30 C
Lucknow
रविवार, अगस्त 1, 2021

आखिर क्यों शंख ध्वनि को मानव जीवन के लिए कल्याणकारी माना गया है?

Must read

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...
My Bharat News - Article SHANKH

भारतीय संस्कृति में शंख को विशेष स्थान दिया गया है। मान्यता है कि समुद्र मंथन से प्राप्त चौदह रत्नों में से एक शंख भी था। अथर्वेद के साथ ही भागवत पुराण में भी शंख का उल्लेख हमें मिल जाता है जिसे मानव जीवन के लिए कल्याणकारी माना गया है। शंख से ओ३म ध्वनि प्रतिध्वनित होती है।

शंख की महत्ता केवल धार्मिक कारणों से ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक कारणों से भी सिद्ध होती है। वैज्ञानिकों के अनुसार, शंखनाद से सूर्य की हानिकारक किरणें बाधित होती हैं। गौरतलब है कि भारतीय संस्कृति में सुबह और सांय काल में शंख ध्वनि का विधान हमेशा से ही देखने को मिलता है। भारत के प्रसिद्द वैज्ञानिक डॉ. जगदीश चंद्र बासु के अनुसार शंख ध्वनि जहाँ तक जाती है वहाँ तक मौजूद बीमारियों के कीटाणु नष्ट हो जाते हैं जिससे पर्यावरण शुद्ध हो जाता है।

My Bharat News - Article SHANKH2

शंख रखने से घरों के वास्तु दोषों से भी निजात पाया जा सकता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, शंख ध्वनि से किसी भी स्थान की नकारात्मकता को मिटाया जा सकता है। इसमें कई ऐसे गुण होते हैं जिससे घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। ऐसी मान्यता है कि जिस घर में शंख होता है, वहाँ लक्ष्मी का वास होता है। सामान्यता शंख को विजय, शांति, यश और लक्ष्मी का सूचक माना जाता है। मुख्यतः शंख के तीन प्रमुख प्रकार आज चलन में हैं जिनमें दक्षिणावृत्ति शंख, मध्यावृत्ति शंख तथा वामावृत्ति शंख शामिल हैं।

- विज्ञापन -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

Latest article

केरल में एक दिन में 22 हजार से अधिक नए कोरोना केस सामने आने से बढ़ी अन्य राज्यों की चिंता

केरल में मंगलवार को कोरोना के 22,129 नए मामले सामने आए हैं और 156 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है....

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में बादल फटने की घटना से 4 की मौत 30 से ज्यादा लोग अभी भी लापता

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में लगातार हो रही भारी बारिश के बाद प्राकृतिक आपदा ने लोगों को अपनी चपेट में लिया है.किश्तवाड़...

बाराबंकी सड़क हादसे में 20 की मौत पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने हादसे पर जताया दु:ख

यूपी के बाराबंकी में भीषण सड़क हादसे में कुल 20 लोगों की मौत हो गई है. जबकि कई लोग अभी भी गंभीर...

पेगासस जासूसी मामले में राहुल गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री अमित शाह से मांगा इस्तीफा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले में बीजेपी पर एक के बाद एक कई आरोप लगाते हुए गृह...

बीएसपी के प्रबुद्ध सम्मेलन में दिखे प्रभु श्रीराम और परशुराम के पोस्टर अयोध्या से की सम्मेलन की शुरूआत

यूपी विधान सभा चुनाव 2021 से पहले ब्राह्मणों को अपने पाले में लाने के लिए बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलन कर रही है. अयोध्या...