26 C
Lucknow
रविवार, नवम्बर 28, 2021
होम ब्लॉग

गौतम गंभीर को तीसरी बार मिली जान से मारने की धमकी

0

पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर को फिर जान से मारने की धमकी मिली है। गौतम गंभीर को कथित तौर पर ‘आईएसआईएस कश्मीर’ से तीसरी धमकी वाला ई-मेल मिला है। उनके आधिकारिक ईमेल पर जान से मारने की धमकी मिली है।

इस मेल में दिल्ली पुलिस का भी जिक्र है। मेल में लिखा है कि दिल्ली पुलिस और आईपीएस श्वेता चौहान भी कुछ नहीं कर सकतीं। दिल्ली पुलिस के अंदर हमारे जासूस मौजूद हैं, जो हमें तुम्हारे बारे में सारी जानकारी दे रहे हैं।

इससे पहले भी मिल चुकी है जान से मारने की धमकी
वहीं इससे पहले मंगलवार की रात को भी उनके आधिकारिक ईमेल पर आईएसआईएस-कश्मीर की ओर से एक मेल कर उनको व परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई थी। मामले को गंभीरता से लेते हुए फौरन गौतम गंभीर के निजी सचिव गौरव अरोड़ा ने धमकी की लिखित में शिकायत मध्य जिला पुलिस उपायुक्त से की थी।

सांसद के घर के बाहर बढ़ाई सुरक्षा
सूचना मिलते ही रात में सांसद के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। दिल्ली पुलिस की तमाम एजेंसियां मामले की जांच में जुट गई है। इस संबंध में मध्य जिला पुलिस उपायुक्त श्वेता चौहान का कहना है कि मामले की जांच जारी है। जांच के बाद तथ्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

तीसरी बार आया ईमेल
जानकारी के अनुसार, गौतम गंभीर मध्य जिला के ओल्ड राजेंद्र नगर में परिवार के साथ रहते हैं। मंगलवार रात करीब 9.32 बजे इनके आधिकारिक मेल आईडी पर आईएसआईएस-कश्मीर नामक संगठन की ओर से एक ईमेल आया। ईमेल में आरोपियों ने सांसद व उनके परिवार को जल्द ही जान से मारने की धमकी दी। गंभीर के स्टाफ ने ईमेल देखा तो फौरन इसकी सूचना सांसद को दी।

UPTET पेपर लीक मामला- सीएम ने कहा- आरोपियों पर गैंगेस्टर और रासुका के तहत कार्रवाई, संपत्ति भी होगी जब्त

0

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीईटी की परीक्षा लीक मामले को काफी गंभीरता से लिया है। उन्होंने आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के तहत मुकदमा, उनकी संपत्ति जब्त कराने और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही उन्होंने परीक्षार्थियों को राहत देते हुए आई कार्ड दिखाकर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों में फ्री में आने जाने की सुविधा देने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा अभ्यर्थियों से दुबारा परीक्षा के लिए कोई भी अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा।

सीएम योगी ने यह बातें रविवार को देवरिया में दो सौ करोड़ से अधिक की लागत से बने परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में चार लाख से अधिक भर्ती निष्पक्ष तरीके से की गई है और आगे भी यह व्यवस्था जारी रखेंगे। नौकरी हो या कोई भी टेस्ट पूरी पारदर्शी और ईमानदारी से आगे बढ़ना चाहिए। आज सुबह जब मुझे समाचार मिला कि टीईटी का पेपर था। एक गिरोह ने कहीं से पेपर लीक किया है।
हमने कहा, पूरे पेपर को अभी निरस्त करो, पूरे गिरोह को गिरफ्तार करो। उन सभी बच्चों को सकुशल उनके घर तक पहुंचाओ। एक महीने के अंदर पारदर्शी तरीके से फिर से परीक्षा आयोजित करो। किसी भी बच्चे से कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लेंगे। उनके आने जाने की फ्री में व्यवस्था देंगे या उन बच्चों का जो आई कार्ड होगा, उत्तर प्रदेश परिवहन की बसों में फ्री में आने जाने की सुविधा मिलेगी, लेकिन जिन लोगों ने यह शरारत की है, वह भी सुन लें कि उनके खिलाफ गैंगेस्टर के तहत मुकदमा दर्ज हो रहा है, उनकी संपत्ति को जब्त कराने और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्यवाही होगी।

युवाओं के साथ किसी को भी खिलवाड़ करने की छूट नहीं देंगे: सीएम
सीएम योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के युवाओं के जीवन के साथ कोई खिलवाड़ करेगा, तो उसे सोच लेना चाहिए कि उसके साथ क्या होगा? उत्तर प्रदेश के युवाओं के साथ किसी को भी खिलवाड़ करने की छूट नहीं देंगे। अच्छी कानून व्यवस्था के कारण प्रदेश में हर नौजवान के लिए नौकरी की संभावना को आगे बढ़ाकर एक करोड़ 61 लाख से अधिक नौजवानों को नौकरी और रोजगार की सुविधा दी गई। एक जनपद, एक उत्पाद और विश्वकर्मा श्रम सम्मान के माध्यम से स्वत: रोजगार के साथ 60 लाख से अधिक लोगों को जोड़ने का कार्य हुआ।

चिरंजीवी ने कोरियोग्राफर के इलाज के लिए दिए 3 लाख

0

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता कोरियोग्राफर शिवशंकर मास्टर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोरियोग्राफर फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं और बताया जा रहा है कि उनके 75 फीसदी फेफड़े संक्रमित हैं. शिवशंकर मास्टर की हालत के बारे में जानने वाले तेलुगु मेगास्टार चिरंजीवी ने कथित तौर पर शिवशंकर के छोटे बेटे अजय को वित्तीय मदद दी है. चिरंजीवी के आवास पहुंचे अजय को शिवशंकर के इलाज के लिए तीन लाख रुपये का चेक मिला है.

चिरंजीवी ने अजय को यह भी आश्वासन दिया कि शिवशंकर को हमेशा उनका समर्थन मिलता रहेगा. चिरंजीवी ने अजय से यह भी वादा किया कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री हमेशा उनका समर्थन करने के लिए तैयार है.

चिरंजीवी ने शिवशंकर के साथ कई मौकों पर काम किया है. अब जबकि शिवशंकर अपने जीवन के लिए लड़ रहे हैं, उन्हें उम्मीद है कि वह ठीक हो जाएंगे. मशहूर कोरियोग्राफर की मौजूदा हालत गंभीर है और उनका हैदराबाद में इलाज चल रहा है.

इससे पहले, उनके बेटे अजय ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मदद मांगी थी, क्योंकि इलाज पर प्रति दिन कम से कम 1 लाख रुपये खर्च हो रहे हैं. वरिष्ठ कोरियोग्राफर की आर्थिक मदद के लिए धनुष और सोनू सूद जैसे अभिनेता भी आगे आए हैं.

दुनिया में कोरोना से हाहाकार, इजराइल में विदेशियों के आने पर पाबंदी, ब्रिटेन में हाई अलर्ट, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन का विरोध

0

साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन मिलने बाद दुनिया अलर्ट पर है। इजराइल ने तमाम विदेशी नागरिकों की देश में एंट्री बैन कर दी है। देश लौटने वाले इजराइली नागरिकों को भी क्वारैंटीन रहना होना होगा। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। उधर, साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन के संकेत मिलने के बाद यहां इसका विरोध शुरू हो गया है। यहां ओमिक्रॉन वैरिएंट पर लेटेस्ट अपडेट्स…

इजराइल में विदेशियों के एंट्री बैन
इजराइल ने ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए, सभी विदेशियों के देश में आने पर पूरी तरीके से रोक लगा दी है। इजराइल पहला देश है, जिसने कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर ऐसा कड़ा फैसला लिया है। इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्टाली बेनेट ने शनिवार को 14 दिनों के लिए विदेशी यात्रियों के देश में आने पर रोक लगाने की बात कही थी। आज यानी रविवार रात से ही यह नियम लागू हो जाएगा। वहीं, इजराइल के गृह मंत्री एयलेट शेक ने कहा था, हमें इस वैरिएंट के पहले से ही लगभग हर देश में मौजूद होने की जानकारी मिली है।

ब्रिटेन में हाई अलर्ट; PM जॉनसन ने बिना मास्क पब्लिक ट्रांसपोर्ट में एंट्री बैन की
ब्रिटेन में दो लोगों में ओमिक्रॉन पाए जाने पर डर का माहौल है। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने फिर से पाबंदियां लागू कर दी हैं। शनिवार को जॉनसन ने कहा, ‘सरकार फेस मास्क पहनने के नियम दोबारा सख्त करने जा रही है। अब लोगों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट में और दुकानों में फिर से मास्क पहनना पड़ेगा।

जॉनसन ने देश में बाहर से आने वालों के लिए कोविड से जुड़े एंट्री नियम सख्त करने की भी घोषणा की। अब विदेश से UK आने वाले हर यात्री का RT-PCR टेस्ट किया जाएगा। यह टेस्ट उसे देश में एंट्री का दूसरा दिन खत्म होने तक हर हाल में कराना होगा। ऐसे यात्री निगेटिव रिपोर्ट आने तक क्वारैंटाइन किए जाएंगे।

साउथ अफ्रीका लॉकडाउन से पहले ही विरोध
साउथ अफ्रीका में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर जो हालात सामने आ रहे हैं, उससे टूरिज्म और लिकर इंडस्ट्री के अस्तित्व पर ही खतरा मंडराने लगा है। ज्यादातर देशों ने साउथ अफ्रीका या अफ्रीकी महाद्वीप से आने या जाने वाली फ्लाइट्स को बैन कर दिया है। इससे खासतौर पर साउथ अफ्रीका की टूरिज्म इंडस्ट्री परेशान है। इस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को डर है कि साउथ अफ्रीका में फिर से सख्त लॉकडाउन लगाया जा सकता है। इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने सरकार से अपील में कहा है कि लॉकडाउन से पहले उनका पक्ष भी जाना जाए, क्योंकि अगर ऐसा नहीं हुआ तो मुल्क की इकोनॉमी ही तबाह हो जाएगी। टूरिज्म के साथ, लिकर और रेस्टोरेंट एसोसिएशन भी सामने आ गया है।

‘द साउथ अफ्रीकन’ से बाततीच में रेस्टोरेंट एसोसिएशन के प्रेसिडेंट कुर्ट मूर कहा- हम दो लॉकडाउन झेल चुके हैं और अब इस सेक्टर में खुद के पैरों पर खड़े होने की ताकत नहीं है। सरकार फिर यही कदम उठाती है तो यह हमारे लिए तबाही के अलावा और कुछ नहीं होगा। हमारा बिजनेस सिर्फ 20% रह गया है।

मालदीव ने भी सात अफ्रीकी देशों पर बैन लगाया
मालदीव ने ओमिक्रॉन वैरिएंट से बचाव के तौर पर पहला कदम उठाया। रविवार दोपहर मालदीव सरकार ने ऐलान किया कि वो सात अफ्रीकी देशों से आने वाले लोगों पर बैन लगा रही है। ये देश हैं- साउथ अफ्रीका, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे, मोजाम्बिक, नामीबिया, लेसोथो और स्वातिनी। हेल्थ मिनिस्ट्री ने कहा है कि वो जल्द ही इस वैरिएंट के बारे में नए सिरे से गाइडलाइन्स जारी कर सकती है।

डेनमार्क में दक्षिण अफ्रीका से लौटे 2 यात्री कोरोना पॉजिटिव
दक्षिण अफ्रीका में मिला कोरोना का नया वैरिएंट तेजी से दुनिया में फैल रहा है। दक्षिण अफ्रीका से डेनमार्क लौटे 2 यात्रियों में ओमिक्रॉन के संदिग्ध केस मिले हैं। RT-PCR टेस्ट में इनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। हालांकि इसके ओमिक्रॉन होने की अभी तक पुष्टि नहीं हो पाई है। इन दोनों को आइसोलेट कर दिया गया है। साथ ही उन सभी लोगों से संपर्क किया जा रहा है जो उनके साथ फ्लाइट में सवार थे।

कुवैत ने 9 अफ्रीकी देशों से डायरेक्ट फ्लाइट्स को सस्पेंड किया
ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए कुवैत ने 9 अफ्रीकी देशों से डायरेक्ट फ्लाइट्स को सस्पेंड कर दिया है। इनमें दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे, मोजाम्बिक, लेसोथो, इस्वातिनी, जाम्बिया और मलावी शामिल हैं। इन देशों से आने वाले कुवैती नागरिकों को 7 दिन तक क्वारैंटाइन किया जाएगा। साथ ही उनका PCR टेस्ट भी होगा। कुवैत के सेंटर फॉर गवर्नमेंट कम्युनिकेशन ने इसकी जानकारी दी।

ब्रिटेन समेत इन देशों ने भी अफ्रीकी देशों से आनी वाली फ्लाइट्स पर बैन लगाया
ब्रिटेन, ऑस्ट्रिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड ने अफ्रीकी देशों से आनी वाली फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया। अब अमेरिका, सऊदी अरब, श्रीलंका, ब्राजील समेत कई देशों ने भी अफ्रीकी देशों की फ्लाइट बैन कर दी है। हालांकि दक्षिण अफ्रीकी स्वास्थ्य मंत्री ने इन बैन को अनुचित बताया है।

बांग्लादेश ने भी दक्षिण अफ्रीका आने-जाने पर पाबंदी लगा दी है। बांग्लादेश के स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मलिक ने बताया कि हमने स्क्रीनिंग बढ़ा दी है। इसके साथ ही बंदरगाहों और एयरपोर्ट पर इसका सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है।

नेपाल में यात्रियों को 7 दिन क्वारैंटाइन में रखने का निर्देश
नेपाल में भी दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों को 7 दिन क्वारैंटाइन में रखने का निर्देश जारी किया गया है। हेल्थ मिनिस्ट्री के प्रवक्ता कृष्ण प्रसाद पौडेल ने बताया कि नेपाल और दक्षिण अफ्रीका के बीच कोई सीधी उड़ान नहीं है, लेकिन जो यात्री अन्य अफ्रीकी देशों के जरिए यहां आएंगे उन्हें एक हफ्ते के क्वारैंटाइन से गुजरना होगा।

यूरोप में भी इस वैरिएंट को लेकर सख्ती
यूरोप में भी इस वैरिएंट को लेकर सख्ती बरती जा रही है। ऑस्ट्रिया, चेक गणराज्य, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड ने शुक्रवार को ही दक्षिण अफ्रीका से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया था। कुछ अन्य यूरोपीय देशों ने भी बोत्सवाना, इस्वातिनी (स्वाजीलैंड), लेसोथो, नामीबिया, जाम्बिया और जिम्बाब्वे से उड़ानें सस्पेंड कर दी हैं।
दक्षिण अफ्रीका से शुक्रवार को दो फ्लाइट्स में 61 यात्री नीदरलैंड पहुंचे। इन सबकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद नीदरलैंड की चिंता बढ़ गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों को इस बात का डर है कि कहीं इन यात्रियों में भी ओमिक्रॉन के लक्षण न मिलें।

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, कई गिरफ्तार

0

उत्तर प्रदेश में रविवार यानी 28 नवंबर को हो रही यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा रद्द (UPTET Exam 2022) कर दी गई है. परीक्षा का प्रश्नवपत्र वॉट्सऐप (UPTET Paper Leaked) पर लीक हो गया था, जिसके बाद यह फैसला लिया गया. पेपर लीक मामले में एसटीएफ ने कुल 23 लोगों को गिरफ्तार किया है. यह परीक्षा दो पालियों सुबह 10 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक और दोपहर 2:30 बजे से शाम 5 बजे तक आयोजित होनी थी. हालांकि प्रश्नपत्र लीक होने के बाद दोनों पालियों की परीक्षा को रद्द कर दिया कर दिया गया. यूपी के एडीजी-लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि यह परीक्षा अब अगले महीने आयोजित की जाएगी. हालांकि परीक्षा की तारीख पर अभी फैसला नहीं हुआ है. वहीं अभ्यर्थियों को परीक्षा के लिए अब दोबारा फीस नहीं देनी होगी.

प्रशांत कुमार ने इस बाबत प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि आज दिनांक 28/11/2021 को UP TET की परीक्षा 2 पालियों में होनी थी. 2336 सेंटर पर 19,99,418 परीक्षाथियों को परीक्षा देनी थी. परीक्षाओं में सॉल्वर गैंग्स को पकड़ने के लिए हमने एक जाल बिछाया. बीती रात से अभी तक उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों से 23 लोगों को पकड़ा गया है. लखनऊ से 4, मेरठ से 3, वाराणसी और गोरखपुर में दो व्यक्तियों को पकड़ा है. कौशांबी से एक व्यक्ति और प्रयागराज से 13 लोगों को पकड़ा गया है. इन सभी लोगों को एसटीएफ ने पकड़ा है.
उन्होंने बताया कि इन लोगों के पास से पेपर की फोटो कॉपी बरामद हुई है. इन कागजों को शासन से शेयर करने के बाद पता चला कि यह टीईटी के प्रश्नपत्र थे. शासन ने फैसला लिया कि इन परीक्षाओं को रद्द किया जाए. अगले 1 महीने के भीतर यह परीक्षा दोबारा कराई जाएगी. दोबारा कराए जाने वाली परीक्षा पर पूरा खर्च सरकार उठाएगी. छात्रों को किसी भी तरह का कोई फॉर्म नहीं भरना होगा और ना ही कोई फीस देनी होगी. आज पेपर देने आने वाले बच्चों को अपने घर तक जाने के लिए बसों में निशुल्क सुविधा मिलेगी.

प्रशांत कुमार ने बताया कि इस पूरे प्रकरण की जांच एसटीएफ द्वारा की जाएगी. इस पूरे प्रकरण में किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. पकड़े गए लोगों के मोबाइल फोन से पेपर की फोटो कॉपी बरामद हुई है. पकड़े गए लोग यूपी के अलावा बिहार से भी ताल्लुक रखते हैं. इस तरह के पेपरों में सॉल्वर गैंग को बैठाकर पेपर दिलाया जाना था.

मध्य प्रदेश के मुरैना में ट्रेन हादसा, चार बोगियां जलकर खाक

0

मध्य प्रदेश में मुरैना के हेतमपुर के पास चलती ट्रेन में आग लगने की खबर है। हादसा, उधमपुर से दुर्ग जा रह दुर्ग सुपरफास्ट एक्सप्रेस में शुक्रवार तीन बजे के करीब हुआ। मुरैना के हेतमपुर के पास के करीब चार एसी कोचों में आग लग गई। आग लगने के बाद ट्रेन को हेतमपुर स्टेशन के पास रोक दिया गया। हालांकि जल्दी ही कोचों को अन्य कोचों से अलग कर दिया गया। साथ ही आग को बुझाने के लिए मुरैना व धौलपुर से फायरब्रिगेड भी बुलाई गई है। खबर लिखे जाने तक आग पर काबू पा लिया गया था। लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि आग किस वजह से लगी।


खासबात यह है कि हादसे में सभी ट्रेन यात्री सुरक्षित हैं। बताया जाता है कि आग लगने के बाद कुछ यात्री दहशत में चलती रेल की खिड़कियों से बाहर कूद गए। कोचों में लगी आग को बुझाने का प्रयास फायरब्रिगेड कर रही हैं। ट्रेन में आग की सूचना पाकर मौके पर पुलिस, प्रशासन सहित रेलवे के अफसर पहुंच गए हैं। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं लगा है। हालांकि शार्टसर्किट होने की आशंका जताई जा रही है। साथ ही अभी तक यात्रियों के हताहत होने की कोई जानकारी भी नहीं मिली है।


उधमपुर दुर्ग 20848 ट्रेन शुक्रवार को जब धौलपुर स्टेशन से गुजरी और चंबल पार कर मुरैना की तरफ बढ़ रही थी। तभी ट्रेन के ए1 व ए2 कोच में धुंआ निकलता हुआ दिखाई दिया। इसके बाद यात्रियों में चीखपुकार मच गई। लोको पायलट ने ट्रेन को हेतमपुर स्टेशन पर रोक दिया। हेतमपुर स्टेशन पर ट्रेन करीब 3 बजकर 3 मिनट पर पहुंची थी। ट्रेन के रुकते ही सभी यात्रियों को बाहर सुरक्षित निकाल लिया गया।


ट्रेन में आग लगने की सूचना रेलवे कंट्रोल के पास पहले ही पहुंच गई थी। इसलिए मुरैना से दमकल वाहनों को मौके लिए रवाना कर दिया गया। मौके पर पहुंचकर दमकल वाहनों ने ट्रेन की आग को बुझाया। आग से ए1 व ए2 कोच पूरी तरह से जलकर राख हो गए। आग लगने की सूचना मिलते ही मुरैना व ग्वालियर से रेलवे के अफसर रवाना हो गए। अब आग लगने की जांच की जा रही है। हालांकि अभी कयास लगाए जा रहे हैं कि ट्रेन में शार्ट सर्किट की वजह से आग लगी है।

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर की अदालत में पेशी, भगोड़ा घोषित करने के खिलाफ याचिका

0

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने शुक्रवार को ठाणे कोर्ट के सामने पेश हुए. उनकी पेशी के बाद अदालत ने उनके खिलाफ जारी गैर-जमानती वारंट को रद्द कर दिया. कोर्ट ने उन्हें ठाणे पुलिस को जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया है. बता दें कि 15 हजार रुपये के निजी मुचलके और पर्सनल बॉन्ड भरवाने के बाद यह वारंट रद्द किया गया है. हाल ही में कोर्ट ने परमबीर को भगोड़ा घोषित किया था.


शुक्रवार सुबह करीब 10:30 बजे IPS अधिकारी परमबीर अपने वकील के साथ थाने पहुंचे. इस दौरान जोनल पुलिस आयुक्त (DCP) अविनाश अंबुरे भी थाने में मौजूद थे.


क्या था पूरा मामला?
आपको बता दें कि ठाणे नगर थाना पुलिस ने जुलाई में बिल्डर केतन तन्ना की शिकायत पर परमबीर और अन्य 28 के खिलाफ रंगदारी का केस दर्ज किया था. इस मामले में उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया था. हाल ही में कोर्ट ने परमबीर को भगोड़ा घोषित किया था. कई महीनों तक वे लापता चल रहे थे. लेकिन गुरुवार को जानकारी आई कि वे गुरुवार को मुंबई पहुंचे. इसके बाद मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रंगदारी के एक अन्य मामले में उनसे करीब 7 घंटे तक पूछताछ की थी.

दिल्ली में सोमवार से फिर से खुलेंगे स्कूल, प्रदूषण के चलते किए गए थे बंद

0

देश की राजधानी दिल्ली में 29 नवंबर से स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान खोले जाएंगे. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने यह जानकारी दी. गौरतलब है कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के चलते स्कूषल बंद किए गए थे. इसके अलावा दिल्ली सरकार के सभी दफ़्तर 29 नवंबर से खुल जाएंगे. उन्होंसने बताया कि 27 नवंबर से 3 दिसंबर तक गैर जरूरी सेवाओं में लगे सीएनजी और इलेक्ट्रिक वाहनों को ही एंट्री होगी. यह छूट गैर-ज़रूरी सेवाओं में इस्तेमाल होने वाले उन वाणिज्यिक वाहनों को दी गई है, जो CNG या बैटरी से चालित होते हैं. पेट्रोल तथा डीज़ल से चलने वाले वाहनों पर दिल्ली में प्रवेश पर लागू प्रतिबंध पहले की ही तरह बरकरार रहेगा.


यह छूट गैर-ज़रूरी सेवाओं में इस्तेमाल होने वाले उन वाणिज्यिक वाहनों को दी गई है, जो CNG या बैटरी से चालित होते हैं. पेट्रोल तथा डीज़ल से चलने वाले वाहनों पर दिल्ली में प्रवेश पर लागू प्रतिबंध पहले की ही तरह बरकरार रहेगा.


गौरतलब है कि दिल्ली में प्रदूषण के गंभीर स्थिति में पहुंचने के चहले 17 नवंबर को स्कूल-कॉलेज अगले आदेश तक बंद कर दिए गए थे. साथ ही सरकारी विभाग में 100 प्रतिशत वर्क फ्रॉम होम (WFH) लागू कर दिया गया था.दिल्लीे और इसके आसपास के इलाकों में दिनों दिन बिगड़ रही हवा की गुणवत्ता को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार को आड़े हाथों लिया है.


बुधवार की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने दो टूक अंदाज में कहा, ‘हम मामले को बंद नहीं करेंगे. हालात की समीक्षा करते रहेंगे. पराली प्रबंधन पर रिपोर्ट सरकारें रिपोर्ट दें. स्थिति बिगड़ने के बाद नहीं, पूर्वानुमान से काम करें.नौकरशाही को सक्रिय रहना चाहिए.’ CJI ने केंद्र से पूछा कि आप बताइए क्या किया गया. आपने बताया था कि 21 नवंबर से हालात ठीक होंगे. तेज हवा की वजह से हम बच गए हैं लेकिन मौसम विभाग की खबर थी कि आज शाम से फिर गंभीर हो सकते हैं. प्रधान न्या याधीश (CJI) ने कहा, ‘आपको पराली जलाने को रोकने के लिए प्रबंधन करना होगा वरना ये बड़ी समस्या बन जाएगी.’

टीम इंडिया को झटका, केएल राहुल पहले टेस्ट से बाहर

0

केएल राहुल चोट के कारण न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट से बाहर हो गए. भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला टेस्ट गुरुवार से कानपुर में शुरू हो रहा है और केएल राहुल की चोट विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे बल्लेबाजों के पहले से ही गायब होने से एक बड़ा झटका लगा.
भारत के सलामी बल्लेबाज केएल राहुल मंगलवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ गुरुवार से शुरू हो रहे पहले टेस्ट मैच से चोट के कारण बाहर हो गए. सूर्यकुमार यादव, जो इंग्लैंड की यात्रा करने वाली भारत की टेस्ट टीम का हिस्सा थे उनको टीम में शामिल किया गया है. बीसीसीआई के एक सूत्र ने पीटीआई को बताया, “केएल राहुल पहला टेस्ट नहीं खेल रहे हैं.” उन्होंने भारतीय टीम के रेगुलर अभ्यास सत्र में भी भाग नहीं लिया. मंगलवार को कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में लगभग सभी खिलाड़ियों ने अभ्यास सत्र में भाग लिया था.
न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप करने के बाद टीम इंडिया आत्मविश्ववास के साथ टेस्ट सीरीज में उतरेगी. शुभमन गिल को लेकर सोमवार को ही ये अपडेट आई थी कि टीम मैनेजमेंट उनको मीडिल ओवर्स में बल्लेबाजी के लिए भेजना जा रहा है क्योंकि मयंक अग्रवाल और केएल राहुल ओपनिंग करने के लिए तैयार थे, लेकिन अगर केएल राहुल इस चोट के चलते पहले मैच में नहीं खेल रहे तो निश्चित रूप से ये टीम इंडिया के लिए एक बड़ा खतरा है.
राहुल को कितनी गंभीर चोट लगी है इस बात का अभी खुलासा नहीं हो पाया है. अभ्यास सत्र के दौरान शुभमन गिल को मयंक अग्रवाल से साथ प्रैक्टिस करते हुए देखा गया. उनके अलावा चेतेश्वर पुजारा ने भी अभ्यास के दौरान बल्लेबाजी की. खबर ये भी आर ही है कि सूर्य कुमार यादव और श्रेयस अय्यर में से एक अपने टेस्ट करियर की शुरुआत कर सकते हैं

शादी समारोह में जा रहे दो युवकों की सड़क हादसे में मौत

0

बाराबंकी- लखनऊ सुल्तानपुर हाईवे पर लोनी कटरा थाना क्षेत्र के बुढनापुर गांव के पास सोमवार रात वैवाहिक समारोह में शामिल होने जा रहे युवक समेत दो लोगों की मौत हो गई। जबकि एक अन्य युवक घायल हो गया है। अस्पताल में जिसका इलाज चल रहा है।


थाना क्षेत्र के भिखारीपुर गांव में सोमवार को एक वैवाहिक समारोह था। इसमें शामिल होने हैदरगढ़ कोतवाली क्षेत्र के पोखरा निवासी सोनू आया था। देर रात सोनू भिखारीपुर गांव के करन व सोहन को अपने साथ लेकर एक ही बाइक से त्रिवेदीगंज चौराहा गया था और यहां से वह वापस लौट रहा था।


इसी दौरान विपरीत दिशा से हाईवे को क्रॉस करते समय तेज रफ्तार वाहन बाइक सवारों को रौंदते हुए निकल गई। जिसमें सोनू और करन की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं घायल सोहन को डायल 112 पुलिस ने सीएचसी त्रिवेदीगंज में भर्ती कराया गया।


हादसे की खबर पहुंचते ही वैवाहिक समारोह की खुशियां मातम में बदल गईं। पुलिस के मुताबिक तीनों युवक एक ही बाइक पर सवार होकर त्रिवेदीगंज गए थे। यहां पर शराब पीने के बाद वापस लौटते समय हादसे का शिकार हुए। इन लोगों ने हेलमेट नहीं पहन रखा था।

थप्पड़ खाने वाले लड़के की राजनीति में एंट्री, बताई ये वजह

0

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की सड़क पर थप्पड़ गर्ल के हाथों 22 थप्पड़ खाने वाले कैब ड्राइवर सहादत अली ने राजनीति में किस्मखत आजमाने का फैसला किया है. उन्हों्ने अखिलेश सरकार में कद्दावर मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का दामन थामा है. उन्हें पॉलिटिक्स में क्यों आना पड़ा अली ने इसकी वजह भी बताइए.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ज्वॉइन की
सहादत अली ने शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की सदस्यवता लेते हुए कहा, “पुरुषों को इंसाफ नहीं मिलता, मैं उनके लिए लड़ूंगा और उनका मसीहा बनूंगा.” पार्टी ज्वााइन करने के बाद उन्होंफने कहा कि मुझे इंसाफ नहीं मिला, लेकिन मैं हर नागरिक साथ खड़ा होकर उनका मसीहा बनूंगा.

‘पुरुषों को नहीं मिलता सम्मान’
लखनऊ के मॉल एवेन्यू स्थित प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय में सहादत अली ने पार्टी की सदस्यता ली. इस मौके उन्होंाने कहा, “शिवपाल चाचा की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी जॉइन करने की वजह एक ही है, पुरुषों को सम्माउन दिलाना.” उन्हों ने कहा कि पुरुष को सम्मान नहीं दिया जाता. उनकी आवाज दबा दी जाती है. मैं हर एक नागरिक और पुरुष के लिए खड़ा होऊंगा, उनका मसीहा बनूंगा.

थप्पड़ कांड के बाद आए थे चर्चा में
बतादें कि सहादत अली थप्पड़ कांड के बाद चर्चाओं में आए थे. दरअसल इसी साल जुलाई में लखनऊ के अवध चौराहे के पास अली ने लड़की के सामने आने पर गाड़ी के ब्रेक लगा दिए. जिससे नाराज होकर लड़की ने सहादत अली को एक दो नहीं बल्की पूरे 22 थप्पड़ जड़ दिए. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुए था.

रेलवे की नई सौगात, ‘भारत गौरव’ ट्रेनों का एलान

0

भारतीय रेलवे लगातार नए-नए बदलाव कर रहा है जिनसे देश की जनता को अच्छी यात्रा का फायदा मिल सके. इसी कड़ी में आज रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक बड़ा एलान किया. रेल मंत्री ने कहा कि यात्री, माल ढुलाई खंड के बाद रेलवे पर्यटन के लिए ट्रेनों का तीसरा खंड ‘भारत गौरव’ ट्रेन शुरू करेगा. रेल मंत्री ने आज इसकी जानकारी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए की. उन्होंने इंडियन रेलवे के पैसेंजर और फ्रेट वर्टिकल के बाद टूरिज्म सेगमेंट का एलान किया है और इसके लिए लगभग 190 ट्रेन आवंटित की गई हैं.

भारत की संस्कृति-विरासत को दर्शाने वाली थीम पर बेस्ड
भारत गौरव ट्रेन भारत की संस्कृति, विरासत को प्रदर्शित करने वाली थीम पर आधारित होंगी. भारत गौरव ट्रेन का संचालन निजी क्षेत्र और आईआरसीटीसी दोनों द्वारा किया जा सकता है और टूर ऑपरेटर द्वारा इन ट्रेनों का किराया तय किया जाएगा.

रेल मंत्री ने दी साझा की जानकारियां
रेल मंत्री ने बताया कि आज से ही इसके लिए एप्लीकेशन या आवेदन मंगाए जाने शुरू किए जा रहे हैं. हमें अभी तक इस तरह के इनीशिएटिव के लिए अच्छा रिस्पॉन्स मिला है.
स्टेकहोल्डर्स इन ट्रेनों का नवीनीकरण करेंगे और चलाएंगे जबकि रेलवे इन ट्रेनों को मेंटेनेंस या रखरखाव, पार्किग और अन्य सुविधाओं को मुहैया कराएगा.

पूरी तरह से नया सेगमेंट
अश्विनी वैष्णव ने कहा कि आप इसे रेगुलर ट्रेन सर्विसेज की तरह ना देखें और ये सामान्य ट्रेन सर्विस नहीं है. भारत गौरव ट्रेनों का मुख्य उद्देश्य भारत में पर्यटन को बढ़ावा देना है और इसके कई तरह के आयाम हैं.
सुधार की हमेशा गुंजाइश रहती है
रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि हमने इसके लिए अध्य्यन किया है और जब हम संस्कृति के किसी पहलू की बात करते हैं तो इसके लिए कई संवेदनशील बातें होती हैं. हमें निश्चित तौर पर अपने इस प्रयास के तहत डिजाइनिंग, खाने और पहनावे के साथ अन्य बातों पर ध्यान देकर उन्हें अपनाना होगा. हमें इस प्रक्रिया में सीखते हुए आगे बढ़ना होगा और इस प्रक्रिया में कोई भी आयाम पत्थर की लकीर नहीं है और जरूरत पड़ने पर इसमें सुधार की हमेशा गुंजाइश रहेगी जिससे हम यात्रियों को बेहतर से अधिक सुविधाएं मुहैया करा पाएंगे.

पत्नी के अपमान के बाद फूट-फूटकर रोए नायडू, बोले सत्ता में आने के बाद ही विधानसभा आउंगा- देखें वीडियो

0

तेलुगु देशम पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सदस्यों द्वारा उन्हें अपमानित किए जाने के विरोध में वर्तमान कार्यकाल के शेष समय में विधानसभा में प्रवेश नहीं करेंगे।
उन्होंने कहा, ‘मैं इसके बाद इस सभा में शामिल नहीं होउंगा। मैं फिर से मुख्यमंत्री बनने के बाद ही सदन में लौटूंगा।” विधानसभा से बाहर निकलने से पहले नायडू काफी भावुक दिखे। उनके आंखों में आंसू थे। उन्होंने हाथ जोड़ रखा था।

उन्होंने शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन महिला सशक्तिकरण पर बहस के दौरान विधानसभा में उनके और उनकी पत्नी के खिलाफ वाईएसआरसीपी सदस्यों द्वारा की गई कथित अपमानजनक टिप्पणियों पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की।

बाद में, मंगलागिरी में टीडीपी के राज्य मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, 71 वर्षीय नायडू फूट-फूट कर रो पड़े। वह कुछ मिनटों के लिए नहीं बोल सके, क्योंकि उसकी आवाज भावनाओं से बंधी हुई थी। वह कुछ मिनटों के लिए अपने चेहरे को हाथों से ढंक कर रो रहे थे।

उन्होंने कहा कि उनकी पत्नी कभी राजनीति में नहीं रहीं। रोते हुए नायडू ने कहा, “चाहे मैं सत्ता में रहूं या बाहर, मेरे जीवन के हर कदम पर मुझे प्रोत्साहित करने के अलावा, उन्होंने कभी भी राजनीति में हस्तक्षेप नहीं किया। फिर भी, उन्होंने मेरी पत्नी को अपमानित करने की कोशिश की।”

उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने 40 साल के राजनीतिक जीवन में कभी इतना कष्ट महसूस नहीं किया। टीडीपी चीफ ने कहा, “मैंने अपने जीवन में कई संघर्षों, उतार-चढ़ावों का सामना किया। मैंने विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों में कई गरमागरम बहसें देखीं। लेकिन विपक्ष को इस तरह से कुचलना अभूतपूर्व है।”

नायडू ने वर्तमान सभा की तुलना महाकाव्य महाभारत की कौरव सभा से की, जहां शक्तिशाली कौरवों ने पांडवों की पत्नी द्रौपदी को सबके सामने उतारने की कोशिश करके उनका अपमान किया।

उन्होंने कहा, ‘अधिक दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि जब सत्ता पक्ष के सदस्य मेरी पत्नी का नाम घसीटते हुए गालियां दे रहे थे तो अध्यक्ष मूकदर्शक बने रहे। मुझे बाकी कार्यकाल के लिए विधानसभा से दूर रहने के मेरे फैसले पर बोलने और बयान देने का मौका भी नहीं दिया। मुझे अपने अधिकार के लिए लड़ना पड़ा।”
उन्होंने कहा, “मैं पिछले ढाई साल से अपमान का सामना कर रहा हूं। जब मेरी गरिमा से समझौता किया जाता है, तो सभा में शामिल होने का कोई मतलब नहीं है। मैं अपनी लड़ाई लोगों तक ले जाऊंगा और उनका समर्थन मांगूंगा। मैं मुख्यमंत्री के रूप में लोगों का जनादेश प्राप्त करने के बाद ही विधानसभा में लौटूंगा।”

यह सब महिला सशक्तिकरण पर चर्चा को लेकर टीडीपी और वाईएसआरसीपी सदस्यों के बीच वाकयुद्ध के साथ शुरू हुआ। टीडीपी विधायकों ने वाईएसआरसीपी सदस्य अंबाती रामबाबू के भाषण को बाधित करने की कोशिश की, जो विपक्षी दल पर हमला कर रहे थे।

जब रामबाबू ने कथित तौर पर नायडू की पत्नी का जिक्र करते हुए कुछ भद्दी टिप्पणियां कीं, तो टीडीपी सदस्यों ने विरोध में मंच पर धावा बोल दिया और उनसे माफी की मांग की। मंत्री बालिनेनी श्रीनिवास रेड्डी और कोडाली नानी सहित वाईएसआरसीपी के अन्य सदस्य भी टीडीपी सदस्यों के साथ झड़प में पोडियम पर पहुंच गए।

इसके कारण नायडू ने वाईएसआरसीपी सदस्यों के कथित अनियंत्रित व्यवहार का कड़ा विरोध किया और घोषणा की कि वह इस कार्यकाल में दोबारा विधानसभा नहीं आएंगे।

कृषि कानून वापसी के बाद सोनू सूद ने कही ये बड़ी बात

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राष्ट्र के नाम संबोधन में पिछले करीब एक साल से विवादों में घिरे तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा कर दी. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि पांच दशक के अपने सार्वजनिक जीवन में मैंने किसानों की मुश्किलों, चुनौतियों को बहुत करीब से अनुभव किया है. उन्होंने राष्ट्र को संबोधित करते हुए छोटे किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए अपनी सरकार की तरफ से उठाए कदमों पर भी चर्चा की. जानिए पीएम मोदी के इस एलान के बाद बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने क्या बड़ी बात कही है.


अभिनेता सोनू सूद ने ट्वीट करके कहा, ”किसान वापिस अपने खेतों में आयेंगे, देश के खेत फिर से लहराएंगे. धन्यवाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, इस ऐतिहासिक फैसले से किसानों का प्रकाश पूरब और भी ऐतिहासिक हो गया. जय जवान जय किसान.”


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के नाम संबोधन में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का एलान कर दिया. पीएम मोदी ने कहा कि आज मैं सभी को बताना चाहता हूं कि हमने तीनों कृषि कानून को निरस्त करने का फ़ैसला किया है. मकसद ये था कि देश के किसानों को, खासकर छोटे किसानों को, और ताकत मिले, उन्हें अपनी उपज की सही कीमत और उपज बेचने के लिए ज्यादा से ज्यादा विकल्प मिले आज मैं सभी को बताना चाहता हूं कि हमने तीनों कृषि कानून को निरस्त करने का फ़ैसला किया है. बरसों से ये मांग देश के किसान, देश के कृषि विशेषज्ञ, देश के किसान संगठन लगातार कर रहे थे. पहले भी कई सरकारों ने इस पर मंथन किया था.
उन्होंने कहा, ”इस बार भी संसद में चर्चा हुई, मंथन हुआ और ये कानून लाए गए. देश के कोने-कोने में कोटि-कोटि किसानों ने, अनेक किसान संगठनों ने, इसका स्वागत किया, समर्थन किया. मैं आज उन सभी का बहुत आभारी हूं. हमारी सरकार, किसानों के कल्याण के लिए, खासकर छोटे किसानों के कल्याण के लिए, देश के कृषि जगत के हित में, देश के हित में, गांव गरीब के उज्जवल भविष्य के लिए, पूरी सत्य निष्ठा से, किसानों के प्रति समर्पण भाव से, नेक नीयत से ये कानून लेकर आई थी, लेकिन इतनी पवित्र बात, पूर्ण रूप से शुद्ध, किसानों के हित की बात, हम अपने प्रयासों के बावजूद कुछ किसानों को समझा नहीं पाए.”

वाराणसी में हॉट एयर बैलून शो का आयोजन, काशी की धरती से पर्यटन विभाग ने रचा इतिहास

0

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा देव दीपावली के पर्व पर तीन का हॉट एयर बैलून शो शुरू किया गया है। आज इसका दूसरा दिन है। बुधवार को शुरू हुए इस शोन ने काशी के आकाश में इतिहास रच दिया है। शो 19 नवंबर यानी देव दीपावली तक आयोजित किया जाएगा। इस दौरान वाराणसी के लोगों, तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को हॉट एयर बैलून में एक हजार फीट की ऊंचाई से काशी की छटा निहारने का मौका मिलेगा।
बैलून फेस्टिवल का औपचारिक शुभारंभ उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग के मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने किया। देव दीपावली के मौके पर पहली बार पर्यटक तीन दिवसीय बैलून उत्सव के तहत घाटों की छटा आसमान से देखेंगे। बुधवार सुबह डोमरी गांव में गंगा किनारे रेती पर आसमान में उड़ते हॉट एयर बैलून लोगों के आकर्षण का केंद्र बने रहे।
बैलून उत्सव की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि टिकट बिक्री शुरू होने के करीब तीन घंटे के अंदर ही सारे 800 टिकट बिक गए। इससे पर्यटन विभाग को तीन घंटे में चार लाख रुपये की आमदनी हुई।
पर्यटन विभाग ने टिकट विक्रय के लिए पांच केंद्र बनाए थे, लेकिन भीड़ को देखते हुए सिर्फ संस्कृति संकुल पर्यटन कार्यालय से टिकट की ब्रिकी हुई। यहां भीड़ नियंत्रित करने के लिए विभाग को पुलिस बुलानी पड़ी। बैलून से उड़ान भरने के लिए 500 रुपये टिकट दर निर्धारित है।
बैलून फेस्टिवल के तहत उड़ान का शुभारंभ बुधवार की सुबह 6 बजे शुरू हो गया। उड़ान के लिए चार स्टेशन सिगरा स्टेडियम, बीएलडब्ल्यू, सीएचएस और डोमरी बनाए गए हैं। पर्यटन विभाग के मुताबिक 18 और 19 नवंबर रात्रि की उड़ान टेडर्ड फ्लाइट के माध्यम से होगी, जबकि सुबह की उड़ान पूरे शहर में होगी। टेडर्ड उड़ान में बैलून एक निचला सिरा रस्सी से बंधा होगा और उड़ान नियंत्रित होगी।
तीन दिवसीय बनारस बैलून महोत्सव के पहले दिन बुधवार को डीएम कौशल राज शर्मा ने पांच बालक-बालिकाओं को बनारस की सैर कराई। डीएम ने रामनगर स्थित राजकीय बालगृह (बालक) के तीन बालक और काशी अनाथालय की दो बालिकाओं को बैलून में बैठाकर उड़ान भरी।
बुधवार सुबह डोमरी गांव में गंगा किनारे रेती पर आसमान में उड़ते हॉट एयर बैलून लोगों के आकर्षण का केंद्र बने रहे। इन्हें देखने और इनमें उड़ान भरने के लिए लोगों की अच्छी-खासी भीड़ उमड़ी हुई थी। देव दीपावली से पहले वाराणसी में में पर्यटन उद्योग को धार देने के लिए बुधवार से तीन दिवसीय हॉट एयर बैलून शो शुरू किया गया है।
यह हॉट एयर बैलून जमीन से 1000 फीट की ऊंचाई तक जाते हैं। यह एटीसी की देखरेख में उड़ान भरते हैं। सुरक्षा के मद्देनजर रामनगर थाने की पुलिस के साथ ही बम निरोधक दस्ता, डॉग स्क्वॉड और अग्निशमन विभाग के कर्मियों को तैनात किया गया है। इसके साथ ही पुलिस और प्रशासन के उच्च अधिकारियों ने निरीक्षण किया। पुलिसकर्मियों को मुस्तैदी के साथ ड्यूटी करने का निर्देश दिया।
बुधवार को डोमरी से बैलूनों ने उड़ान भरी, लेकिन हवा का रुख देख पायलट ने गुब्बारों को अलग अलग ऊंचाई से उड़ाते हुए अलग अलग स्थानों पर लैंडिंग कराई। आसमान में उड़ते एयर बैलून लोगों के आकर्षण का केंद्र बने रहे। इन्हें देखने और इनमें उड़ान भरने के लिए लोगों की अच्छी-खासी भीड़ उमड़ी डोमरी पहुंची थी। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी के मुताबिक डोमरी से उड़े बैलून हनुमान मंदिर शिवपुर रोड़, पीसौर पुल, लोहता, बरहौली, दनियालपुर, और महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में उतरे जहां देखने के लिए लोगों की भीड़ जुट गई।

हॉट एयर बैलून के उद्घाटन अवसर पर उड़े बैलून को हवा के विपरीत रुख की वजह से आनन फानन में छावनी क्षेत्र में उतारना पड़ा। इसमें रोहनिया से भाजपा विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह बैठे थे। अचानक बैलून उतरते देख वहां मौजूद सेना के जवान अलर्ट हो गए। यहां विधायक ने अपना परिचय दिया और वस्तुस्थिति की जानकारी दी तब स्थिति सामान्य हो गई।

पाकिस्तान में रेप करने वालों को बनाया जाएगा नंपुसक

0

पाकिस्तान में कई दुष्कर्मों के दोषी यौन अपराधियों को संसद द्वारा एक नया कानून पारित करने के बाद रासायनिक तरीकों से नपुंसक बनाए जाने का सामना करना पड़ सकता है। इस कदम का उद्देश्य सजा में तेजी लाना और कड़ी सजा देना है यह विधेयक देश में महिलाओं और बच्चों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं में हालिया वृद्धि और अपराध पर प्रभावी रूप से अंकुश लगाने की बढ़ती मांगों के खिलाफ सार्वजनिक आक्रोश के फलस्वरूप लाया गया है।
राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के पाकिस्तानी मंत्रिमंडल द्वारा पारित अध्यादेश पर मुहर लगाने के लगभग एक साल बाद यह विधेयक पारित हुआ है। विधेयक में दोषी की सहमति से उसे रासायनिक तौर पर नपुंसक बनाने और त्वरित सुनवाई के लिये विशेष अदालतों के गठन का आह्वान किया गया है। ‘डॉन’ अखबार के मुताबिक आपराधिक कानून (संशोधन) विधेयक 2021 विधेयक को बुधवार को संसद के संयुक्त सत्र में 33 अन्य विधेयकों के साथ पारित कर दिया गया। अखबार ने बताया कि यह पाकिस्तान दंड संहिता, 1860 और दंड प्रक्रिया संहिता, 1898 में संशोधन करना चाहता है।
विधेयक के मुताबिक, “रासायनिक तौर पर नपुंसक बनाना एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे प्रधानमंत्री द्वारा बनाए गए नियमों द्वारा विधिवत अधिसूचित किया जाता है, जिसके तहत एक व्यक्ति को अपने जीवन की किसी भी अवधि के लिए संभोग करने में असमर्थ बना दिया जाता है, जैसा कि अदालत द्वारा दवाओं के प्रशासन के माध्यम से निर्धारित किया जा सकता है जो एक अधिसूचित चिकित्सा बोर्ड के माध्यम से किया जाएगा।” जमात-ए-इस्लामी के सांसद मुश्ताक अहमद ने इस विधेयक का विरोध किया और इसे गैर-इस्लामी और शरिया के खिलाफ बताया। उन्होंने कहा कि दुष्कर्मी को सार्वजनिक रूप से फांसी दी जानी चाहिए लेकिन शरिया में कहीं नपुंसक बनाए जाने का उल्लेख नहीं है।

जम्मू-कश्मीर: कुलगाम एनकाउंटर में 4 आतंकी ढेर

0

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आज सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली. सुरक्षाबलों ने दो अलग-अलग जगहों पर एनकाउंटर में चार आतंकियों को मार गिराया है. कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि पुम्बाई और गोपालपोरा गांव में मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को मार गिराया है. दोनों ही जगहों पर मुठभेड़ अब भी जारी है.
इससे पहले 15 नवंबर को सुरक्षाबलों ने श्रीनगर के हैदरपोरा में दो आतंकियों को मार गिराया था. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, इस साल अब तक 135 से ज्यादा आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है. घाटी में 38 विदेशियों सहित 150-200 आतंकी अभी भी सक्रिय हैं.

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबल आतंकियों के खिलाफ बड़े स्तर पर अभियान चला रही है. आज ही दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादी सहयोगियों को गिरफ्तार किया है और उनके कब्जे से आईईडी भी बरामद किया गया हैय एसएसपी पुलवामा गुलाम जिलानी ने बताया कि सर्कुलर रोड पुलवामा में पुलिस और सेना के संयुक्त नाकेबंदी के दौरान आतंकी संगठन लश्कर के दो सक्रिय साथियों को पकड़ा गया. गिरफ्तार आतंकी साथियों की पहचान पुलवामा निवासी आमिर बशीर डार और शोपियां निवासी मुख्तार अहमद भट के रूप में हुई है.

दरअसल, जम्मू-कश्मीर में हाल के दिनों में आतंकी वारदात में तेजी देखी गई है. आठ नवंबर को ही आतंकियों ने एक सेल्समैन की हत्या कर दी थी. इससे एक दिन पहले सात नवंबर को आतंकियों ने एक कॉन्सटेबल की गोली मारकर हत्या कर दी थी. वहीं अक्टूबर में आतंकियों ने 13 नागरिकों की हत्या कर दी थी. इसमें बिजनेसमैन, मजदूर और शिक्षक शामिल हैं. अक्टूबर में ही 12 जवान आतंकी हमले में शहीद हो गए थे. वहीं सुरक्षाबलों ने 20 आतंकियों को मार गिराया.

ट्रेन हादसा- मालगाड़ी के 8 डिब्बे पटरी से उतरे

0

चन्दौली. डीडीयू जंक्शन के समीप बड़ा रेल हादसा सामने आया है. यहां पटरी टूट जाने के कारण मालगाड़ी डिरेल हो गई, जिससे मालगाड़ी पर लदे कन्टेनर पलट गए. इस घटना के बाद रेलवे में हड़कंप मच गया. दिल्ली हावड़ा रेल रूट का डाउन मेन लाइन पर परिचालन पूरी तरह बाधित हो गया, जिसके चलते करीब आधा दर्जन ट्रेनें जहां की तहां फंस गईं. इस हादसे की सूचना पर आरपीएफ की टीम के साथ रेलवे के आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए वह रिवर्सेबुल में जुटे हैं. ट्रेन के डिरेलमेंट के कारणों का पता लगाया जा रहा है.
दरअसल, बुधवार की सुबह गुजरात के राजकोट से कन्टेनर लेकर पूर्व मध्य रेल की ओर जा रही मालगाड़ी अचानक डिरेल होकर पटरी से उतर गई. इसके चलते मालगाड़ी पर लदे करीब 8 वैगन पलट कर नीचे गिर गए. मालगाड़ी के कन्टेनरों में टाइल्स समेत भारी मात्रा में लदा सामान भी क्षतिग्रस्त हो गया, जिससे करोड़ों रुपये की क्षति का आंकलन किया जा रहा है.
वहीं, ट्रेन डिरेलमेंट की सूचना मिलते ही रेल महकमे में हड़कंप मच गया. आरपीएफ, जीआरपी के अलावा रेलवे के तमाम आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए. बताया जा रहा है कि इसे रिवर्सेबुल करने में शाम या रात तक समय लग सकता है. रेल रूट थम जाने के बाद ट्रेनें जहां की तहां ठहर गईं. इसमें हजारों रेलयात्रियों के सामने परेशानियां खड़ी हो गईं.
वहीं सीनियर डिवीजन ऑपरेशनल मैनेजर मुस्ताक इकबाल ने बताया कि ऐसे में डाउन लाइन में फंसी ट्रेनों का रूट डायवर्ट कर उनके गंतव्य तक भेजने की योजना पर भी काम किया जा रहा है. साथ ट्रैक को ठीक करने का काम शुरू कर दिया गया है ओएचई वायर को भी काफी नुकसान हुआ है. घटना कैसे हुई इसके जाच के आदेश दिए गए है रिस्टोर का काम युद्ध स्तर पर जारी है.

पाकिस्तान से गायब हुई जिन्ना और उनकी बहन की संपत्ति, आयोग का गठन

0
जिन्ना
पाकिस्तान से गायब हुई जिन्ना और उनकी बहन की संपत्ति

पाकिस्तान की एक अदालत ने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना और उनकी बहन फातिमा जिन्ना की संपत्ति और अन्य सामानों का पता लगाने के लिए एक सदस्यीय आयोग का गठन किया है. सिंध उच्च न्यायालय (एसएचसी) के आदेश के बाद, सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति फहीम अहमद सिद्दीकी की अध्यक्षता में मंगलवार को आयोग का गठन किया गया. अदालत ने जिन्ना अैर उनकी बहन के शेयर, आभूषणों, गाड़ियों और बैंक खातों में मौजूद पैसों सहित संपत्तियों से संबंधित 50 साल पुराने एक मामले की सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया था. पाकिस्तान की स्थापना के एक साल बाद सितंबर 1948 में जिन्ना का निधन हो गया था. फातिमा का निधन कराची में 1967 में हुआ था.
न्यायमूर्ति जुल्फिकार अहमद खान की अध्यक्षता वाली एसएचसी की पीठ ने सुनवाई के दौरान पाया था कि भाई-बहन के सभी सूचीबद्ध क़ीमती सामान और संपत्ति अभी तक खोजी नहीं गई है, जो जाहिर तौर पर गायब हैं. कई अन्य सामान, जो पहले की रिपोर्ट में दर्ज थे, वे तैयार की गई नवीनतम सूची में गायब थे. यह याचिका फातिमा के एक रिश्तेदार हुसैन वालिजी ने दायर की थी. फातिमा जिन्ना की मौत के बाद उनकी संपत्ति को लेकर मुकदमा कराची अदालत में 1968 से 1984 तक लंबित रहा. अब इस संपत्ति को शरिया के अनुसार गवर्न किया जाता है, लेकिन उनके दो ट्रस्ट में हिस्सेदारी को लेकर अब तक विवाद है.
कुछ सालों पहले असलम जिन्ना ने पाकिस्तान के सिंध हाईकोर्ट में दावा किया कि वो जिन्ना के पड़पोते हैं, लिहाजा उनकी संपत्ति के वारिस भी. हालांकि बाद में उनका दावा गलत साबित हुआ. इस लेख में लियाकत लिखते हैं कि जिन्ना लगातार अपने भाइयों और बहनों के साथ अन्य रिश्तेदारों के साथ दूरी बनाकर चलते थे ताकि कोई उनके नाम का इस्तेमाल नहीं कर सके. जब एक दो बार उनके भतीजे या भाई ने किसी किताब या सामग्री में उन्हें रिश्तेदार बताकर प्रकाशित करना चाहा, तो उन्होंने इसकी अनुमति नहीं दी.

मोहम्मद अली जिन्ना ने भारत का बंटवारा कराया. वो अपनी बहन फातिमा जिन्ना के साथ उस देश पाकिस्तान में चले गए, जिसका उन्होंने निर्माण कराया था. लेकिन जिन्ना के खानदान के ज्यादातर लोगों ने तब हिंदुस्तान को चुना. उन्होंने भारत में रहना पसंद किया. बाद में जरूर उनके कुछ भाई-बहनों ने कई सालों बाद पाकिस्तान का रुख किया. वैसे अब भी उनके दो भाई और बहनों के नाती-पोते मुंबई और कोलकाता में रह रहे हैं. जिन्ना की इकलौती बेटी दीना वाडिया ने तो साफतौर पर पिता के देश जाने से मना कर दिया था.

दिल्ली-जहरीली हुई हवा, स्कूल-कॉलेज अगले आदेश तक बंद, वर्क फ्रॉम होम लागू

0

देश की राजधानी दिल्ली में प्रदूषण के गंभीर स्तकर के चलते स्कूल-कॉलेज अगले आदेश तक बंद, कर दिए गए हैं. साथ ही सरकारी विभाग में 100 प्रतिशत वर्क फ्रॉम होम लागू कर दिया गया है.दिल्लीक के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया कि देश की राजधानी में में 21 नवंबर तक निर्माण कार्य पर प्रतिबंध रहेगा, साथ ही सरकारी विभागों में 100% वर्क फ्रॉम होम लागू होगा. यहां ज़रूरी सेवाओं के अलावा अन्य ट्रकों की एंट्री बैन कर दी गई है. दिल्ली में 1000 CNG प्राइवेट बसों को कल से हायर किया जाएगा. DDMA से मेट्रो और बस में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति मांगी गई है.
गोपाल राय के अनुसार, दिल्ली में 10 साल पुरानी डीजल, 15 साल पुरानी गाड़ियों की लिस्ट दिल्ली पुलिस को सौंपी गई है.वाहन प्रदूषण सर्टिफिकेट की सघन जांच होगी. दिल्ली में 372 वॉटर टैंकर से छिड़काव हो रहा है, फायर ब्रिगेड की मदद से 13 हॉट स्पॉट पर पानी का छिड़काव किया जाएगा.दिल्ली में गैस के अलावा अन्य इंडस्ट्री को बैन किया गया इसके साथ ही ट्रैफिक कंजेन्शन की जांच के लिए ट्रैफिक पुलिस को आदेश दिया गया है.
गौरतलब है कि दिल्लीर और इसके आसपास के इलाकों में दिनों दिन बिगड़ रही हवा की गुणवत्ता को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्लीी सरकार को आड़े हाथों लिया है. सु्प्रीम कोर्ट में हाल ही में केंद्र सरकार ने बताया था कि राजधानी में गंभीर प्रदूषण में पराली जलने से होने वाले धुएं का योगदान केवल 10 फीसदी ही है. दिल्ली के वायु प्रदूषण में खेत के कचरे को जलाने का योगदान 10 प्रतिशत है, सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि वायु प्रदूषण में उद्योग और सड़क की धूल की बड़ी भूमिका है. इस पर जस्टिस सूर्यकांत ने केंद्र से सवाल किया था , “क्या आप सैद्धांतिक रूप से इस बात से सहमत हैं कि पराली जलाना कोई प्रमुख कारण नहीं है और यह “हल्ला” वैज्ञानिक और कानूनी आधार के बिना था.” जब केंद्र के वकील ने इसे स्वीकार कर लिया, तो न्यायाधीश ने कहा कि “दिल्ली सरकार के हलफनामे का कोई मतलब नहीं है” क्योंकि वे “केवल किसानों को दोष दे रहे हैं”.

दिल्ली में निर्माण कार्य पर पूरी तरह से रोक, स्कूल-कॉलेज भी बंद

0

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण पर बहुत बड़ा फैसला लिया गया है। नई दिल्ली में कल से कंस्ट्रक्शन वर्क पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। कल से राजधानी नई दिल्ली में स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। दिल्ली में वर्क फ्रॉम होम का आदेश जारी कर दिया गया है। दरअसल नई दिल्ली में आज प्रदूषण पर एक इमरजेंसी मीटिंग हुई। इस बैठक में प्रदूषण को लेकर केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के बीच मंथन हुआ।

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री ने मीडिया से बातचीत में बताया कि पंजाब, हरियाणा, यूपी के अधिकारियों के साथ आज की बैठक में दिल्ली सरकार ने प्रस्ताव दिया कि NCR में वर्क फ्रॉम होम को NCR क्षेत्रों में लागू किया जाना चाहिए; निर्माण कार्य पर रोक लगे, उद्योग भी बंद हो। उन्होंने बताया कि राजधानी नई दिल्ली में 19 नवंबर से 3 दिसंबर के बीच ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ कैंपेन 15 दिनों के बढ़ाया जा रहा है। अभी इसका पहला चरण चरण 18 तारीख को समाप्त हो रहा था अब इसे 3 दिसंबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जुड़ी कुछ खास बातें

0
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जुड़ी खास बातें

पूर्वांचल एक्सपप्रेस-वे से गाजीपुर से दिल्ली पहुंचने में 10 घंटे लगेंगे। राजधानी से पूर्वांचल के आखिरी छोर तक सीधी कनेक्टिविटी हो जाएगी, वहीं पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से खेती-किसानी के लिए कारोबार के नये रास्ते खुलेंगे। सब्जी विक्रेताओं और दुग्ध व्यवसाय को एक्सप्रेस वे से फायदा होगा। इसी के साथ ही एक्सप्रेस वे को गाजीपुर से बिहार को जोड़ने के प्रस्ताव पर भी काम चल रहा है।
पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर 18 फ्लाईओवर, 7 रेलवे ओवरब्रिज, 7 दीर्घ सेतु, 104 लघु सेतु, 13 इंटरचेंज, 5 रैम्प प्लाजा, 271 अंडरपासेज और 525 पुलियों का निर्माण कराया गया है। पूर्वांचल एक्साप्रेस-वे से गाजीपुर से दिल्ली पहुंचने में 10 घंटे लगेंगे। राजधानी से पूर्वांचल के आखिरी छोर तक सीधी कनेक्टिविटी हो जाएगी, वहीं पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से खेती-किसानी के लिए कारोबार के नये रास्ते खुलेंगे। सब्जी विक्रेताओं और दुग्ध व्यवसाय को एक्सप्रेस वे से फायदा होगा। इसी के साथ ही एक्सप्रेस वे को गाजीपुर से बिहार को जोड़ने के प्रस्ताव पर भी काम चल रहा है। फिलहाल लोगों को टोल टैक्स नहीं देना पड़ेगा। वाहनों की गति सीमा 100 किमी प्रति घंटा निर्धारित की गई है।

आगे चलकर 8 लेन का हो सकता है पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे
अभी 6 लेन, बाद में 8 लेन भी हो सकता है पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चांद सराय गांव से शुरू होगा जो गाजीपुर में NH-31 पर स्थित हैदरिया गांव पर खत्म होगा। ये गाँव यूपी-बिहार बॉर्डर से 18 किलोमीटर पहले पड़ता है। ये एक्सप्रेस-वे अभी 6 लेन का बनाया गया है, जिसे भविष्य में 8 लेन भी किया जा सकता है। दावा है कि इस एक्सप्रेस-वे से गाजीपुर से दिल्ली पहुंचने में 10 घंटे लगेंगे। यूपी सरकार के मुताबिक, अक्टूबर 2018 में इसका काम शुरू हुआ था और तीन साल में इसे पूरा कर लिया गया।

सिर्फ 4 घंटे में तय होगा पूरा सफर
एक अनुमान के मुताबिक, 341 किलोमीटर के पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का सफर तय करने में करीब 4 घंटे का वक्त लगेगा। इस एक्सप्रेस-वे से सरकार को टोल से 202 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त होगा। फिलहाल लोगों को टोल टैक्स नहीं देना पड़ेगा। यानी अभी कुछ दिन यह सफर मुफ्त रहेगा। लेकिन बाद में टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया जाएगा। यह कंपनी जल्द प्रति किमी के हिसाब से टोल की दरें तय करेगी और इसके बाद टोल बूथ पर टोल लगेगा। माना जा रहा है कि इसकी दरें लखनऊ आगरा एक्सप्रेस-वे की दरों के आसपास ही रखी जाएगी।
भी नहीं मिलेंगी सुविधाएँ
लेकिन इन बातों का रखना होगा ध्यान पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बनकर तो तैयार हो गया है और इस पर आज से ही आवाजाही शुरू हो जाएगी। लेकिन अभी भी कुछ सुविधाएं यहां नहीं हैं। 341 किलोमीटर के सफर में ना तो रास्ते में पेट्रोल मिलेगा ना ही टॉयलेट और अगर गाड़ी खराब हुई तो गैराज भी नहीं मिलेगा। इतना ही नहीं, खाने-पीने की भी व्यवस्था अभी नहीं हुई है। हालांकि, सरकार का कहना है कि इनके इंतजाम किए जा रहे हैं। UPEIDA का कहना है कि एक्सप्रेस-वे पर 8 जगहों पर फ्यूल पंप और 4 जगहों पर सीएनजी स्टेशन बनाए जाने हैं।

निर्माण में खर्च हुए 22 हजार 497 करोड़ रुपये, 9 जिलों से होकर गुजरेगा
एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चांद सराय से शुरू होगा और गाजीपुर तक पहुंचेगा। इसे बनाने में 22 हजार 497 करोड़ रुपये का खर्चा आया है। ये एक्सप्रेस-वे 9 जिलों लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अयोध्या, सुल्तानपुर, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर से होकर निकलेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने जुलाई 2018 में आजमगढ़ से इसकी आधारशिला रखी थी।
लड़ाकू विमान भी लैंडिंग कर सकेगा
इस एक्सप्रेस-वे पर लड़ाकू विमान भी उतारे जा सकेंगे। इसके लिए सुल्तानपुर में 3.2 किमी लंबी और 34 मीटर चौड़ी हवाई पट्टी भी तैयार की गई है। जरूरत पड़ने पर वायुसेना इस एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल लैंडिंग और उड़ान भरने के लिए कर सकती है।

जम्मू-कश्मीर: नकली सिम कार्ड का भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार

0

कश्मीर घाटी के बारामुला में पुलिस ने फर्जी सिम कार्ड रैकेट का भंडाफोड़ किया है। रैकेट से जुड़े तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनके कब्जे से आपत्तिजनक सामग्री जिसमें सिम कार्ड के साथ मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट और दस्तावेज बरामद किए गए हैं।
आरोपियों की पहचान ओवैस फारूक वाजा पुत्र फारूक अहमद वाजा निवासी मोहल्ला जामिया बारामुला, सुहैल अजीज मीर पुत्र अब्दुल अजीज निवासी सुहैल कॉलोनी बारामुला और जावेद अहमद कांजवाल पुत्र अब्दुल अहमद निवासी जलाल साहिब के रूप में हुई है। इस गिरोह पर जाली दस्तावेज जुटा कर सिम कार्ड जारी करने का आरोप है। पुलिस ने बारामुला थाने में यूए (पी) एक्ट और आईपीसी की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सीतापुर में संदिग्ध गिरफ्तार, 13 लाख कैश बरामद

0

सीतापुर की कोतवाली लहरपुर इलाके में सोमवार को पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से 13 लाख 25 हजार रूपये बरामद किए हैं। पुलिस की माने तो बरामद हुई नकदी चोरी की बताई जा रही है। पुलिस संदिग्ध को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।
पकड़े गए आरोपी का नाम अनिल बताया जा रहा है। वह नेपाल का निवासी है। हालांकि, नेपाल में किस जिले में रहता है, इसकी जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है। पुलिस सूत्रों की मानें तो नवंबर माह में मुंबई के चेंबूर इलाके में चोरी हुई थी। उस घटना में इस आरोपी का हाथ था।
मुंबई पुलिस की लोकेशन पर है संदीप को पकड़ा जाना बताया जा रहा है। पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि इसकी सूचना मुंबई पुलिस को दे दी गई है। मुंबई पुलिस वहां से रवाना हो चुकी है। कुछ ही घंटों में वह सीतापुर आ जाएगी। इधर, आरोपी से पूछताछ जारी है।
इसके बाद पूरे मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। पकड़ा गया आरोपी टूरिस्ट बस में सवार होकर नेपाल भागने की कोशिश में था। बस बहराइच जा रही थी। बस की तलाशी और चेकिंग के दौरान आरोपी पकड़ा गया है।

दिल्ली की हवा में फैला जहर, लोगों ने पहाड़ों की तरफ रुख किया

0

राजधानी दिल्ली में आज भी हवा की गुणवत्ता बहुत खराब है। दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 386 है। हालांकि यह कल के मुकाबले कुछ कम है। कल दिल्ली में AQI यानी हवा की गुणवत्ता 476 थी। यानी आज हवा में कुछ सुधार हुआ है, लेकिन यह लोगों को राहत देने के लिए काफी नहीं है। कल सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण को लेकर केंद्र सरकार को फटकार लगाई थी और प्रदूषण को काबू करने के लिए इमरजेंसी प्लान बताने को कहा था। इसके बाद शाम को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आंशिक लॉकडाउन लगा दिया।


देश के कई हिस्सों में खराब हवा के चलते बड़ी संख्या में लोग पहाड़ों की तरफ जा रहे हैं। शिमला के होटल चालक ने बताया कि फिलहाल यहां हर रोज 70-80% तक होटल फुल हैं। दिवाली के बाद से ही बुकिंग में इजाफा हुआ है। हिमाचल का AQI पड़ोसी राज्यों से कहीं बेहतर है। ऐसे में अच्छी हवा के लिए पर्यटक यहां आ रहे हैं।
दिल्ली सरकार ने एक सप्ताह के लिए सभी स्कूल बंद कर दिए हैं, जबकि सभी सरकारी कर्मचारियों को भी वर्क फ्रॉम होम के लिए कहा गया है। नेशनल कैपिटल में आंशिक लॉकडाउन जैसे यह फैसले पॉल्यूशन के मसले पर की गई इमरजेंसी मीटिंग में किए गए। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इन फैसलों की घोषणा की और चेतावनी दी कि हम संपूर्ण लॉकडाउन के तौर तरीकों पर भी विचार कर रहे हैं। प्राइवेट गाड़ियों को बंद करने का भी सोच रहे हैं। सभी कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी रोक दी गई हैं।
दिल्ली की दिन-पर-दिन जहरीली होती हवा को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को लताड़ा है। जस्टिस एनवी रमना दिल्ली में वायु प्रदूषण के मुद्दे पर एक याचिका पर सुनवाई कर रहे थे। उन्होंने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आप देख रहे हैं कि हालात कितने गंभीर हैं। हम अपने घरों में भी मास्क लगाकर घूम रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में स्कूलों के खोले जाने पर भी सवाल उठाया है। उन्होंने प्रशासन से तुरंत जरूरी कदम उठाने को कहा है। जैसे- वाहनों को रोकना और दिल्ली में लॉकडाउन लगाना।
चीफ जस्टिस रमना ने सरकार से पूछा- आप क्यों ऐसा जताना चाहते हैं कि सिर्फ पराली जलाने से ही प्रदूषण हो रहा है। उससे सिर्फ कुछ प्रतिशत ही प्रदूषण फैल रहा है, बाकी का क्या? आप दिल्ली का बाकी प्रदूषण रोकने के लिए क्या कर रहे हैं? आपको इमरजेंसी प्लान लाना चाहिए। आप बताइए कि क्या इमरजेंसी उपाय करने के लिए आपकी क्या योजना है? दो दिन का लॉकडाउन? AQI कम करने के लिए यह आपका प्लान है? हमें सिर्फ दो तीन दिन का प्लान नहीं, बल्कि सही प्लान बताइए।

सीतापुर- पुलिस मुठभेड़ में बदमाश गिरफ्तार, छात्र की हत्या में रहा शामिल

0

लूट, हत्या और अपहरण समेत करीब डेढ़ दर्जन विभिन्न धाराओं में फरार चल रहे 25 हजार के इनमिया बदमाश को पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। गोली लगने से बदमाश घायल हो गया।
बदमाश ने पुलिस पार्टी पर भी फायरिंग की लेकिन पुलिस टीम बाल-बाल बच गई। एएसपी साउथ एनपी सिंह ने बताया कि पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तार हुआ बदमाश रामपुर कलां इलाके मझिया निवासी राजेश है।
मुखबिर की सूचना पर स्वाट टीम प्रभारी सतेंद्र विक्रम सिंह, कोतवाल मुकुल प्रकाश वर्मा भारी पुलिस के साथ इचौली मोड़ पहुंचे थे। पुलिस को आता देख बदमाश राजेश ने पुलिस टीम पर फायर झोंक दी जिसमें स्वाट टीम के प्रभारी सतेंद्र विक्रम सिंह बाल बाल बचे। इस दौरान पुलिस की गोली से बदमाश घायल हो गया। बदमाश को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र महमूदाबाद में भर्ती कराया गया।
चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद घायल बदमाश को जिला अस्पताल भेजा गया। बदमाश के पास से एक अवैध तमंचा, 4 जिंदा कारतूस, दो मोबाइल फोन बरामद हुए है। एसपी साउथ एनपी सिंह ने बताया कि पकड़ा गया बदमाश 2018 में लखनऊ में पॉलिटेक्निक की छात्रा संस्कृति राय की हत्या में भी शामिल था। पुलिस टीम को बड़ी कामयाबी मिली है। बदमाश का अपराधिक इतिहास को खंगाला जा रहा है। मामले में कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी।

कोरोना से लगातार दूसरे दिन 500 से ज्यादा की मौत, 24 घंटे में 11850 नये मामले

0

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के 11,850 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 3,44,26,036 हो गई. वहीं उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,36,308 हो गई है जो पिछले 274 दिनों में सबसे कम है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार को अद्यतन किए गए आंकड़ों में यह जानकारियां सामने आईं. सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक देश में इस अवधि में 555 मरीजों की मौत होने से महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 4,63,245 हो गई है.

कोरोना वायरस संक्रमण के नये मामलों में दैनिक वृद्धि लगातार 36 दिनों से 20,000 से नीचे है और यह 139 दिनों से 50,000 से कम बनी हुई है. बीमारी से स्वस्थ होने वालों की संख्या बढ़कर 3,38,26,483 हो गई है जबकि मृत्यु दर 1.35 प्रतिशत है. देश में राष्ट्रव्यापी कोविड-19 टीकाकरण अभियान के तहत कुल 111.40 करोड़ टीके दिए जा चुके हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 1,36,308 हो गई है जो कुल संक्रमण का 0.40 प्रतिशत है. यह मार्च 2020 के बाद से सबसे कम है. कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.26 प्रतिशत दर्ज की गई है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे ज्यादा है. पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 1,108 की कमी दर्ज की गई. दैनिक संक्रमण दर 0.94 प्रतिशत है. यह पिछले 40 दिनों से दो प्रतिशत से नीचे है. साप्ताहिक संक्रमण दर भी 1.05 प्रतिशत दर्ज की गई जो पिछले 50 दिनों से दो प्रतिशत से कम है.

केरल में शुक्रवार को कोविड-19 के 6,674 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 50,48,756 हो गई है जबकि 59 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की तादाद बढ़कर 35,511 हो गयी. कर्नाटक में शुक्रवार को कोविड-19 के 227 नए मामले सामने आने के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29,91,369 हो गयी, जबकि दो और रोगियों की मौत होने से मृतकों की तादाद 38,140 पर पहुंच गयी.

तमिलनाडु में शुक्रवार को कोविड-19 के 812 नए मामले सामने आने के साथ राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 27,13,216 हो गयी, जबकि आठ और मरीजों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 36,259 हो गयी. यह जानकारी राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने दी. संक्रमण के नए मामलों में से चेन्नई में 114 और कोयम्बटूर में 108 मामले सामने आए.
दिल्ली में तीन हफ्तों के अंतराल के बाद शुक्रवार को कोविड-19 से दो मरीजों की मौत हुई और 62 नए मामले आए. साथ ही संक्रमण दर बढ़कर 0.12 प्रतिशत हो गयी है. शहर के स्वास्थ्य विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 25,093 हो गयी है. इससे पहले राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 से मौत का मामला 22 अक्टूबर को सामने आया था. शहर में अक्टूबर में महामारी से चार मरीजों और सितंबर में पांच मरीजों की मौत हुई.

मणिपुर में सेना की टुकड़ी पर हमला, अफसर की पत्नी-बच्चे समेत 7 जवान शहीद

0

मणिपुर में उग्रवादियों ने कायराना हरकत में चुराचांदपुर जिले के सिंघत उप-मंडल में असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर, उनके परिवार के सदस्यों और राइफल्स के अन्य जवानों को मार डाला। हमले में कर्नल विप्लव त्रिपाठी की पत्नी और बेटा भी मारे गए हैं। हमला सुबह 10 बजे हुआ है। हमले के पीछे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का हाथ बताया जा रहा है। इस हमले की पुष्टि मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने की है। उन्होंने घटना पर शोक व्यक्त किया है।


सूचना के अनुसार, 46 बजे सूचना के बाद ठीक होगा। स्वस्थ करने के लिए, रूप से काम करने का काम करें। बताया जा रहा है पहले से घात लगाकर उग्रवादियों ने कर्नल विप्लव त्रिपाठी , उनकी पत्नी और बेटे समेत 7 जवानों को मार डाला।


इस कायराना हमले की मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने निंदा की है। सीएम सिंह ने सोशल मीडिया पर ट्वीट के जरिए अपनी बात रखी। उन्होंने लिखा, “मैं 46 एआर के काफिले पर कायरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा करता हूं। इस हमले में आज सीओ और उनके परिवार सहित कुछ कर्मियों की मौत हो गई है।

राज्य बल और अर्धसैनिक उग्रवादियों को पकड़ने के लिए कार्रवाई कर रहे हैं। अपराधी बख्शे नहीं जाएंगे।”
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट करके घटना पर दुख जाहिर किया। उन्होंने लिखा, “मणिपुर के चुराचांदपुर में असम राइफल्स के वीर जवानों पर कायराना हमला हुआ है। घटना को लेकर मैं बेहद दुखी हूं और घटना पर शोक व्यक्त करता हूं। देश ने पांच वीर जवानों समेत सीओ और उनके परिवार के दो लोगों को खो दिया। “

UP Election 2022: चुनाव से पहले प्रियंका का एक और बड़ा दांव, आंगनबाड़ी वर्कर्स के लिए बड़ी घोषणा

0
UP Election 2022: चुनाव से पहले प्रियंका का एक और बड़ा दांव, आंगनबाड़ी वर्कर्स के लिए बड़ी घोषणा

यूपी(UP) में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की वजह से सभी पार्टियों ने अपने खज़ाने के पिटारे खोलने शुरू कर दिए हैं। ऐसे में कांग्रेस की महासचिव और उत्तर प्रदेश कांग्रेस की प्रभारी प्रियंका गांधी आए दिन अपने पिटारे से नया दाव फेकती हैं। यूपी चुनाव में महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट देने का ऐलान कर चुकीं प्रियंका गांधी ने एक और बड़ा दांव चला है और आशा व आंगनबाड़ी वर्कर्स के लिए बड़ी घोषणा की है।

प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया और दावा किया कि शाहजहांपुर में अपनी मांग को लेकर सीएम से मिलने जा रही आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पीटा। वीडियो शेयर करते हुए प्रियंका गांधी ने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आशा बहनों पर किया गया एक-एक वार उनके द्वारा किए गए कार्यों का अपमान है। मेरी आशा बहनों ने कोरोना में और अन्य मौकों पर पूरी लगन से अपनी सेवाएं दीं। मानदेय उनका हक है। उनकी बात सुनना सरकार का कर्तव्य। आशा बहनें सम्मान की हकदार हैं और मैं इस लड़ाई में उनके साथ हूं।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘कांग्रेस पार्टी आशा बहनों के मानदेय के हक और उनके सम्मान के प्रति प्रतिबद्ध है और सरकार बनने पर आशा बहनों एवं आंगनबाड़ी कर्मियों को 10,000 रु प्रतिमाह का मानदेय देगी।’

इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बताया था कि कांग्रेस ने महिलाओं के लिए एक अलग घोषणा पत्र तैयार किया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा था, ‘उत्तर प्रदेश की मेरी प्रिय बहनों, आपका हर दिन संघर्षों से भरा है। कांग्रेस पार्टी ने उसको समझते हुए आपके लिए अलग से एक महिला घोषणा पत्र तैयार किया है। कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने पर सालाना भरे हुए 3 सिलेंडर मुफ्त दिए जाएंगे। प्रदेश की सरकारी बसों में महिलाओं के लिए यात्रा मुफ्त होगी।’

Priyanka Gandhi की हवाई अड्डे पर बैठकों ने यूपी चुनावों को भरपूर मसाला दे  दिया है! - How Priyanka Gandhi and her airport meetings spice up UP polls

प्रियंका गांधी ने कहा था कि आशा और आंगनबाड़ी की मेरी बहनों को प्रतिमाह 10 हजार रुपये का मानदेय मिलेगा। नए सरकारी पदों पर आरक्षण के प्रावधानों के अनुसार 40 प्रतिशत पदों पर महिलाओं की नियुक्ति की जाएगी। वृद्धा-विधवा पेंशन 1000 रुपये प्रति माह दिया जाएगा। उत्तर प्रदेश की धरती की वीरांगनाओं के नाम पर प्रदेशभर में 75 दक्षता विद्यालय खोले जाएंगे। इसके साथ ही प्रियंका गांधी ने बताया कि कांग्रेस पार्टी 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देगी। छात्राओं को स्मार्ट फोन और स्कूटी देगी।

आपको बता दें, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने 2017 के चुनाव को साथ मिलकर लड़ा था। समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस से समझौता कर 311 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जबकि सहयोगी कांग्रेस ने 114 सीटों पर किस्मत आजमाया था। चुनाव में सपा को केवल 47 सीटें ही मिलीं और उसको 21.82 फीसदी वोट मिले थे। वहीं कांग्रेस केवल 7 सीटें ही जीत पाई थी और उसे 6.25 फीसद वोट मिले थे। साल 2017 में बीजेपी ने 384 सीटों पर चुनाव लड़ा था और उसे 39.67 फीसदी वोट मिले थे। बीजेपी ने 312 सीटों पर जीत दर्ज कर प्रचंड बहुमत हासिल किया था। वहीं बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने 403 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन उसे केवल 19 सीटें और 22.23 फीसदी वोट मिले थे।

Rajasthan : बाड़मेर-जोधपुर हाईवे पर हुआ दर्दनाक हादसा ,बस ओर टैंकर मे हुई टक्कर ,11 लोग जिंदा जले

0
Rajasthan : बाड़मेर-जोधपुर हाईवे पर हुआ दर्दनाक हादसा ,बस ओर टैंकर मे हुई टक्कर ,11 लोग जिंदा जले


राजस्थान(Rajasthan) के बाड़मेर से एक बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है । बाड़मेर-जोधपुर हाईवे पर बुधवार को एक प्राइवेट बस और टैंकर की जबरदस्त टक्कर हो गई। टक्कर लगते ही टैंकर और बस में आग लग गई, इस हादसे मे 11 लोगों के जिंदा जलने की खबर सामने आई है । बताया जा रहा है कि हादसे में कई लोग घायल भी हैं, जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसपी दीपक भार्गव ने बताया कि हादसे में आठ लोगों की मौत हुई है। उसी समय से घटनास्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

रॉन्ग साइड से आ रहे टैंकर ने मारी टक्कर

बस में सवार एक यात्री ने बताया कि बस 9:55 पर बालोतरा से रवाना हुई थी। इसी दौरान सामने से रॉन्ग साइड में आ रहे टैंकर ने बस को टक्कर मार दी। जिसके बाद बस में अचानक आग लग गई आग इतनी भयंकर थी कि चंद मिनटों में बस जलकर खाक हो गई। 22 लोगों का इलाज जारी है।

My Bharat News - Article image 5

बस में सवार थे 25 लोग

आपको बात दे की जिस समय यह हादसा हुआ, उस समय बस में 25 लोग सवार थे। टक्कर होते ही बस में आग लग गई। इससे लोग उसी में फंस गए, कुछ लोग खिड़की तोड़कर बाहर निकल आए। हादसे की सूचना पाते ही पुलिस मौके पर पहुंची और 10 लोगों को बाहर निकाला। जानकारी के अनुसार , हादसे के कारण हाईवे पर लंबा जाम लग गया है, जिसको देखते हुए भारी पुलिसबल तैनात किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख व्यक्त किया। साथ ही मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. घायलों को 50-50 हजार की आर्थिक मदद दी जाएगी।

BiggBoss 15: बिगबॉस के घर में राकेश बापट की बिगड़ी तबियत, हुए अस्पताल में भर्ती

0
BiggBoss 15: बिगबॉस के घर में राकेश बापट की बिगड़ी तबियत, हुए अस्पताल में भर्ती

बिग बॉस ओटीटी के कंटेस्टेंट राकेश बापट को BiggBoss 15 के घर में बतौर वाइल्ड कार्ड आये अभी कुछ ही दिन हुए थे कि उनकी अचानक तबियत ख़राब होने के कारण उनको अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा। राकेश को किडनी में स्टोन है, जिसकी वजह से बिग बॉस के घर में उनकी तबियत ख़राब हो गयी थी। तबीयत खराब होता देख बिग बॉस के घर में मौजूद डॉक्टरों ने राकेश को शो से बाहर होकर अस्पताल में एडमिट होने की सलाह दी। जिसके बाद उन्हें तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनका इलाज जारी है।

आपको बता दें, राकेश ने हाल में ही बिग बॉस में वाइल्ड कार्ड एंट्री की थी, उनकी एंट्री से सबसे ज्यादा खुश उनकी कथिक गर्लफ्रेंड शमिता शेट्टी थीं। दोनों को शो के अंदर डेट पर भेजा गया था। जहां विशाल कोटियन और जय भानुशाली ने खासतौर पर चायनीज खाना बनाया था। दोनों ने डेट पर खूब एंजॉय किया। वहीं शमिता के लिए राकेश सबसे बड़ा सपोर्ट थे। लेकिन उनके शो के बाहर जाने से शमिता बेहद उदास हैं।

शमिता शेट्टी और राकेश बापट की मुलाकात सबसे पहले बिग बॉस ओटीटी के प्लेटफॉर्म पर हुई थी। दोनों के बीच सबसे पहले दोस्ती देखी गई, फिर दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे। इस बीच शमिता शेट्टी और राकेश बापट को झगड़ते हुए भी देखा गया था। लेकिन शो के आखिरी दिनों में वह एक दूसरे के फिर से करीब आ गए थे। इतना ही नहीं शो के खत्म होने के बाद शमिता शेट्टी और राकेश बापट एक दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करते भी नजर आए थे। अब फैंस उम्मीद कर रहे हैं कि राकेश जल्द से जल्द ठीक होकर घर में वापसी कर लें।

Chhath Puja 2021: पूरे देश में छठ महापर्व की धूम, प्रधानमंत्री समेत कई नेताओं ने दी शुभकामनाएं

0
Chhath Puja 2021: पूरे देश में छठ महापर्व की धूम, प्रधानमंत्री समेत कई नेताओं ने दी शुभकामनाएं

आस्था के महापर्व छठ पूजा(Chhath Puja) का 10 नवंबर को छठी मैया की पूजा आराधना को सूर्य को अर्घ्य देकर करी जाएगी। चार दिनों तक चलने वाले इस महापर्व को मुख्य रूप से उत्तर भारत के राज्यों में मनाया जाता है। इसे खासतौर पर बिहार, झारखंड और पूर्वी भारत में बहुत ही उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। 

अब इस पर्व की महत्ता केवल भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि विदेशों में भी इस महापर्व को बड़े धूमधाम ने मनाया जाता है। चार दिनों तक चलने वाले छठ पूजा में सूर्यदेव और छठी मैया की पूजा होती है। छठ के पर्व में उगते हुए और डूबते हुए सूर्य दोनों को अर्घ्य दिया जाता है। आज सभी लोग एक दूसरे को छठ महापर्व की शुभकामनाएं दे रहे हैं। 

इस क्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर देशवासियों को छठ महापर्व की शुभकामनाएं दी है। उन्होंने लिखा, ‘छठ पूजा के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएं। यह पर्व प्रकृति, विशेषकर सूर्य व जल पर हमारी निर्भरता को स्वीकारने का भी अवसर है। मेरी कामना है कि यह त्योहार हमारी सांस्कृतिक विरासत को सबल बनाने के साथ-साथ पर्यावरण-संरक्षण के हमारे प्रयासों को भी सुदृढ़ बनाए।’

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायुडू ने ट्वीट कर कहा, ‘छठ के पावन अवसर पर श्रद्धालु देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं। हमारे पर्वों में प्रकृति की छवि दिखती है। यह नदियों की पवित्रता का पर्व है, सूर्य की दिव्यता का पर्व है, अर्घ्य में समर्पित खाद्यान्न की सात्विकता का पर्व है। प्रकृति में हमारी आस्था का पर्व है।’

गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, ‘समस्त देशवासियों को सूर्य आराधना के महापर्व ‘छठ पूजा’ की हार्दिक शुभकामनाएं। सूर्यदेव सभी के जीवन में सुख-समृद्धि, उत्तम स्वास्थ्य और नई ऊर्जा का संचार करें। जय छठी मैया!’

राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा, ‘सभी देशवासियों को छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं! आज अस्ताचलगामी सूर्य को प्रथम अर्घ्य दिया जाएगा। डूबते सूर्य की पूजा करने वाला छठ विश्व का एकमात्र त्योहार है। एक प्राणी की शक्ति भले क्षीण हो जाए पर उसके ऋण, जीवनकाल में उसके द्वारा दिए गए योगदान को भुलाया नहीं जाना चाहिए।’

NASA Mission Moon: लैन्डिंग यान के निर्माण में हो रही देरी, अब 2025 मे चाँद की सतह पर उतरेगा आर्टेमिस-3

0
NASA Mission Moon: लैन्डिंग यान के निर्माण में हो रही देरी, अब 2025 मे चाँद की सतह पर उतरेगा आर्टेमिस-3

NASA ने चांद की सतह पर इंसानों को फिर से भेजने के अपने मिशन मून(Mission Moon) को एक साल और बढ़ा दिया है।इससे पहले बताया जा रहा था की 2024 तक चांद पर अंतरिक्ष यात्रियों को भेजने का लक्ष्य निर्धारित किया जा रहा है लेकिन अब इस मिशन को एक ओर साल बढ़ाने का फैसला लिया जा रहा है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का यह बहुत महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट था, लेकिन मंगलवार को नासा प्रमुख ने जानकारी देते हुए बताया कि अब 2025 तक अंतरिक्ष यात्रियों को चांद की सतह पर भेजने की तैयार की जा रही है।

लैंडिंग यान के निर्माण में क्यों हो रही देरी

आपको बात दे की आर्टेमिस नाम के इस मिशन के तहत लैंडिंग यान के निर्माण में देरी हो रही है। नासा के बिल नेल्सन ने बताया कि आर्टेमिस यान के निर्माण के लिए स्पेसएक्स से संबंध पर कानूनी कारणों से देरी हो रही है, इसी कारण से इस मिशन को एक साल के लिए अब बढ़ा दिया गया है।

चांद की सतह पर उतरेगा आर्टेमिस-3

NASA प्रमुख ने कहा कि आर्टेमिस-3 के निर्माण के लिए स्पेसएक्स के साथ कानूनी तकरार के कारण देरी हो रही है। मुकदमेबाजी में सात महीन से ज्यादा का समय बीत चुका है। इसलिए इस मिशन के 2025 से पहले शुरू होने की कोई संभावना नहीं है। बताया जा रहा है की आर्टेमिस-3 अपोलो-11 की तरह चांद की सतह पर उतरेगा ओर वहा रुकेगा भी ।

UP: कोतवाली के बाथरूम में युवक ने दी जान, पिता ने पुलिस वालों पर लगाया आरोप, 5 पुलिसकर्मी निलंबित

0
UP: कोतवाली के बाथरूम में युवक ने दी जान, पिता ने पुलिस वालों पर लगाया आरोप, 5 पुलिसकर्मी निलंबित

उत्तर प्रदेश(UP) के कासगंज जनपद की सदर कोतवाली की हवालात में बंद एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत का मामला सामने आया है। युवक की मौत पर पिता ने पुलिस वालों पर उसकी हत्या का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस अधीक्षक ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई करते हुए इंस्पेक्टर सहित पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया है।

दरअसल, अलताफ (22) पुत्र चांद मियां निवासी नगला सैय्यद टायल मिस्त्री का काम करता था। किसी परिवार में वह टायल लगा रहा था। उसी परिवार की लड़की लापता हो गई। लड़की के परिजनों ने युवक पर लड़की भगा ले जाने की शिकायत पुलिस से की। इस शिकायत पर पुलिस सोमवार की रात्रि करीब आठ बजे युवक को हिरासत में लेकर थाने ले आई। तभी से आरोपी युवक पुलिस की हिरासत में था।

मंगलवार अपराह्न के समय अलताफ ने पेशाब जाने के लिए कहा तो वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे हवालात के शौचालय में भेज दिया। आरोप है कि यहां युवक ने अपनी जैकेट की टोपी में लगी डोरी को पाइप में बांधकर गले में फांसी लगा ली। कुछ देर तक युवक जब बाहर नहीं निकला तो पुलिसकर्मियों ने अंदर जाकर उसे आवाज लगाई, लेकिन आवाज नहीं आई। शौचालय में देखा तो वह फंदे पर लटका हुआ था और उसकी सांसें चल रहीं थीं। पुलिस युवक को जिला अस्पताल ले गई। यहां उपचार के दौरान युवक की मौत हो गई। 

My Bharat News - Article WhatsApp Image 2021 11 10 at 1.10.44 PM

इस मामले में कासगंज पुलिस अधीक्षक रोहन प्रमोद बोत्रे का कहना है कि आरोपी युवक नाबालिग लड़की को भगाने के आरोप में नामजद था। पुलिस आरोपी को पूछताछ के लिए लाई थी। जैकेट की डोरी से युवक ने शौचालय में फांसी लगाई है। पूरे मामले की जांच पड़ताल की जा रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

बता दे युवक की मौत की सूचना परिवार के लोगों को दी गई। युवक की मौत की सूचना से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। परिवार के लोगों में पुलिस के खिलाफ काफी आक्रोश देखा गया। युवक के पिता ने मीडिया के सामने अपने बेटे को खुद पुलिस को सौंपने की बात कही जिसके बाद युवक की मौत पर पिता ने पुलिस कर्मियों को बेटे की मौत का जिम्मेदार बताया।

Zika Virus को लेकर एक्शन में आई योगी सरकार, आज जाएंगे कानपुर

0
Zika Virus को लेकर एक्शन में आई योगी सरकार, आज जाएंगे कानपुर

भारत देश में अभी कोरोना का कहर कम भी नहीं हुआ है, तो वहीं उत्तर प्रदेश में एक नया वायरस दस्तक देता नज़र आ रहा है। यूपी के कानपुर राज्य में जीका वायरस(Zika Virus) नाम का वायरस तेज़ी से बढ़ रहा है। सिर्फ कानपूर में ही नहीं बल्कि लखनऊ शहर में भी ज़ीका वायरस के 16 मामले सामने आये हैं। कानपूर शहर की बात करें तो ज़ीका के कुल 100 केस सामने आये हैं और अब कुल संक्रमितों की संख्या 105 हो गए है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में जीका वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक्शन में आ गए हैं। सीएम योगी 10 नवंबर को कानपुर जाएंगे और जीका वायरस के मामलों की समीक्षा करेंगे। इसके साथ ही सीएम योगी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना भी मौजूद रहेंगे। जीका वायरस के बढ़ते मामलों पर मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग से रिपोर्ट मांगी है।

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा, ‘जब से जीका वायरस डिटेक्ट हुआ है, उससे संबंधित कॉन्टेक्ट रेसिंग एयरफोर्स स्टेशन के अंदर बाहर 6 किलोमीटर की परिधि में कानपुर नगर में बनाए गए स्पॉट में 106 मामले सामने आए हैं। जिसमें से कानपुर में 105 केस हैं और एक कन्नौज में है। प्रदेश भर में जीका आने से पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया था।’

My Bharat News - Article image 2

उन्होंने आगे कहा, ‘हमारी टीम ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर दस्तक दे रही है और बुखार पीड़ितों को देख रही है। स्थिति को देखते हुए आगे के ट्रीटमेंट के लिए बोला जा रहा है। इसी तरह सभी जनपद में ये शुरू किया गया है। मुख्यमंत्री जी कानपुर में स्वास्थ्य विभाग के साथ सुबह 10 बजे समीक्षा बैठक करेंगे।’

आपको बता दे, सीएम योगी आदित्यनाथ वृन्दावन में यमुना किनारे देवरहा बाबा घाट के सामने स्थित वैष्णव कुम्भ बैठक मैदान में आयोजित होने वाले दस दिवसीय ‘ब्रजरज उत्सव’ का उद्घाटन करेंगे।

जिला प्रशासन की ओर से जारी हुए योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम के अनुसार वे हेलीकॉप्टर से वृन्दावन में पवनहंस हेलिपैड पर दोपहर 1.20 बजे पहुंचेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री आदित्यनाथ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर भी मथुरा आए थे। उन्होंने उस समय श्रीकृष्ण जन्मस्थान से ढाई किलोमीटर के दायरे में आने वाले मथुरा नगर निगम के क्षेत्र को तीर्थस्थल घोषित करके मांस और मदिरा की बिक्री पर रोक लगाने की क्षेत्रीय जनता की मांग पूरी करने की घोषणा की थी।

UP के 9 रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की मिली धमकी, पत्र में लिखा-जिहादियों की मौत का बदला जरूर लूंगा

0
UP के 9 रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की मिली धमकी, पत्र में लिखा-जिहादियों की मौत का बदला जरूर लूंगा

उत्तर प्रदेश(UP) के मेरठ में मंगलवार को दोपहर 3:30 बजे सिटी रेलवे स्टेशन पर डाक से धमकी भरा एक पत्र पहुंचा। पत्र में कई जिलों सहित धार्मिक स्थलों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई हैं। जिसको लेकर रेलवे स्टेशन पर संघन चेकिंग जारी हैं साथ ही सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

दरअसल, मेरठ सिटी रेलवे स्टेशन पर अधीक्षक नाम से भेजे पत्र में लिखा है मैं अपने जिहादियों की मौत का बदला जरूर लूंगा। खुदा मुझे माफ कर देना, हम हिंदुस्तान को तबाह कर देंगे। 26 नवंबर को गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, मुजफ्फरनगर, अलीगढ़, खुर्जा, कानपुर, लखनऊ, शाहजहापुर सहित कई रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ा देंगे।

छह दिसंबर को अयोध्या के हनुमानगढ़ी, रामजन्मभूमि, इलाहाबाद, गाजियाबाद, मेरठ, मुजफ्फरनगर और सहारनपुर समेत यूपी के कई मंदिरों को बम से उड़ा देंगे।  

इस पत्र को पढ़ने के बाद स्टेशन अधीक्षक आरपी सिंह ने जीआरपी थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। इसके बाद जीआरपी और आरपीएफ ने बम डिस्पोजल की टीम को लेकर रेलवे स्टेशन पर संघन चेकिंग अभियान चलाया। 

बताया है कि मंगलवार दोपहर में डीआरएम डिमी गर्ग ने रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया था। जीआरपी प्रभारी विजय कांत सत्यार्थी ने बताया कि संवेदनशील मामले को देखते शाम को सभी ट्रेनों में चेकिंग कराई गई है। वहीं, प्लेटफार्म पर मेटल डिटेक्टर की मदद से यात्रियों के सामान की चेकिंग की गई है।

बता दे, इससे पहले भी तीन धमकी भरी चिट्ठी रेलवे स्टेशन पर आई है। 

UP: भगवान श्री राम को लेकर दिए बयान पर निषाद पार्टी के अध्यक्ष ने मांगी माफी, साधा अखिलेश पर निशाना

0
UP: भगवान श्री राम को लेकर दिए बयान पर निषाद पार्टी के अध्यक्ष ने मांगी माफी, साधा अखिलेश पर निशाना

UP विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भले ही BJP ने निषाद पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया हो लेकिन निषाद पार्टी के अध्यक्ष और एमएलसी संजय निषाद आए दिन कोई न कोई ऐसा बयान दे देते हैं जिससे बीजेपी पशोपेश में पड़ जाती है। ऐसे ही प्रयागराज के सर्किट हाउस में मीडिया से बात करते हुए संजय निषाद ने मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम को लेकर एक विवादित बयान दिया।

जिसको लेकर यूपी के फ़तेहपुर पहुंचे निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय निषाद ने प्रभु श्रीराम के बारे में दिए गए अपने विवादित बयान पर माफी मांगते हुए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि जो अपने घर-परिवार और चाचा को नहीं संभाल पाया वो प्रदेश क्या संभालेगा। इसके साथ ही अखिलेश यादव के हरदोई में जिन्ना वाले बयान पर पलटवार करते हुए संजय निषाद ने कहा कि जिस जिन्ना ने देश का बंटवारा किया,हजारों लाखों लोगों के कत्ले आम का जिम्मेदार हो उसको वो नायक बताते हैं अखिलेश यादव को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए।

निषाद पार्टी का सपा से गठबंधन क्यों टूटा

संजय निषाद ने कहा, भगवान राम और निषादराज दोनो ही हमारे लिए पूज्यनीय है। प्रभु राम का मंदिर बनाने के लिए हमारे समाज ने बहुत मेहनत की है। निषाद पार्टी का बीजेपी के साथ गठबंधन होने से विपक्ष परेशान है, बयान को विपक्ष तोड़ मरोड़कर पेश कर रहा है।

आपको बता दे हाल ही में संजय निषाद ने कहा की भगवान श्री राम और निषाद राज का जन्म मखौड़ा घाट पर हुआ, पुत्रयेष्ठ कामी यज्ञ में नियोग विधि से खीर खिलाने के बहाने हुआ, संजय निषाद ने कहा खीर खाने से कोई बच्चा नहीं होता। संजय निषाद ने भगवान श्री राम को राजा दशरथ का तथाकथित पुत्र बताया। संजय निषाद ने बताया कि श्रीराम राजा दशरथ के नहीं बल्कि श्रृंगऋषि निषाद के पुत्र हैं।

भगवान श्री राम को लेकर संजय निषाद ने कहा की उनके माता-पिता उन्हे नहीं समझ सके। यहां तक की अयोध्या वासी भी भगवान श्री राम को नहीं समझ पाए, लेकिन निषाद राज पहले ऐसी शक्ति थे। जिन्होंने भगवान श्री राम को पहचाना, ये बात उन्हे इजरायल के एक लायब्रेरी में पता चली। उन्होंने कहा की भगवान श्री राम की पहचान राजा निषाद को थी, इसलिए वे भगवान के समान है। राजा निषाद और भगवान श्री राम की गले मिलते हुई भव्य प्रतिमा लगाई जाए।

Kanpur: महिला मित्र के साथ रंगेहाथ होटल में मिला इंस्पेक्टर पति, पत्नी ने की जमकर पिटाई, किया निलंबित

0
Kanpur: महिला मित्र के साथ रंगेहाथ होटल में मिला इंस्पेक्टर पति, पत्नी ने की जमकर पिटाई, किया निलंबित

कानपुर(Kanpur) के ग्वालटोली में तैनात अतिरिक्त एसएचओ अरुण कुमार को आशिक मिजाजी भारी पड़ गई। दरअसल रविवार रात एक होटल में उनकी कथित पत्नी ने उनको महिला मित्र के साथ रंगेहाथ पकड़ लिया। फिर दोनों को जमकर पीटा।

दरअसल, रविवार रात ग्वालटोली क्षेत्र के एक होटल में ठहरे थे। उनके साथ हरदोई निवासी उनकी महिला मित्र भी थी। इस बात की जानकारी सरकारी आवास पर रहने वाली कथित पत्नी को हुई। देर रात वह होटल पहुंची और अरुण कुमार को रंगे हाथ पकड़ लिया। फिर होटल से लेकर सड़क तक बवाल मचा दिया।

पुलिस आयुक्त ने एसीपी को मामले की जांच सौंपी है।

सोमवार को पुलिस कमिश्नर ने इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया। इस मामले की जांच को लेकर एसीपी कर्नलगंज त्रिपुरारी पांडेय ने बताया कि इंस्पेक्टर के खिलाफ विभागीय जांच उनको दी गई है। पुलिस अफसरों ने बताया कि इंस्पेक्टर के खिलाफ इस तरह की कई शिकायतों की बात सामने आई है। सभी शिकायतों को जांच में शामिल किया जाएगा।

बता दे इंस्पेक्टर अरुण कुमार ग्वालटोली थाने में अतिरिक्त इंस्पेक्टर पद पर थे। इंस्पेक्टर अरुण के खिलाफ करीब पांच साल पहले एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगा केस दर्ज कराया था। बाद में समझौता हो गया था। उसी महिला के साथ वे अपने सरकारी आवास में रहते हैं। दावा करते हैं उससे शादी की है। अरुण मूलरूप से फिरोजाबाद के सिरसागंज के रहने वाले हैं।

Chandra Grahan 2021: इस दिन लग रहा है साल का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण, जाने कैसा होगा इसका प्रभाव

0
Chandra Grahan 2021: इस दिन लग रहा है साल का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण, जाने कैसा होगा इसका प्रभाव

साल 2021 बस कुछ दिनों में खत्म होने वाला है। लेकिन उससे पहले साल का आखिरी चंद्र ग्रहण(Chandra Grahan) कब लगेगा यह जानना भी ज़रूरी है। इससे पहले एक चंद्र ग्रहण मई के महीने में लग चुका है। वहीं अब साल का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को लगने जा रहा है। यह ग्रहण कार्तिक पूर्णिमा को लग रहा है। कार्तिक पूर्णिमा को धर्म और ज्‍योतिष में बेहद अहम माना गया है। ऐसे में यह ग्रहण सभी लोगों पर अहम असर डाल सकता है। हालांकि यह आंशिक चंद्र ग्रहण होने के कारण भारत के ज्‍यादातर हिस्‍सों में नहीं दिखेगा। यह केवल असम और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्‍सों में ही दिखेगा।

यह चंद्र ग्रहण आंशिक होगा इसलिए इसका सूतक काल मान्‍य नहीं होगा। वहीं कार्तिक पूर्णिमा होने से इस दिन लोग गंगा स्नान कर सकेंगें, दीपदान-अन्‍न दान आदि कर सकेंगें। यह आंशिक ग्रहण होने से वह यह सभी धार्मिक कार्य सामान्‍य तरीके से कर सकेंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 19 नबंवर 2021, शुक्रवार को लगने वाला यह चंद्र ग्रहण भारतीय समय के अनुसार सुबह 11: 30 पर शुरू हेागा और शाम 05:33 बजे खत्‍म होगा।

Chandra grahan 2021 or last lunar eclipse of the year is on 19 november  special yog on kartik purnima pur - Chandra Grahan 2021: 19 नवंबर को होगा  साल का आखिरी चंद्रग्रहण,

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगने जा रहा है। लिहाजा इस राशि के जातकों को ग्रहण के दौरान बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। वह इस दौरान किसी चोट-चपेट का शिकार हो सकते हैं। इसके अलावा उन्‍हें ग्रहण के बाद दान भी करना चाहिए। इस ग्रहण का अशुभ असर कम होता है।

बता दें कि साल 2021 में कुल 4 ग्रहण लगने हैं, जिनमें से 2 सूर्य ग्रहण हैं और 2 चंद्र ग्रहण हैं। इनमें से 1 सूर्य ग्रहण और 1 चंद्र ग्रहण लग चुका है। साल का आखिरी ग्रहण जो कि सूर्य ग्रहण है, वो 4 दिसंबर 2021 को लगेगा।

Drugs Case: नवाब मलिक का पलटवार, बोले अंडरवर्ल्ड से फडणवीस के रिश्ते खोलूंगा, कल सुबह 10 बजे तक करें इंतजार

0
नवाब मलिक का पलटवार, बोले अंडरवर्ल्ड से फडणवीस के रिश्ते खोलूंगा, कल सुबह 10 बजे तक करें इंतजार

महाराष्ट्र में बॉलीवुड के सितारों से शुरू हुई ड्रग्स केस(Drugs Case) की राजनीतिक जंग अब अंडरवर्ल्ड तक जा पहुंची है। इस मामले के चलते कई अहम् खुलासे हो चुके हैं। सोमवार को देवेंद्र फडणवीस की ओर से नवाब मलिक पर अंडरवर्ल्ड से संबंध रखने का आरोप लगाया था। जिस पर नवाब मलिक ने कहा कि मैं कल सुबह 10 बजे देवेंद्र फडणवीस के अंडरवर्ल्ड से रिश्तों का खुलासा करूंगा।

नवाब मलिक ने कहा, ‘मेरे ऊपर अब तक इस तरह के आरोप नहीं लगे हैं। मैं आज तो कुछ नहीं कहूंगा, लेकिन अंडरवर्ल्ड का जो खेल शुरू हुआ है, उस पर मैं कल सुबह 10 बजे बताऊंगा।’

नवाब मलिक ने कहा कि हमने किसी बम धमाके के आरोपी से जमीन नहीं खरीदी है। मैंने सलीम पटेल नाम के शख्स से जमीन खरीदी थी। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मैंने जमीन खरीद ली और उसमें फर्जी किरायेदार रख लिए। लेकिन ऐसा नहीं है। वहां पर सोसायटी है। उसके पीछे जो जमीन है, वहां बड़े पैमाने पर झुग्गी झोपड़ियां हैं। वहां मेरा एक गोदाम है, वह जमीन लीज पर थी। उसी में हमारी 4 दुकानें भी थीं।

मुंबई बम कांड के दोषी से लिंक, दाऊद के परिवार से खरीदी जमीन', नवाब मलिक पर  फडणवीस का आरोप - drugs case devendra fadnavis nawab malik dawood ibrahim  haseena parkarNTC - AajTak

देंवेंद्र फडणवीस जानकारी देने वाले कच्चे खिलाड़ी हैं। 1996 में जब शिवसेना और भाजपा की सरकार थी तो 9 नवंबर के दिन ही मैं उपचुनाव जीता था। उस दौर में जश्न भी वहीं मनाया गया था। वहीं से हमने चुनाव लड़ा था। वहां पर एक सोसायटी थी, जिसने हमें ओनरशिप देने की बात कही थी और पूरी स्टांप ड्यूटी देने के बाद हमने उसे लिया था।

नवाब मलिक ने कहा कि मैंने मदीनतुल अमान की सोसायटी से जमीन ली थी। उसे 20 रुपये फुट में खरीदने के आरोप गलत हैं। नवाब मलिक ने कहा कि हमारे पास उस सोसायटी की जमीन में से महज 8 दुकानें ही हैं। नवाब मलिक ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस ने बम धमाका करने की बात कही थी, लेकिन नहीं कर पाए। अब मैं उनके खिलाफ अंडरवर्ल्ड का हाइड्रोजन बम फेंकूंगा।

यही नहीं नवाब मलिक ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस ने मेरे दामाद के पास से गांजा बरामद होने की बात कही थी। इस मामले में मेरी बेटी उन्हें नोटिस भेजने वाली है, इस पर वह तैयार रहें। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि वह माफी नहीं मांगेंगे और लड़ाई जारी रखेंगे।

Poonam Pandey Assault: पूनम पांडे के पति सैम बॉम्बे पर लगाया मारपीट का आरोप, हुए गिरफ्तार

0
Poonam Pandey Assault: पूनम पांडे के पति सैम बॉम्बे पर लगाया मारपीट का आरोप, हुए गिरफ्तार

राज कुंद्रा पोर्नोग्राफी केस हो या फिर अपने मैरिड लाइफ अभिनेत्री पूनम पांडेय(Poonam Pandey) अकसर सुर्ख़ियों में बनी रहती हैं। पूनम एक बार फिर अपने पति सैम बॉम्बे के साथ लड़ाई – झगड़े के मामले में चर्चा का विषय बनी हुई हैं। एक्ट्रेस ने अपने पति पर मार पीट का आरोप लगाया है, जिसके चलते उन्होंने अपने पति को गिरफ्तार करवा दिया है। ऐसे में मुंबई पुलिस ने सैम को 8 नवंबर को गिरफ्तार किया और अदालत ने उसे तीन दिन की हिरासत में भेज दिया है।

पूनम पांडे की शिकायत के मुताबिक, पूनम की सैम से उनकी पहली पत्नी अलवीरा को लेकर बहस हो गई थी। इस दौरान सैम को गुस्सा आ गया और उन्होंने पूनम के साथ मारपीट करनी शुरू कर दी। इस दौरान पूनम को चेहरे पर चोट आई है। पुलिस के मुताबिक, पूनम अस्पताल में एडमिट हैं। वहीं, अब बांद्रा पुलिस इस मामले की और अधिक जांच कर रही है।

My Bharat News - Article image 4

पूनम पांडे ने अपने बॉयफ्रेंड सैम बॉम्बे संग लिव इन रिलेशनशिप में रहने के बाद गुपचुप शादी रचाई थी। दोनों बीते साल 10 दिसंबर को शादी के बंधन में बंधे थे। इसके बाद दोनों गोवा गए थे लेकिन यहां पर भी पूनम और सैम के बीच खूब झगड़ा देखने को मिला था। अभिनेत्री पूनम पांडे ने गोवा में अपने पति के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। इस घटना ने हर किसी को चौंका कर रखा दिया था क्योंकि महज शादी के 12 दिन बाद दोनों के बीच दरार की खबरें आने लगी थीं।

उस दौरान पूनम पांडे ने अपने पति सैम बॉम्बे के खिलाफ छेड़छाड़, धमकी और मारपीट का आरोप लगाया था। इस दौरान भी पुलिस ने सैम को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, सैम को कुछ समय बाद जमानत मिल गई थी।

UP चुनाव से पहले संजय निषाद ने दिया विवादित बयान, बोले – ‘राजा दशरथ के बेटे नहीं थे राम’

0
UP चुनाव से पहले संजय निषाद ने दिया विवादित बयान, बोले - 'राजा दशरथ के बेटे नहीं थे राम'

UP विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भले ही BJP ने निषाद पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया हो लेकिन निषाद पार्टी के अध्यक्ष और एमएलसी संजय निषाद आए दिन कोई न कोई ऐसा बयान दे देते हैं जिससे बीजेपी पशोपेश में पड़ जाती है।

ऐसे ही प्रयागराज के सर्किट हाउस में मीडिया से बात करते हुए संजय निषाद ने मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम को लेकर एक विवादित बयान दिया। संजय निषाद ने कहा की भगवान श्री राम और निषाद राज का जन्म मखौड़ा घाट पर हुआ, पुत्रयेष्ठ कामी यज्ञ में नियोग विधि से खीर खिलाने के बहाने हुआ, संजय निषाद ने कहा खीर खाने से कोई बच्चा नहीं होता। संजय निषाद ने भगवान श्री राम को राजा दशरथ का तथाकथित पुत्र बताया। संजय निषाद ने बताया कि श्रीराम राजा दशरथ के नहीं बल्कि श्रृंगऋषि निषाद के पुत्र हैं।

संजय निषाद ने बढ़ाई BJP की टेंशन, कहा - अपनी मांगों को लेकर हर जिले में  करेंगे धरना-प्रदर्शन Sanjay Nishad said will hold protest every district  regarding demands

भगवान श्री राम को लेकर संजय निषाद ने कहा की उनके माता-पिता उन्हे नहीं समझ सके। यहां तक की अयोध्या वासी भी भगवान श्री राम को नहीं समझ पाए, लेकिन निषाद राज पहले ऐसी शक्ति थे। जिन्होंने भगवान श्री राम को पहचाना, ये बात उन्हे इजरायल के एक लायब्रेरी में पता चली। उन्होंने कहा की भगवान श्री राम की पहचान राजा निषाद को थी, इसलिए वे भगवान के समान है। राजा निषाद और भगवान श्री राम की गले मिलते हुई भव्य प्रतिमा लगाई जाए।

वहीं इस पूरे मामले पर AIMIM चीफ असदुद्दीन आवैसी ने भी चुटकी ली है,ओवैसी ने कहा, संघ प्रमुख मोहन भागवत तो डीएनए एक्सपर्ट हैं। उनको इस पूरे मामले पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। ओवैसी ने संजय निषाद के विवादित बयान को दोहराते हुए कहा कि भगवान राम का जन्म निषाद परिवार में हुआ था, वे राजा दशरथ के पुत्र नहीं हैं। बीजेपी और संघ के बड़े नेताओं को इस मामले में अब कुछ तो बोलना चाहिए।

UP: कैराना में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान के पीछे छिपा है बड़ा संदेश

0
UP: कैराना में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान के पीछे छिपा है बड़ा संदेश

कैराना दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को पश्चिम उत्तर प्रदेश(UP) से 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की शुरुआत कर दी। भले ही योगी आदित्यनाथ की मुलाकात वापस लौटे सभी परिवारों के सदस्यों से नहीं हो पाई हो, पर मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने वहां जो कुछ कहा, जो कुछ किया, उसमें बड़ा संदेश छिपा है।

मुख्यमंत्री ने लोगों को भाजपा सरकार के एजेंडे को पूरा करने का भरोसा देने की कोशिश की तो कानून-व्यवस्था के साथ सुरक्षा व सम्मान पर भी आश्वस्त किया। उन्होंने हिंदुओं को यह आश्वासन दिया कि उनकी सरकार के रहते न तो उन्हें बेटियों से छेड़छाड़ होने की चिंता करनी है। साथ ही भरोसा दिया कि अब किसी व्यापारी को वसूली व रंगदारी का ख्याल भी मन में नहीं लाना चाहिए। मुजफ्फरनगर जैसे दंगों की आशंका भी नहीं है।

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मुख्यमंत्री के बगल बैठी एक छोटी बच्ची को संबोधित करते हुए कहा, ‘बेटा, बाबा के रहते डरने की जरूरत नहीं है’। उससे भी यह साफ हो जाता है कि भाजपा ने मुख्यमंत्री के इस दौरे के जरिये एक तरह से पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों को सुरक्षा और सम्मान के सवाल पर निश्चिंत रहने का संदेश देने का प्रयास किया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के समीकरण और वहां के मुद्दों को देखते हुए मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष का यह दौरा संक्षिप्त होते हुए भी सियासी समीकरणों को विस्तार देने वाला है। 

T20 में कप्तानी से विदाई के बाद विराट कोहली ने दिया बयान, बोले, मैं वैसा नहीं कर पाऊंगा तब और नहीं खेलूंगा..

0
T20 में कप्तानी से विदाई के बाद विराट कोहली ने दिया बयान, बोले, मैं वैसा नहीं कर पाऊंगा तब और नहीं खेलूंगा..

टीम इंडिया का T20 वर्ल्डकप का सफर अब खत्म हो चूका है। इसी के चलते टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने भी बड़ा फैसला लिया है। अब टी-20 फॉर्मेट में भारतीय टीम की कप्तानी करते हुए नहीं दिखेंगे विराट कोहली। विराट कोहली ने नामीबिया के खिलाफ मैच खत्म होने के बाद बतौर कप्तान अपने सफर और टी-20 वर्ल्डकप में भारतीय टीम के प्रदर्शन पर बात की।

टी-20 की कप्तानी छोड़ने पर कैसा लग रहा है? इस सवाल पर विराट कोहली ने कहा, ‘सबसे पहले राहत महसूस हो रही है। ये मेरे लिए गर्व का पल रहा है लेकिन हमें हर चीज़ें को सही दिशा में बढ़ते हुए देखना चाहिए। वर्कलोड को मैनेज करने का यही सबसे सही पल था। पिछले 6-7 साल से लगातार क्रिकेट चल रहा था।’

विराट कोहली बोले, ‘एक टीम के तौर पर हमने शानदार खेल दिखाया है। हां, हम इस वर्ल्डकप में आगे नहीं बढ़ पाए लेकिन टी-20 में हमने बेहतर नतीजे दिए और एक-दूसरे के साथ खेलना पसंद किया। शुरुआती दो मैचों में अगर उन दो ओवरों में अच्छा इंटेंट होता तो नतीजा कुछ और हो सकता था।

जब विराट कोहली से सवाल हुआ कि क्या अब भी वह फील्ड पर उसी जोश के साथ दिखाई देंगे, जैसा कि बतौर कप्तान दिखाई देते हैं? तब विराट कोहली ने कहा, ‘वो तो कभी बदलने वाला नहीं है। अगर मैं वैसा नहीं कर पाऊंगा तब और नहीं खेलूंगा। जब मैं कप्तान नहीं था, तब भी मैं पूरे जोश के साथ गेम में रहता था। मैं सिर्फ खड़ा होकर कुछ नहीं करने वाला नहीं हूं।

विराट कोहली ने ये भी बताया कि वो नामीबिया के खिलाफ बैटिंग करने क्यों नहीं उतरे। विराट कोहली बोले कि सूर्यकुमार यादव को टूर्नामेंट में ज्यादा बैटिंग नहीं मिली। एक युवा खिलाड़ी अपना टूर्नामेंट हाई-नोट पर खत्म करना चाहता है, ताकि वो अच्छी याद ले जा सके। ऐसे में बेहतर था कि वही क्रीज़ पर जाएं।

गौरतलब है कि टी-20 इंटरनेशनल में विराट कोहली ने कुल 50 मैच में भारतीय टीम की कप्तानी की है। वर्ल्डकप से पहले ही उन्होंने ऐलान किया था कि वह इस टूर्नामेंट के बाद इस फॉर्मेट में कप्तानी नहीं करेंगे। विराट कोहली के बाद अब रोहित शर्मा टी-20 फॉर्मेट के कप्तान बन सकते हैं।

SpaceX: करीब 6 महीने अंतरिक्ष में बिताने के बाद पृथ्वी पर लौटे यात्री, डायपर पहनकर की यात्रा

0
SpaceX: करीब 6 महीने अंतरिक्ष में बिताने के बाद पृथ्वी पर लौटे यात्री, डायपर पहनकर की यात्रा

स्पेसएक्स(SpaceX) के चालक दल के चारों सदस्य 200 दिन यानी करीब छह महीने तक अंतरिक्ष में बिताने के बाद सोमवार रात पृथ्वी पर लौट आए हैं। वे अपने स्पेसएक्स कैप्सूल से मैक्सिको की खाड़ी में उतरे।

दरअसल, चार अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष स्टेशन छोड़ने के ठीक आठ घंटे बाद पृथ्वी पर सुरक्षित वापस लौट आए। जानकारी के मुताबिक, इससे पहले नासा ने खराब मौसम के कारण चारों यात्रियों की वापसी फ्लोरिडा के तट पर तेज हवाएं चलने के कारण सोमवार दोपहर तक टाल दी गई थी। जिससे सुरक्षित वापसी का खतरा उत्पन्न हो सकता था।

6 महीने की यात्रा पूरी कर पृथ्वी पर वापस लौटे यात्रियों में नासा के शेन क्रिम्बू, मेगन मैक्आर्थर, जापान के अकिहिको होशाइड और फ्रांस की थॉमस पेस्केट शामिल हैं।

आपको बता दे अंतरिक्ष से पृथ्वी पर स्पेसएक्स की वापसी काफी कठिन थी। इन यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन लेने पहुंचे स्पेसएक्स रॉकेट का टॉयलेट टूट गया था। इस कारण यात्रियों को अंतरिक्ष स्टेशन छोड़ने के बाद पूरी यात्रा में डायपर पहनना पड़ा।

नासा के अंतरिक्ष यात्री मेगन मैक्आर्थर ने इस यात्रा को भयानक बताया था। इसके अलावा चार यात्रियों में से एक की तबीयत भी सही नहीं थी। ऐसे में यह यात्रा काफी जोखिम भरी भी थी। 

मछली खाने वालों के लिए खुशखबरी, Fishlee का एक और आउट्लेट खुला

0
मछली खाने वालों के लिए खुशखबरी, Fishlee का एक और आउट्लेट खुला

यू तो लखनऊ की हर गली में आपको खाने और खानसामों की दुकानें मिल जाएगी। हर किसी की अपनी वैराइटी है अपना स्पेशल क्लास है। ऐसा ही एक रेस्टोरेंट खुला है आई टी मेट्रो स्टेशन के नीचे फिशली(Fishlee)। जहाँ फिश की क़दीम ज़माने से लेकर आज तक कि सभी पकवान मिलते हैं।

My Bharat News - Article WhatsApp Image 2021 11 08 at 5.49.20 PM

यू तो दक्षिण भारत मे फिश पहले से ही मशहूर व्यंजन है। मगर लखनऊ वालों को इसका जायका दिलाने का जिम्मा फिशली ने उठाया हैं। जिनके इरादे धीरे धीरे इसको एक फ़ूड चैन में बदलने के है। फिशली की शुरुआत लखनऊ के पलासियों मॉल से की गई। लेकिन ग्राहकों की ज्यादा डिमांड को देखते हुए अब इसका एक और आउटलेट शहर के आईटी चौराहे पर भी खोल दिया गया है।

My Bharat News - Article WhatsApp Image 2021 11 08 at 5.49.22 PM 1

इसके अलावा केडी सिंह बाबू स्टेडियम और आलमबाग इलाके में भी इसे खोलनी की तैयारी चल रही है। फिशली में आपको फिश और प्रॉन्स की एक से बढ़कर एक वैरियटी मिलेगी। वो एक ही छत के नीचे। अगर आप मछली और प्रॉन्स खाने के शौकीन हैं। तो आप भी अपने परिवार के साथ यहां आकर लजीज मछली का लुत्फ उठा सकते हैं। यहां आपको एक ही छत के नीचे मछली की कई वैराईटी खाने को मिलेगी।

Padma Awards 2021: राष्ट्रपति भवन में 119 लोगों को मिला पद्म पुरस्कार, 7 को पद्मविभूषण, 10 को पद्म भूषण, 102 लोगों को पद्मश्री

0
Padma Awards 2021: राष्ट्रपति भवन में 119 लोगों को मिला पद्म पुरस्कार, 7 को पद्मविभूषण, 10 को पद्म भूषण, 102 लोगों को पद्मश्री

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज राजनीतिक, खेल, मनोरंजन जगत के कई लोगों को राष्ट्रपति भवन में पदम पुरस्कार(Padma Awards) से सम्मानित किया। दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में आयोजित हुए कार्यक्रम में कुल 119 पद्म पुरस्कार विजेताओं को सम्मानित किया गया हैं। इस बार 102 लोगों को पद्म श्री पुरस्कार मिला है। वहीं 7 लोगों को पद्म विभूषण और 10 लोगों को पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया है। पुरस्कार पाने वालों में कुल 29 महिलाएं हैं। साथ ही 16 ऐसे लोग भी हैं जिन्हें मरणोपरांत पुरस्कार दिया गया और 1 ट्रांसजेंडर भी शामिल है।

आपको बता दें कि, पद्मश्री अवॉर्ड, भारत रत्न, पद्म विभूषण और पद्म भूषण के बाद भारत में चौथा सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार है।

पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की कद्दावर नेता सुषमा स्वराज और पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली को मरणोपरांत पद्म विभूषण दिया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों ये पुरस्कार सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज ने ग्रहण किया। इसके अलावा बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु को पद्म भूषण अवॉर्ड, महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी रानी रामपाल को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी उपस्थित रहे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शास्त्रीय गायक छन्नूलाल मिश्रा को पद्म विभूषण और गायक अदनान सामी को पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया। मनोरंजन जगत में इसके अलावा बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और एकता कपूर को पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया। राष्ट्रपति ने चिकित्सा क्षेत्र में उपलब्धियों के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के पूर्व मुख्य वैज्ञानिक डॉक्टर रमन गंगाखेड़कर को पद्मश्री अवॉर्ड और रक्षा क्षेत्र में एयर मार्शल डॉक्टर पद्मा बंदोपाध्याय को पद्मश्री अवॉर्ड दिया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जापान के पूर्व प्रधान मंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम, सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया। असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को मरणोपरांत पद्म भूषण दिया गया। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा, पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को मरणोपरांत समेत 10 लोगों को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Lakhimpur Khiri: सुप्रीम कोर्ट ने उठाए UP Police की जांच पर सवाल, दिए कई बड़े सुझाव

0
Lakhimpur Khiri: सुप्रीम कोर्ट ने उठाए UP Police की जांच पर सवाल, दिए कई बड़े सुझाव

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी(Lakhimpur Khiri) मामले में पिछले महीने हुयी हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार यानी 8 नवंबर को सुनवाई की। इस मामले के चलते यूपी पुलिस ने स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की। इसके बाद कोर्ट ने जांच पर नाराजगी जाहिर की और सीजेआई एनवी रमना ने कहा कि आपकी रिपोर्ट में कुछ नहीं है। बता दें कि लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को किसानों के प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत हो गई थी।

शुक्रवार तक जवाब दाखिल करने के दिए निर्देश –

चीफ जस्टिस एनवी रमना, न्यायमूर्ति सूर्य कांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे और गरिमा प्रसाद को शुक्रवार तक मामले पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया हैं।

हमने स्थिति रिपोर्ट दी है: वकील हरीश साल्वे –

यूपी सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए वकील हरीश साल्वे ने कहा कि हमने स्थिति रिपोर्ट दी है। सीसीटीवी से हमने आरोपियों के मौजूद होने कि स्थिति स्पष्ट कि है। इस पर सीजेआई ने कहा कि लैब रिपोर्ट भी नहीं आई। आरोपियों के सेलफोन कहां थे? आशीष मिश्रा का सेलफोन कहां था आपने रिपोर्ट में इसका जवाब दिया?

क्या अन्य आरोपियों के सेलफोन कि लोकेशन कहां है?: सीजेआई –

हरीश साल्वे ने कहा कि हमने आशीष के सेलफोन का लोकेशन दिया है। स्थिति रिपोर्ट देखिए। इस पर सीजेआई ने कहा कि अन्य आरोपियों के सेलफोन कि लोकेशन कहां है? क्या आरोपी सेलफोन नहीं रखते? आप रिपोर्ट के पैरा 7 कि बात कर रहे हैं। उसमें कुछ नहीं है।

Lakhimpur Kheri Violence Case Supreme Court Expresses Unhappiness Over The  Status Report Filed By The Up Government - लखीमपुर हिंसा: सुप्रीम कोर्ट  बोला-अपेक्षा के अनुरूप नहीं हो रही जांच ...

हर पहलू पर किया जा रहा जांच: हरीश साल्वे –

हरीश साल्वे ने कहा, हम लैब से संपर्क कर रहे हैं। पुलिस जांच कर रही है और हर पहलू पर ध्यान दिया जा रहा है।

सीजेआई ने कहा कि सेल टावरों के माध्यम से आप पहचान सकते हैं कि क्षेत्र में कौन से मोबाइल एक्टिव थे? जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि हमें यह कहते हुए दुख हो रहा है कि प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि एक विशेष आरोपी को 2 एफआईआर को ओवरलैप करके लाभ दिया जा रहा है।’

हरीश साल्वे ने कहा कि चश्मदीद गवाह हैं। इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि ये आरोपी घटना स्थल पर थे। सीसीटीवी फुटेज के जरिए साफ होता है और हमने बयान दर्ज करने के लिए गवाहों को बुलाया है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया सुझाव –

पीठ ने आरोपपत्र दाखिल किए जाने तक जांच की निगरानी करने के लिए पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट के पूर्व जज राकेश कुमार जैन या न्यायमूर्ति रंजीत सिंह के नाम का सुझाव दिया। कोर्ट ने कहा कि हम इस मामले में हाई कोर्ट के एक जज को नियुक्त करना चाहते हैं, ताकि दोनों एफआईआर के बीच अंतर कर मामले की जांच की जा सके। कोर्ट ने पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट के पूर्व जज रंजीत सिंह और राकेश कुमार का नाम सुझाया। इस पर हरीश साल्वे ने कहा कि थोड़ा समय दीजिए।

लखीमपुर केस: सुप्रीम कोर्ट की UP सरकार को फिर फटकार, अब रिटायर्ड जज की  निगरानी में होगी जांच - lakhimpur kheri case supreme court up government  retired judge ashish mishra NTC - AajTak

मामले को सीबीआई को सौंपना कोई हल नहीं: सुप्रीम कोर्ट –

पीठ ने मृतक श्याम सुंदर की पत्नी के वकील से कहा कि सीबीआई को मामला सौंपना कोई हल नहीं है। सीजेआई ने यूपी सरकार कि ओर से पेश हुए वकील हरीश साल्वे से कहा कि मृतक श्याम सुंदर के मामले में हो रही जांच में लापरवाही पर क्या कहेंगे? इस पर हरीश साल्वे ने कहा कि जिस पत्रकार की मौत हुई। पहले ये माना गया था कि वो आशीष मिश्रा के साथ थे, बाद में पता चला कि वो उन किसानों के साथ शामिल थे, जिनकी कार द्वारा कुचले जाने से मौत हुई।

मामले को राजनीतिक रंग दिया जा रहा: हरीश साल्वे –

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमे शुरू में ऐसा इम्प्रेशन दिया गया थ कि पत्रकार कार में थे। इसलिए हम चाहते है कि हाई कोर्ट के कोई रिटायर्ड जज जांच की निगरानी करें। मामले की निष्पक्ष जांच जज की निगरानी में कराई जानी चहिए, यही हल है। आप राज्य सरकार से पूछ कर बताइए. इस पर हरीश साल्वे ने कहा कि राजनीतिक रंग भी दिया जा रहा है। कोर्ट ने कहा कि हम नहीं चाहते कि कोई राजनीतिक रंग दिया जाए। सरकार निष्पक्ष जांच करें और जज निगरानी करें। ये हम चाहते है।

CRPF : जवान ने अपने ही साथियों पर एके-47 से बरसाईं गोलियां, चार की मौत; तीन घायल

0
CRPF : जवान ने अपने ही साथियों पर एके-47 से बरसाईं गोलियां, चार की मौत; तीन घायल

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सीआरपीएफ(CRPF) 50 बटालियन कैंप से एक बड़ी घटना की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है की , कैंप के एक जवान ने अपने ही साथियों पर रात एक बजे गोली चला दी। इस घटना में चार जवानों की मौत हो गई तो तीन घायल हो गए, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दे की सीआरपीएफ कैंप के जिस जवान पर साथियों पर गोली चलाने का आरोप है, वह देर रात नक्सली क्षेत्र में ड्यूटी पर तैनात था। बताया जा रहा है कि इसी दौरान जवानों के बीच कुछ विवाद हो गया, जिसने अचानक हिंसा का रुप ले लिया। इसके बाद सीआरपीएफ जवान आपे से बाहर हो गया और उसने गोलीबारी शुरू कर दी। इसी घटना में चार सीआरपीएफ जवानों की मौत हो गई।

अपराधी जवान से पूछताछ जारी

बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया कि लिंगनपल्ली गांव में स्थित सीआरपीएफ की 50वीं बटालियन के शिविर में जवान रितेश रंजन ने अपने साथियों पर गोली चला दी है। उन्होंने बताया कि इस घटना में चार जवानों धनजी, राजीब मंडल, राजमणि कुमार यादव और धर्मेंद्र कुमार की मृत्यु हो गई है जबकि तीन अन्य जवान धनंजय कुमार सिंह, धरमात्मा कुमार और मलय रंजन महाराणा घायल हो गए हैं।

सुंदरराज ने ये बताया कि पुलिस को जानकारी मिली है कि आज तड़के करीब 3.15 बजे जवान रितेश ने विवाद के बाद अपनी एके-47 राइफल से अन्य जवानों पर गोली चला दी। उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही अन्य जवान और अधिकारी वहां तुरन्त गये । अधिकारियों और जवानों ने आरोपी जवान को पकड़ा तथा घायल जवानों को तेलंगाना के भद्राचलम जिले के अस्पताल ले जाया गया। उन्होंने बताया कि चिकित्सकों ने चार जवानों को मृत घोषित कर दिया जबकि तीन जवानों का इलाज किया जा रहा है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी जवान से पूछताछ की जा रही है। उससे पूछताछ के बाद ही इस वारदात के पीछे के कारणों के बारे में जानकारी मिल पायेगी।

Vidhansabha Chunav: कांग्रेस को बड़ा झटका, दो विधायकों ने थामा BJP का हाथ

0
Vidhansabha Chunav: कांग्रेस को बड़ा झटका, दो विधायकों ने थामा BJP का हाथ

विधानसभा चुनाव(Vidhansabha Chunav) से पहले मणिपुर में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका। दरअसल, कांग्रेस से नाता रखने वाले दो विधायक राजकुमार इमो सिंह और यान्थोंग हौकीप सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गए।

भाजपा मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री सर्वानंद सोनोवाल और राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने दोनों विधायकों को प्राथमिक सदस्यता दिलाई। इन दोनों विधायकों के भाजपा में शामिल होने पर पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने दोनों कांग्रेस विधायकों का स्वागत किया। पात्रा ने कहा कि इनके आने से मणिपुर और पूर्वोत्तर में भाजपा को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने भाजपा की नीति और रीति और प्रधानमंत्री मोदी से प्रभावित होकर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है। गौरतलब है कि मणिपुर में 2017 में पहली बार भाजपा सत्ता में आई है। 

गोरतलब है, आरके सिंह और हौकीप क्रमशः साल 2012 और 2017 में कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुने गए थे। हालांकि, राजकुमार को कांग्रेस ने कुछ समय पहले ही पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बाहर का रास्ता दिखा दिया था। वहीं आरके सिंह के पिता राजकुमार जयचंद्र सिंह मणिपुर के मुख्यमंत्री और राज्य से पहले केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं।

राजकुमार ने भाजपा में शामिल होने के साथ कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में शांति, स्थायित्व के लिए काफी काम किया है। उन्होंने यह भी कहा था कि 2017 तक मणिपुर अपनी कानून व्यवस्था की समस्याओं के लिए जाना जाता था। राज्य में पहाड़ी और घाटी क्षेत्र के बीच बंटवारा था, लेकिन अब ऐसा नहीं है।”

UP: कैराना और शामली के दौरे पर पहुंचे योगी, बोले – किसी अपराधी ने दुस्साहस किया तो दूसरे लोक भेज देंगे

0
UP: कैराना और शामली के दौरे पर पहुंचे योगी, बोले - किसी अपराधी ने दुस्साहस किया तो दूसरे लोक भेज देंगे

यूपी(UP) के सीएम योगी आदित्यनाथ सोमवार को कैराना और शामली के दौरे पर पहुंचे। कैराना पहुंचे सीएम पीएसी कैंप की भूमि के शिलान्यास के साथ-साथ करोड़ों रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। यहां उन्होंने उन परिवारों से मुलाकात की, जो हिंसा और गुंडा राज से पीड़ित होकर पलायन करने को मजबूर हो गए थे और अब वापस लौटे हैं।सीएम योगी ने एक बच्ची से बात करते हुए कहा, डरना मत… बाबा के बगल में बैठी हो।

इस दौरान उन्होंने वापस लौटे परिवारों से मौजूदा कानून व्यवस्था की स्थिति जानी और कहा कि सरकार पूरी तरह से आप लोगों के साथ है, डरने की कोई बात नहीं है। इस दौरान कई लोगों ने कहा कि आपकी सरकार हमारे लिए वरदान साबित हुई है और हमें गुंडा राज से मुक्ति मिली है। यही नहीं कई व्यापारियों ने कहा कि 2017 में भाजपा की सरकार आने के बाद प्रॉपर्टी के दामों में भी इजाफा हो गया है।

My Bharat News - Article 08 11 2021 cm yogi in kairana1 22187442 13935567

अपराधियों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपना रही है योगी सरकार

पलायन के बाद वापस लौटे परिवार से मुलाकात के बाद सीएम योगी ने मीडिया से बातचीत की। बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि, 1990 के प्रारंभ में राजनीति के अपराधिकरण का दंश कैराना जैसे कस्बों ने झेला है। यहां पर हिंदू व्यापारियों व अन्य हिंदुओं को प्रताड़ित कर पलायन करने को मजबूर कर दिया गया। वह आगे बोले, 2017 के बाद अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के बाद इस कस्बे में शांति आई। बहुत से परिवार वापस आए।

सीएम योगी बोले कि साल 2017 में जब मैं यहां आया था, तो लोगों ने पीएसी के बटालियन और चौकी के मजबूती की लोगों ने मांग की थी। पुलिस चौकी के सुदृढीकरण का काम तो पहले ही हो चुका था और अब मैं पीएसी बटालियन की शुरुआत करने आया हूं। पलायन कर चुके अधिकतर लोग वापस आ चुके हैं और सरकार ने उन्हें आश्वस्त किया है कि सरकार अपराधियों के खिलाफ जिस नीति से काम कर रही है। आगे भी करेगी। बच्चों और महिलाओं में जो विश्वास दिखा है वह आगे रंग दिखाएगा।

jagran

जाम की शिकायत अब हो गई दूर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यहां पर जाम की जो शिकायत रहती थी अब हमने उसे दूर किया है। जिसकी वजह से अब यहां व्यापार बढ़ना प्रारंभ हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बिना किसी तुष्टीकरण के सबका साथ और सबका विकास की पीएम नरेंद्र मोदी की नीति पर आगे बढ़ती रहेगी। मैं कस्बे के लोगों को आश्वासन देता हूं की उन्हें पूरी सुरक्षा दी जाएगी।

यहां के व्यापारिक और औद्योगिक माहौल को और आगे बढ़ाया जाएगा। पिछली सपा सरकार में जिन परिवारों पर अत्याचार हुआ था जिनके परिवार के लोगों की हत्या हुई थी उन्हें मुआवजा दिया जाएगा और उन मामलों की रिपोर्ट भी मांगी गई है।

Demonetisation: नोटबंदी के पांच साल, जानें अब तक क्या-क्या बदला?

0
Demonetisation: नोटबंदी के पांच साल, जानें अब तक क्या-क्या बदला?

8 नवंबर 2016 को भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़ा फैसला लिया गया था नोट बंदी(Demonetisation) का, जिसके चलते देश के लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। यह फैसला जिस वक्त लिया गया, उस वक्त चलन में मौजूद करेंसी का 86 फीसदी हिस्सा इन्हीं दोनों नोटों का था। उस दौरान देश में बैंकों के बाहर लोगों की लंबी-लंबी कतारें लगीं हुयी थीं। इन पांच साल के दौरान नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था में क्या बदलाव आया, यह एक बड़ा सवाल लोगों के बीच बना हुआ है।

आपको बता दें, नोटबंदी को डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के रूप में प्रचारित किया गया, लेकिन मूल नीति में लक्ष्य एकदम अलग थे। नोटबंदी के दौरान सबसे बड़ा वादा सिस्टम में मौजूद बेहिसाब नगदी पर रोक लगाने का किया गया था और पैसों को सीधे बैंक में जमा कराने के निर्देश दिए गए थे। पीएम मोदी ने अपने भाषण में पॉलिसी का जिक्र करते हुए कहा था कि करोड़ों रुपये सरकारी अधिकारियों के बिस्तरों या बैगों में भरे होने की खबरों से कौन-सा ईमानदार नागरिक दुखी नहीं होगा? जिन लोगों के पास बेहिसाब पैसा है, उन्हें मजबूरी में इसे घोषित करना पड़ेगा, जिससे गैर-कानूनी लेन-देन से छुटकारा मिल जाएगा। उस दौरान काफी लोगों ने नोटबंदी के इस फैसले को भ्रष्टाचार पर सर्जिकल स्ट्राइक भी कहा था।

My Bharat News - Article image 1

नोटबंदी(Demonetisation) को डिजिटल ट्रांजेक्शन में तेजी आने की बड़ी वजह माना जाता है। काफी लोग नोटबंदी के फैसले को इसी तर्क से साबित करने की कोशिश करते हैं, जबकि मूल नीति में इसका कोई जिक्र ही नहीं था। मूल नीति में कहा गया था कि इस कदम से भारतीय अर्थव्यवस्था में कैश फ्लो घट जाएगा। पीएम मोदी ने उस वक्त कहा था कि बेहिसाब पैसा ही भ्रष्टाचार की असल वजह है। भ्रष्ट तरीकों से पैसा कमाने से मुद्रास्फीति बेहद खराब स्थिति में पहुंच गई है। गरीब इस आग से झुलस रहा है। इससे सीधे तौर पर मध्यम और निचले वर्ग की खरीदारी की क्षमता प्रभावित होती है। आपने खुद महसूस किया होगा कि जब आप जमीन या मकान खरीदते हैं तो चेक से पैसा देने की जगह कैश की मांग की जाती है। इससे ईमानदार लोगों को प्रॉपर्टी खरीदने में दिक्कत होती है।

ICC T-20: अफगानिस्तान की हार के साथ ही भारत के भी सेमीफाइनल में पहुंचने का सपना हुआ चूर

0
ICC T-20: अफगानिस्तान की हार के साथ ही भारत के भी सेमीफाइनल में पहुंचने का सपना हुआ चूर

ICC T-20: अफगानिस्तान को न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार के साथ ही भारत के सेमीफाइनल में पहुंचने का भी सपना चूर-चूर हो गया। अपने शुरूआती 2 मैचों में भारतीय टीम को मिली हार का ही नतीजा रहा कि भारत सेमीफाइनल के मैच तक दस्तक नहीं दे सका। पहले मैच में भारत को पाकिस्तान से हार का सामना करना पड़ा तो वहीं दूसरे मैच में भारत को न्यूजीलैंड ने 8 विकेट से करारी शिकस्त दी थी।

इसके बाद भारतय खिलाड़ियों की किस्मत दूसरी टीमों के जीत-हार पर निर्भर था। अगर अफगानिस्तान न्यूजीलैंड को हरा देती है तो भारत के लिए उम्मीदों के कुछ द्वार खुले दिखाई देते लेकिन बीते दिन हुए मैच में अफगानिस्तान की हार के साथ भारतीय क्रिकेट टीम के वर्ल्ड कप का सफर यहीं थम गया। जिससे भारतीय फैंस को भी काफी ज्यादा निराशा हुई।

आपको बता दें कि, T-20 वर्ल्ड कप 2021 के कार्यक्रम का जब ऐलान हुआ था तो इस टूर्नामेंट की सबसे बड़ा दावेदार टीम इंडिया को माना जा रहा था। विराट कोहली, रोहित शर्मा, केएल राहुल, ऋषभ पंत, जसप्रीत बुमराह जैसे सूरमाओं से भरी टीम विरोधी टीम के लिए सबसे बड़ा खतरा थी। लेकिन भारतीय टीम ने टी-20 वर्ल्ड कप में बेहद खराब प्रदर्शन किया और टीम सुपर-12 राउंड से ही बाहर हो गई। अफगानिस्तान पर न्यूजीलैंड की जीत के साथ ही टी-20 वर्ल्ड कप 2021 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली टीम तय हो गईं जिसमें भारत का नाम नहीं है। सेमीफाइनल में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और न्यूजीलैंड ने जगह बनाई है और 2007 में टी-20 चैंपियन बनने वाली टीम इंडिया का पत्ता साफ हो गया है।

वहीं भारत के वर्ल्ड कप से बाहर होने पर फैंस अलग-अलग अंदाज में अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। कुछ फैंस सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर टीम इंडिया को जमकर कोस रहे हैं तो कुछ मीम्स के जरिए टीम इंडिया को ट्रोल कर रहे हैं। इस लिस्ट में भारत के पूर्व क्रिकेटर वीरेन्द्र सहवाग का नाम भी शामिल है। वीरेन्द्र सहवाग ने मीम के जरिए टीम इंडिया पर चुटकी ली है। सहवाग ने भारत के वर्ल्ड कप से बाहर होने पर लिखा है, ‘खत्म, बाय-बाय, टाटा, गुड बाय’। पाकिस्तान सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद हुसैन ने भी एक ट्वीट के जरिए टीम इंडिया को ट्रोल किया है। उन्होंने लिखा है, ‘अगर टीम इंडिया ने नामीबिया को 3 ओवर में हरा दिया तो वे जल्दी एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं।’

Padma Awards 2021: उत्तराखंड की इन पांच हस्तियों को दिया जाएगा पद्म पुरस्कार, राष्ट्रपति कोविंद करेंगे सम्मानित

0
Padma Awards 2021: उत्तराखंड की इन पांच हस्तियों को दिया जाएगा पद्म पुरस्कार, राष्ट्रपति कोविंद करेंगे सम्मानित

Padma Awards: नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में सोमवार को आयोजित समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हैस्को प्रमुख पर्यावरणविद डॉ.अनिल प्रकाश जोशी को पद्मभूषण, जबकि पर्यावरणविद कल्याण सिंह और डॉ.योगी एरन को पद्श्री से सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा मंगलवार को चिकित्सा क्षेत्र में डॉ.भूपेंद्र कुमार सिंह और किसान प्रेम चंद शर्मा को भी पद्श्री सम्मान देकर सम्मानित करेंगे। यह पांचों प्रमुख हस्तियां उत्तराखंड की हैं।

आपको बता दे, हैस्को के संस्थापक पद्मश्री डॉ.अनिल प्रकाश जोशी को पर्यावरण पारिस्थितिकी और ग्राम्य विकास से जुड़े मुद्दों और नदियों को बचाने के लिए चलाए जा रहे आंदोलन को राष्ट्रीय स्तर पर ले जाने के लिए पद्मभूषण से सम्मानित किया जा रहा है। एक मीडिया चैनल से बातचीत में डॉ.जोशी ने कहा कि वह इस पुरस्कार को सामाजिक, प्रकृति और पर्यावरण के लिए किए जा रहे सामूहिक प्रयासों को समर्पित करते हैं।

वह संदेश देना चाहते हैं कि जो कोई हिमालय को किसी भी रूप में भोग रहा है, बदले में हिमालय को कुछ वापस भी करे। डॉ.जोशी हमेशा जल, जंगल, प्राण वायु आदि के बदले सकल पर्यावरण उत्पाद की वकालत करते रहे हैं। इसके अलावा ग्राम्य विकास को आर्थिकी से जोड़ते हुए कई उदाहरण पेश किए हैं। पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पूर्व राष्ट्रपति डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम वर्ष 2006 में उन्हें पद्मश्री सम्मान से सम्मानित कर चुके हैं। 

My Bharat News - Article medal

वहीं पर्यावरण संरक्षण की दिशा में वर्षों से काम कर रहे कल्याण सिंह रावत ने उत्तराखंड में मैती आंदोलन के जरिये पर्यारण संरक्षण की दिशा में एक अनूठी परंपरा को जन्म दिया। जिसकी चर्चा आज विश्वभर में होती है। मैती आंदोलन के तहत गांव में जब किसी लड़की की शादी होती है तो विदाई के समय दूल्हा-दुल्हन को एक फलदार पौधा दिया जाता है। वैदिक मंत्रों के साथ दूल्हा इस पौधे को रोपित करता है और दुल्हन इसे पानी से सींचती है।

पेड़ को लगाने के एवज में दूल्हे की ओर से दुल्हन की सहेलियों को कुछ पैसे दिए जाते हैं। जिसका उपयोग पर्यावरण संरक्षण के कार्यों में और समाज के निर्धन बच्चों के पठन-पाठन में किया जाता है। दुल्हन की सहेलियों को मैती बहन कहा जाता है। जो भविष्य में उस पेड़ की देखभाल करती हैं। पर्यावरण से जुड़े मैती आंदोलन की शुरुआत कल्याण सिंह रावत ने वर्ष 1994 में चमोली जिले के राइंका ग्वालदम में जीव विज्ञान के प्रवक्ता पद पर रहते हुए की थी।

कुत्ते को चोरी कर भागा Zomato का डिलीवरी बॉय, कपल ने लगाया आरोप

0
कुत्ते को चोरी कर भागा Zomato का डिलीवरी बॉय, कपल ने लगाया आरोप

महाराष्टृ के पुणे में हुयी एक ऐसी वारदात जिसको सुनकर आपके होश उड़ जायेंगे। महाराष्ट्र के पुणे में रहने वाले एक कपल को उस समय झटका लगा जब उन्हें पता चला की उनके पालतु कुत्ते को एक जोमैटो(Zomato) का डिलीवरी ब्वॉय अपने साथ ले गया। वह कुत्ता उन्हें बहुत प्यारा था और उसके खोने की खबर के बाद से उन्होंने उसकी खोज में दिन-रात एक कर दिया। दरअसल, पुणे की वंदना साह ने ट्विटर पर एक पोस्ट डालकर इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी उन्होंने ट्विटर पर उस डिलीवरी ब्वॉय के साथ अपने पालतु कुत्ते की तस्वीर भी शेयर की है।

वंदना ने लिखा कि, सोमवार के दिन उनका पालतु कुत्ता जिसका नाम डोट्टू है वह आखिरी बार घर के बाहर खेलता हुआ CCTV में कैद हुआ था। अचानक से गायब होने के बाद वंदना और उनके पति ने अपने कुत्ते की तलाश की लेकिन वह नहीं मिला, पड़ोसियों से पूछने पर भी उन्हें उसका कोई सुराग नहीं मिला अंत में हार कर उन्होंने पुलिस से इस मामले में जांच की अपील की।

वंदना ने आगे बताया कि उनके घर के आस-पास काफी डिलीवरी ब्वॉय का आना जाना लगा रहता है, जब उन्होंने उनको अपने कुत्ते की फोटो दिखाई तो एक लड़के ने उसकी पहचान की। लड़के ने बताया कि उनके कुत्ते को जोमैटो का डिलीवरी ब्वॉय अपने साथ लेकर गया है। कुत्ते को ले जाने वाले लड़के की पहचान तुषार के रूप में हुई।

Zomato Rs 9,375-Crore IPO to Open Next Week: Price Band, Other Key Details

वंदना से तुषार का नंबर लेकर उससे अपने कुत्ते डोट्टू के बारे में पूछा तो वह घबरा गया और बहाने बनाने लगा। उसने बताया कि वह उस कुत्ते को अपने गांव से लेकर आया है जिसकी वंदना को तलाश है वो वह कुत्ता नहीं है। वंदना ने अपने कुत्ते को वपास पाने के लिए उसे पैसों का लालच भी दिया लेकिन वह नहीं माना और अपना फोन स्विच ऑफ कर लिया।

तुषार के ना मानने पर वंदना ने उसकी जोमैटो से शिकायत की और इस मामले में हस्तक्षेप की बात कही। इसके बाद जोमैटो ने तुषार की पहचान कर के उससे वंदना का पालतु कुत्ता ले लिया। वंदना का ट्वीट अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है और यूजर्स तुषार को खरी-खोटी सुना रहे हैं साथ ही उन्होंने जोमैटो के प्रति भी गुस्सा जाहिर किया।

Gujrat: पाकिस्तानी नौसेना ने भारतीय नाव पर की गोलीबारी, एक मछुआरे की दर्दनाक मौत

0
Gujrat: पाकिस्तानी नौसेना ने भारतीय नाव पर की गोलीबारी, एक मछुआरे की दर्दनाक मौत

पाकिस्तानी नौसेना ने गुजरात(Gujrat) तट पर स्थित एक भारतीय नाव पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। यह गोलीबारी रविवार को हुई, जिसमे एक भारतीय मछुआरे की दर्दनाक मौत हो गई साथ ही एक मछुआरा घायल भी हो गया। तत्कालीन ही पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। वहीं, घायल को द्वारका के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतक मछुआरे का नाम श्रीधर बताया जा रहा है। 

आपको बता दे, यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तानी नौसेना ने इस तरह की हरकत की है। इससे पहले भी पाक की तरफ से कई मछुआरे की गिरफ्तारी की गई है। पिछले साल अप्रैल में भी पाकिस्तानी नौसेना ने दो नावों पर फायरिंग कर दी थी। उस वक्त नाव पर 8 लोग सवार थे। इस फायरिंग में उत्तर प्रदेश का रहने वाला एक शख्स जख्मी हो गया था।

इससे पहले पाकिस्तान ने मार्च में 11 भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार कर उनकी दो नौकाएं जब्त कर लिया था। वहीं फरवरी में भी पाकिस्तान ने 17 भारतीय मछुआरों को देश के जलक्षेत्र में कथित रूप से प्रवेश करने के लिए गिरफ्तार किया था और उनकी तीन नौकाओं को जब्त कर लिया था।

My Bharat News - Article image 3

पिछले साल अप्रैल में भी गुजरात के समुद्री इलाके में समुद्री सीमा के पास पाकिस्तानी मरीन ने 2 बोटों पर फायरिंग कर दी थी। उस वक्त बोट पर 8 लोग भी सवार थे। तब इस फायरिंग में उत्तर प्रदेश का रहने वाला एक शख्स जख्मी हो गया था। तब भी ये दोनों नांव द्वारका में समुद्री इलाके में थीं। हालांकि, द्वारका के SP का कहना था कि शायद बोटों ने समुद्री सीमा को पार कर दिया होगा, इसके बाद पाकिस्तानी मरीन ने उनपर फायरिंग की होगी।

हालांकि पाकिस्तान ही नहीं,  भारत भी पाक के मछुआरों को गिरफ्तार करते रहते हैं क्योंकि अरब सागर में समुद्री सीमा का कोई स्पष्ट सीमांकन नहीं है। वहीं मछुआरों को विशेष तकनीकी प्रशिक्षण नहीं दी गई है।

Chhath puja 2021: क्या है छठ पूजा का महत्व, क्यों की जाती है यह पूजा? कौन है छठी मैया

0
Chhath puja 2021: क्या है छठ पूजा का महत्व, क्यों की जाती है यह पूजा? कौन है छठी मैया

कार्तिक महीने की छठी तिथि को छठ पूजा(Chhath puja) की शुरुआत हो जाती है। यह पर्व मुख्य रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। छठ पूजा का व्रत संतान की प्राप्ति और लंबी आयु की कामना के लिए किया जाता है। यह पर्व 4 दिनों तक मनाया जाता है। इस व्रत को स्त्री-पुरुष दोनों ही कर सकते हैं। छठ के दौरान महिलाएं लगभग 36 घंटे का व्रत रखती हैं। छठ के दौरान छठी मईया और सूर्यदेव की पूजा- अर्चना की जाती है। छठी मईया सूर्य देव की मानस बहन हैं।

कौन हैं छठी मईया :

धार्मिक मान्यता के अनुसार, छठ मईया को ब्रह्मा की मानस पुत्री कहा जाता है और कहा जाता है कि ये वही देवी हैं जिनकी पूजा नवरात्रि में षष्ठी तिथि को की जाती है। इनकी पूजा करने से संतान प्राप्ति व संतान को लंबी उम्र प्राप्त होती है। एक अन्य मान्यता के अनुसार, इन्हें सूर्य देव की बहन भी माना जाता है।

chhath puja 2021 full schedule of chhath puja 2021 panchang nahay khay  kharna date - Astrology in Hindi - दीपावली समाप्त होते ही छठ पूजा की  तैयारियां शुरू, जानें नहाय खाय से

सूर्य को अर्घ्य देने के पीछे ये है पौराणिक कथा :

पौराणिक कथा के मुताबिक छठ पर्व का आरंभ महाभारत काल के समय में माना जाता था। कर्ण जन्म सूर्यनारायण के द्वारा दिए गए वरदान के कारण कुंती के गर्भ से हुआ था। इसलिए ये सूर्य पुत्र कहलाते हैं और सूर्यनारायण की कृपा और इनको कवच व कुंडल प्राप्त हुए थे व सूर्य देव के तेज और कृपा से ही ये तेजवान व महान योद्धा बने। कहा जाता है कि इस पर्व की शुरुआत सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण के द्वारा सूर्य की पूजा करके की थी। कर्ण प्रतिदिन घंटों कमर तक पानी में खड़े रहकर सूर्य पूजा करते थे एवं उनको अर्घ्य देते थे। इसलिए आज भी छठ में सूर्य को अर्घ्य देने परंपरा चली आ रही है। इस संबंध में एक कथा और मिलती है कि जब पांडव अपना सारा राज-पाठ कौरवों से जुए में हार गए, तब दौपदी ने छठ व्रत किया था। इस व्रत से पांडवों को उनका पूरा राजपाठ वापस मिल गया था।

सूर्य को जल देने का महत्व :

सूर्य को पृथ्वी पर जीवन का आधार माना जाता है। सूर्य को जल देने सेहत, संबंधी फायदे भी प्राप्त होते हैं। जीवन में जल और सूर्य की महत्ता को देखते हुए छठ पर्व पर सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। इसके अलावा सूर्य को जल देने का ज्योतिष महत्व भी माना जाता है। भगवान सूर्य नारायण की कृपा से व्यक्ति को तेज व मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

UP: जेल में बंद कैदी की मौत होने पर भड़के अन्य साथी, पथराव कर जेल में लगाई आग

0
UP: जेल में बंद कैदी की मौत होने पर भड़के अन्य साथी, पथराव कर जेल में लगाई आग

UP के फर्रुखाबाद में फतेहगढ़ स्थित जिला जेल में एक अपराधी की मौत हो गई। जिसके बाद उसके अन्य साथियों ने पथराव कर जेल में आग लगा दी। दरअसल, मेरापुर थाना क्षेत्र निवासी संदीप हत्या के मामले में जिला जेल में बंद था। अचानक उसकी हालत बिगड़ने पर उसे सैफई रेफर किया गया था। फिर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। जिसकी जानकारी मिलने पर गुस्साए बंदियों ने हंगामा कर दिया। 

मिली जानकारी के अनुसार, बंदियों का आरोप है कि संदीप को समय से इलाज नहीं मिला। इसलिए उसकी मौत हो गई। दिवाली के दिन सही भोजन न दिए जाने का भी बंदियों ने आरोप लगाया है। उनका कहना है कि दिवाली पर अहाते न खोले जाने से बंदी आसपास में मिल भी नहीं सके थे।

My Bharat News - Article image 1

सूचना मिलते ही जेल और पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंचा। जेल में बंध अपराधियों तत्कालीन जेलर और अन्य पुलिसकर्मियों पर भी हमला कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने स्थिति नियंत्रण के लिए फायरिंग भी की। हमले में 30 पुलिसकर्मी घायल होने की खबर है। जिसकी वजह से कई बंदी भी घायल हुए हैं। घायलों को अस्पताल भेजा गया है।

मौके पर पहुंचे जेलर और अन्य पुलिसकर्मियों पर भी बंदियों ने हमला कर दिया। बंदियों ने डिप्टी जेलर शैलेश कुमार सोनकर पर हमला कर दिया था। उनके साथ जमकर मारपीट की। जेल से तीन गोलियां चलने की आवाज आई।

सूचना पर सीओ सिटी प्रदीप सिंह व फतेहगढ़ कोतवाल जयप्रकाश पाल कुछ सिपाहियों के साथ वहां पहुंचे। करीब 30 मिनट से लगातार अलार्म बजता रहा है।

My Bharat News - Article image 2

फतेहगढ़ जेल में बवाल मामले में डीजी जेल आनंद कुमार ने लखनऊ मुख्यालय से डीआईजी जेल बीपी त्रिपाठी को मौके पर भेजा है। आनंद कुमार ने बताया कि फतेहगढ़ जेल में बंद संदीप यादव नाम के कैदी की डेंगू से बीती रात मौत हो गई।

हालत खराब होने पर उसे सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय भेजा गया जहां उसकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि कैदियों द्वारा उत्पात मचाए जाने के मामले में एफ आई आर दर्ज कराई जा रही है।

Sooryavanshi : दूसरे दिन भी नहीं रुकी फिल्म की रफ्तार, हुई करोड़ों की कमाई

0
Sooryavanshi : दूसरे दिन भी नहीं रुकी फिल्म की रफ्तार, हुई करोड़ों की कमाई

अक्षय कुमार और कैटरीना कैफ़ स्टारर फिल्म सूर्यवंशी(Sooryavanshi) काफी समय से चर्चा में थी, लेकिन अब फैंस का इंतज़ार ख़तम हो गया है। दिवाली के मौका पर फिल्म सूर्यवंशी सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है, जो बॉक्स ऑफिस पर धमाल दिखते नज़र आ रही है। पहले दिन धमाकेदार कमाई करने के बाद रोहित शेट्टी की ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अच्छी रफ्तार बनाए हुए है। दिवाली की लंबी छुट्टियों का फायदा फिल्म को मिलता दिखाई दे रहा है। रिलीज के पहले दिन ‘सूर्यवंशी’ ने 26.29 करोड़ रुपये की कमाई की थी।

आपको बता दें, ‘सूर्यवंशी’ को लेकर शुरुआत से ही जबरदस्त बज बना हुआ है। फिल्म को लेकर अक्षय कुमार और कटरीना कैफ के फैंस काफी एक्साइटेड थे। मुंबई और छोटे शहरों में भी फिल्म को लेकर क्रेज देखा जा रहा है। बॉक्स ऑफिस इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, फिल्म ने दूसरे दिन 24.50 करोड़ रुपये कमाए हैं।

Sooryavanshi Box Office Collection day 2 akshay kumar Katrina kaif film  Strong position - Entertainment News India - Sooryavanshi Box Office  Collection: दूसरे दिन भी 'सूर्यवंशी' का बंपर कलेक्शन, अब तक कमाए ...

अक्षय और कैटरीना की फिल्म ने पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन थोड़ी कम कमाई की है। उम्मीद की जा रही है कि रविवार को ‘सूर्यवंशी’ और अच्छा बिजनेस करेगी। दो दिनों में अक्षय की फिल्म ने 50 करोड़ का कलेक्शन कर लिया है। साथ ही विदेशों में भी फिल्म से बढ़िया कमाई शुरू कर दी है।

फिल्म ‘सूर्यवंशी’ भारत में करीब 4 हजार से ज्यादा स्क्रीन पर रिलीज हुई है। विदेश में इसे 1300 स्क्रीन पर रिलीज किया गया है। रोहित शेट्टी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अक्षय और कटरीना के अलावा रणवीर सिंह और अजय देवगन भी हैं।

गुलशन ग्रोवर, सिकंदर खेर, अभिमन्यु सिंह और जावेद जाफेरी ने फिल्म में सपोर्टिंग रोल निभाए हैं। ‘सूर्यवंशी’ को रिलायंस एंटरटेनमेंट, रोहित शेट्टी पिक्चर्स, धर्मा प्रोडक्शंस और केप ऑफ गुड फिल्म्स ने मिलकर प्रोड्यूस किया है।

Chhath Puja 2021: कल से है छठ का महापर्व, नोट कर लें पूजा की विधि और सामग्री लिस्ट

0
Chhath Puja 2021: कल से है छठ का महापर्व, नोट कर लें पूजा की विधि और सामग्री लिस्ट

कार्तिक महीने की छठी तिथि को छठ पूजा(Chhath Puja) की शुरुआत हो जाती है। यह पर्व मुख्य रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में बड़ी धूमधाम से माया जाता है। यह पर्व 4 दिनों तक मनाया जाता है। छठ के दौरान महिलाएं लगभग 36 घंटे का व्रत रखती हैं। छठ के दौरान छठी मईया और सूर्यदेव की पूजा- अर्चना की जाती है। छठी मईया सूर्य देव की मानस बहन हैं।

आपको बता दें, छठ पूजा को दिवाली के 6 दिन बाद मनाया जाता है। इस साल 8 नवंबर से छठ पूजा(Chhath Puja) की शुरुआत होगी। छठ का महापर्व 4 दिनों तक मनाया जाता है। नहाय- खाय से छठ पूजा की शुरुआत होती है।

नहाया – खाय:

8 नवंबर 2021 को नहाय- खाय किया जाएगा। नहाय खाय के दिन पूरे घर की साफ- सफाई की जाती है और स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है। इस दिन चना दाल, कद्दू की सब्जी और चावल का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। अगले दिन खरना से व्रत की शुरुआत होती है।

Chhath Puja 2021: छठ पूजा की तैयारियां करने से पहले जान लें जरूरी बात, बहुत  भारी पड़ सकती हैं ये गलतियां | Know Chhath Puja 2021 date and Avoid these  mistakes during

खरना:

खरना 9 नवंबर 2021 से किया जाएगा। इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं और शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ वाली खीर का प्रसाद बनाती हैं और फिर सूर्य देव की पूजा करने के बाद यह प्रसाद ग्रहण किया जाता है। इसके बाद व्रत का पारणा छठ के समापन के बाद ही किया जाता है।

खरना के अगले दिन सूर्य भगवन को दिया जाता है अर्घ्य:

खरना के अगले दिन शाम के समय महिलाएं नदी या तालाब में खड़ी होकर सूर्य देव को अर्घ्य देती हैं। इस साल 10 नवंबर 2021 को शाम को सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा।

छठ पर्व का समापन:

खरना के अगले दिन छठ का समापन किया जाता है। इस साल 11 नवंबर को इस महापर्व का समापन किया जाएगा। इस दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले ही नदी या तालाब के पानी में उतर जाती हैं और सूर्यदेव से प्रार्थना करती हैं। इसके बाद उगते सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद पूजा का समापन कर व्रत का पारणा किया जाता है।

BJP: राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में PM Modi देंगे पार्टी की बेहतरी के मंत्र

0
BJP: राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में PM Modi देंगे पार्टी की बेहतरी के मंत्र

भाजपा(BJP) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक को बस कुछ ही समय में चालू होने ही वाली हैं। इस बैठक में पीएम मोदी कार्यकारिणी के देशभर के सदस्यों को पार्टी को कैसे बेहतर बनाएं इसके मंत्र देंगे।  इसकी जानकारी भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने शनिवार को दी। यह बैठक तीन बजे समाप्त होगी। यह बैठक कोरोना के चलते करीब डेढ़ साल बाद प्रत्यक्ष रूप से हो रही है। 

पार्टी सूत्रों के मुताबिक बैठक में हाल ही में कुछ राज्यों में हुए उपचुनाव में पार्टी को लगे आघात को देखते हुए पांच राज्यों के आगामी उपचुनाव के लिए नई रणनीति पर विचार होने की संभावना है। यह बैठक राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के भाषण से शुरू होगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समापन भाषण के साथ समाप्त होगी। इस बैठक में पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान में पार्टी के मसलों को लेकर भी नए सिरों से विचार किया जाएगा। 

एक भाजपा नेता ने कहा कि बैठक में सभी महत्वपूर्ण मसलों पर विचार होगा। पार्टी कोविड महामारी से निपटने में केंद्र सरकार की कामयाबी को लेकर उसकी तारीफ में प्रस्ताव भी पारित कर सकती है। टीकाकरण अभियान व देश के विकास के लिए पीएम मोदी की पहल व उनकी सफल विदेश यात्रा को लेकर भी पार्टी प्रशंसा करेगी। बैठक में देश की आर्थिक गतिविधियों में जबर्दस्त उछाल, रेकॉर्ड जीएसटी कलेक्शन को लेकर कई चर्चा होगी। 

Bjp National Executive Meets On Sunday As Party Gears Up For 5 State Polls  - भाजपा: राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आज, पीएम मोदी देंगे पार्टी की बेहतरी  के मंत्र - Amar Ujala

आपको जानकारी देदे पार्टी ने राज्य इकाइयों को भेजे पत्र में कहा है कि कोविड-19 प्रोटोकॉल के मद्देनजर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, राज्य महासचिव (संगठन) और उससे संबंधित राज्य के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अपने-अपने राज्य पार्टी कार्यालयों से वर्चुअल रूप से बैठक में शामिल होंगे। वहीं राष्ट्रीय पदाधिकारी, केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य दिल्ली के नेता सात नवंबर को एनडीएमसी कंवेंशन सेंटर में प्रत्यक्ष रूप से बैठक में भाग लेंगे। 

बता दे बैठक के एजेंडे में आगामी विधानसभा चुनावों और अन्य सामयिक मुद्दों पर चर्चा शामिल है। 2022 में कुल सात राज्यों के विधानसभा चुनाव होंगे। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में अगले साल की शुरुआत में चुनाव होंगे, वहीं हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चुनाव साल के अंत में होंगे। गौरतलब है पंजाब को छोड़कर इन सभी राज्यों में बीजेपी सत्ता में है। 

Bhai Dooj 2021: जानिए भाई दूज का महत्व और पौराणिक कथाएं, टीका का यह है शुभ मुहूर्त

0
Bhai Dooj 2021: जानिए भाई दूज का महत्व और पौराणिक कथाएं, टीका का यह है शुभ मुहूर्त

भाई दूज(Bhai Dooj) का त्योहार दिवाली के दो दिन बाद आता है। यह त्योहार भाई बहन के प्रेम का प्रतीक है। इस दिन बहन अपने भाई के माथे पर टीका लगाकर उसकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। इस दिन मृत्यु के देवता यमराज की पूजा का भी विधान है। ऐसी मान्यता है कि कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितिया तिथि को ही मृत्यु के देवता यमराज अपनी बहन यमुना के आग्रह पर उनके घर गए थे। यमुना को दिए गए वरदान स्वरूप ही इस त्योहार को मनाने की परंपरा शुरू हुई। जानिए भाई दूज का महत्व और पौराणिक कथाएं…

भाई दूज(Bhai Dooj) की कथा

– इस पर्व को मनाने से संबंधित पहली कथा यह है कि भाई दूज के दिन ही यमराज अपनी बहन यमुना के घर गए थे। इसके बाद से ही भाई दूज या यम द्वितीया मनाने की परंपरा शुरू हुई। सूर्य पुत्र यम और यमी भाई-बहन थे। यमुना के कई बार बुलाने पर एक दिन यमराज यमुना के घर पहुंचे। इस मौके पर यमुना ने यमराज को भोजन कराया और तिलक कर उनके खुशहाल जीवन की कामना की। इसके बाद जब यमराज ने बहन यमुना से वरदान मांगने को कहा, तो यमुना ने कहा कि, आप हर वर्ष इस दिन मेरे घर आया करो और इस दिन जो भी बहन अपने भाई का तिलक करेगी उसे तुम्हारा भय नहीं होगा। बहन यमुना के वचन सुनकर यमराज अति प्रसन्न हुए और उन्हें आशीष प्रदान किया। इसी दिन से भाई दूज पर्व की शुरुआत हुई।

– इस पर्व जे जुड़ी एक पौराणिक कथा ये भी है कि भाई दूज के दिन ही भगवान श्री कृष्ण नरकासुर राक्षस का वध कर वापस द्वारिका लौटे थे। इस दिन भगवान कृष्ण की बहन सुभद्रा ने फल, फूल, मिठाई और अनेकों दीये जलाकर उनका स्वागत किया था और भगवान श्री कृष्ण के मस्तक पर तिलक लगाकर उनके दीर्घायु की कामना की थी।

भाई दूज: जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त - Media Swaraj | मीडिया स्वराज

भाई दूज(Bhai Dooj) का महत्व

इस पर्व को भाऊ बीज, टिक्का, यम द्वितीय और भातृ द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। भाई दूज के दिन भाई और बहन को एक साथ यमुना में स्नान करना काफी शुभ माना गया है। इस दिन बहनें भाई की लंबी उम्र की कामना के लिए यम के नाम का दीपक घर के बाहर जलाती हैं। इससे अकाल मृत्यु का भय दूर होता है। इस दिन यम की पूजा करते हुए बहन प्रार्थना करें कि हे यमराज, श्री मार्कण्डेय, हनुमान, राजा बलि, परशुराम, व्यास, विभीषण, कृपाचार्य तथा अश्वत्थामा इन आठ चिरंजीवियों की तरह मेरे भाई को भी चिरंजीवी होने का वरदान दें।

भैया दूज कब किस मुहूर्त में करें?

भैया दूज कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया को होता है। दीपावली के दो दिन बाद भैया दूज मनाया जाता है। इस बार भाई दूज या यम द्विदतीया 6 नवंबर को पड़ रही है। इस दिन दोपहर 1 बजकर 10 मिनट से 3 बजकर 22 मिनट तक मुहूर्त भाइयों को टीका करने के लिए सबसे शुभ है। यानि शुभ मुहूर्त का कुल समय 2 घंटे और 12 मिनट का है।

Govardhan Pooja 2021:दिवाली के अगले दिन ही क्यों मनाई जाती है गोवर्धन पूजा, जाने वजह

0
Govardhan Pooja 2021:दिवाली के अगले दिन ही क्यों मनाई जाती है गोवर्धन पूजा, जाने वजह

फेस्टिव सीजन के बीच बाजारों और घरों में खूब रौनक देखने को मिलती है। दिवाली से दो दिन पहले जहां धनतेरस की चहल-पहल देखने को मिलती है, वहीं दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा(Govardhan Pooja) से वातावरण कृष्णमय हो जाता है। हर त्योहार से कोई न कोई पौराणिक कथा जुड़ी हुई है, ऐसे में क्या आप जानते हैं कि दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा क्यों मनाई जाती है, इसके पीछे क्या कहानी है। आइए, जानते हैं-

गोवर्धन पूजा(Govardhan Pooja) से श्रीकृष्ण की एक लीला जुड़ी हुई है। मान्यता है कि बृजवासी इंद्रदेव की पूजा करने की तैयारियों में लगे हुए थे। सभी पूजा में कोई भी कमी नहीं छोड़ना चाहते थे, इसलिए अपना सामर्थ्यनुसार सभी इंद्रदेव के लिए प्रसाद और भोग ली व्यवस्था में लगे हुए थे। यह सब देखकर श्रीकृष्ण ने अपनी माता यशोदा से सवाल किया कि आप किसकी पूजा की तैयारियां कर रहे हैं, इसपर माता यशोदा ने उत्तर दिया कि वो इंद्रदेव की पूजा करने की तैयारियों में लगी हुई हैं।

Govardhan Puja 2020 Today, Shubh Muhurat & Know its significance and  importance

मईया ने बताया कि इंद्र वर्षा करते हैं और उसी से हमें अन्न और हमारी गायों के लिए घास-चारा मिलता है। यह सुनकर कृष्ण जी ने तुरंत कहा मईया हमारी गाय तो अन्न गोवर्धन पर्वत पर चरती है, तो हमारे लिए वही पूजनीय होना चाहिए। इंद्र देव तो घमंडी हैं, वह कभी दर्शन नहीं देते हैं। कृष्ण की बात मानते हुए सभी ब्रजवासियों ने इन्द्रदेव के स्थान पर गोवर्धन पर्वत की पूजा की। इस पर क्रोधित होकर भगवान इंद्र ने मूसलाधार बारिश शुरू कर दी। वर्षा को बाढ़ का रूप लेते देख सभी ब्रज के निवासी भगवान कृष्ण को कोसने लगें। तब कृष्ण जी ने वर्षा से लोगों की रक्षा करने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी कानी अंगुली पर उठा लिया।

इसके बाद सभी गांववासियों ने अपनी गायों सहित पर्वत के नीचे शरण ली। इससे इंद्र देव और अधिक क्रोधित हो गए तथा वर्षा की गति और तेज कर दी। इन्द्र का अभिमान चूर करने के लिए तब श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से कहा कि आप पर्वत के ऊपर रहकर वर्षा की गति को नियंत्रित करें और शेषनाग से मेंड़ बनाकर पर्वत की ओर पानी आने से रोकने के लिए कहा। इंद्र देव लगातार रात-दिन मूसलाधार वर्षा करते रहे। कृष्ण ने सात दिनों तक लगातार पर्वत को अपने हाथ पर उठाएं रखा। इतना समय बीत जाने के बाद उन्हें एहसास हुआ कि कृष्ण कोई साधारण मनुष्य नहीं हैं। तब वह ब्रह्मा जी के पास गए तब उन्हें ज्ञात हुआ कि श्रीकृष्ण कोई और नहीं स्वयं श्री हरि विष्णु के अवतार हैं। इतना सुनते ही वह श्री कृष्ण के पास जाकर उनसे क्षमा मांगने लगें।

Bhai Dooj 2021: भाई दूज का क्या है महत्व? जानिए इस पर्व की कथा

0
Bhai Dooj 2021: भाई दूज का क्या है महत्व? जानिए इस पर्व की कथा

दिवाली के तीसरे दिन यानी आखिरी दिन भाई दूज(Bhai Dooj) मनाया जाता है। कार्तिक के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को ‘यम द्वितीया’ के रूप में मनाने की भी परंपरा रही है। यम द्वितीया को भाई दूज या भैया दूज भी कहा जाता है, इसके पीछे एक कहानी है। इस दिन यमराज और उनकी बहन यमुना की पूजा की परंपरा है। भाई दूज का पर्व भाई-बहन के रिश्ते पर आधारित पर्व है, जिसे बड़ी श्रद्धा और परस्पर प्रेम के साथ मनाया जाता है। रक्षाबंधन के बाद, भाईदूज ऐसा दूसरा त्योहार है, जो भाई बहन के अगाध प्रेम को समर्पित है।

भाई दूज की कथा – सूर्यदेव की पत्नी छाया की कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ। यमुना अपने भाई यमराज से स्नेहवश निवेदन करती थी कि वे उसके घर आकर भोजन करें। लेकिन यमराज व्यस्त रहने के कारण यमुना की बात को टाल जाते थे।कार्तिक शुक्ल द्वितीया को यमुना अपने द्वार पर अचानक यमराज को खड़ा देखकर हर्ष-विभोर हो गई। प्रसन्नचित्त हो भाई का स्वागत-सत्कार किया तथा भोजन करवाया। इससे प्रसन्न होकर यमराज ने बहन से वर मांगने को कहा।तब बहन ने भाई से कहा कि आप प्रतिवर्ष इस दिन मेरे यहां भोजन करने आया करेंगे तथा इस दिन जो बहन अपने भाई को टीका करके भोजन खिलाए उसे आपका भय न रहे। यमराज ‘तथास्तु’ कहकर यमपुरी चले गए। ऐसी मान्यता है कि जो भाई आज के दिन यमुना में स्नान करके पूरी श्रद्धा से बहनों के आतिथ्य को स्वीकार करते हैं उन्हें तथा उनकी बहन को यम का भय नहीं रहता।

भाई दूज का महत्व : इस पर्व को भाऊ बीज, टिक्का, यम द्वितीय और भातृ द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। भाई दूज के दिन भाई और बहन को एक साथ यमुना में स्नान करना काफी शुभ माना गया है। इस दिन बहनें भाई की लंबी उम्र की कामना के लिए यम के नाम का दीपक घर के बाहर जलाती हैं। इससे अकाल मृत्यु का भय दूर होता है। इस दिन यम की पूजा करते हुए बहन प्रार्थना करें कि हे यमराज, श्री मार्कण्डेय, हनुमान, राजा बलि, परशुराम, व्यास, विभीषण, कृपाचार्य तथा अश्वत्थामा इन आठ चिरंजीवियों की तरह मेरे भाई को भी चिरंजीवी होने का वरदान दें।

Diwali 2021: जाने क्यों मनाया जाता है दीपों का त्योहार, क्या है इसका इतिहास..

0
Diwali 2021: जाने क्यों मनाया जाता है दीपों का त्योहार, क्या है इसका इतिहास..

दीवाली(Diwali) भारत का प्रमुख त्यौहार है। पुरे भारतवश में यह त्यौहार बड़े धुमधाम से मनाया जाता है। दीपावली मनाने के पीछे कई पौराणिक कथाएं और मान्यताएं हैं। इसी अनुसार देश के अलग-अलग हिस्सों में इसे मनाने के तरीकों में भी विभिन्नता पाई जाती हैं। आइए जानते हैं आखिर दिवाली क्यों मनाई जाती है-

1- भगवान राम अयोध्या लौटे थे

माना जाता है कि जब भगवान राम रावण को हराकर और चौदह वर्ष का वनवास पूरा कर अयोध्या लौटे तो नगरवासियों ने पूरे अयोध्या को रोशनी से सजा दिया और यहां से ही भारतवर्ष में दिवाली के त्योहार का चलन शुरू होना माना जाता है।

2- हिरण्यकश्यप का वध

एक पौराणिक कथा के अनुसार विष्णु ने नरसिंह रूप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था। दैत्यराज की मृत्यु पर प्रजा ने घी के दीये जलाकर दिवाली मनाई थी।

3- कृष्ण ने नरकासुर का वध किया

कृष्ण ने अत्याचारी नरकासुर का वध दीपावली के एक दिन पहले चतुर्दशी को किया था। इसी खुशी में अगले दिन अमावस्या को गोकुलवासियों ने दीप जलाकर खुशियां मनाई थीं।

4- शक्ति ने धारण किया महाकाली का रूप

राक्षसों का वध करने के बाद भी जब महाकाली का क्रोध कम नहीं हुआ तब भगवान शिव स्वयं उनके चरणों में लेट गए। भगवान शिव के शरीर स्पर्श मात्र से ही देवी महाकाली का क्रोध समाप्त हो गया। इसी की याद में उनके शांत रूप लक्ष्मी की पूजा की शुरुआत हुई। इसी रात इनके रौद्ररूप काली की पूजा का भी विधान है।

5- प्रकट हुए लक्ष्मी, धन्वंतरि व कुबेर

पौराणिक ग्रंथों के अनुसार दीपावली के दिन ही माता लक्ष्मी दूध के सागर, जिसे केसर सागर के नाम से जाना जाता है, से उत्पन्न हुई थीं। साथ ही समुद्र मन्थन से आरोग्यदेव धन्वंतरि और भगवान कुबेर भी प्रकट हुए थे।

Indian Railways: IRCTC ने बताया कैसे करे कन्फर्म लोअर बर्थ की बुकिंग, जानें प्रोसेस

0
Indian Railways: IRCTC ने बताया कैसे करे कन्फर्म लोअर बर्थ की बुकिंग, जानें प्रोसेस

दीपों का पर्व शुरू हो गया है, और इसकी पहल बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन्स(Indian Railways) पर देखने को मिल रही है। जैसे ही त्यौहार का सीजन शुरू होता है, वैसे ही लोगों को अपने घर की जल्दी होती है। इसी के चलते इंडियन रेलवे की तरफ से ट्रेनों में सफर करने के दौरान सीनियर सिटिजंस को लोअर बर्थ की प्राथमिकता दी जाती है। लेकिन कई बार ऐसा भी होता है जब टिकट बुकिंग के दौरान सीनियर सिटिजन के लिए आग्रह करने के बावजूद लोअर बर्थ नहीं मिलता है। इससे उन्हें यात्रा में परेशानी होती है।

ट्विटर पर एक यात्री ने भारतीय रेलवे से ये सवाल पूछा कि ऐसा क्यों है, इसे ठीक किया जाना चाहिए। यात्री ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को टैग करते हुए लिखा है कि सीट आवंटन को चलाने का क्या तर्क है, मैंने तीन सीनियर सिटिजंस के लिए लोअर बर्थ प्रेफरेंस के साथ टिकट बुक की थीं, तब 102 बर्थ मुहैया थीं, बावजूद इसके उन्हें मिडिल बर्थ, अपर बर्थ और साइड लोअर बर्थ दी गईं। आपको इसे सुधारना चाहिए।

book train tickets in lockdown how to download IRCTC app and create account  - लॉकडाउन में बुक करनी है ट्रेन टिकट तो डाउनलोड करें IRCTC का App, अकाउंट  नहीं है तो ऐसे

IRCTC ने ट्विटर पर इस सवाल पर अपनी सफाई दी है। IRCTC ने जवाब दिया कि- महोदय, लोअर बर्थ/सीनियर सिटिजन कोटा बर्थ केवल 60 वर्ष और उससे अधिक, 45 वर्ष और उससे अधिक की महिला आयु के लिए निर्धारित निचली बर्थ हैं, जब वो अकेले या दो यात्री सफर करते हैं। IRCTC ने आगे कहा कि अगर दो से अधिक वरिष्ठ नागरिक या एक वरिष्ठ नागरिक है और दूसरा वरिष्ठ नागरिक नहीं हैं, तो सिस्टम इस पर विचार नहीं करेगा।

आपको बता दें कि भारतीय रेलवे ने पिछले साल कोरोनोवायरस महामारी को देखते हुए गैर-जरूरी यात्रा को कम करने के लिए वरिष्ठ नागरिकों सहित कई श्रेणियों के लोगों के रियायती टिकटों (Concessional Tickets) को निलंबित कर दिया था। रेलवे ने यह भी कहा कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए रियायतें वापस ले ली गई हैं क्योंकि COVID-19 वायरस के कारण फैलने और मृत्यु दर का जोखिम उस श्रेणी में सबसे अधिक है।

श्रीनगर से शारजाह की फ्लाइट पर आगबबूला हुआ Pakistan, अपने एयरस्पेस का इस्तेमाल करने पर लगाई रोक

0
श्रीनगर से शारजाह की फ्लाइट पर आगबबूला हुआ Pakistan, अपने एयरस्पेस का इस्तेमाल करने पर लगाई रोक

पाकिस्तान(Pakistan) का एक बार फिर आगबबूला गया। श्रीनगर से शारजाह के बीच शुरू हुई फ्लाइट को लेकर पाकिस्तान भड़क गया। जिसके बाद उसने अपने एयरस्पेस से फ्लाइट के उड़ान भरने पर रोक लगा दी।

दरअसल, पाकिस्तान ने मंगलवार को श्रीनगर से शारजाह जा रही फ्लाइट को अपना एयरस्पेस का इस्तेमाल करने से रोक दिया, जिसके बाद फ्लाइट को घूमकर शारजाह वापस जाना पड़ा। माना जा रहा है कि कश्मीर से फ्लाइट होने की वजह से पाकिस्तान भड़का हुआ है। उसने इससे पहले भी कश्मीर से उड़ने वाली अंतर्राष्ट्रीय उड़ान को अपना एयरस्पेस इस्तेमाल करने से रोक दिया था।

ऐसे में अब्दुल्ला ने ट्विटर के जरिए एक ट्वीट शेयर किया कि ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण पाकिस्तान की ओर से एयरस्पेस का इस्तेमाल नहीं करने देने पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण. 2009-10 में भी श्रीनगर से दुबई जाने वाली एयर इंडिया एक्सप्रेस के साथ पाकिस्तान ने ऐसा ही किया था। मुझे उम्मीद थी कि गो फर्स्ट एयर के विमान को एयरस्पेस के इस्तेमाल की मंजूरी देना रिश्तों में सुधार के संकेत थे लेकिन अफसोस ऐसा नहीं होना था।’

आपको बता दे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 23 अक्टूबर को श्रीनगर-शारजाह फ्लाइट को हरी झंडी दिखाई थी। ये फ्लाइट गो फर्स्ट एयर ने शुरू की है। गो फर्स्ट ने श्रीनगर से शारजाह तक सीधी अंतरराष्ट्रीय उड़ान और अंतरराष्ट्रीय कार्गो संचालन शुरू करने वाली पहली एयरलाइन है। गो फर्स्ट श्रीनगर और शारजाह के बीच एक सप्ताह में चार फ्लाइट्स का संचालन करेगी। एयरलाइन ने अपने एक बयान में कहा था कि शारजाह के लिए सीधे उड़ान शुरू होने से श्रीनगर और यूएई के बीच व्यापार और पर्यटन को बढ़ावा भी मिलेगा।

Pakistan: TLP के सामने इमरान खान ने घुटने टेके, जानें क्या हुई ‘सीक्रेट डील’

0
Pakistan: TLP के सामने इमरान खान ने घुटने टेके, जानें क्या हुई 'सीक्रेट डील'

पाकिस्तान(Pakistan) में जारी हिंसा अब थम सकती है। पाकिस्तानी पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले मुस्लिम कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक के सामने इमरान खान सरकार ने घुटने टेक दिए हैं। पाकिस्तान ने टीएलपी के 2000 कार्यकर्ताओं को रिहा करने का फैसला किया है। यही नहीं इमरान सरकार ने टीएलपी को चुनाव लड़ने की अनुमति दे दी है।

टीएलपी की हिंसा और धरने से घबराई इमरान खान सरकार ने पहले कार्रवाई की गीदड़भभकी दी लेकिन बाद में शर्मनाक समझौता कर लिया।इस डील के तहत पाकिस्तान सरकार ने टीएलपी के 860 कार्यकर्ताओं को रिहा कर दिया है, बदले में टीएलपी से मांग की गई है कि वह पाकिस्तान में हिंसक प्रदर्शन को भी जल्द से जल्द रोक दे। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय ने इसकी पुष्टि की है। विभाग की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि टीएलपी के 860 कार्यकर्ताओं को छोड़ दिया गया है, इन्हें बीते दिनों हुई हिंसा के बाद हिरासत में लिया गया था। किसी भी कार्यकर्ता के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया था।

Pakistan arrests over 100 TLP members - Times of India

पूरे मामले की जानकारी

कुछ समय पहले फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने इस्लाम के पैगंबर मोहम्मद का कार्टून क्लास में दिखाए जाने को अभिव्यक्ति की आजादी बताया था। यहीं से इस मामले की शुरुआत हुई । इस बयान के खिलाफ इस्लामिक पार्टी टीएलपी ने प्रदर्शन करते हुए मांग की कि पाकिस्तान से फ्रांस के राजदूत को जल्द से जल्द निष्कासित किया जाए। इस मांग के समर्थन में अप्रैल में पाकिस्तान में उग्र प्रदर्शन हुआ और हिंसा भड़क गई। इसके बाद पाकिस्तानी पुलिस ने टीएलपी प्रमुख साद रिजवी के साथ कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया था।

साद रिजवी की रिहाई को लेकर भड़की हिंसा

टीएलपी प्रमुख साद रिजवी को हिरासत में लिए जाने के बाद टीएलपी समर्थकों ने पाकिस्तान में प्रदर्शन शुरू कर दिया। बीते कुछ दिनों से जारी हिंसक प्रदर्शन में अब तक 21 लोगों की मौत की खबर सामने आ चुकी है। इसमें 10 पुलिसकर्मी तो वहीं 11 टीएलपी समर्थक शामिल हैं। बीते दिनों इमरान सरकार ने 350 कार्यकर्ताओं को रिहा किया था। अब 860 और समर्थकों को रिहा किया गया है।

Pakistan TLP: कौन है 'साद रिजवी'? जिसकी गिरफ्तारी के कारण जल रहा पाकिस्तान,  'आतंकियों' में तब्दील हुए प्रदर्शनकारी | Tehreek e Labbaik Pakistan protest  over saad rizvi ...

अभी तक प्रदर्शन खत्म होने की संभावना नहीं

इमरान सरकार के 860 टीएलपी कार्यकर्ताओं को रिहा करने के बाद भी , प्रदर्शन खत्म होने की कोई संभावना नहीं है। दरअसल, टीएलपी की मांग है कि उसके सभी कार्यकर्ताओं को रिहा किया जाए। इसको लेकर रविवार को पाकिस्तान सरकार और टीएलपी के बीच वार्ता भी हुई थी। इसके बाद टीएलपी के प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहे मौलवी मुनीबुर रहमान ने रविवार को सरकार के साथ समझौता किया।

इसके बाद उन्होंने घोषणा की कि टीएलपी के कार्यकर्ता लाहौर से 150 किमी दूर वजीराबाद में धरना देंगे। उन्होंने 10 हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं को मेन जीटी रोड छोड़ने को भी कह दिया है। हालांकि, मौलवी मुनीबुर ने ये भी चेतावनी दी है कि अगर पार्टी के और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया जाता है तो ये समझौता रद्द हो जाएगा ।

Narak Chaturdashi 2021: छोटी दिवाली पर भी मनाई जाती है हनुमान जयंती, इस तरह करे पूजा, न करे यह काम

0
Narak Chaturdashi 2021: छोटी दिवाली पर भी मनाई जाती है हनुमान जयंती, इस तरह करे पूजा, न करे यह काम

दिवाली कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती है। दिवाली से एक दिन पहले नरक चौदस(Narak Chaturdashi) या छोटी दिवाली(Choti Diwali) मनाई जाती है। “नरक” पौराणिक राक्षस राजा नरकासुर को संबोदित करता है और “चतुर्दशी” का अर्थ है चौदहवाँ दिन। लेकिन आपको ये नहीं पता होगा कि छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी के दिन ही हनुमान जयंती भी मनाई जाती है। हनुमान जयंती साल में दो बार मनाई जाती है। पहली हनुमान जयंती चैत्र मास की पूर्णिमा को, जबकि दूसरी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती है। मान्यता है कि आज हनुमान जी की विशेष अराधना करने से सारे संकट दूर हो जाते हैं।

आपको बता दें, छोटी दिवाली पर पूरे शरीर पर तिल का तेल लगाकर स्नान करने की परंपरा है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन तिल के तेल से मालिश करने बाद स्नान करने वालों को शुभ फल मिलते हैं। इस दिन हनुमान जी की मूर्ति स्थापित करी जाती है और धूप, दीप, नवैद्य, दीप जलाकर उनकी पूजा की जाती है। हनुमान जी को गुलाब की माला चढ़ाएं और सिन्दूर लगाएं उसके बाद उनकी आरती करें।

Hanuman Jayanti 2020: Body pain end to this stuti of Hanumanji

इन बातों को ध्यान में रखें –

  1. हनुमान जी की पूजा में सिंदूर का इस्तेमाल जरूर करें। ऐसा करने से इंसान के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। इस दिन बरगद के पेड़ के पत्ते से हनुमान जी की पूजा करने वालों के आर्थिक संकट दूर होते हैं। इसके लिए बरगद के पेड़ के पत्ते को गंगाजल से धोकर हनुमानजी को अर्पित करें।
  2. हनुमान जी की पूजा में उनको पान का बीड़ा जरूर चढ़ाएं। कहा जाता है कि इससे हनुमान जी की विशेष कृपा होती है और तरक्की के रास्ते खुल जाते हैं। इसके अलावा हनुमान जी की पूजा में केवड़े का इत्र और गुलाब की माला भी शामिल करें।
  3. हनुमान जयंती के दिन लाल रंग के वस्त्र पहन कर हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। हनुमान जी को बूंदी के लड्डू या प्रसाद अवश्य चढ़ाएं।
  4. छोटी दिवाली के दिन पीपल के 11 पत्तों पर लाल चंदन से श्री राम लिखें और इन पत्तों को मंदिर में जाकर हनुमानजी को चढ़ा दें। मान्यता है कि ऐसा करने वाले लोगों को धन का लाभ होता है।
हनुमानजी को प्रसन्न करने का उपाय Aaj ka Rashifal, How to please Hanumanji

छोटी दिवाली पर न करें ये गलतियां –

  1. हनुमान जी की पूजा काले या सफेद रंग के कपड़े पहनाकर बिल्कुल न करें। ऐसा करने पर आपकी पूजा पर नकरात्मक प्रभाव पड़ता है।
  2. हनुमान जी की पूजा करने वाले भक्त को मंगलवार या हनुमान जयंती के व्रत वाले दिन नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि दान में दी गई वस्तु, विशेष रूप से मिठाई का स्वयं सेवन न करें।
  3. बजरंग बली काफी शांतप्रिय देवता माने जाते हैं, इसलिए उनकी साधना बड़े ही शांत मन से करनी चाहिए। यदि आपका मन अशांत है या फिर आपको किसी बात पर क्रोध आ रहा है, तो ऐसे में हनुमान जी की पूजा न करें।
  4. बहुत कम ही लोग इस बात को जानते हैं कि हनुमान जी की पूजा में कभी भी चरणामृत का प्रयोग नहीं किया जाता है। मांस-मदिरा का सेवन करने के बाद भी न तो हनुमान मंदिर जाएं और न ही उनकी पूजा करें।
  5. हनुमानजी की पूजा करते समय ब्रह्राचर्य व्रत का पालन करना आवश्यक होता है। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी होने की वजह से स्त्रियों के स्पर्श से दूर रहते थे। ऐसे में पूजा के दौरान स्त्रियों को हनुमान जी को स्पर्श नहीं करना चाहिए।

Narak Chaturdashi 2021: जाने इस दिन का महत्व, दीपदान यह है शुभ मुहूर्त

0
Narak Chaturdashi 2021: जाने इस दिन का महत्व, दीपदान यह है शुभ मुहूर्त

दिवाली की धूमधाम आप सभी को हर जगह देखने को मिल रही होगी। धनतेरस के अगले दिन छोटी दिवाली मनाई जाती है, जिसको नरक चौदस(Narak Chaturdashi) भी कहते हैं। “नरक” पौराणिक राक्षस राजा नरकासुर को संबोदित करता है और “चतुर्दशी” का अर्थ है चौदहवाँ दिन। वार्षिक आयोजन हिंदू कैलेंडर के अश्विन महीने में कृष्ण पक्ष के चौदहवें दिन छोटी दिवाली या नरक चौदस मनाई जाती है। इस दिन को छोटी दिवाली, रूप चतुर्दशी और यम दीपावली के नाम से भी पहचाना जाता है। इस दिन शाम को मत्यु के देवता यमराज के नाम से भी एक दीपक जलाने की परंपरा है।

मान्यता है कि ऐसा करने से घर के पूर्वज प्रसन्न होते हैं और परिवार के सदस्यों पर अपना आशीर्वाद बनाए रखते हैं। छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी के दिन एक काम करने की मनाही होती है। मान्यता है कि इस काम को करने से सुख-समृद्धि की हानि होती है। आइए जानते हैं आखिर क्या है वो एक चीज।

नरक चतुर्दशी और यम पूजन का महत्व

नरक चतुर्दशी के दिन भूलकर भी अपने घर को खाली नहीं छोड़ना चाहिए। अगर किसी जरुरी काम से आपको बाहर जाना ही पड़े तो कोशिश करें घर में आपके अलावा कोई न कोई अवश्य मौजूद रहे। घर में समृद्धि का वास बनाए रखने और अकाल मत्यु से बचने के लिए आज के दिन नरक चतुर्दशी पर घर की दक्षिण दिशा में एक दीपक में कौड़ी, 1 रूपये का सिक्का रखकर जलाकर यमराज से अकाल मत्यु से बचने के लिए प्रार्थना करें।

रक चतुर्दशी 2021 पर इस समय करें दीपदान- नरक चतुर्दशी के दिन दीपदान प्रदोष काल में किया जाता है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार, इस दिन सुबह 6 बजे से पहले स्नान करना उत्तम रहेगा।

चौघड़िया मुहूर्त
सुबह 06:34 से 07:57 तक- लाभ
सुबह 07:57 से 09:19 तक- अमृत
सुबह 10:42 से दोपहर 12:04 तक- शुभ
दोपहर 02:49 से 04:12 तक- चर
शाम 04:12 से 05:34 तक- लाभ

Dhanteras 2021: धनतेरस के मौके पर इन चीजों को खरीदने से बचें, हो सकता है नुकसान

0
Dhanteras 2021: धनतेरस के मौके पर इन चीजों को खरीदने से बचें, हो सकता है नुकसान

दिवाली का त्यौहार कार्तिक माह में मनाया जाता है। दिवाली से दो दिन पहले धनतेरस(Dhanteras) का पर्व मनाया जाता है, जिसमें सोना – चाँदी खरीदना शुभ माना जाता है। धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि, मृत्यु के देवता यमराज, कुबेर देव और माता लक्ष्मी का पूजन किया जाता है। जहाँ धनतेरस पर कुछ चीज़ें खरीदना शुभ होता है, वहीँ कुछ चीज़ें खरीदने से आपको नुक्सान भी हो सकता है।

  1. स्टील से बनी चीजें (Steel)- धनतेरस के दिन बहुत से लोग स्टील के बर्तन घर ले आते हैं, जबकि इन्हें खरीदने से बचना चाहिए। स्टील शुद्ध धातु नहीं है। इस पर राहु का प्रभाव भी ज्यादा होता है। आपको सिर्फ प्राकृतिक धातुओं की ही खरीदारी करनी चाहिए। मानव निर्मित धातु में से केवल पीतल खरीदा जा सकता है।
  2. एल्यूमिनियम का सामान (Aluminium)- धनतेरस पर कुछ लोग एल्यूमिनियम के बर्तन या सामान भी खरीद लेते हैं। इस धातु पर भी राहु का प्रभाव अधिक होता है। एल्यूमिनियम को दुर्भाग्य का सूचक माना गया है। त्योहार पर एल्यूमिनियम की कोई भी नई चीज घर में लाने से बचें।
  3. लोहे की वस्तुएं (Iron)- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, लोहे को शनिदेव का कारक माना जाता है। इसलिए लोहे से बनी चीजों को धनतेरस पर भूलकर भी खरीदने की गलती न करें। ऐसा करने से त्योहार पर धन कुबेर की कृपा नहीं होती है।
  4. नुकीली या धारदार चीजें (Sharp Objects)– धनतेरस के दिन धारदार वस्तुएं खरीदने से बचें। इस दिन चाकू, कैंची, पिन, सूई या कोई धारदार सामान खरीदने से सख्त परहेज करना चाहिए। धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना शुभ नहीं माना जाता है।
  5. प्लास्टिक का सामान (Plastic)- धनतेरस पर कुछ लोग प्लास्टिक की बनी चीजें घर ले आते हैं। बता दें कि प्लास्टिक बरकत नहीं देता है। इसलिए धनतेरस पर प्लास्टिक से बना किसी भी तरह का सामान घर न लेकर आएं।

S -400 मिसाइल सिस्टम सौदे मे भारत को प्रतिबंधों से बचाने के लिए अमेरिकी सांसदों ने कही बड़ी बात, जाने क्या उठाया कदम

0
S -400 मिसाइल सिस्टम सौदे मे भारत को प्रतिबंधों से बचाने के लिए अमेरिकी सांसदों ने कही बड़ी बात, जाने क्या उठाया कदम

देशों के पारस्परिक संबंध की बात करे तो रूस भारत का पारंपरिक सहयोगी रहा हैं। सोवियत संघ के ज़माने से ही भारत और रूस में भरोसे का रिश्ता रहा है। दूसरी ओर अमेरिका और भारत में पिछले 15 सालों में सुरक्षा साझेदारी बढ़ी है। रूस और अमेरिका की स्पर्धा भी सोवियत के समय से ही है।

कुछ समय से भारत और रूस के बीच S -400 मिसाइल सिस्टम सौदे को लेकर अमेरिका का पक्ष लगातार चर्चा में बना हुआ है। ये आशंका जताई जा रही थी कि रूस के साथ S -400 मिसाइल का सौदा करने के चलते अमेरिका भारत पर प्रतिबंध लगा सकता है। हालांकि अमेरिकी राजनीति में कई लोग इस मामले मे भारत का लगातार समर्थन कर रहे हैं।

इस सौदे के मामले को लेकर डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन सीनेटर मार्क वार्नर और जॉन कॉर्निन ने कहा था कि ‘काउंटरिंग अमेरिका एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस’ (सीएएटीएसए), जिसके तहत भारत पर प्रस्तावित प्रतिबंधों को लेकर विचार किया जा रहा है, उससे भारत को छूट मिलनी चाहिए। अब भारत के पक्ष में तीन और अमेरिकी सांसदों ने एक संशोधन पेश किया है।

Russia to deliver S-400 by 2021-end, but will supply missiles and bombs  amid LAC tensions

आपको बता दे की ‘राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण अधिनियम 2022’ में रिपब्लिक के तीन सीनेटरों ने एक संशोधन पेश किया है। इस संशोधन का मकसद है कि रूसी हथियार खरीदने वाले क्वॉड देशों को थोड़ी रियायत मिले और उन पर प्रतिबंध आसानी से ना लगाया जा सके. क्वॉड देशों में भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका है। अमेरिका ने ये कदम तब उठाया है जब भारत को मॉस्को से S -400 मिसाइल अगले एक महीने में मिलने की उम्मीद है।

मीडिया से बात करते हुए एक रिपब्लिकन सीनेट ने कहा की अमेरिकी सांसदों ने चीन के साथ भारत की सुरक्षा स्थिति को मान्यता दी है। उन्होंने कहा कि भारत क्वॉड देशों के केंद्र में है जो चीन का मुकाबला करने के लिए आपस में सहयोग कर रहे हैं। भारत एकमात्र ऐसा क्वॉड देश है जो चीन के साथ बॉर्डर साझा करता है, वो एकमात्र सदस्य जिसने चीन के साथ युद्ध में अपने सैनिकों को खोया है।

इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि वे भारत के रक्षा हथियारों की खरीद में भी बदलाव देखना चाहते हैं। उन्होंने बताया की साल 2033-34 तक भी अगर भारत रूस के साथ जा रहा है और क्वॉड के साथ संबंधों को गहरा करने पर खास फोकस नहीं कर रहा है तो मुझे लगता है कि ये एक अलग मुद्दा हो सकता है। इसलिए मेरे हिसाब से समय के साथ-साथ कदम उठाए जाने चाहिए।

My Bharat News - Article image

बता दें कि इससे पहले रूस से S -400 मिसाइल सिस्टम खरीदने की वजह से अमेरिका ने नैटो के सदस्य देश तुर्की पर प्रतिबंध लगाए थे। ऐसे मे इस बात की आशंका जताई जाती रही है कि रूस से सौदे को लेकर अमेरिका भारत पर भी इस तरह के प्रतिबंध लगा सकता है।

ऐसे में भारत के सामने धर्मसंकट की स्थिति पैदा होती है कि वो किसके साथ कितना रिश्ता रखे. लेकिन अंतरराष्ट्रीय राजनीति में इसका कोई पैमाना नहीं होता है।

Bollywood: अनुष्का-विराट की बेटी को रेप की धमकी, दिल्ली महिला आयोग ने लिया सख्त एक्शन

0
Bollywood: अनुष्का-विराट की बेटी को रेप की धमकी, दिल्ली महिला आयोग ने लिया सख्त एक्शन, की गिरफ्तारी की मांग

Bollywood: टीम इंडिया को टी-20 वर्ल्ड कप के पहले मैच में पाकिस्तान से मिली करारी हार के बाद तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को निशाना बनाया गया था । कुछ यूजर्स ने शमी के धर्म पर निशाना साधते हुए उन्हें गद्दार तक कह डाला। इसके बाद कप्तान विराट कोहली ऐसे ट्रोलर्स पर जमकर बरसे थे और उन्होंने कहा था कि जिन लोगों ने ऐसा किया है वे बिना रीढ़ के होते हैं।

हालांकि ट्रोलर्स को विराट की नाराजगी ठीक नहीं लगी और वे उनकी बच्ची को लेकर गालियां और असंवेदनशील टिप्पणी करने लगे। यहां तक कि रेप की धमकी भी देते रहे। रेप से जुड़ा यह पोस्ट आंद्रे बोर्गेस ने शेयर किया है। टीम के कप्तान विराट कोहली की बेटी वामिका को धमकी देने के मामले में दिल्ली महिला आयोग ने सख्त कदम उठाया है। आयोग ने दिल्ली पुलिस को नोटिस भेजकर आरोपी को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है।

Anushka Sharma & Virat Kohli Daughter Name Revealed Vamika | #vamika  #virushka - YouTube

इस मामले की कड़ी निंदा करते हुए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने कहा की ये बर्ताव बहुत ही शर्मनाक बताया है। उन्होंने पुलिस से आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है।

आपको बतादे की रेप की धमकी मिलने के बाद यूजर्स ने कोहली का सपोर्ट किया है। एक ने लिखा कि जिस तरह से कुछ घटिया लोग पहले से ही वामिका को ट्रोल कर रहे हैं, वह हमारे देश के स्तर को दर्शाता है, यह अच्छा है कि विराट-अनुष्का ने उसे सोशल मीडिया से दूर रखने का फैसला किया है ।

ICC T20 : दोनों मैच हारने के बाद टीम इंडिया के लिए बड़ी खुशखबरी, युवराज सिंह ने मैदान में उतरने का किया फैसला

0
ICC T20 : दोनों मैच हारने के बाद टीम इंडिया के लिए बड़ी खुशखबरी, युवराज सिंह ने मैदान में उतरने का किया फैसला

टीम इंडिया का प्रदर्शन T20 वर्ल्ड कप में कुछ ख़ास नहीं दिख रहा है। टीम इंडिया पाकिस्तान से हारी तो वहीं न्यूजीलैंड से भी टीम इंडिया को मुँह की खानी पड़ी। टीम के ख़राब प्रदर्शन के चलते टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी युवराज सिंह ने मैदान में उतरने की घोषणा की है।

आपको बता दें, युवराज सिंह ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिये इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने एक वीडियो पोस्ट की है जिसमे वो अपना आखिरी इंटरनेशनल शतक लगाते हुए दिख रहे हैं। इस वीडियो में बॉलीवुड का फेमस गाना तेरी मिट्टी भी बज रहा है युवी ने कैप्शन में लिखा, ‘भगवान आपकी मंजिल तय करता है। फरवरी के महीने में फैंस की डिमांड पर मैं फिर से पिच पर वापसी करूंगा। आपके प्यार और अच्छी दुआओं के लिए शुक्रिया। ये मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। हमेशा सपोर्ट करते रहे और यही एक सच्चे फैन की निशानी होती है।’ इस ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि वो जल्द ही मैदान पर खेलते हुए दिखेंगे।

भारत के दिग्गज बल्लेबाज युवराज सिंह ने इंग्लैंड के गेंदबाज स्टूअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 6 छक्के लगाए थे। जिससे दुनिया उन्हें सिक्सर किंग के नाम से जानने लगी। हालांकि युवराज ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि वो कौन सा टूर्नामेंट खेलने वाले हैं।

युवराज सिंह ने साल 2019 में इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया था। इसके बाद उनको ग्लोबल कनाडा टी-20 लीग और रोड सेफ्टी सीरीज में खेलते हुए देखा गया है। युवराज ने फरवरी में वापसी का ऐलान किया है। हो सकता है वो रोड सेफ्टी सीरीज से वापसी करें। युवराज जब अपनी लय में होते हैं तो किसी भी गेंदबाजी क्रम की बखिया उधेड़ सकते हैं।

UP Vidhansabha Chunav: बीजेपी ने सपा में गए विधायकों का लिया बदला, सपा के विधायक सुभाष पासी को अपने पाले में किया शामिल

0
UP Vidhansabha Chunav: बीजेपी ने सपा में गए विधायकों का लिया बदला, सपा के विधायक सुभाष पासी को अपने पाले में किया शामिल

यूपी विधानसभा चुनाव(UP Vidhansabha Chunav) से पहले सभी पार्टीया एक के बाद एक दाव फेकने में पड़ी हैं। आए दिन सूबे के नेताओं के दल बदलने का दौर जारी है। ऐसे में बीजेपी और सपा के बीच शह-मात का खेल शुरू हो गया। दरअसल, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने पिछले दिनों बीजेपी के सीतापुर से विधायक राकेश राठौर को अपने खेमे में शामिल कर लिया तो अब बीजेपी ने सपा के दो बार के विधायक सुभाष पासी को अपने पाले में कर लिया है।

गोरतलब हैं गाजीपुर की सैदपुर विधानसभा सीट से दो बार के सपा विधायक सुभाष पासी मंगलवार को बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। बीजेपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, सीएम योगी आदित्यनाथ और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की मौजूदगी में सुभाष पासी बीजेपी में शामिल होंगे। आपको बता दे इससे पहले, सुभाष पासी ने दिल्ली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी। बीजेपी में शामिल होने की चर्चाओं के बीच सपा ने सुभाष पासी को सपा से निष्कासित कर दिया है। सपा की ओर से सुभाष पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया गया है। वहीं हाल ही में समाजवादी पार्टी ने सुभाष पासी की पत्नी रीना पासी को सपा महिला सभा का राष्ट्रीय सचिव नियुक्त किया था।

Subhash Pasi Joins Bjp In Lucknow. - यूपी चुनाव 2022: भाजपा में शामिल हुए  सपा विधायक सुभाष पासी, प्रदेश अध्यक्ष ने दिलाई सदस्यता - Amar Ujala Hindi  News Live

सुभाष पासी की बात करे तो सुभाष पासी मूल रूप से गाजीपुर के नगर पंचायत सैदपुर के मालवीय नगर के रहने वाले हैं। उनकी पत्नी का नाम रीना पासी है, जो जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं। सुभाष पासी का मुख्य कारोबार मुंबई में है। 2012 में सैदपुर सुरक्षित सीट से पहली बार सुभाष पासी विधायक चुने गए थे और 2017 में दूसरी बार विधायक बने हैं।

सपा विधायक सुभाष पासी के अलावा शेखर दुबे भी बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। शेखर दुबे भी बीजेपी में शामिल होंग, वो दो बार ब्लॉक प्रमुख सिकंदरपुर सरोसी उन्नाव और दो बार जिला पंचायत सदस्य रहे। इसके साथ ही, बहुजन समाज पार्टी के भी कई नेताओं के बीजेपी में शामिल होने की बात जारी हैं।

Maharashtra IT Raid: आयकर विभाग ने महाराष्ट्र के उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार से जुड़ी 1000 करोड़ रुपये की संपत्ति को किया सीज

0
Maharashtra IT Raid: आयकर विभाग ने महाराष्ट्र के उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार से जुड़ी 1000 करोड़ रुपये की संपत्ति को किया सीज

महाराष्‍ट्र(Maharashtra) की राजनीति में आज कल जबरदस्‍त हलचल देखने को मिल रही है। राष्‍ट्रीय एजेंसियों द्वारा की जा रही कार्रवाई से आरोप-प्रत्‍यारोप का दौर जारी है। इस बीच पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तारी के बाद अब महाराष्ट्र के उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है। राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की 1000 करोड़ रुपये की संपत्ति सीज़ की है। ऐसे में महाराष्‍ट्र की राजधानी में हलचल और बढ़ सकती है।

दरअसल, पिछले महीने आईटी विभाग ने पवार की बहनों के घरों और कंपनियों पर छापेमारी की थी। इसके बाद से ही संपत्तियों को सीज करने की कार्रवाई पर काम किया जा रहा था। बहन के घरों में छापेमारी में 184 करोड़ रुपए की ऐसी संपत्ति का पता चला था जिसका कोई हिसाब-किताब मौजूद नहीं है।

My Bharat News - Article image

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर टैक्सेज (सीबीडीटी) ने एक बयान में कहा था कि बीते 7 अक्टूबर को मुंबई, पुणे, बारामती, गोवा और जयपुर में करीब 70 ठिकानों पर छापेमारी की गई थी। बताया जा रहा है कि छानबीन के दौरान बेनामी लेनदेन का भी पता चला है जिसे सबूत के तौर पर रखा गया है। छापेमारी में बरामद कुछ अहम दस्तावेजों से दो ग्रुपों के पास करीब 184 करोड़ रुपए का पता चला है, जिसका कोई हिसाब मौजूद नहीं है।

हालांकि, इस विभाग की तरफ से दोनों में से किसी भी ग्रुप का नाम नहीं बताया गया है। छापेमारी के दिन महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने मीडिया से कहा था कि आईटी विभाग ने उनकी तीन बहनों के ठिकानों पर भी छापेमारी की है। इनमें से एक कोल्हापुर जिले और दो अन्य महाराष्ट्र के पुणे जिले में रहती हैं। 

आपको बता दे, इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को प्रवर्तन निदेशालय ने मेराथन पूछताछ के बाद मनीलॉन्ड्रिंग से जुड़े एक केस में गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, देशमुख को इस का अंदाजा नहीं रहा होगा कि उन्‍हें ईडी गिरफ्तार कर लेगी। बताया गया कि अनिल देशमुख से प्रवर्तन निदेशालय ने 12 घंटे तक पूछताछ की। इस दौरान ईडी को पूर्व मंत्री की तरफ से संतोषजनक जवाब नहीं मिला।

UP Chunav: अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान, नहीं लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, जाने इसके पीछे का कारण

0
UP Chunav

UP Chunav 2022 को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है । यूपी में मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने एलान किया है कि वह विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान ये बयान दिया है । अखिलेश यादव विधान परिषद सदस्य रहे हैं। उनके इस एलान से यह साफ हो गया है कि इस बार भी वह विधान परिषद के जरिए ही सदस्य बनेंगे।

2012 के चुनाव मे भी इसी रणनीति के तहत अखिलेश यादव सियासी मैदान में नहीं उतरे थे। सपा के सत्ता में आने के बाद विधान परिषद के जरिए विधानमंडल के सदस्य बने थे।

विधानसभा चुनाव न लड़ने का फैसला अखिलेश यादव की सोची समझी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है। ऐसा बताया जा रहा है की बिहार के सीएम नीतीश कुमार की तर्ज पर अखिलेश यादव भी खुद विधानसभा चुनाव के मैदान में नहीं उतरेंगे और पार्टी प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार की कमान संभालेंगे । हालांकि, सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव इटावा की जसवंत नगर सीट से चुनाव लड़ते रहे हैं, जहां से फिलहाल अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव विधायक हैं. वहीं, अखिलेश अभी मौजूदा समय में आजमगढ़ संसदीय सीट से लोकसभा सदस्य हैं।

Won't be contesting 2022 Uttar Pradesh assembly polls, says Akhilesh Yadav:  Report - News Nation

विधानसभा चुनाव न लड़ने के पीछे की वजह

अखिलेश यादव के 2022 विधानसभा चुनाव न लड़ने के पीछे कई सियासी कारण बताए जा रहे है । इसका सबसे बड़ा एक कारण ये है की अखिलेश यादव अगर किसी एक विधानसभा सीट से कैंडिडेट बनते हैं तो बीजेपी और बसपा जैसे विपक्षी दल उनके खिलाफ अपने मजबूत प्रत्याशी उतारकर उन्हें घेर सकते हैं। जिस वजह से अखिलेश को अपनी सीट निकालने के लिए चुनाव प्रचार के लिए ज्यादा से ज्यादा समय अपने क्षेत्र को देना होगा, जिससे प्रदेश की बाकी सीटों पर चुनाव अभियान का प्रभाव पड़ सके । इसीलिए ऐसा माना जा रहा है की अखिलेश खुद प्रत्याशी ना बनकर अपनी पार्टी की कमान संभालेंगे ।

अखिलेश के कंधों पर बड़ी जिम्मेदारी

सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव पार्टी का सबसे बड़ा चेहरा हैं। ऐसे में यूपी की सत्ता में वापसी के लिए अखिलेश पर सभी 403 सीटों पर सपा और सहयोगी दलों के प्रत्याशी के प्रचार करने की जिम्मेदारी है । इसीलिए अखिलेश ने ये ऐलान कर दिया है कि वे अपने पार्टी के सभी नेताओं के लिए प्रचार करेंगे, लेकिन खुद कहीं से भी चुनाव नहीं लड़ेंगे। सीएम योगी, केशव मौर्य और दिनेश शर्मा ने भी 2017 के चुनाव में इसी रणनीति पर काम किया था । सिर्फ इतना ही नहीं , मायावती भी यूपी में विधानसभा चुनाव लड़ने के बजाय विधान परिषद का सहारा लेती रही हैं। एमएलसी का विकल्प होने के चलते सूबे में तमाम बड़े नेता खुद को चुनावी मैदान से बाहर रखकर अपना फोकस बाकी सीटों के प्रचार पर रखते हैं।

Akhilesh Yadav preparation to conquer UP Assembly Election 2022 through  social engineering in Uttar Pradesh - सोशल इंजीनियरिंग के जरिए UP फतह करेगी  सपा? अखिलेश यादव ने पहली बार चला ऐसा दांव

सपा के एकलौते स्टार प्रचारक

सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। अस्वस्थ होने के चलते मुलायम सिंह न तो 2017 में और न ही 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रचार करने उतरे। शिवपाल यादव अपनी अलग पार्टी बना चुके हैं तो आजम खान कुछ समय से जेल में हैं। देखा जाए तो सपा में कुल मिलाकर अखिलेश यादव ही एकलौते ऐसे नेता हैं, जिनके ऊपर पार्टी के प्रचार का पूरा दारोमदार टिका हुआ है। इसीलिए अखिलेश ने चुनाव लड़ने के बजाय प्रचार करने और रणनीति बनाने पर अपना पूरा जोर लगाने का फैसला कर है ।

इस बार के चुनाव में बीजेपी को सपा से ही कड़ी चुनौती मिलती हुई नजर आ रही है । यूपी 2022 के चुनाव को लेकर अखिलेश यादव के साथ सपा पार्टी के सभी कार्यकर्ता भी जोश से भरे हुए नजर आ रहे हैं। ऐसे में अखिलेश अपने हाथों से मौका नहीं गंवाना चाहते हैं। इसीलिए उन्होंने पूरा ध्यान 2022 विधानसभा चुनाव पर लगा रखा है।