चुनावी सियासत गरमाने लखनऊ पहुंचे Amit Shah, ‘मेरा परिवार-भाजपा परिवार’ अभियान की करी शुरुआत

चुनावी सियासत गरमाने लखनऊ पहुंचे Amit Shah, 'मेरा परिवार-भाजपा परिवार' अभियान की करी शुरुआत

2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां के बीच चुनावी सरगर्मियां तेज़ हो गई हैं। ऐसे में ग्रहमंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने शुक्रवार को लखनऊ में यूपी चुनाव मिशन का आह्वान कर दिया। इस दौरान उन्होंने लखनऊ में ‘मेरा परिवार-भाजपा परिवार’ सदस्यता अभियान की शुरूआत की। साथ ही वो अपोज़ीशन पर हमला करते नजर आए। डिफेंस एक्सपो मैदान वृंदावन योजना में अमित शाह ने सदस्यता लेने वाले कुछ युवकों को प्रमाण पत्र देने के साथ ही जनसभा को संबोधित भी किया। लम्बे समय बाद लखनऊ आए भाजपा के चाणक्य ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर भी बड़ा संदेश दिया।

डिफेंस एक्सपो के मैदान में भाजपा कार्यकर्ताओं में जोश भरने के अंदाज में माइक संभालने वाले अमित शाह ने भाजपा की सारी उपलब्धियों को गिनाने के साथ ही केन्द्र में 2024 तथा उत्तर प्रदेश में 2022 का रोड मैप तय कर दिया। अमित शाह ने साफ कहा कि केन्द्र में अगर वर्ष 2024 में नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाना है तो 2022 में एक बार फिर से योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना होगा। उन्होंने कहा मोदी को एक बार फिर मौका दे दीजिए।

ग्रहमंत्री ने कहा कि हमने उत्तर प्रदेश में लोक संकल्प के सारे वादे पूरे किए हैं, लेकिन अभी पांच साल का मौका और चाहिए ताकि उत्तर प्रदेश को सभी जगह पर देश में नम्बर वन पर लाया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सबसे बड़ा काम अगर योगी आदित्यनाथ ने किया है तो वह को माफियाओं से मुक्ति दिलाने का काम किया है। लगभग 1,43,000 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की भर्ती की गई हैं और उसमें कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ। मेरठ में यूनिवर्सिटी होने के बावजूद वहां की बच्चियां दिल्ली में किराये के घर में रहकर पढ़ाई करती थीं। यूपी में उनकी सलामती नहीं थी। आज कोई भी लड़की स्कूटी पर रात 12 बजे भी यूपी की सड़कों पर चल सकती है, कोई डर नहीं है।

अमित शाह ने कहा, एक समय ऐसा था कि शाम होते ही लड़कियां घर से बाहर निकलने में डरती थीं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आम जनता पलायन करने को मजबूर थे। गुंडागर्दी चरम पर थी। दिनदहाड़े हत्याएं होती थीं। कानून व्यवस्था के नाम पर जनता से लूट मची थी। लेकिन, अब प्रदेश की जनता जान चुकी है कि किसके हाथ में यूपी का भला कर सकता है। 

इसके साथ ही उन्होंने भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को आक्रामक अंदाज में संबोधित किया। उन्होंने कहा जब देश वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की चपेट में था तो अखिलेश यादव और राहुल गांधी कहां थे? जब यूपी में भीषण बाढ़ का कहर बरपा तो सपा अध्यक्ष घर में छुपे थे। चुनाव नजदीक आया तो इनके कार्यकर्ता सड़कों और गलियों प्रचार कर रहे हैं, लेकिन जब राज्य के लोग संकट में थे तो कार्यकर्ता तो छोड़िए, इनके नेता ही गायब थे।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, इन लोगों को सिर्फ वोट से मतलब है। प्रदेश और देश की समस्या से ये कोसों दूर हैं। योगी ने प्रदेश को विश्व पटल पर नई पहचान दिलाई है। आज यूपी देश के अग्रणी राज्यों में गिना जाता है। यह योगी सरकार की कड़ी मेहनत का नतीजा है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को आगामी विधानसभा चुनाव में 300 से ज्यादा सीटें जीतने का संकल्प दिलाया। 

अमित शाह ने संबोधन के शुरुआत में ही समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, वर्ष 2014 में केंद्र में भारतीय जनता पार्टी के आने के बाद देश की जनता ने राहत की सांस ली। उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा, सरकारें परिवार के लिए नहीं बनतीं हैं। लेकिन, सपा और कांग्रेस को इसके मायने नहीं पता हैं।

आपको बता दे वह शनिवार को सुबह नई दिल्ली की वापसी करेंगे। इससे पहले वह शनिवार 30 अक्टूबर को उत्तराखंड आएंगे। यहां वह राजधानी देहरादून के बन्नू स्कूल मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे। गृहमंत्री शांतिकुंज स्थित देव संस्कृति विश्वविद्यालय में मृत्युजंय सभागार आयोजित समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे। कार्यक्रम अपराह्न चार बजे से शुरू होगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी समेत कई मंत्री भी शामिल होंगे।