शनिवार को भूलकर भी न खरीदें ये चीजें, हो जाएंगे बर्बाद!

My Bharat News - Article को न करें ये काम

सनातन धर्म में सभी सात दिन किसी न किसी देवता को समर्पित होते हैं। शनिवार भगवान शनि देव का माना जाता है। ज्योतिष में शनि देव को न्याय का देवता बताया गया है। स्वभाव से शनि देव क्रूर ग्रह हैं। शनि देव बहुत जल्दी नाराज होते हैं। आज हम आपको शनि देव के प्रकोप से बचने के लिए कुछ आवश्यक बातें बता रहे हैं जिन्हें ध्यान में रखकर शनि देव के प्रकोप से बचा जा सकता है।

शनिवार के दिन भूलकर भी न खरीदें ये 7 चीजें
1.सरसों तेल
शनिवार के दिन सरसों का तेल नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करने से जीवन में कई तरह की परेशनियां आती हैं। कई तरह के रोगों से ग्रस्त हो जाते हैं।

2.लोहा
शनिवार के दिन लोहे से बना सामान नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करने से शनिदेव नाराज हो जाते हैं। बल्कि एक दिन पहले लोहा खरीद कर शनिवार को दान करने से शनिदेव की कृपा प्राप्ति होती है।

3.उड़द
शनिवार को उड़द की दाल खरीदने से शनिदेव नाराज होते हैं। उड़द की दाल एक दिन पहले ही यानी कि शुक्रवार को खरीदकर ला सकते हैं। वहीं, शनिवार को यह दाल दान करने से शनि की कृपा बनी रहती है।

4.कोयला
शनिवार को कोयला खरीदने से शनिदेव क्रोधित होते हैं। इस दिन कोयला खरीदने से बचें। शनिवार के दिन कोयला खरीदना भी बहुत अशुभ होता है। कहते हैं कि इस दिन कोयला खरीदने से आपको शनि के दोष लगते हैं और आपकी तरक्कीक में भी बाधा आती है।

5.काजल
शनिवार को जिन वस्तुकओं को खरीदने से शनिदेव नाराज होते हैं उनमें से काजल भी एक है। अगर आप काजल लगाने की शौकीन हैं तो इसे भूलभर भी शनिवार को न खरीदें। ऐसा करने से शनिदेव आपके वैवाहिक जीवन में कष्ट पहुंचाते हैं।

6.नमक
शनिवार के दिन नमक न खरीदें। कहा जाता है शनिवार को नमक खरीदने से यह घर पर कर्ज लाता है और आर्थिक स्थिति कमजोर हो जाती है।

7.काला कपड़ा
शनिवार को न ही काला कपड़ा खरीदना चाहिए और न ही फेंकना चाहिए। इसके विपरीत शनिवार को काला कपड़ा पहनना शुभ माना जाता है।

डिसक्लेमर
‘इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।