लखनऊ के सहकारी बैंक से 146 करोड़ गायब, मैनेजर, कैशियर सहित चार कर्मचारियों पर गिरी गाज

My Bharat News - Article सहकारी बैंक

लखनऊ के हजरतगंज स्थित सहकारी बैंक के खातों से 146 करोड़ रुपये गायब कर देने के मामले में बैंक के मैनेजर व कैशियर सहित चार लोगों को निलंबित कर दिया गया है। मैनेजर मेवालाल और कैशियर विकास कुमार को निलंबित किया गया है। इसके अलावा, सहायक प्रबंधक अजय कुमार और गार्ड विजय बहादुर मौर्य को भी निलंबित किया गया है। बताया गया कि पूर्व मैनेजर आरएस दुबे और कुछ अन्य लोग भी शनिवार रात मौके पर मौजूद थे। बैंक अधिकारी शाम तक अपनी जांच पूरी करेंगे।

बैंक के अधिकारियों ने सोमवार को साइबर क्राइम थाने में केस दर्ज कराया। आरोपियों की तलाश की जा रही है। पुलिस बैंक के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज की जांच कर रही है। परिसर आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया है। ग्राहक बाहर से लौटाए जा रहे हैं। 7 से 8 खातों से पैसा निकलने की बात सामने आ रही है। न कर्मचारी और न अधिकारी कोई भी बात करने को तैयार नहीं है।

जिलाधिकारी आवास के पास स्थित सहकारी बैंक में शनिवार को छुट्टी के बाद कुछ कर्मचारी और दो अज्ञात लोग अंदर मौजूद थे। रात को बैंक के सुरक्षाकर्मी ने उन्हें देखा तो आपत्ति की। तब उसे धमकी दी गई। सुरक्षाकर्मी ने उच्चाधिकारियों को सूचना दी तो वे भाग निकले। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल की।

रविवार को अधिकारियों ने खाते की जांच की तो पता चला कि 146 करोड़ रुपये साफ हो गए हैं। तब अफसरों ने पुलिस को सूचना दी। बैंक अधिकारी केस दर्ज कराने हजरतगंज थाना स्थित साइबर क्राइम सेल पहुंचे तो उन्हें साइबर थाने जाने की सलाह दी गई। सोमवार को अधिकारियों ने एसटीएफ भवन स्थित साइबर क्राइम थाने में केस दर्ज कराया। साइबर क्राइम थाने के इंस्पेक्टर के मुताबिक खाते से निकाली गई रकम को फ्रीज करा दिया गया है।