसलिए मैंने उनको कहा, आपको चरण स्पर्ष। उसके बाद उन्होंने मुझे कहा कि वो मुझे आगे बढ़ाएंगे और मुझे मंत्री पद दिलवाएंगे, इसलिये 25 नवंबर 2020 को बिहार विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में गैरहाजिर होकर अपना वोट नहीं दूं। उन्होंने यह भी बताया की इस तरह से वो कल एनडीए की सरकार गिरा देगें। इसपर मैंने उन्हें कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूं, ऐसे करना मेरे लिए गलत होगा, उसपर उन्होंने मुझे पुनः प्रलोभन दिया और कहा कि आप सदन से गैरहाजिर हो जाइए और कह दीजिये कि कोरोना हो गया है बाकि हम देख लेगें। इस तरह लालू प्रसाद यादव ने जेल में रहते हुए उन्हें कॉल कर महागठबंधन के पक्ष में लेने की कोशिश की और मुझसे भ्रष्टाचार कराने का प्रयास किया।

सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर दी जानकारी
भाजपा ने सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट किया, भाजपा विधायक ललन पासवान ने लालू प्रसाद यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत हिरासत से टेलीफोन कॉल करने और मंत्री की बर्थ देने की पेशकश की, जिसमें एक लोक सेवक को रिश्वत देना और उसका भुगतान करना शामिल था, के मामले में पटना के विजीलेंस थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

ट्विटर ने हटाया सुशील मोदी का ट्वीट
सुशील मोदी के ट्विटर हैंडल पर से लालू यादव के कथित मोबाइल नंबर को सार्वजनिक किया जाने वाला ट्वीट हटाया जा चुका है। ये कदम खुद ट्विटर की तरफ से उठाया गया है। पुराने लिंक पर क्लिक करने के बाद उसमें मैसेज आ रहा है कि ‘This Tweet violated the Twitter Rules’ यानि इस ट्वीट ने ट्विटर के नियमों का उल्लंघन किया है। बताया जा रहा है कि ट्विटर के नियमों में किसी भी मोबाइल नंबर को सार्वजनिक करने की अनुमति नहीं है। लेकिन बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम जोश में इस बात का ख्याल नहीं रख पाए और वो नंबर ही सार्वजनिक कर दिया जिससे कथित तौर पर सुप्रीमो लालू यादव बात करते हैं।