अयोध्या- धन्नीपुर में मस्जिद निर्माण में सहयोग करेंगे हिन्दू, लोग बोले- विकास होने से रोजगार-कारोबार बढ़ेगा

My Bharat News - Article

अयोध्या. श्रीराम जन्मभूमि से 25 किमी. दूर लखनऊ हाईवे पर स्थित धन्नीपुर गांव के लोग इस बात से खुश है कि, अब उनके घर के पास मस्जिद बनेगी। इस गांव की 60 फीसदी मुस्लिम आबादी है, जबकि शेष हिंदू (यादव जाति) से तालुक रखते हैं। लेकिन इन दिनों सभी के चेहरे पर एक आशा है कि, मस्जिद निर्माण से अब उनका गांव दुनियाभर में जाना जाएगा। विश्व मानचित्र पर गांव के आने से यहां विकास भी खूब होगा। मस्जिद निर्माण के लिए मुस्लिमों के अलावा तमाम हिंदू भी सामने आ रहे हैं।

राम मंदिर ट्रस्ट में हिंदू पक्ष के वकील रहे पाराशरण को प्रमुख भूमिका मिली, ट्रस्ट उनके घर के पते पर रजिस्टर, अयोध्या के राजा भी ट्रस्टी बने
दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने श्रीराम जन्मभूमि/बाबरी मस्जिद केस में बीते साल 9 नवंबर को फैसला सुनाया था कि, अयोध्या में भगवान राम का मंदिर बनेगा। जबकि, अयोध्या के किसी प्रमुख स्थान पर मस्जिद निर्माण के लिए राज्य सरकार को पांच एकड़ जमीन मुस्लिम पक्ष को देना होगा। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा- अयोध्या-प्रयागराज हाईवे पर दो जमीनें शॉर्टलिस्ट की गई थी, लेकिन फाइनल धन्नीपुर गांव को किया गया है। यह मुख्यालय से 18 किलोमीटर दूर लखनऊ-राजमार्ग पर सोहावल तहसील में रौनाही थाने से महज 200 मीटर की दूरी पर है। भूमि के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को आवंटन पत्र दिया गया है।

दुनिया भर के लोग यहां आएंगे
धन्नीपुर गांव में 213 परिवार रहते हैं, जिनकी आबादी 1317 है। 60 फीसदी आबादी मुस्लिम और शेष हिंदू (यादव) हैं। मस्जिद निर्माण का मुस्लिमों के अलावा हिंदुओं ने स्वागत किया है। सभी धर्मों के लोग मस्जिद निर्माण में सहयोग करने लिए तैयार भी हैं। गांव के प्रधान राकेश यादव ने कहा- अब हमारा गांव दुनिया भर में प्रसिद्ध होगा। मस्जिद देखने और नमाज अदा करने के लिए दुनिया भर के लोग यहां आएंगे। न केवल मुस्लिम, बल्कि हिंदू समुदाय के लोग भी मस्जिद निर्माण के निर्णय का स्वागत करते हैं। लोग अपनी सहायता देने के लिए तैयार हैं।

गांव को मिलेगी नई पहचान, रोजगार भी बढ़ेगा
स्थानीय व्यवसायी हाजी सलीम ने कहा कि मस्जिद गांव में विकास लाएगी। यहां लोगों को रोजगार मिलेगा। जैसे ही दुनिया के हिंदू भक्त राम मंदिर के निर्माण के बाद अयोध्या आएंगे, उसी तरह, दुनिया भर के मुसलमान मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए धन्नीपुर जाएंगे। यह स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा और गांव में विकास लाएगा। आरती देवी ने कहा- हमारे पास पहले से ही गांव में चार मस्जिद हैं। अब, यह भव्य मस्जिद गांव को एक नई पहचान देगी। यह निश्चित रूप से गांव के लिए अच्छी किस्मत लाएगा।

विधायक ने कहा- मैं निर्माण में करूंगा सहयोग
अयोध्या के भाजपा विधायक वेद प्रकाश गुप्ता ने कहा, मैं धनीपुर में मस्जिद के निर्माण का स्वागत करता हूं। मैं जल्द ही वहां जाऊंगा और मुस्लिम समुदाय के सदस्यों से मिलूंगा। मैं मस्जिद के निर्माण में अपनी सेवाएं और सहायता प्रदान करता हूं।

मुस्लिम पक्षकारों ने जताया रोष
हाजी महबूब सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्षकार थे। उन्होंने कहा- अयोध्या शहर से इतनी दूर जमीन देने का कोई मतलब नहीं है। हमने कहा था- जमीन नहीं चाहिए, फिर भी अगर आवंटन होता है तो अयोध्या के पास होनी चाहिए। मैं इसे स्वीकार नहीं करता। वहीं, इकबाल अंसारी ने कहा- जमीन के संबंध में उनसे कोई संपर्क नहीं किया गया। मेरे घर के सामने काफी जमीन थी, जिस पर एक छोटी मस्जिद और शेष जगह में अस्पताल, स्कूल, धर्मशाला का निर्माण कराया जा सकता है, जिसमें सभी धर्मों के लोग आते।