Tue. Feb 27th, 2024
हिन्दू धर्म की भविष्यवाणियां और चेतावनियांविष्य मलिका: 2024 के विश्व युद्ध और उसके परिणामों की भविष्यवाणियां

सनातन धर्म कई बड़े पुराणों के निर्माण का प्रतीक है और यही पुराण भारतीय संस्कृति की नींव हैं। हिन्दू धर्म के पुराणों में जीवन से जुडी हर समस्या का समाधान मिल सकता है। लेकिन पौराणिक समय के संतों में से एक संत अच्युतानंद के पास भूत, वर्तमान और भविष्य तीनों काल को देखने की अद्भुत शक्ति थी। इन्हीं संतों ने भविष्य मालिका की रचना ताड़ के पत्रों पर की थी। और यह भविष्य मलिका भविष्य मालिका ग्रंथ ने कई बड़ी भविष्यवाणियां की हैं, लेकिन सबसे ज्यादा भविष्य के विषय पर 318 पुस्तकें संत अच्युतानंद दास द्वारा लिखी गई हैं। आज हम आपको भविष्य मलिका की कुछ चौंकाने वाली भविष्यवाणी बताएंगे। भविष्य मलिका हिंदू धर्म की एक प्राचीन पुस्तक है जिसमें मानव जाति के लिए गंभीर चेतावनियाँ और सर्वनाश से पहले विचार करने योग्य महत्वपूर्ण तथ्य शामिल हैं। इस किताब की भविष्यवाणियां हमेशा सही रही हैं और अब इसमें 2024 को लेकर एक बड़ी भविष्यवाणी की गई है।

भविष्य मलिका के लेखक पंचसखा की भविष्यवाणियों पर प्रकाश डालते हुए यह पुस्तक समय की चक्रीय प्रकृति और दिव्य ज्ञान की शक्ति पर प्रकाश डालती है। चार युगों के रहस्यमय क्षेत्रों में प्रवेश करते हुए, यह उनके सार को उजागर करता है और उन पापों को प्रकट करता है जो कलियुग के पतन में योगदान करते हैं। भगवान महा-विष्णु के दशावतार की मंत्रमुग्ध कर देने वाली यात्रा और युग के अंत की घोषणा करने वाले संकेतों के माध्यम से, पाठकों को आध्यात्मिक विकास को अपनाने और धार्मिकता की तलाश करने के लिए प्रेरित किया जाता है।भविष्य मलिका के अनुसार, भविष्य में तीसरा विश्व युद्ध मुख्य रूप से एक परमाणु युद्ध होगा जिसके परिणामस्वरूप अकल्पनीय तबाही होगी।

पारंपरिक हथियारों से शुरू होने वाला युद्ध जल्द ही परमाणु युद्ध में बदल जाएगा और दुनिया में अकल्पनीय तबाही मचाएगा। भाग लेने वाले देश भारत होंगे, एक तरफ रूस, जर्मनी, जापान और फ्रांस समर्थित होंगे।उन्हें चीन, पाकिस्तान, अमेरिका, 13 मुस्लिम देशों, अफ्रीकी देशों, यूरोप और इंग्लैंड के सहयोगियों से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा। युद्ध का गंभीर जलवायु परिवर्तन के साथ यूरोप और अमेरिका पर विनाशकारी प्रभाव पड़ेगा। युद्ध के कारण अमेरिका और यूरोप की हवा जहरीली गैसों से प्रदूषित हो जायेगी और दुर्भाग्य से बड़ी संख्या में लोगों की जान चली जायेगी। इस युद्ध का प्रभाव यूरोप और अमेरिका में इतना विनाशकारी होगा कि इसका वर्णन करना कठिन है।अमेरिका और यूरोप को भयंकर विनाश का सामना करना पड़ेगा। अमेरिका और यूरोप तेजी से विनाश का युद्ध छेड़ेंगे, जिससे उनके अपने देशों में भयानक नरसंहार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *